Wednesday, August 16, 2017

Murli 17 August 2017

17/08/17 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, wake up early in the morning and remember the Father with a lot of love and your intellect will change from stone to divine.
Question:
What is the way to become prosperous for 21 births?
Answer:
Donate the imperishable jewels of knowledge and you will become prosperous because each jewel of knowledge is worth hundreds of thousands of rupees. The more one donates and stays in remembrance of the Father, the higher the mercury of one’s happiness will rise.
Question:
What precautions must you take so that you don't perform any sinful actions?
Answer:
You need to take a lot of precautions with your food. When you take food from a sinful soul, it affects you. The Father gives advice on seeing the circumstances of each one.
Om Shanti
Who is sitting here and who has come? Human beings know that all of us souls are impure at this time. Bharat in particular and the world in general are all calling out: Oh Purifier! This is the impure world. All souls are impure and unhappy. They have become ugly. The Purifier is the unlimited Father who is called the Ocean of Knowledge and the Bestower of Salvation for All. You children are sitting in front of the Father. From whom did you children receive that recognition? From the Purifier Father. When it was the golden age, everyone - the king, the queen and all the subjects – were pure. They were all in the golden age. You children now have the understanding that you are souls and are sitting here in bodies.When a soul is in a body, the soul experiences happiness or sorrow. When there is no soul in a body, that body isn't aware of anything. A soul leaves a body and forges a connection with another body and that body thereby becomes living. Otherwise, bodies are non-living. That non-living body also grows. First, a puppet of the five elements is created. When its organs are formed, a soul enters it and it then becomes living. You living human beings are now sitting here. The Father is sitting in front of you. He is the Supreme Soul and He is ever pure. The Father is now giving you children directions: Children, you also have to become pure like your Father. You souls are immortal. At first you were in the land of peace. You souls know that you have come to Shiv Baba who has adopted this ordinary body. There cannot be anyone, apart from the Supreme Father, the Supreme Soul, who can sit and give directions to the children. Those people think that God never comes and that He is beyond name and form. You children know that you have now come and met Him again after 5000 years. You have recognised how the Father is purifying you. When souls became impure, their bodies also became impure. You now have to become pure once again. We souls were pure in the incorporeal world. Talk to yourself in this way. Churn the ocean of knowledge. You souls have now received that recognition. We souls were in the land beyond sound (nirvana) and we then went to the golden age to play our parts of happiness. You are all-rounders and this is why you receive knowledge first. You know that Shiv Baba creates Brahmins through the Father of Humanity (Prajapita) Brahma. Baba says: You living human souls have been brought into the Brahmin clan from the shudra clan. From being shudras, you have now become Brahmins, the mouth-born creation of Brahma. Why? To claim your inheritance. It is only at the confluence age that you become the mouth-born creation of Brahma. The confluence age is just for you. You souls say that you were pure at first and that you have now become impure. You are once again becoming pure. O Purifier Baba, come and once again make us pure from impure! Talk to yourself in this way. The soul has now received nourishment. When we souls were pure, we lived in the land of liberation and then we went to heaven. We took so many births and continued to come down and we now have to go to the golden age again. Baba says: I also told you 5000 years ago: Constantly remember Me alone. While living at home with your family and looking after your business etc., simply consider yourself to be a soul. We now have to become pure. We have to return home. We have to become the masters of the pure world. Let there now only be the concern about how to go from the iron age to the golden age. Baba shows you an easy way: Constantly remember Me alone and you will become pure. In the Gita, this elevated version is mentioned twice: Manmanabhav! O children, renounce body consciousness. Remember the Father. He is the Authority. He tells you the essence of all the scriptures and the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. The more you souls remember Me, the purer you will become. There is no other way. Those with stone intellects have to become those with divine intellects. You will not become pure by bathing in the water of the Ganges. If you were to become pure, you wouldn't be here. However, everyone has to go to the iron age. So, first of all, sit with these thoughts early in the morning. It is said: Remember Rama early in the morning o mind. The soul says: O intellect of mine, now remember the Father. Connect your intellect in yoga to the Father. The more you connect it, the more it will continue to become divine from stone. It is only the one Father who makes intellects divine. He says: I come every cycle at the confluence age to make you this. It is a matter of a second. Doctors can give such medicine that a boil can be destroyed from within. The Father says: You don't have to say anything in words. You don't even have to do anything with your hands or feet. You simply have to use your intellect to remember Me. You also remembered Me in the previous cycle through which your sins were absolved. I explained to you in this way previously and I am explaining it to you now. You now have to become those with divine intellects by having remembrance of the Father. The Father says: I, your Purifier Father, come at the confluence of the cycles to give you shrimat. O My sweet, beloved children. It is the soul that listens through the organs. This is the mouth of Brahma. They speak of Gaumukh (mouth of a cow). That cow doesn't refer to an animal. This one is the mother. He speaks to us through this Gaumukh. They have then shown a cow’s mouth in temples. They show water flowing from a cow’s mouth. They consider that to be Gaumukh. They believe that that water is from the Ganges. You now know that the Father gives knowledge through this one. This one is the mother, the cow. He is the senior mother. He doesn't have a mother. He is also the mother of physical Mama. All of you mothers are the cows. This knowledge is being showered through your mouths. There are rivers of water everywhere. That Ganges cannot be the Purifier. They have a temple at the Ganges where they have idols of the deities. Those deities do not have any knowledge. You receive knowledge through which you become deities. Deities cannot be called knowledge-full. They have portrayed the ornaments on Vishnu. In fact, they are the ornaments of you Brahmins. You children have to spin the discus of self-realisation. There is no question of violence in this. All of these are matters of knowledge. You have to blow the conch shell of knowledge and remember the cycle. This is the discus of self-realisation. They have then shown a spinning wheel. You also have to become as pure as a lotus here. There is also the mace of knowledge with which you have to conquer Maya. So, all of those are your ornaments. You children know that this is hell and that heaven exists on the other side. We are now at the confluence. On one side is dirty water and on the other side is clean water. There is the confluence of the two, which people go to see. Here, this One is the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul, and you are the dirty rivers. The Father sits here and makes you as pure as Himself. Remember the Father and spin the discus of self-realisation. There is no question of mercy in this. Would you say to your teacher: “Teacher, have mercy so that I can claim a high status!” The teacher would tell you to study. The Father says: I teach all of you the same thing. You say: O Purifier, come! Come and purify us! You are actors in this drama and you don’t know the beginning, the middle and the end of the drama or its Creator or Director! You have stone intellects! You children are now becoming those with divine intellects by knowing the Father. The Father says: Simply sit for half an hour or 45 minutes in the morning and churn this knowledge. You are told many points. They sat and created 18 chapters. According to the drama, all of those scriptures will exist again on the path of devotion. You children now have to make effort. Wake up at amrit vela and talk to yourself. We now have to remember the Father and become pure. You have to become beads of the rosary. You will become pure by having remembrance of Baba. The more you become pure and make others pure, the higher the mercury of your happiness will continue to rise. Donate these imperishable jewels of knowledge to others. Wealthy people donate and perform charity. You are donors of the imperishable jewels of knowledge. Every jewel has a value of hundreds of thousands. The purer you become, the more prosperous you will continue to become for 21 births. When you had divine intellects, you had happiness, peace and wealth, everything. Now that you have stone intellects everything is finished. The Father says: Now have the faith that you are souls and develop the practice of waking up early in the morning. That time is very good. People commit a lot of sin in the darkness of night. You now have to become pure. You were 100% viceless. The alloy mixed in the soul will now be removed in the furnace of yoga, by the fire of yoga. The explanation of this knowledge and yoga is never destroyed. By listening to even a little, souls become part of the subjects. The Father says: Children, claim your full inheritance, exactly as you did in the previous cycle. The same ones will become the kings and the same ones will become the subjects. When people donate and perform charity on the path of ignorance they take birth in a royal family. Some take birth in a poor family, according to their karma. The Father sits here and explains to you the philosophy of action, sinful action and neutral action. Actions in the golden age are neutral because Maya doesn't exist there. This is Ravan's kingdom and that is Rama's kingdom. Now, Ravan's kingdom is to be destroyed and the golden age is being established. The Father explains very well. Kumaris should explain very clearly; they are free from bondage. Parents don't eat from the earnings of daughters. Parents worship the daughters. However, after a daughter indulges in vice and becomes impure, she has to bow down to everyone. A kumari also bows down to the deity idols because she has taken birth through impure parents. The deities are pure. You now understand that you were deities.You have taken 84 births and become impure. You have continued to come down. Now,once again, we have to follow shrimat so that we don't perform any sinful actions. You cannot eat any food from sinful souls. You are told the precautions to take. Otherwise, it affects you. However, sometimes, the circumstances are seen. There are karmic accounts. Sometimes, they don’t allow you to cook separately. OK, in desperate circumstances, remember the Father. Remember Baba and then eat that. If you forget to do this, that food would affect you. By remembering the Father, you will come closer. You are now sitting personally in front of Baba. The Father is explaining to you directly. The Father speaks to you and calls you: O child, o child! Therefore, you have to remember the Father. Then, whether you do that or not is up to you. Those who do this will definitely receive accordingly. It is a straightforward matter. You have understood that this is a hospital. This is also a university for health and wealth. You simply need three square feet of land, that’s all. Look how the unlimited Father is teaching you! The Father is so egoless. He sits in an impure body, in the impure world and makes so much effort on you children. Children, claim your inheritance once again! I am watching everything as the detached Observer to see who is making good effort. You simply need three square feet of land. There is a centre in Calcutta where so many are being benefited. Those who get together and run a centre also receive a status. Let the room be large enough for class where everyone can hear the class;that’s all. We have to go to the golden age. There is no way other than remembrance. The Father says: Children, benefit yourselves and others. Open this hospital. Here, you will receive blessings from many. People open colleges for others. They themselves don't study, but they do receive a good education in their next birth. The Father says: Whether you are poor or rich, simply make arrangements for three square feet of land in which knowledge and yoga can be taught and people can be changed from being like stone to divine. People say that we make everyone into brothers and sisters, that we make them renounce the inheritance of poison. Then they ask how the world would continue! You children know that the world there is not based on the power of vice. There, children are born through the power of yoga. You are now becoming the masters of that new world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Develop the practice of waking up early in the morning. Wake up early in the morning and definitely churn knowledge. Sit for half an hour or even 45 minutes and talk to yourself. Make your intellect full of knowledge.
2. In order to receive blessings from many, open a hospital or college on three square feet of land. Become egoless, the same as the Father and do service.
Blessing:
May you experience every power and virtue through your elevated effort and become an embodiment of experience.
The greatest authority is the authority of experience. Just as you think and say that a soul is an embodiment of peace or an embodiment of happiness, similarly, experience every virtue and power and become lost in those experiences. Since you say that you are an embodiment of peace, then let yourself and others experience that peace. You speak of the powers, but you also have to experience the powers and virtues at the right time. To become an embodiment of experience is a sign of elevated effort. So, increase your experiences.
Slogan:
Become a contented soul and by experiencing being full, no name or trace of anything lacking will remain.
 

मुरली 17 अगस्त 2017

17-08-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन 

“मीठे बच्चे - सवेरे-सवेरे उठ बाप को प्यार से याद करो तो पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बन जायेंगे”
प्रश्न:
21 जन्मों के लिए मालामाल बनने का साधन क्या है?
उत्तर:
अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करो तो मालामाल बन जायेंगे क्योंकि यह एक-एक ज्ञान रत्न लाखों रूपयों का है। जितना जो दान करेगा, बाप की याद में रहेगा उतना उसे खुशी का पारा चढ़ा रहेगा।
प्रश्न:
अपने से कोई पाप कर्म न हो उसके लिए कौन सी परहेज चाहिए?
उत्तर:
अन्न की बहुत परहेज चाहिए। पापात्मा का अन्न अन्दर जाने से उसका असर पड़ता है। हर एक के सरकमस्टांश देख बाप राय देते हैं।
ओम् शान्ति।
कौन बैठे हैं, कौन आया? जीव आत्मायें जानती हैं कि हम सब आत्मायें इस समय पतित हैं। खास भारत आम सारी दुनिया। सब पुकारते हैं हे पतित-पावन। यह पतित दुनिया है। सभी आत्मायें पतित दु:खी, सांवरी हो गई हैं। पतित-पावन है बेहद का बाप, जिसको ज्ञान का सागर, सर्व का सद्गति दाता कहा जाता है। बच्चे बाप के सामने बैठे हैं। बच्चों को कहाँ से पहचान मिली? पतित-पावन बाप द्वारा। जब सतयुग था तब वहाँ राजा रानी तथा प्रजा सब पावन थे। सब गोल्डन एज में थे। तुम बच्चों को अब समझ है कि हम जीव की आत्मायें बैठी हैं। आत्मा शरीर के साथ है तो सुख अथवा दु:ख भोगना पड़ता है। आत्मा शरीर में नहीं है तो शरीर को कुछ पता नहीं पड़ता। आत्मा एक शरीर से निकल जाए दूसरे शरीर से कनेक्शन जोड़ती है तो वह चैतन्य हो जाता है। शरीर जड़ है। जड़ भी वृद्धि को पाता है। पहले 5 तत्वों का पुतला बनता है, उनमें आरगन्स आते हैं तब आत्मा उसमें प्रवेश करती है फिर चैतन्य बन जाता है। अभी तुम जीव आत्मायें बैठी हो, तुम्हारे सामने बाप बैठे हैं। वह भी परम सुप्रीम आत्मा है और एवर प्युअर (सदा पावन) है। अब बाप बच्चों को डायरेक्शन देते हैं - बच्चे तुम्हें भी बाप जैसा पावन बनना है। तुम आत्मायें अमर हो, तुम पहले शान्तिधाम में थी। तुम जानते हो हम आत्मायें शिवबाबा के पास आई हैं, जिसने यह साधारण शरीर धारण किया है। सिवाए परमपिता परमात्मा के और कोई हो नहीं सकता जो ऐसे बच्चों को बैठ डायरेक्शन दे। वह तो समझते हैं कि परमात्मा कब आता नहीं। वह नाम रूप से न्यारा है। तुम बच्चे जानते हो हम फिर से 5 हजार वर्ष बाद आकर मिले हैं। पहचाना है कि कैसे बाप हमको पावन बनाते हैं। आत्मा के पतित होने से शरीर भी पतित हुआ है। अब फिर पावन बनना है। हम आत्मायें मूलवतन में पावन थी। ऐसे ऐसे अपने से बातें करना है। विचार सागर मंथन करना है। अभी तुम आत्माओं को पहचान मिली है। हम आत्मायें निर्वाणधाम में थी फिर सतयुग में आते हो सुख का पार्ट बजाने। तुम हो आलराउन्डर इसलिए पहले-पहले तुमको ज्ञान मिला है। जानते हो शिवबाबा प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मणों की रचना रचते हैं। बाबा कहते हैं तुम जीव आत्माओं को शूद्र वर्ण से ब्राह्मण वर्ण में लाया है। शूद्र से अब तुम ब्राह्मण ब्रह्मा मुख वंशावली बने हो। क्यों? वर्सा लेने। ब्रह्मा मुखवंशावली सिर्फ संगम पर ही बनते हैं। तुम्हारे लिए ही संगम है। तुम आत्मा कहती हो हम पहले पावन थे, अब पतित बने हैं फिर सो पावन बनते हैं। हे पतित-पावन बाबा हमको फिर से आकर पतित से पावन बनाओ। ऐसे-ऐसे अपने से बातें करो। अभी आत्मा को खुराक मिली है। हम आत्मायें पावन थी तो मुक्तिधाम में रहती थी फिर स्वर्ग में आई, इतने जन्म लिए फिर नीचे गिरते गये फिर गोल्डन एज में जाना है। बाबा कहते हैं मैंने 5 हजार वर्ष पहले भी कहा था - मामेकम् याद करो। गृहस्थ व्यवहार धन्धे आदि में रहते सिर्फ अपने को आत्मा समझो, अब हमको पावन बनना है। घर जाना है। पावन दुनिया का मालिक बनना है। अब हम आइरन एज से गोल्डन एज में कैसे जायें, यह चिंता लगी रहे। बाबा तो सहज युक्ति बतलाते हैं कि मामेकम् याद करो तो तुम पावन बनेंगे। गीता में दो बारी यह महावाक्य हैं कि मनमनाभव। हे बच्चे देह-अभिमान छोड़ो। बाप को याद करो। वह है अथॉरिटी। तुमको सभी शास्त्र का सार, सृष्टि के आदि मध्य अन्त का नॉलेज समझाया है। तुम जितना मुझे याद करेंगे उतना तुम्हारी आत्मा पवित्र होती ज्येगी, और कोई उपाय नहीं। पत्थरबुद्धि को पारसबुद्धि बनना है। गंगा-स्नान से पावन नहीं बनेंगे। अगर बनते तो यहाँ होते ही नहीं। परन्तु आइरन एज में सबको आना ही है। तो पहले सवेरे-सवेरे इस ख्यालात में बैठना है। कहते हैं ना - राम सिमर प्रभात मोरे मन। आत्मा कहती है हे मेरी बुद्धि अब बाप को याद करो। बुद्धि का योग बाप से लगाना है। अब जितना जो लगायेंगे उतना पत्थर से पारसबुद्धि बनते जायेंगे। पारसबुद्धि बनाने वाला एक बाप ही है। कहते हैं कल्प-कल्प आकर संगम पर तुमको बनाता हूँ। सेकेण्ड की बात है ना। जैसे डाक्टर लोग ऐसी दवाईयां देते हैं जो फोड़ा अन्दर ही खत्म हो जाता है। बाप कहते हैं तुमको भी मुख से कुछ कहना नहीं है। हाथ पांव से भी कुछ करना नहीं है, सिर्फ बुद्धि से याद करना है। कल्प पहले भी तुमने याद किया था, जिससे विकर्म दग्ध हुए थे। ऐसे तुमको समझाया था, अब समझा रहा हूँ। अभी तुमको बाप की याद से पारसबुद्धि बनना है। बाप कहते हैं मैं तुम्हारा पतित-पावन बाप कल्प-कल्प के संगम पर आता हूँ श्रीमत देने। हे मेरे मीठे लाडले बच्चे, यह आत्मा सुनती है इन आरगन्स से। यह है ब्रह्मा मुख, गऊमुख कहते हैं ना। गऊ जानवर नहीं। यह गऊ माता ठहरी ना। इस गऊ मुख से सुनाते हैं। मन्दिरों में फिर वह गऊ मुख दे दिया है। उनके मुख से पानी बहता है। उसको समझते हैं गऊमुख। गंगा का जल समझते हैं। अभी तुम जानते हो यह ज्ञान बाप इन द्वारा देते हैं। यह गऊ माता हुई ना। यह है बड़ी माँ। इनकी कोई माता नहीं। साकार मम्मा की भी यह माता हुई ना। तुम सब मातायें गऊ हो। तुम्हारे मुख से यह ज्ञान वर्षा होती है। बाकी पानी की नदियां तो सब जगह होती हैं। वह गंगा पतित-पावनी हो नहीं सकती। गंगा पर भी मन्दिर है, जहाँ देवता की मूर्ति है। इन देवताओं में तो ज्ञान है नहीं। ज्ञान तुमको मिलता है, जिससे तुम देवता बनते हो। देवताओं को ज्ञानी नहीं कहेंगे। विष्णु को अलंकार देते हैं वास्तव में हैं तुम ब्राह्मणों के अलंकार। तुम बच्चों को यह स्वदर्शन चक्र फिराना है, इसमें हिंसा की कोई बात नहीं। यह सब ज्ञान की बातें हैं। ज्ञान का शंख बजाना है और चक्र को याद करना है। यह है स्वदर्शन चक्र, उन्होंने फिर चर्खा रख दिया है। कमल फूल समान पवित्र भी तुम्हें यहाँ बनना है। गदा भी ज्ञान की है, जिससे माया पर जीत पानी है। तो यह सब हैं तुम्हारे अलंकार। तुम बच्चे जानते हो यह है नर्क, स्वर्ग उस तरफ खड़ा है। हम संगम पर हैं। एक तरफ मैला पानी दूसरे तरफ अच्छा पानी है। उसका संगम होता है, जो जाकर देखते हैं। यह है ज्ञान-सागर परमपिता परमात्मा और तुम मैली नदियां हो। बाप बैठ आप समान पवित्र बनाते हैं। बाप को याद करो और स्वदर्शन चक्र फिराओ, इसमें कृपा आदि की कोई बात नहीं। टीचर को कभी कहेंगे क्या कि मास्टर जी कृपा करो तो हम ऊंच पद पायें। टीचर कहेंगे पढ़ो। बाप तो कहते हैं मैं तो सबको एक जैसा पढ़ाता हूँ। तुम कहते हो पतित-पावन आओ, आकर हमको पावन बनाओ। तुम इस ड्रामा के एक्टर हो और ड्रामा के आदि मध्य अन्त, क्रियेटर, डायरेक्टर का पता नहीं है। तुम तो पत्थरबुद्धि हो। अभी तुम बच्चे बाप को जानने से पारसबुद्धि बन जाते हो। बाप कहते हैं सवेरे सिर्फ आधा-पौना घण्टा बैठ यह विचार सागर मंथन करो। प्वाइंट्स तो तुमको बहुत सुनाते हैं। उन्होंने तो 18 अध्याय बैठ बनाये हैं। भक्ति मार्ग में फिर ड्रामा अनुसार यह शास्त्र आदि होंगे। अब तुम बच्चों को पुरूषार्थ करना है। अमृतवेले उठ अपने साथ बातें करनी हैं। अब हमको बाप को याद कर पावन बनना है। माला का दाना बनना है। बाबा की याद से पवित्र बनेंगे, जितना पवित्र बनते और बनाते जायेंगे उतना खुशी का पारा चढ़ता जायेगा। यह अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान औरों को देना है। साहूकार लोग दान पुण्य करते हैं ना। तुम हो अविनाशी ज्ञान रत्नों के दानी। एक-एक रत्न लाखों की वैल्यु का है। तुम जितना पवित्र बनते हो - 21 जन्म के लिए मालामाल हो जाते हो। तुम जब पारसबुद्धि थे तो सुख शान्ति सम्पत्ति सब थी। अभी पत्थरबुद्धि होने से सब खत्म हो गया है। अब बाप कहते हैं अपने को आत्मा निश्चय कर सवेरे उठने का अभ्यास डालो। समय अच्छा है। अन्धियारी रात में मनुष्य घोर पाप करते हैं। अभी तुमको पावन बनना है। तुम 100 परसेन्ट निर्विकारी थे। अभी आत्मा में खाद पड़ी है वह निकलेगी - योग भठ्ठी से, योग अग्नि से। इस ज्ञान और योग की समझानी का विनाश नहीं होता है। थोड़ा सुनने से भी प्रजा में आ जायेंगे। बाप तो कहते हैं बच्चे पूरा वर्सा लो, कल्प पहले मुआिफक। वही राजा, वही प्रजा आदि बनेंगे। अज्ञानकाल में भी दान-पुण्य करते हैं तो राजाई घर में जाकर जन्म लेते हैं। कोई कर्मों अनुसार गरीब के घर में जन्म लेते हैं। बाप बैठ कर्म, विकर्म, अकर्म की गति समझाते हैं। सतयुग में कर्म अकर्म हो जाता है क्योंकि माया ही नहीं है। यह है रावण राज्य। वह है रामराज्य। अभी रावण राज्य का विनाश हो, सतयुग की स्थापना हो रही है। बाप तो बहुत अच्छी तरह से समझाते हैं। कन्याओं को अच्छी तरह से समझाना चाहिए, बंधन मुक्त हैं। कन्या की कमाई मात-पिता नहीं खाते हैं। माँ बाप कन्या को पूजते हैं। कन्या जब विकारी बन जाती है तो सबके आगे माथा टेकना पड़ता है। भल कन्या भी देवताओं के आगे माथा टेकती है क्योंकि जन्म तो पतित माँ बाप से लिया ना। देवतायें तो हैं ही पावन। अभी तुम समझते हो हम सो देवता थे। 84 जन्म ले फिर पतित बने हैं, उतरते आये हैं। अब हमको फिर श्रीमत पर चलना पड़े, तो फिर कोई पाप कर्म नहीं होंगे। पाप-आत्मा का अन्न अन्दर नहीं जायेगा। परहेज तो बताई जाती है ना, नहीं तो वह असर पड़ जाता है। परन्तु कहाँ-कहाँ सरकमस्टांश देखा जाता है। कर्मों का हिसाब-किताब है, अलग बनाने नहीं देते हैं। अच्छा बाप को याद करो, लाचारी है - बाबा को याद करके खाओ। भूलेंगे तो तुम्हारे पर उसका असर आ जायेगा। बाप को याद करने से नजदीक होते जायेंगे। अभी तो सम्मुख बैठे हो। बाप डायरेक्ट समझाते हैं, हे बच्चे, हे बच्चे कह बाप बात कर रहे हैं, तो बाप को याद करना है, फिर करो न करो तुम्हारी मर्जा। जो करेगा सो पायेगा जरूर। सीधी बात है। यह तो समझ गये हो - यह हॉस्पिटल है। हेल्थ, वेल्थ की युनिवर्सिटी भी है। इसमें सिर्फ 3 पैर पृथ्वी का चाहिए। बस। बेहद का बाप देखो कैसे पढ़ाते हैं। कितना निरहंकारी बाप है। पतित शरीर, पतित दुनिया में बैठ तुम बच्चों से कितनी मेहनत कर रहे हैं। बच्चे फिर से तुम अपना वर्सा ले लो। हम साक्षी हो देख रहे हैं। कौन-कौन अच्छा पुरूषार्थ कर रहे हैं, इसमें सिर्फ 3 पैर पृथ्वी चाहिए। कलकत्ते में सेन्टर है, कितनों का कल्याण हो रहा है, जो आपस में मिलकर सेन्टर चलाते हैं उनको भी पद मिल जाता है। क्लास जितना कमरा हो, जिसमें सब क्लास सुन सकें। बस। हमको तो गोल्डन एज में जाना है। सिवाए याद के और कोई उपाय है नहीं। बाप कहते हैं बच्चे अपना और दूसरों का कल्याण करना है। तुम यह हॉस्पिटल खोलो। तुमको यहाँ बहुतों की आशीर्वाद मिलेगी। मनुष्य कालेज खोलते हैं औरों के लिए। खुद तो नहीं पढ़ते हैं तो उनको दूसरे जन्म में अच्छी विद्या मिल जाती है। बाप कहते हैं चाहे गरीब हो, चाहे साहूकार हो, तीन पैर पृथ्वी का प्रबन्ध हो, जिसमें बैठ ज्ञान और योग सिखलावें, पत्थर से पारस बनावें। कहते हैं बहन भाई बनाते हैं, विष का वर्सा छुड़ाते हैं। फिर दुनिया कैसे चलेगी। यह तो तुम बच्चे जानते हो कि वहाँ यह दुनिया कोई भोगबल की नहीं है। वहाँ तो योगबल से बच्चे पैदा होते हैं। अब तुम उस नये विश्व के मालिक बनते हो। अच्छा!
मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) सवेरे उठने का अभ्यास डालना है। सवेरे-सवेरे उठ विचार सागर मंथन जरूर करना है। आधा पौना घण्टा भी बैठकर अपने आपसे बातें करनी हैं। बुद्धि को ज्ञान से भरपूर करना है।
2) बहुतों की आशीर्वाद लेने के लिए 3 पैर पृथ्वी पर कालेज वा हॉस्पिटल खोल देनी है। बाप समान निरहंकारी बन सेवा करनी है।
वरदान:
पुरूषार्थ द्वारा हर शक्ति वा गुण का अनुभव करने वाले अनुभवी मूर्त भव
सबसे बड़ी अथॉरिटी अनुभव की है। जैसे सोचते और कहते हो कि आत्मा शान्त स्वरूप, सुख स्वरूप है-ऐसे एक-एक गुण वा शक्ति की अनुभूति करो और उन अनुभवों में खो जाओ। जब कहते हो शान्त स्वरूप तो स्वरूप में स्वयं को, दूसरे को शान्ति की अनुभूति हो। शक्तियों का वर्णन करते हो लेकिन शक्ति वा गुण समय पर अनुभव में आये। अनुभवी मूर्त बनना ही श्रेष्ठ पुरूषार्थ की निशानी है। तो अनुभवों को बढ़ाओ।
स्लोगन:
सम्पन्नता की अनुभूति द्वारा सन्तुष्ट आत्मा बनो तो अप्राप्ति का नामनिशान नहीं रहेगा।
 

Murli 16 August 2017

16/08/17 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, you are spiritual surgeons and professors. You have to open hospital-cum-universities and benefit many.
Question:
The Father establishes a religion, but other founders of religions also came and established religions. What is the difference between the two?
Answer:
The Father simply establishes a religion and goes back, whereas all the other founders of religions go back after creating a reward for themselves. The Father doesn't create a reward for Himself. If the Father were to create a reward for Himself, He would also need someone to inspire Him to make effort. The Father says: I do not want to rule a kingdom. I create a first-class reward for you children.
Song:
O traveller of the night, do not become weary! The destination of the dawn is not far off.  
Om Shanti
It is as though you children composed this song. No one else can know the meaning of the song. You children know that extreme darkness is now coming to an end. It became dark gradually. Now, at this time, you would say that it is extreme darkness. You have now become travellers to go into the light, that is, to go to the land of peace, your Parent’s home. That is the Parent’s home which is pure whereas this is the parents' home which is impure. You call the Beloved, who is sitting in Prajapita Brahma, the Father. He purifies you and takes you back to His home. That One is the Father and this one is also the father. That One is incorporeal and this one is corporeal. No one, apart from the unlimited Father, can say ‘children’. Only the Father says this because He has to take you children back home with Him. He purified you and gave you knowledge. You children understand that you definitely do have to become pure. You have to remember the Father and the whole world cycle. You become ever wealthy through this knowledge. Some say: Tell me whether there is any service for me to do. The service is to give three feet of land and open a spiritual college-cum-hospital on it. Then, there won't be any burden on that person. There is no question of asking for anything. You are advised that if you have money, open a spiritual hospital. There are many who don't have any money. They too can open a hospital-cum-university. As you progress further, you will see that many hospitals will be opened. Your name is written as spiritual surgeons - spiritual surgeons and professors. There is no expense in opening a spiritual hospital and university. Males and females can both become spiritual surgeons and professors. Earlier, females didn't become those; all the business activities were in the hands of men. Nowadays, women have also emerged to do that. Therefore, you too do this spiritual service. When you are attracted by this knowledge, it is easy to explain to anyone. Put up a board outside your home. Some hospitals are big and others are small. If a patient needs to go to a big hospital , you should tell him: Come and I will take you to the big hospital ; there are senior surgeons there. Senior surgeons give advice to junior surgeons. They take their fees and then advise the patient who is in a certain condition that he should therefore be taken to a bigger hospital. They give such advice. Therefore, open such centres and put up boards so that people become amazed. This is something that has to be commonly understood. The golden age definitely comes after the iron age. God, the Father, is the One who establishes the new world. When you find such a Father, why not claim your inheritance from Him? Give happiness to this Bharat through your thoughts, words and deeds. Your thoughts, words and deeds have to be spiritual. ‘Thoughts’ means remembrance and the words you relate are only the two words ‘Manmanabhav’ and ‘Madhyajibhav’: remember the Father and the inheritance. These are two expressions. How you claimed your inheritance and how you then lost it is a secret in the cycle. Old mothers should also have this interest. You mothers should say: Also teach us this. Even the old ones can explain that which none of the scholars or pundits can explain. This is how you will glorify the name. The pictures are also very easy to explain. If some don't have it in their fortune, they won't make effort. Don't just think that you now belong to Baba. Souls belong to the Father anyway. The Father of all souls is the Supreme Soul. This is a matter of a second, but you do have to explain how you receive your inheritance from Him and when He comes. He will come at the confluence age. He explains that you took this many births in the golden age, and this many births in the silver age. You have completed the cycle of 84 births. Heaven is now to be established again. There are no other religions in the golden age. This is something so easy. There will be a lot of happiness by explaining to others. You will become healthy because you receive their blessings. This is very easy for the old mothers. They have experience of the world. If they explained this to anyone, they would show wonders. Simply remember the Father and claim your inheritance from Him. As soon as you take birth you begin to say "Mama and Baba" through your mouth. You have large organs. You can understand this and explain to others. You old mothers should have a lot of interest in glorifying Baba's name and so you should become very sweet. All attachment should be removed. Everyone has to die. There are only a few more days to live and so why should you not connect your intellects in yoga to One? Whatever time you have, stay in remembrance of the Father and end your attachment to everyone else. When some reach the age of 60, they go into retirement. They can explain very well. Imbibe this knowledge and then also benefit others. If daughters from very good homes make such effort and go and explain in every home, the name would be glorified so much. You should make effort to study and maintain this interest. This knowledge is so wonderful. Tell them: Look, the iron age is now coming to an end. Death for everyone is just ahead. The Father comes at the end of the iron age and gives you the inheritance of heaven. Krishna would not be called the Father; he is a small child. How did he receive the kingdom of the golden age? He must definitely have performed such actions in his past birth. You can explain that this one (Brahma) truly did create his reward by making effort. He made effort in the iron age and received his reward in the golden age. There, there is no one who could inspire others to make effort. They received so much reward in the golden and silver ages. You definitely have found the highest-on-high Father who makes you into the masters of the golden and silver ages. No one else can make you this. You have definitely found the Father. You will not find Lakshmi and Narayan themselves. It isn't that you found Brahma or Shankar either. No, you have found God. He is incorporeal. No one, apart from God, can inspire you to make such effort. God speaks: I create a first-class reward for you. The original eternal deity religion is being established. Establishment has to take place here. It is the Father who inspires you to make effort. All the others who establish religions continue to come down one after another. Those who establish religions create a reward for themselves and leave. The Father doesn't have to create a reward for Himself. If He created a reward, He would also need someone to inspire Him to make effort. Shiv Baba says: Who would inspire Me to make effort? My part is such that I do not rule a kingdom. This drama is predestined. The Father sits here and explains: I explain to you the essence of all the Vedas and scriptures. All of that is the path of devotion. The path of devotion is now coming to an end. That is the stage of descent. It is now your stage of ascent. It is said: Due to the stage of ascent, there is benefit for everyone. Everyone receives liberation and liberation-in-life. Then, after coming down from 16 celestial degrees, you have to come to the stage of no degrees. There is the eclipse. An eclipse affects everything gradually. This is a matter of the unlimited. You are now becoming complete. Then, in the silver age, the degrees are reduced by two; you become a little impure. This is why you should make effort for the kingdom of the golden age. Why should you settle for anything less? However, not everyone can pass the examination and become 16 celestial degrees full. You children have to make effort and inspire others. Very good service can take place through these pictures. It is written very clearly. Tell them: Since the Father creates the creation of heaven, why are we still in hell? This old world is hell where there is nothing but sorrow. Then, surely the new world of the golden age should come. The intellects of you children have faith. There is nothing of blind faith here. There is nothing of blind faith in any of the colleges. The aim and objective is just ahead. People study at those colleges in this birth and they receive the reward of that in this birth. Here, you will receive the reward of this study in your new birth after destruction. How could deities come into the iron age? It is very easy for you children to explain. Very good pictures have been created. The picture of the tree is also very good. Christians also believe in a tree; they happily celebrate in their kingdom (Christianity). Everyone has his or her own part. You also know that devotion has to take place for half the cycle. There is everything such as sacrificial fires, tapasya, pilgrimages etc in that. The Father says: I can't be found through them. When your devotion comes to an end, it is then that God comes. For half the cycle there is knowledge and for half the cycle there is devotion. It is clearly written in the picture of the tree. Just have a picture without any writing and you can then explain that. You have to pay attention to the pictures; they have wonderful knowledge. It isn't that because you have taken a body on loan, you would consider it to be your property. No, you would understand that you are just a tenant. This Brahma is sitting here; that One also has to be made to sit here, just as the landlord and tenant both live in some buildings. Baba does not sit in this one all the time. This one is called the chariot of Hussein. For instance, the Christ soul entered the body of an adult and established the Christian religion. In his childhood, the body was that of a different soul. That person didn't have the incarnation in him in his childhood. The Nanak soul also enters that body later and establishes the Sikh religion. Those people cannot understand these things. These matters have to be understood very well. Pure souls come and establish a religion. Krishna is the first prince of the golden age. Why have they taken him into the copper age? They show the golden age to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. You know that it is Radhe and Krishna who become Lakshmi and Narayan. They then become the masters of the world. How was their kingdom established? This is not in anyone's intellect. You know that the Father only incarnates once and purifies the impure. You also have to prove the birthday of Krishna. He didn't give knowledge. First of all, the birthday of the One who made him that should be celebrated. People observe a fast etc. on Shiva's birthday. They also pour milk over Him (His lingam). They stay awake throughout the night. Here, it is the night anyway. For as long as you live, you have to observe the vow of purity. Only by observing this vow can you become the masters of the pure kingdom. On Krishna’s birthday, you should explain that Krishna was beautiful and that he has now become ugly and that is why he is called Shyam-Sundar. This knowledge is so easy! Explain the meaning of Shyam-Sundar - how the cycle turns. You children have to become alert. Shiv Shaktis made Bharat into heaven. No one knows this. The Father is incognito, the knowledge is incognito and the Shiv Shaktis are also incognito. You can take the pictures and go to anyone's home. Tell them: You don't come to the centre and we have therefore come to your house to show you the way to the land of happiness. Then they would understand that you have good wishes for them. Here, there is no question of just pleasing your ears. At the end, people will understand that they truly have wasted their li ves, whereas you people have really made something of your lives. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Become a conqueror of attachment and connect your intellect in yoga to the one Father. Become soul conscious and imbibe these teachings and also inspire others to do so.
2. Give Bharat happiness through your thoughts, words and deeds. Relate two words of knowledge to others and benefit them. Have positive thoughts for others and show everyone the way to the land of peace and the land of happiness.
Blessing:
May you be master knowledge-full and fix your fortune of the first division with determined faith.
Determined faith fixes your fortune. Just as Father Brahma became fixed as the first number, similarly, let there be the determined faith that you have to come in the first division. Every child has received this golden chance in the drama. Simply pay attention to this practice and you can claim a number ahead. This is why you have to become master knowledge-full as you continue to perform every action. Increase the experience of His company and everything will become easy. Maya is a paper tiger in front of those who have the Almighty Authority Father, Himself, with them.
Slogan:
Consider yourself to be a hero actor and continue to play your hero part in the unlimited play.
 

मुरली 16 अगस्त 2017

16-08-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन 

“मीठे बच्चे - तुम हो रूहानी सर्जन और प्रोफेसर, तुम्हें हॉस्पिटल कम युनिवर्सिटी खोल अनेकों का कल्याण करना है”
प्रश्न:
बाप भी धर्म स्थापना करते और अन्य धर्म स्थापक भी धर्म स्थापना करते, दोनों में अन्तर क्या है?
उत्तर:
बाप सिर्फ धर्म स्थापना करके वापस चले जाते लेकिन अन्य धर्म स्थापक अपनी प्रालब्ध बनाकर जाते हैं। बाप अपनी प्रालब्ध नहीं बनाते। अगर बाप भी अपनी प्रालब्ध बनायें तो उन्हें भी कोई पुरूषार्थ कराने वाला चाहिए। बाप कहते मुझे बादशाही नहीं करनी है। मैं तो बच्चों की फर्स्टक्लास प्रालब्ध बनाता हूँ।
गीत:
रात के राही...   
ओम् शान्ति।
गीत जैसेकि बच्चों ने बनाया है। गीत का अर्थ तो और कोई जान भी न सके। बच्चे जानते हैं अब घोर अन्धियारा पूरा होता है। धीरे-धीरे अन्धियारा होता गया है। इस समय कहेंगे घोर अन्धियारा। अभी तुम राही बने हो सोझरे में जाने लिए अथवा शान्तिधाम, पियरघर जाने लिए। वह है पावन पियरघर और यह है पतित पियरघर। प्रजापिता में जो पिऊ बैठा है, उनको तुम बाप कहते हो। वह तुमको पवित्र बनाकर अपने घर ले जाते हैं। पिता वह भी है, पिता यह भी है। वह है निराकार, यह है साकार। बच्चे कहने वाला सिवाए बेहद के बाप के और कोई हो न सके। बाप ही कहते हैं क्योंकि बच्चों को साथ घर ले जाना है। पवित्र बनाया और नॉलेज दी। बच्चे समझते हैं पवित्र तो जरूर बनना है। बाप को याद करना है और सारे सृष्टि चक्र को याद करना है। इस ज्ञान से तुम एवरवेल्दी बनते हो। कोई कहते हैं हमारे लिए कोई सेवा बोलो। सेवा यही है - तीन पैर पृथ्वी के देकर उसमें रूहानी कॉलेज और हॉस्पिटल खोलो। तो उन पर कोई बोझा भी नहीं पड़ेगा। इसमें मांगने की तो बात ही नहीं। राय देते हैं अगर तुम्हारे पास पैसे हैं तो रूहानी हॉस्पिटल खोलो। ऐसे भी बहुत हैं जिनके पास पैसे नहीं हैं। वह भी हॉस्पिटल कम युनिवर्सिटी खोल सकते हैं। आगे चल तुम देखेंगे बहुत हॉस्पिटल खुल जायेंगे। तुम्हारा नाम रूहानी सर्जन लिखा होगा। रूहानी सर्जन और प्रोफेसर। रूहानी कालेज वा हॉस्पिटल खोलने में कुछ भी खर्च नहीं है। मेल अथवा फीमेल दोनों रूहानी सर्जन अथवा प्रोफेसर बन सकते हैं। आगे फीमेल नहीं बनती थी। व्यवहार, कार्य पुरूषों के हाथ में था। आजकल तो मातायें निकली हैं। तो अब तुम भी यह रूहानी सर्विस करते हो। ज्ञान की चटक लगी हुई हो फिर किसको भी समझाना बड़ा सहज है। घर पर बोर्ड लगा दो। कोई बड़ी हॉस्पिटल, कोई छोटी भी होती है। अगर देखो बड़ी हॉस्पिटल में ले जाने वाला पेशेन्ट है तो बोलना चाहिए कि चलो हम आपको बड़ी हॉस्पिटल में ले चलें। वहाँ बड़े-बड़े सर्जन हैं। छोटे सर्जन बड़े सर्जन के लिए राय देते हैं। अपनी फी ले लेते हैं फिर समझते यह मरीज ऐसा है, इसको बड़ी हॉस्पिटल में ले जाना चाहिए, ऐसी राय देते हैं। तो ऐसे सेन्टर खोल बोर्ड लगा दो। तो मनुष्य वन्डर खायेंगे ना। यह तो कामन समझने की बात है। कलियुग के बाद सतयुग जरूर आता है। भगवान बाप ही नई दुनिया स्थापना करने वाला है। ऐसा बाप मिल जाए तो हम क्यों न वर्सा लेवें। मन-वचन-कर्म से इस भारत को सुख देना है। मन- वचन-कर्म सो भी रूहानी। मन्सा अर्थात् याद और वचन तो सुनाते ही दो हैं - मनमनाभव और मध्याजी भव। बाप और वर्से को याद करो दो वचन हुए ना। वर्सा कैसे लिया, कैसे गवाया - यह है चक्र का राज। बुढि़यों को भी शौक होना चाहिए। बोलना चाहिए हमको सिखलाओ। बूढ़े-बूढ़े भी समझा सकते हैं, जो और कोई विद्वान-पण्डित आदि नहीं समझा सकते। तब तो नाम बाला करेंगे। चित्र भी बहुत सहज हैं। कोई की तकदीर में नहीं है तो पुरूषार्थ करते नहीं हैं। सिर्फ ऐसा नहीं समझना है कि मैं बाबा की हो गई। वह तो आत्मायें बाप की हैं ही। आत्माओं का बाप परमात्मा है, यह तो सेकेण्ड की बात है। परन्तु उनसे वर्सा कैसे मिलता है, वह कब आते हैं - यह समझाना है। आयेंगे भी संगम पर। समझाते हैं सतयुग में तुमने इतने जन्म लिये। त्रेता में इतने जन्म, 84 का चक्र पूरा किया। अब फिर से स्वर्ग की स्थापना होनी है। सतयुग में और कोई दूसरे धर्म होते नहीं। कितनी सहज बात है। दूसरे को समझाने से खुशी बहुत होगी। तन्दरूस्त हो जायेंगे, क्योंकि आशीर्वाद मिलती है ना। बुढि़यों के लिए तो बहुत सहज है। यह दुनिया के अनुभवी भी हैं। किसको यह बैठ समझायें तो कमाल कर दिखायें। सिर्फ बाप को याद करना है और बाप से वर्सा लेना है। जन्म लिया और मुख से मम्मा बाबा कहने लगते हैं। तुम्हारे आरगन्स तो बड़े-बड़े हैं। तुम तो समझकर समझा सकते हो। बुढि़यों को बहुत शौक होना चाहिए कि हम तो बाबा का नाम बाला करें और बहुत मीठा बनना चाहिए। मोह ममत्व निकल जाना चाहिए। मरना तो है ही। बाकी दो चार रोज जीना है तो क्यों न हम एक से ही बुद्धियोग रखें। जो भी समय मिले, बाप की याद में रहें और सब तरफ से ममत्व मिटा देवें। 60 वर्ष के जब होते हैं तो वानप्रस्थ लेते हैं। वह तो बहुत अच्छा समझा सकते हैं। नॉलेज धारण कर फिर दूसरों का भी कल्याण करना चाहिए। अच्छे-अच्छे घर की बच्चियाँ ऐसा पुरूषार्थ कर और घर-घर में जाकर समझायें तो कितना न नामाचार निकले। पुरूषार्थ कर सीखना चाहिए, शौक रखना चाहिए। यह नॉलेज बड़ी वन्डरफुल है। बोलो, देखो कलियुग अब पूरा होता है। सबका मौत सामने खड़ा है। कलियुग के अन्त में ही बाप आकर स्वर्ग का वर्सा देते हैं। कृष्ण को तो बाप नहीं कहेंगे। वह तो छोटा बच्चा है। उनको सतयुग का राज्य कैसे मिला! जरूर पास्ट जन्म में ऐसा कर्म किया होगा। तुम समझा सकते हो कि बरोबर इन्होंने पुरूषार्थ से यह प्रालब्ध बनाई है। कलियुग में पुरूषार्थ किया है, सतयुग में प्रालब्ध पाई है। वहाँ तो पुरूषार्थ कराने वाला कोई होता नहीं। सतयुग त्रेता की इतनी जो प्रालब्ध मिली है। जरूर ऊंच ते ऊंच बाप मिला है जो ही गोल्डन, सिलवर एज का मालिक बनाते हैं और कोई बना न सके। जरूर बाप ही मिला है। लक्ष्मी-नारायण खुद तो नहीं मिलेंगे। ऐसा भी नहीं कि ब्रह्मा वा शंकर मिले। नहीं। भगवान मिला। वह है निराकार। भगवान के सिवाए तो कोई है नहीं जो ऐसा पुरूषार्थ कराये। भगवानुवाच - मैं तुम्हारी प्रालब्ध फर्स्टक्लास बनाता हूँ। यह आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना होती है। स्थापना यहाँ ही करनी है। कराने वाला तो एक बाप है। और जो धर्म स्थापना करते वह तो एक दो के पिछाड़ी आते रहते हैं। धर्म स्थापना करने वाले प्रालब्ध बना जाते हैं। बाप को तो अपनी प्रालब्ध नहीं बनानी है। अगर प्रालब्ध बनाई तो उनको भी पुरूषार्थ कराने वाला कोई चाहिए। शिवबाबा कहते हैं मुझे कौन पुरूषार्थ करायेंगे। मेरा पार्ट ही ऐसा है, मैं बादशाही नहीं करता हूँ। यह ड्रामा बनाबना या है। बाप बैठ समझाते हैं मैं तुमको सभी वेद शास्त्र का सार समझाता हूँ। यह सब है भक्तिमार्ग। अब भक्ति मार्ग पूरा होता है। वह है उतरती कला। अब तुम्हारी होती है चढ़ती कला। कहते हैं ना चढ़ती कला सर्व का भला। सब मुक्ति-जीवनमुक्ति को पा लेते हैं। फिर पीछे 16 कला से उतरते-उतरते नो कला में आना है। ग्रहण लग जाता है ना। ग्रहण थोड़ा-थोड़ा होकर लगता है। यह तो है बेहद की बात। अभी तुम सम्पूर्ण बनते हो। फिर त्रेता में 2 कला कम होती हैं। थोड़ा काला बन पड़ते हैं इसलिए पुरूषार्थ सतयुग की राजाई के लिए करना चाहिए। कम क्यों लेवें। परन्तु सभी तो इम्तहान पास कर नहीं सकते, जो 16 कला सम्पूर्ण बनें। बच्चों को पुरूषार्थ करना और कराना है। इन चित्रों पर बहुत अच्छी सर्विस हो सकती है। बड़ा क्लीयर लिखा हुआ है। बोलो, बाप स्वर्ग की रचना रचते हैं तो फिर हम नर्क में क्यों पड़े हैं। यह पुरानी दुनिया नर्क है ना, इसमें दु:ख ही दु:ख है फिर जरूर नई दुनिया सतयुग आना चाहिए। बच्चे निश्चयबुद्धि हैं। यहाँ कोई अन्धश्रद्धा की बात नहीं। कोई भी कॉलेज में अन्धश्रद्धा की बात नहीं होती। एम आब्जेक्ट सामने खड़ी है। उन कॉलेज आदि में इस जन्म में पढ़ते हैं, इस जन्म में ही प्रालब्ध पाते हैं। यहाँ इस पढ़ाई की प्रालब्ध विनाश के बाद दूसरे जन्म में तुम पायेंगे। देवतायें कलियुग में आ कैसे सकते। बच्चों को समझाना बड़ा सहज है। चित्र भी बड़े अच्छे बनाये हुए हैं। झाड़ भी बहुत अच्छा है। क्रिश्चियन लोग भी झाड़ को मानते हैं। खुशी मनाते हैं अपने नेशन की। सबका अपना-अपना पार्ट है। यह भी जानते हो - भक्ति भी आधाकल्प होनी है। उसमें यज्ञ तप तीर्थ आदि सब होते हैं। बाप कहते हैं मैं उनसे नहीं मिलता हूँ। जब तुम्हारी भक्ति पूरी होती है तब भगवान आते हैं। आधाकल्प है ज्ञान, आधाकल्प है भक्ति। झाड़ में क्लीयर लिखा हुआ है। सिर्फ चित्र हों, बिगर लिखत, उस पर भी समझा सकते हो। चित्रों तरफ अटेन्शन चाहिए, इनमें कितनी वन्डरफुल नॉलेज है। ऐसे थोड़ेही है कि शरीर लोन लिया है तो उसको अपनी मिलकियत समझेंगे। नहीं, समझेंगे मैं किरायेदार हूँ। यह ब्रह्मा खुद भी बैठे हुए हैं, उनको भी बिठाना है। जैसे किसी मकान में खुद मालिक भी रहते हैं और किरायेदार भी रहते हैं। बाबा तो सारा समय इसमें नहीं रहेंगे, इनको हुसेन का रथ कहा जाता है। जैसे क्राइस्ट की आत्मा ने किसी बड़े तन में प्रवेश कर क्रिश्चियन धर्म स्थापना किया। छोटेपन में शरीर दूसरे का था, वह छोटेपन में अवतार नहीं था। नानक में भी पीछे सोल प्रवेश कर सिक्ख धर्म स्थापना करती है। यह बातें वह लोग समझ नहीं सकते हैं। यह बहुत समझ की बातें हैं। पवित्र आत्मा ही आकर धर्म स्थापना करती है। अभी कृष्ण तो है सतयुग का पहला प्रिन्स, उनको द्वापर में क्यों ले गये हैं! सतयुग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य दिखाते हैं। यह भी तुम जानते हो - राधे कृष्ण ही लक्ष्मी-नारायण बनते हैं, फिर विश्व के मालिक बनते हैं। उन्हों की राजधानी कैसे स्थापना हुई? यह किसकी बुद्धि में नहीं है। तुम जानते हो बाप एक ही बार अवतरित होते हैं, पतितों को पावन बनाते हैं। कृष्ण जयन्ती पर भी सिद्ध करना है। उसने तो ज्ञान दिया नहीं। जिसने उसको बनाया, पहले तो उनकी जयन्ती मनानी चाहिए। शिव जयन्ती पर मनुष्य व्रत आदि रखते हैं। लोटी चढ़ाते हैं। सारी रात जागते हैं। यहाँ तो है ही रात। उसमें जितना जीना है उतना पवित्रता का व्रत रखना है। व्रत धारण करने से ही पवित्र राजधानी के मालिक बनते हैं। कृष्ण जयन्ती पर समझाना चाहिए कि कृष्ण गोरा था अभी सांवरा बन गया है, इसलिए श्याम सुन्दर कहते हैं। कितना सहज ज्ञान है। श्याम सुन्दर का अर्थ समझाना है। चक्र कैसे फिरता है। तुम बच्चों को खड़ा होना चाहिए। शिवशक्तियों ने भारत को स्वर्ग बनाया है, यह किसको पता नहीं। बाप भी गुप्त, ज्ञान भी गुप्त और शिव-शक्तियां भी गुप्त। तुम चित्र लेकर किसी के भी घर में जा सकते हो। बोलो, तुम सेन्टर पर नहीं आते हो इसलिए हम तुम्हारे घर में आये हैं, तुमको सुखधाम का रास्ता बताने। तो वह समझेंगे यह हमारे शुभ-चिन्तक हैं। यहाँ कनरस की बात नहीं। पिछाड़ी में मनुष्य समझेंगे कि बरोबर हमने लाइफ व्यर्थ गँवाई, लाइफ तो इन्हों की है। अच्छा!
मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) नष्टोमोहा बन एक बाप से ही अपना बुद्धियोग रखना है। देही-अभिमानी बन यही शिक्षा धारण करनी और करानी है।
2) मन-वचन-कर्म से भारत को सुख देना है। मुख से हर एक को ज्ञान के दो वचन सुनाकर उनका कल्याण करना है। शुभ-चिन्तक बन सबको शान्तिधाम, सुखधाम का रास्ता बताना है।
वरदान:
दृढ़ निश्चय द्वारा फर्स्ट डिवीजन के भाग्य को निश्चित करने वाले मास्टर नॉलेजफुल भव
दृढ़ निश्चय भाग्य को निश्चित कर देता है। जैसे ब्रह्मा बाप फर्स्ट नम्बर में निश्चित हो गये, ऐसे हमें फर्स्ट डिवीजन में आना ही है-यह दृढ़ निश्चय हो। ड्रामा में हर एक बच्चे को यह गोल्डन चांस है। सिर्फ अभ्यास पर अटेन्शन हो तो नम्बर आगे ले सकते हैं, इसलिए मास्टर नॉलेजफुल बन हर कर्म करते चलो। साथ के अनुभव को बढ़ाओ तो सब सहज हो जायेगा, जिसके साथ स्वयं सर्वशक्तिमान् बाप है उसके आगे माया पेपर टाइगर है।
स्लोगन:
स्वयं को हीरो पार्टधारी समझ बेहद नाटक में हीरो पार्ट बजाते रहो।
 

Monday, August 14, 2017

Murli 15 August 2017

15/08/17 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, you have to show (reveal) the Father through your divine, sweet behaviour.Give everyone the Father's introduction and enable them to claim a right to their inheritance.
Question:
What are the signs of children who are soul conscious?
Answer:
They are very sweet and lovely. They follow shrimat accurately. They never make excuses about doing any task; they always say, "Ha ji" (Yes, surely); they never say no. Whereas body-conscious people think that they would lose their honour by doing a particular type of work, soul-conscious children always follow the Father's orders. They have full regard for the Father. They never become angry or disobey the Father. They do not have attachment to their bodies. They make everything of theirs prosper by having remembrance of Shiv Baba; they would not ruin anything.
Song:
No one is unique like the Innocent Lord.  
Om Shanti
Out of the whole big world, you can say Bharat in particular and Europe in general, because Bharat is the ancient land anyway. You understand that there was originally just Bharat. Those of all religions know that they all came one after another. Bharat existed before them. This is something to be understood. You children understand that Bharat truly is ancient. At that time, Bharat was very wealthy and so it was called heaven. At this time, no human being, apart from you children, knows the Father. You too only know Him, numberwise, according to the effort you make. Therefore, every one can understand for themselves that they don't know the unlimited Father. They call out to Him and perform devotion, but none of them knows the Father's biography. It is sung "Father shows son, son shows Father". Now you children have to show the Father. The Father cannot show Himself. The Father does not go outside. You children have to give the Father's introduction. You understand that the unlimited Father is also the Creator of heaven. If they were to know Him, they would be amazed and wonder why, although they are the children of God, they are unhappy and in the iron age. You also have to ask this question. The first question to ask is: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? Those who ask definitely have to know the answer. No one else asks because no one else knows. You can ask anyone. Commonly, everyone says that God is omnipresent. However, there is no meaning to omnipresence. They call Him the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. There has to be One who removes sorrow and gives happiness. If you touch on this subject, even a little, they will understand that there was nothing but happiness in heaven. Now, there is nothing but sorrow. Therefore, the Father must surely have removed everyone's sorrow. This is something very easy to understand. You now understand that you belong to the parlokik Mother and Father. These things of knowledge exist here; they don't exist in the golden age. There, there is neither knowledge nor ignorance. There, there is no one who can give knowledge. They have already achieved the reward through knowledge. You are now receiving the reward through knowledge, numberwise, according to the effort you make. It requires a lot of effort to become soul conscious. Only those who remain engaged in Shiv Baba's service can become soul conscious. When someone has body consciousness, that fragrance is gone from that person. You can tell that a person is body conscious from that one's activities. Those who are soul conscious are very sweet and lovely. We are all brothers, children of the one Father. We are also brothers and sisters. Both follow shrimat accurately. It isn't that one follows shrimat and that the other one makes excuses and sits down. The Father cannot call anyone who doesn't follow His shrimat His child. Externally, He may say, "Child, child". Internally, He understands that so-and-so is disobedient and also what status he would claim. Both Bap and Dada can understand when someone is not following shrimat, that it is because of body consciousness that he is not following shrimat. Those who are soul conscious are very sweet. This devilish world is so bitter: mothers and fathers, brothers and sisters are all so bitter. Here, too, those who are body conscious are bitter. You are now becoming soul conscious. Some have just reached the tamo stage from being tamopradhan and only that extremity has been removed. Others have reached the rajo stage. Only a few have reached the sato stage. It isn't that you will gradually reach that stage. For how long will you continue to move along slowly? Those who are soul conscious are not body conscious about doing any particular type of work, thinking that they would lose their honour by doing that. When you were in Pakistan, Baba also did all types of work in order to teach you children so that you didn't have body consciousness about anything. By your becoming body conscious, everything is destroyed and all truth is lost. You then fall even further down than those outside who are to become subjects. Of the subjects, those who become wealthy will also have maids and servants. Here, you go and become maids and servants. Those wealthy ones are better than you! Everything has to be done with the intellect. It is understood that those who do not become children, who simply become very good helpers, become very wealthy. They don't need to have a job. Here, you have to work for others. Then perhaps, at the end, you will receive your fortune of a kingdom (a crown). Both types have to experience punishment. Only enlightened children are able to understand these things. Those who are ignorant are body conscious. Their behaviour is such. It is then understood that such ones are of no use. Here, you children have to follow shrimat. Otherwise, Maya will deceive you a great deal. You quickly become body conscious. It takes effort to finish body consciousness and to become soul conscious. Those who stay here have the company of Brahmins. The world outside is very bad. In knowledge, you should have such first-class company that you are completely coloured by that one. By having the company of those who are bodyconscious, you become completely impure. Then, you don't even follow orders. Baba says: If you come and ask Me, I would instantly tell you whether you are obedient or not. There are very good children, numberwise, according to effort. They continue to please the heart. There is a lot of unhappiness and violence in the world; there is a lot of bloodshed. It is called the forest of thorns. You have moved away from that. You are now at the confluence age. This is in your intellects: we live at home with the family while at the confluence age. We are now continuing to become flowers from thorns. We are moving away from thorns. We are different from those uneducated people; we are religious. Only you are religious in this world. That too is numberwise according to your efforts. Those who don't even know the Father are irreligious. At this time all are irreligious, especially in Bharat. They say that they don't know aboutreligion. Therefore, they are irreligious. Religious and irreligious; Pandavas and Kauravas. The Pandavas didn't have a physical war. We have an incognito war with Maya that no one knows about. If we don't remember the Father, we become slapped by Maya and storms come. The Father says: Your faces are now on that side and your feet are on this side. You should always continue to remember the new world. You have to live at home with your family. The Father says: The stage of those who live at home with their families is better than of those who are free from bondage. Not all can be the same; they are numberwise. In a school, too, not everyone claims the same number. This is an unlimited school. The Father is concerned about the children at all the centres. This is called having a broad and unlimited intellect. You will have a broad and unlimited intellect when you remember the Father. The intellects of you children have now become broad and unlimited. You know about the incorporeal world, the subtle region, the corporeal world and how the whole cycle turns. This is known as a broad intellect and unlimited intellect. Human beings have limited intellects. Your intellects are becoming unlimited. Therefore, you children have to become very sweet. The more sweet and perfect you become now, the more imperishable that will become in the future. You should check that you don't have any body consciousness. If you say “No” to doing anything, it is understood that you have body consciousness. In the golden age you are all soul conscious. You know that you have to shed an old body and take a new one. Here, people cry so much. There is body consciousness; they love bodies a great deal. For you children, it is as though this world doesn't exist. You came bodiless and you have to return bodiless. The unlimited Father is teaching you children, so you should have so much regard for Him. Monkeys don't have regard for anyone. They would even howl at elephants! The Father would not call those who are bitter inside worthy children. He would say: Those living outside are better than they are. At least they have regard! This is also said to be the drama. Today, someone is moving along very well and tomorrow there are storms of Maya. They don't understand that they are being influenced by storms. Even senior ones are affected by storms. Nevertheless, it is said to be the drama. We are claiming our inheritance from Shiv Baba. When you forget this, everything is ruined. Everything will prosper by eating everything from Shiv Baba's bhandara (treasure-store). If you forget that One, your apron becomes empty. You will also claim an ordinary status among the subjects. There will be a lot of punishment. If you leave (this yagya), you make the intellects of others have doubts. Baba feels mercy. However, He cannot tolerate Maya attacking you children. The Master teaches you a great deal. Remain unshakeable and immovable. If you don't remain like this, Baba understands that you haven't yet reached the silver-aged stage. He is amazed! Because of not having full knowledge and because of not having yoga with Shiv Baba, they fall. They have so many types of storm. Ascending and descending continues all the time. If you fall down, you have to get up and become alert. We are only concerned with Shiv Baba. No matter what happens, we have to claim our inheritance from Shiv Baba. Mama and Baba also claim it from Him. You have to remember Him alone and listen to His murli. Where else would you go? There is only this one shop. You cannot receive liberation and liberation-in-life without coming here. Everyone has to come in front of the Father. Yes, those who are in bondage and die in remembrance of Baba can also claim a good status. Because they died in remembrance of Baba, their status would be higher than those who live here and are disobedient due to body consciousness. That is their great fortune. There is no other difficulty on this path of knowledge. It is very easy. Here, you have to become soul conscious a great deal. Many stay in a lot of body consciousness. Baba doesn't tell you anything else but, internally, He feels mercy in His heart. You receive a livelihood for your body from Shiv Baba's bhandara and yet you do not take care of the yagya at all! So, what status will you claim? You have to take care of this yagya a great deal. Wherever centres are established, they are Shiv Baba's yagya. For this yagya, you just need three square feet of land; that’s all. Even if someone is old and unable to explain anything, he can call other brothers and sisters. Just set up a small room and put up a board. That is an act of great charity. It is now the iron age and destruction is just ahead. You definitely have to claim your inheritance of heaven from the Father. You receive your inheritance of heaven at the confluence age when the old world is destroyed and the new world is established. You receive your inheritance at the confluence age and it then becomes imperishable for the future. You can explain a great deal. You simply need three square feet of land, that’s all. Even if you uplift one or two, that is great fortune. You have given them just the one the mantra: ‘Manmanabhav!’ Simply say: Remember the Father and your final thoughts will lead you to your destination. The Father is giving you the treasures of heaven. You heard that and it sat in your intellects and you became worthy of going to heaven. The one who gives you that space also receives a right. Baba tells you everything so easily. Show others the way to the land of happiness. Even if they simply become subjects, that too is good. They will continue to become numberwise. ‘Three square feet’ is very well known and, through it, you become the masters of the world. The subjects will also say that they are the masters of the world. This building was also three feet of land, was it not? Everything here began with three feet of land. There was just a small place and it then gradually began to grow. Many such people will come to whom Baba will say: What will you do with your money? He gives you very good advice. Simply buy three feet of land and open 10 to 15 colleges and hospitals. Rent a building in your town. All of this is to be destroyed. Rather than that, if you open 10 to 15 centres, many will be benefited and you will become very wealthy. You can open this college in a very small space. You simply have to become sticks for the blind and show them the path. You have to awaken everyone. Remember the Father and your inheritance and your boat will go across. There is no question of any other expense etc. You will claim an unlimited inheritance from the unlimited Father. It is very easy to explain. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Keep the company of first-class enlightened souls. Become soul conscious. Remain far away from the company of body-conscious people.
2. Serve the yagya with a lot of love and an honest heart. Become very lovely and sweet. Show yourself to be worthy. Do not be disobedient about anything.
Blessing:
May you have the support of God’s love and thereby become filled with happiness and peace and forget the world of sorrow.
God’s love gives such happiness that if you become lost in it, you will forget this world of sorrow. To be able to have the desires of whatever you want in life fulfilled is sign of God’s love. Not only does God give you happiness and peace, He makes you a treasure-store of those. Just as the Father is the Ocean of Love and not a river or a lake, similarly, He also makes you children into masters of the treasure-store of happiness. This is why there is no need to ask for anything. Simply use the treasures you have received in right way from time to time.
Slogan:
Hand over the burden of all your weaknesses to the Father and become double light.
 

मुरली 15 अगस्त 2017

15-08-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन 

“मीठे बच्चे - तुम्हें अपनी दैवी मीठी चलन से बाप का शो करना है, सबको बाप का परिचय दे, वर्से का अधिकारी बनाना है”
प्रश्न:
जो बच्चे देही-अभिमानी हैं, उनकी निशानियां क्या होंगी?
उत्तर:
वह बहुत-बहुत मीठे लवली होंगे। वह श्रीमत पर एक्यूरेट चलेंगे। वह कभी किसी काम के लिए बहाना नहीं बनायेंगे। सदा हाँ जी करेंगे। कभी ना नहीं करेंगे। जबकि देह-अभिमानी समझते यह काम करने से मेरी इज्जत चली जायेगी। देही-अभिमानी सदा बाप के फरमान पर चलेंगे। बाप का पूरा रिगार्ड रखेंगे। कभी क्रोध में आकर बाप की अवज्ञा नहीं करेंगे। उनका अपनी देह से लगाव नहीं होगा। शिवबाबा की याद से अपना खाना आबाद करेंगे, बरबाद नहीं होने देंगे।
गीत:
भोलेनाथ से निराला...   
ओम् शान्ति।
इतनी सारी बड़ी दुनिया है इसमें भारत खास और यूरोप आम कहें क्योंकि भारत तो प्राचीन ही है। यह तो समझते हैं असुल भारत ही था। सब धर्म वाले यह तो जानते ही हैं कि हम एक दो के पिछाड़ी आये हैं,हमारे आगे भारत ही था। यह तो समझ की बात है ना। तुम बच्चे जानते हो कि बरोबर भारत ही प्राचीन है। उस समय भारत ही बहुत धनवान था तो स्वर्ग कहा जाता था। इस समय तो कोई मनुष्य मात्र बाप को जानते ही नहीं सिवाए तुम बच्चों के। सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार हैं। तो हर एक खुद समझ सकते हैं कि बेहद के बाप को नहीं जानते। पुकारते हैं, भक्ति करते हैं। परन्तु बाप की बायोग्राफी किसको पता नहीं है। गाया भी जाता है कि फादर शोज सन, सन शोज फादर। अब तुम बच्चों को ही बाप का शो करना है। फादर तो अपना शो नहीं कर सकता। फादर तो बाहर नहीं जायेगा। तुम बच्चों को ही बाप का परिचय देना है। यह भी समझते हैं कि बेहद का बाप स्वर्ग का रचयिता है। उनको अगर जानते तो आश्चर्य लगता है - हम भगवान के बच्चे दु:ख में, आइरन एज में क्यों? यह प्रश्न भी तुमको पूछना है। पहला प्रश्न पूछना है तुम्हारा परमपिता परमात्मा से क्या सम्बन्ध है? पूछने वाले को तो जरूर मालूम है और कोई भी पूछता नहीं क्योंकि मालूम नहीं है। तुम कोई से भी पूछ सकते हो। यह तो कामन रीति से सब कह देते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है। परन्तु सर्वव्यापी का तो कोई अर्थ ही नहीं। दु:ख हर्ता सुख कर्ता कहते हैं ना। दु:ख मिटाने वाला, सुख देने वाला तो एक चाहिए ना। तुम थोड़ा भी टच करेंगे (समझायेंगे) तो समझेंगे बरोबर सतयुग में सुख ही सुख था। अभी तो दु:ख ही दु:ख है। तो जरूर सबके दु:खों को बाप ने मिटाया होगा। यह तो अति सहज बात है। तुम्हारी समझ में आता है हम पारलौकिक मात-पिता के बने हैं। यह ज्ञान की बातें अभी यहाँ चलती हैं, सतयुग में नहीं चलती। वहाँ तो न ज्ञान है, न अज्ञान है। ज्ञान देने वाला वहाँ कोई है नहीं। ज्ञान से तो प्रालब्ध पा ली। तुम अभी ज्ञान से प्रालब्ध पा रहे हो, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। देही-अभिमानी बनना बड़ी मेहनत की बात है। शिवबाबा की सर्विस में जो तत्पर रहेंगे वही देही-अभिमानी बन सकते हैं। देह-अभिमान आ जाने से फिर उनसे वह खुशबू निकल जाती है। उनकी चलन से ही सारा मालूम पड़ जाता है कि यह देह-अभिमानी है। देही-अभिमानी बहुत मीठे लवली होते हैं। हम एक बाप के बच्चे ब्रदर्स हैं। आपस में भाई-बहन भी हैं। दोनों ही श्रीमत पर एक्यूरेट चलने वाले हैं। ऐसे नहीं कि एक श्रीमत पर चले दूसरा बहाना बनाकर बैठ जाये। श्रीमत पर न चलने वाले को बाप कभी अपना बच्चा कह नहीं सकते। बाहर से भल बच्चे-बच्चे कहते हैं - परन्तु अन्दर में समझते हैं कि यह नाफरमानबरदार हैं, यह क्या पद पायेंगे। बापदादा दोनों समझ सकते हैं। श्रीमत पर अमल नहीं करते हैं। देह-अभिमान के कारण श्रीमत पर चलते नहीं हैं। देही-अभिमानी बड़े मीठे होंगे। यह आसुरी दुनिया कितनी कड़ुवी है। मात-पिता, भाई-बहन सब कड़ुवे। यहाँ भी जो देह-अभिमानी हैं, वह कड़ुवे हैं। अभी तो तुम देही-अभिमानी बन रहे हो। कोई तो सिर्फ तमोप्रधान से तमो तक आये हैं सिर्फ प्रधानता निकली है। कोई रजो तक पहुँचे हैं। सतो में तो कोई-कोई आये हैं। ऐसे नहीं कि धीरे-धीरे आते जायेंगे। कब तक धीरे-धीरे चलते रहेंगे। देही-अभिमानी को कभीं देह का अभिमान नहीं रहेगा कि यह काम मैं क्यों करूँ, इसमें मेरी इज्जत जायेगी। तुम पाकिस्तान में थे तो बाबा भी बच्चों को सिखाने के लिए सब काम करते थे कि देह-अभिमान न रहे। देह-अभिमानी बनने से सत्यानाश हो जाती है। बाहर में जो प्रजा बनने वाले हैं, उनसे भी गिर पड़ेंगे। प्रजा में जो साहूकार बनेंगे उनको भी नौकर चाकर मिलेंगे। यह तो और ही जाकर नौकर चाकर बनते हैं। इनसे तो वह साहूकार अच्छे ठहरे ना। बुद्धि से काम लिया जाता है। तो समझ में आता है जो बच्चे नहीं बनते हैं सिर्फ मददगार बनते हैं तो भी अच्छे धनवान बन जाते हैं। उन्हों को नौकरी करने की दरकार नहीं रहती। यहाँ तो नौकरी करनी पड़ती है। पिछाड़ी को करके राज्य-भाग्य (ताज) मिलेगा। सजा तो खानी पड़ती है दोनों को! इन सभी बातों को ज्ञानी तू आत्मा समझ सकते हैं। अज्ञानी देह-अभिमानी हैं। उनकी चाल ही ऐसी है। समझा जाता है कि यह कोई काम का नहीं। यहाँ तो बच्चों को श्रीमत पर चलना पड़े। नहीं तो माया बड़ा धोखा देने वाली है। झट देह-अभिमान आ जाता है। देह-अभिमान को मिटाए देही- अभिमानी बनने में ही मेहनत है। यहाँ रहने वालों को तो फिर ब्राह्मणों का संग है। बाहर तो दुनिया बहुत खराब है। ज्ञान में संग ऐसा होना चाहिए फर्स्टक्लास जो उससे पूरा रंग लगे। देह-अभिमानी का संग मिलने से एकदम मिट्टी पलीत हो जाती है। फिर फरमान पर भी नहीं चलते हैं। बाबा कहते हैं अगर हमसे आकर पूछो तो झट बतायेंगे तुम फरमानबरदार हो वा नहीं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार बहुत अच्छे-अच्छे हैं जो दिल को खुश करते रहते हैं। दुनिया में तो बड़ा दु:ख मारामारी है। खून-खराबी बहुत है, इनको कांटों का जंगल कहते हैं। तुमने इनसे किनारा कर लिया है। अभी तुम संगम पर हो। बुद्धि में है हम गृहस्थ व्यवहार में रहते संगम पर खड़े हैं। अभी हम कांटों से फूल बनते जा रहे हैं। कांटों से पल्लव निकलता जा रहा है। हम उन जंगली मनुष्यों से न्यारे हैं, हम रिलीजस हैं। दुनिया में रिलीजस सिर्फ तुम ही हो, वह भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। जो बाप को ही नहीं जानते वह इरिलीजस। इस समय सब इरिलीजस हैं, खास भारत। कहते भी हैं कि हम धर्म को नहीं जानते तो अधर्मा हुए ना। धर्मा और अधर्मा। पाण्डव और कौरव। पाण्डवों की स्थूल युद्ध कोई है नहीं। हमारी तो माया के साथ गुप्त युद्ध है, जिसको कोई भी जानते नहीं। हम अगर बाप को याद नहीं करेंगे तो माया का थप्पड़ लग जायेगा, तूफान आयेगा। बाप कहते हैं अभी तुम्हारा मुख है उस तरफ और पैर हैं इस तरफ। हमेशा याद करते रहना चाहिए नई दुनिया को। गृहस्थ व्यवहार में तो रहना है। बाप कहते हैं निर्बन्धन हो रहने वालों से गृहस्थ व्यवहार में रहने वालों की अवस्था अच्छी है। सब तो एक जैसे नहीं हो सकते। नम्बरवार हैं। स्कूल में कोई एक जैसा नम्बर थोड़ेही लेते हैं। यह भी बेहद का स्कूल है। बाप सब सेन्टर वाले बच्चों का ख्याल रखते हैं, इनको कहेंगे विशालबुद्धि। विशालबुद्धि तब बनेंगे जब बाप को याद करेंगे। तुम बच्चों की अब विशालबुद्धि बनी है। तुम मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन और यह सारा चक्र कैसे फिरता है - इसे जानते हो, इसको विशालबुद्धि वा बेहद की बुद्धि कहा जाता है। मनुष्यों की है हद की। तुम्हारी बनती है बेहद की बुद्धि। तो बच्चों को बहुत मीठा बनना पड़े। जितना मीठा बनेंगे, सम्पूर्ण बनेंगे उतना वह भविष्य में अविनाशी बन जायेगा। देखना चाहिए कि हमारे में देह-अभिमान तो नहीं है? अगर कोई काम में ना करते हैं तो समझा जाता है इनमें देह-अभिमान है। सतयुग में सब देही-अभिमानी होते हैं। जानते हैं एक पुराना शरीर छोड़ नया शरीर लेना है। यहाँ तो कितना रोते हैं। देह- अभिमान है ना। देह पर बहुत प्यार है। तुम बच्चों के लिए यह दुनिया जैसे है ही नहीं। अशरीरी आये थे, अशरीरी बन जाना है। बेहद का बाप बच्चों को पढ़ाते हैं, उनका कितना रिगार्ड रखना चाहिए। बन्दर किसका रिगार्ड नहीं रखता। हाथी को भी गुर्र-गुर्र करेगा। तो जो अन्दर के कड़ुवे रहते हैं उनको बाप सपूत थोड़ेही कहेंगे। कहेंगे इससे तो बाहर रहने वाले अच्छे हैं। रिगार्ड तो रहता है। यह भी ड्रामा ही कहेंगे। आज अच्छा चल रहा है, कल माया का तूफान लग जाता है। समझते नहीं कि हम कोई तूफान में हैं। बड़े-बड़े को भी तूफान तो लगते हैं ना। फिर भी ड्रामा कहा जाता। हम शिवबाबा से वर्सा लेते हैं, यह भूलने से खाना बरबाद हो जायेगा। खाना आबाद होगा शिवबाबा के भण्डारे से। इनको भूला तो झोल् खाली हो जायेगी। प्रजा में भी साधारण पद पायेंगे। सजा तो बहुत खायेंगे। खुद छोड़ने से फिर औरों को भी संशयबुद्धि बनाते हैं। बाबा को तो तरस पड़ता है। परन्तु माया का वार सहन नहीं कर सकते हैं। उस्ताद सिखलाते तो बहुत हैं। अचल-अडोल रहना है। नहीं रहते हैं तो बाबा समझते हैं अजुन सिल्वर एज तक भी नहीं पहुँचे हैं। वन्डर लगता है। ज्ञान पूरा न होने कारण, शिवबाबा से योग न होने कारण गिर पड़ते हैं। तूफान तो क्या-क्या लगते हैं। चढ़ना और गिरना - यह तो होता ही है। गिर गया तो फिर उठ खड़ा होना चाहिए ना। हमारा काम शिवबाबा से है। कुछ भी है हमको वर्सा शिवबाबा से लेना है। मम्मा बाबा भी उनसे ही लेते हैं, उनको ही याद करना है। उनकी मुरली सुननी है। नहीं तो कहाँ जायेंगे। हट्टी तो एक ही है ना। यहाँ आये बिगर मुक्ति जीवनमुक्ति मिल न सके। बाप के सामने तो आना है ना। हाँ, कोई बांधेली है, बाबा की याद में मर पड़ती है तो वह भी अच्छा पद पा लेती है। यहाँ जो देह-अभिमान में आकर अवज्ञा कर लेते हैं, उससे उसका पद अच्छा क्योंकि बाबा की याद में मरी ना। अच्छा सौभाग्य है ना। इस ज्ञान मार्ग में कोई और तकलीफ नहीं है। बड़ा सहज है। यहाँ देही-अभिमानी बहुत बनना है। बहुत देह-अभिमान में रहते हैं। बाबा तो और कुछ कहते नहीं सिर्फ दिल से अन्दर तरस पड़ता है। शिवबाबा के भण्डारे से शरीर निर्वाह करते हैं। यज्ञ की सम्भाल कुछ नहीं करते हैं तो पद क्या पायेंगे? इस यज्ञ की तो बहुत सम्भाल करनी है। जहाँ भी सेन्टर्स स्थापना होते हैं, वह शिवबाबा का ही यज्ञ है। इस यज्ञ रचने के लिए सिर्फ 3 पैर पृथ्वी चाहिए। बस। कोई बूढ़े हैं, खुद समझा नहीं सकते हैं। अच्छा फिर कोई बहनें वा भाई को बुलाओ। एक छोटा कमरा बना दो और बोर्ड लगा दो। बड़ा पुण्य का काम है। अभी कलियुग है, विनाश सामने खड़ा है। बाप से जरूर स्वर्ग का वर्सा लेना है। स्वर्ग का वर्सा मिलता ही है संगम पर, जबकि पुरानी दुनिया खत्म होती है, नई दुनिया स्थापना होती है। संगम पर वर्सा मिलता है जो फिर भविष्य के लिए अविनाशी हो जाता है। तुम बहुत समझा सकते हो। सिर्फ 3 पैर पृथ्वी चाहिए। बस। एक दो को उठाया तो भी अहो सौभाग्य। तुम एक ही मन्त्र देते हो - मन्मनाभव। सिर्फ कहते हो बाप को याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। बाप स्वर्ग का खजाना देते हैं। सुना, बस बुद्धि में बैठा। स्वर्ग में आने लायक बन गया। जगह देने वाले को हक मिल जाता है। बाबा इतना सहज करके बताते हैं। कोई को सुखधाम का रास्ता बताओ। प्रजा बनी वह भी अच्छा। नम्बरवार बनते जायेंगे। 3 पैर पृथ्वी का मशहूर है, इससे तुम विश्व के मालिक बनते हो। प्रजा भी कहेगी ना - हम विश्व के मालिक हैं। यह (मकान) भी 3 पैर पृथ्वी है ना! शुरू भी 3 पैर पृथ्वी से हुआ। एक कोठी थी फिर धीरे-धीरे बड़ा बनता गया। ऐसे बहुत आयेंगे जिनको बाबा कहेंगे तुम ऐसे पैसे क्या करेंगे? तुमको बहुत अच्छी राय देते हैं कि 3 पैर पृथ्वी की ले लो। 10-15 हॉस्पिटल, कॉलेज खोलो। अपने गांव में मकान किराये पर ले लो। यह तो सब खत्म हो ही जायेगा। इससे तो इस खर्चे में 10-15 सेन्टर खोलो तो बहुतों का कल्याण हो जायेगा। तुम बहुत धनवान हो जायेंगे। तुम छोटी सी जगह में यह कॉलेज खोल सकते हो। तुमको सिर्फ रास्ता बताना है, अन्धों की लाठी बनना है। जगाना पड़ता है। बाप और वर्से को याद करो तो बस तुम्हारा बेड़ा पार है। और कोई खर्चे आदि की बात ही नहीं। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेंगे। समझाना बड़ा सहज है। अच्छा !
मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) फर्स्टक्लास ज्ञानी तू आत्माओं का संग करना है। देही-अभिमानी बनना है। देह-अभिमानियों के संग से दूर रहना है।
2) यज्ञ की बहुत प्यार से, सच्चे दिल से सम्भाल करनी है। बहुत लवली मीठा बनना है। सपूत बनकर दिखाना है। कोई भी अवज्ञा नहीं करनी है।
वरदान:
परमात्म प्यार के आधार पर दुख की दुनिया को भूलने वाले सुख-शान्ति सम्पन्न भव
परमात्म प्यार ऐसा सुखदाई है जो उसमें यदि खो जाओ तो यह दुख की दुनिया भूल जायेगी। इस जीवन में जो चाहिए वो सर्व कामनायें पूर्ण कर देना - यही तो परमात्म प्यार की निशानी है। बाप सुख-शान्ति क्या देता लेकिन उसका भण्डार बना देता है। जैसे बाप सुख का सागर है, नदी, तलाव नहीं ऐसे बच्चों को भी सुख के भण्डार का मालिक बना देता है, इसलिए मांगने की आवश्यकता नहीं, सिर्फ मिले हुए खजाने को विधि पूर्वक समय प्रति समय कार्य में लगाओ।
स्लोगन:
अपनी सर्व जिम्मेवारियों का बोझ बाप हवाले कर डबल लाइट बनो।