Tuesday, June 27, 2017

Murli 27 June 2017

27/06/17 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, in order to be saved from sinful actions, practise being bodiless again and again. It is this practice that will make you into conquerors of Maya and enable your yoga to remain constantly connected.
Question:
Which aspect of faith should be so firm that your yoga does not break?
Answer:
We were pure in the golden and silver ages and we became impure during the copper and iron ages. We now have to become pure once again. If this faith is firm, your yoga will not break. Maya will not defeat you.
Song:
The rain of knowledge is for those who are with the Beloved.  
Om Shanti
You sweetest children have understood the meaning of this song. It is not a question of physical rain: that applies to the ocean and the rivers, whereas this is the Ocean of Knowledge. When He comes and showers the rain of knowledge, the darkness of ignorance is removed. Who is able to understand this? Those who consider themselves to be Prajapita Brahma Kumars or Kumaris. You children understand that Shiva is your Father, that He is the Grandfather of all the Brahma Kumars and Kumaris and that He is incorporeal. Since you have the faith that you are Prajapita Brahma Kumars and Kumaris, you should not forget this. All the children are with the Beloved; not only you, they all listen to the murli. The shower of knowledge is only for the children; it is the knowledge with which the immense darkness is removed. You understand that you were in immense darkness and that you have now received light. You are coming to know everything. You know the biography of the Supreme Father, the Supreme Soul. Those who do not know the biography of Shiv Baba, raise your hands! Everyone knows the life story of God, not only of this birth. Do you know how many births there are in Shiv Baba's biography? Do you know what part Shiv Baba has in this drama? You know Him and His biography from the beginning through the middle until the end. I definitely have to give the return of the faith with which people perform devotion on the path of devotion. Those images do not exist in the living form now. I alone grant visions. You understand that devotion continues for half the cycle and that your desires of devotion are now finished. You have now become the children, so you definitely receive the inheritance. A father gives an inheritance to his children; this is a law. Your faces are now turned towards salvation. You know about the incorporeal world, the subtle region and the corporeal region and who the main Actor of this unlimited drama is. He is the Creator, then the Director and Karankaravanhar. He gives directions and He also teaches. He says: I have come to teach you Raja Yoga. This is action and I also inspire others to act. For half the cycle you have been performing false actions under the influence of Maya. This is a play about victory and defeat. Maya makes you perform false actions. How could someone who makes you perform false actions be called God? God says: I am the only One who teaches everyone how to perform true actions. It is now the time of settlement for everyone. Everyone has to be awakened from the grave. Everyone is buried in the graveyard. The Father comes and awakens everyone. Death is just ahead. Shiv Baba explains everything to us through the body of Brahma. You now know the biography of everyone including that of Shiv Baba, so you are elevated. Those who do not know anything bow their heads in front of those who recite the scriptures. You must not bow your heads. This is a very easy thing. You children understand that you will become residents of the incorporeal world, the land of peace and that you will then go to the land of happiness. You are now Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. You are the grandchildren of Shiv Baba. By remembering Shiv Baba you will receive the inheritance of happiness. You children have this faith: We were pure, we became impure and we have to become pure once again. If there isn't this faith, you are not able to have yoga and you will not receive a good status. A pure life is good. There is great regard for kumaris, because you kumaris do a great deal of service at this time. You remain pure; the purity of this time is worshipped on the path of devotion. This world is very dirty. There is a story of Kichak (a villain from the Mahabharata). People come with very dirty thoughts and they are called Kichak. This is why Baba says: Be very careful! This is a very dirty world of thorns. You should have the great happiness: that we will go to the land of peace and then go to the land of happiness. We were the masters of the land of happiness, and we then went around the cycle. You should have this faith. You must instil in yourselves the habit of becoming bodiless. Otherwise, Maya will eat you up, your yoga will break and your sins will not then be absolved. You should make so much effort to stay in remembrance. You will only become ever healthy by remembering Baba. Become bodiless as much as possible and remember the Father. The Father of us souls, the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching us. He teaches us cycle after cycle and gives us our fortune of the kingdom. You are establishing your kingdom through the power of yoga. A king rules a kingdom, and his army fights for his kingdom whereas you here are making effort for yourselves, not for the

Father. Baba says: I don't even rule the kingdom. I show you the way to claim the kingdom. All of you are in your age of retirement. It is the time of death for everyone; there is no question of young or old. Don't think that a young child will receive an inheritance from his father. This world will no longer exist for them to claim an inheritance. People are in immense darkness. They have a desire to earn a lot of money because they think that their grandchildren will be able to use it. However, that desire will not be fulfilled for any of them. Everything will turn to dust. This world itself will be destroyed. Everything will be destroyed by just one bomb being dropped. There will be no one to save anyone. Gold mines etc. have now become completely empty. They will all become full again in the new world. Everything in the new world will be new. The cycle of the drama is now being completed and it will start once again. Enlightenment has now come. It is also said that when the sun of knowledge emerges, the darkness of ignorance is dispelled. It is not a question of that sun. People offer water to the sun. Although it is the sun that enables water to spread over the entire world, they offer water to the sun. It is a wonder of devotion! They then say: Salutations to the sun deity, salutations to the moon deity. How can they be deities? People here change from devils into deities. They cannot be called deities; they are the sun, the moon and the stars. People hoist a flag with an image of the sun. In Japan, they speak of the sun dynasty but, in fact, everyone belongs to the dynasty of the Sun of Knowledge. However, they do not have knowledge. There is such a difference between the Sun of Knowledge and that sun. They create inventions of science here but, in spite of that, what is the result? Nothing at all! Destruction will definitely take place. Sensible ones understand that they will destroy themselves with that science. Theirs is science and yours is silence. They bring about destruction through science and you establish heaven through silence. This is hell and everyone's boat has sunk. On that side, there are those armies, and you are the army on this side with the power of yoga. You salvage them. You have such a great responsibility, so you should become complete helpers. This old world is going to be destroyed. You have now understood the drama. It is now the time of the confluence. The Father has come to take our boats across. You understand that when the kingdom is fully established, destruction will take place. However, rehearsals will take place in between. Many wars are taking place; this is a dirty world. You understand that Baba will send us to the beautiful world. We have to shed these old costumes and put on new costumes. The Father gives a guarantee: I take you all back home cycle after cycle. This is why My name is the Death of all Deaths. I am also known as the Purifier, the Merciful One. You understand that you are making effort to go to heaven by following shrimat. Baba says: If you remember Me, I will send you to heaven but, as well as that, you also have to earn your livelihood. No one can stay without performing actions. It is not possible to renounce action. Having a bath etc. is also performing action. Everyone will receive the full knowledge by the end. They will understand that when they say that Shiv Baba is teaching them, that is right. Incorporeal God speaks. God is only one. This is why Baba continues to say: Ask everyone what relationship they have with incorporeal Shiva. All are brothers, so, surely, brothers must have a father! Otherwise, where would they come from? People sing: You are our Mother and Father. This is the Father’s praise. The Father says: I am the One who teaches you, and you then become the masters of the world. Even while sitting here, you have to remember Shiv Baba. You only see the body through those eyes, but you understand with your intellects that Shiv Baba is the One who is teaching us. This Raja Yoga and rain of knowledge are for those who are with the Father. It is the Father's task to purify the impure. He is the Ocean of Knowledge. You understand that you are the grandchildren of Shiv Baba and the children of Brahma, and that Shiva is Brahma's Father. The inheritance is received from Shiv Baba and He is the One who has to be remembered. You are now to go to the land of Vishnu. You are raising your anchors from here. The boats of the shudras are standing still, whereas your boats have moved. You will return straight home. You have to leave the old clothes behind. The play is now about to be completed, you have to shed your costumes and return home. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Do not perform any false actions. Death is just ahead. It is the time of settlement and you must therefore awaken everyone from the grave. Do the service of becoming pure and making others pure.
2. Do not have any desires in this dirty world. Become the Father’s complete helpers in salvaging everyone’s sunken boat.
Blessing:
May you constantly give and receive happiness in Brahmin life and claim a right to supersensuous happiness.
Those who have claimed a right to supersensuous happiness constantly swing in the swing of happiness with the Father. They never have the thought: So and so has caused me a lot of sorrow. They promise that they will not cause sorrow or take sorrow. Even if by force, someone tries to cause them sorrow, they do not accept it. Brahmin souls means those who are constantly happy. The duty of Brahmins is to give happiness and receive happiness. They are the souls who constantly stay in the world of happiness and are embodiments of happiness.
Slogan:
Be humble and people will bow down to you and co-operate with you.
 

मुरली 27 जून 2017

27-06-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन 

“मीठे बच्चे– विकर्मों से बचने के लिए घड़ी-घड़ी अशरीरी बनने की प्रैक्टिस करो, यह प्रैक्टिस ही माया जीत बनायेगी, स्थाई योग जुटा रहेगा”
प्रश्न:
कौन सा निश्चय यदि पक्का हो तो योग टूट नहीं सकता?
उत्तर:
सतयुग त्रेता में हम पावन थे, द्वापर कलियुग में पतित बने, अब फिर हमें पावन बनना है, यह निश्चय पक्का हो तो योग टूट नहीं सकता। माया हार खिला नहीं सकती।
गीत:
जो पिया के साथ है...   
ओम् शान्ति।
मीठे-मीठे बच्चे इस गीत का अर्थ समझ गये। उस बरसात की तो बात नहीं है। वह जो सागर वा नदियां हैं उनकी बात नहीं है। यह है ज्ञान सागर, वह आकर ज्ञान बरसात बरसाते हैं, तो अज्ञान अन्धियारा दूर हो जाता है। यह कौन समझते हैं? जो अपने को प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारी समझते हैं। बच्चे जानते हैं हमारा बाप शिव है, वह हो गया हम सब बी.के. का दादा, सो भी निराकार। जबकि तुम निश्चय करते हो हम प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारियां हैं तो फिर यह भूलने की बात ही नहीं। सभी बच्चे पिया के साथ हैं। ऐसे नहीं कि सिर्फ तुम हो, मुरली तो सब सुनेंगे। बच्चों के लिए ही ज्ञान बरसात है, जिस ज्ञान से घोर अन्धियारे का विनाश हो जाता है। तुम जानते हो हम घोर अन्धियारे में थे, अब रोशनी मिली है तो सब जानते जा रहे हो। परमपिता परमात्मा की बॉयोग्राफी को तुम जानते हो। जो शिवबाबा की बॉयोग्राफी को नहीं जानते वह हाथ उठाओ। सब जानते हैं परमात्मा की जीवन कहानी। सो भी एक जन्म की नहीं। शिवबाबा की कितने जन्मों की बॉयोग्राफी है? तुमको मालूम है? तुम जानते हो शिवबाबा का इस ड्रामा में क्या पार्ट है। आदि से अन्त तक उनको और उनकी बॉयोग्राफी को जानते हो। बरोबर भक्ति मार्ग में जो जिस भावना से भक्ति करते हैं उनका एवजा मुझे देना होता है। वह चैतन्य तो है नहीं, साक्षात्कार मैं ही कराता हूँ। तुम जानते हो आधाकल्प भक्ति मार्ग चलता है। भक्ति की मनोकामनायें पूरी हुई, अब फिर बच्चे बने हैं उनको तो जरूर वर्सा मिलेगा। बाप बच्चों को वर्सा देते हैं, यह कायदा है। तुम्हारा अभी सद्गति तरफ मुख है। तुम मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूल वतन को जानते हो। कौन इस बेहद ड्रामा में मुख्य एक्टर्स हैं। क्रियेटर और फिर डायरेक्टर रचता है और करनकरावनहार है। डायरेक्शन देते हैं ना। पढ़ाते भी हैं। कहते हैं मैं तुमको राजयोग सिखाने आया हूँ। यह भी कर्म करना हुआ ना और कराते भी हैं। आधाकल्प तुम माया के वश असत्य कर्तव्य करते आये हो। यह है हार-जीत का खेल। माया तुम्हारे से असत् कर्तव्य कराती आई है। असत् कर्तव्य कराने वाले को भगवान कैसे कह सकते? भगवान कहते हैं मैं तो एक ही हूँ, जो सबको सत् कर्म करना सिखलाता हूँ। अभी सबकी कयामत का समय है। सबको कब्र से जगाना है। यह सब कब्रदाखिल हैं। बाप आकर जगाते हैं। मौत सामने खड़ा है। शिवबाबा ब्रह्मा तन द्वारा हमको सब समझा रहे हैं। तुम सबकी बॉयोग्राफी, शिवबाबा की भी बॉयोग्राफी जानने वाले बन गये हो। तो ऊंच ठहरे ना। जो शास्त्र बहुत अध्ययन करने वाले होते हैं, उनके आगे न जानने वाले माथा टेकते हैं। तुमको माथा नहीं टेकना है। है बिल्कुल सहज बात। बच्चे समझते हैं हम मूलवतन, शान्तिधाम के रहवासी बनेंगे, फिर सुखधाम में आयेंगे। अभी हम प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारी हैं। शिवबाबा के हम पोत्रे हैं। शिवबाबा को याद करने से हमको सुख का वर्सा मिलेगा। तुम बच्चों को निश्चय है कि हम पवित्र थे फिर पतित बने अब फिर हमें पावन बनना है। अगर निश्चय नहीं होगा तो योग भी नहीं लगेगा, पद भी नहीं पा सकेंगे। पवित्र जीवन तो अच्छी है ना। कुमारियों का बहुत मान है क्योंकि इस समय तुम कुमारियाँ बहुत ही सर्विस करती हो ना। अभी तुम पवित्र रहती हो, अभी की पवित्रता भक्ति मार्ग में पूजी जाती है। यह दुनिया तो बड़ी गन्दी है, कीचक की कहानी है ना। मनुष्य बहुत गन्दे विचार रखकर आते हैं, उनको कीचक कहा जाता है इसलिए बाबा कहते हैं बड़ी सम्भाल रखनी है। बहुत गन्दी कांटों की दुनिया है। तुमको तो बहुत खुशी होनी चाहिए। हम शान्तिधाम में जाकर फिर सुखधाम में आयें। हम सुखधाम के मालिक थे फिर चक्र लगाया है। यह तो निश्चय होना चाहिए ना। अशरीरी बनने की आदत डालनी है, नहीं तो माया खाती रहेगी, योग टूटा हुआ रहेगा, विकर्म विनाश नहीं होंगे। कितनी मेहनत करनी चाहिए याद में रहने की। याद से ही एवर-हेल्दी बनेंगे। जितना हो सके अशरीरी बन बाप को याद करना है। हम आत्माओं को बाप परमपिता परमात्मा पढ़ा रहे हैं। कल्प-कल्प पढ़ाते हैं, राज्य- भाग्य देते हैं। तुम योगबल से अपनी राजधानी स्थापना करते हो। राजा-राज्य करते हैं, सेना राज्य के लिए लड़ती है। यहाँ तुम अपने लिए मेहनत करते हो, बाप के लिए नहीं। मैं तो राज्य ही नहीं करता हूँ। मैं तुमको राज्य दिलाने लिए युक्तियां बताता हूँ। तुम सब वानप्रस्थी हो सबका मौत है। छोटे-बड़े का कोई हिसाब नहीं। ऐसे नहीं समझना छोटा बच्चा होगा तो उनको बाप का वर्सा मिलेगा। यह दुनिया ही नहीं रहेगी जो पा सके। मनुष्य तो घोर अन्धियारे में हैं। खूब पैसा कमाने की इच्छा रखते हैं, समझते हैं हमारे पुत्र-पौत्रे खायेंगे। परन्तु यह कामना किसी की पूर्ण नहीं होगी। यह सब मिट्टी में मिल जाना है। यह दुनिया ही खत्म होनी है। एक ही बॉम्ब लगा तो सब खत्म हो जायेंगे। निकालने वाला कोई नहीं। अभी तो सोने आदि की खानियां बिल्कुल खाली हो गयी हैं। नई दुनिया में वह फिर सब भरतू हो जायेंगी। वहाँ नई दुनिया में सब कुछ नया मिल जायेगा। अभी ड्रामा का चक्र पूरा होता है, फिर शुरू होगा। रोशनी आ गई है। गाते हैं ज्ञान सूर्य प्रकटा, अज्ञान अन्धेर विनाश। उस सूर्य की बात नहीं, मनुष्य सूर्य को पानी देते हैं। अब सूर्य तो पानी पहुंचाता है सारी दुनिया को। उनको फिर पानी देते हैं, वन्डर है भक्ति का फिर कहते हैं सूर्य देवताए नम:, चांद देवताए न् म:। वह फिर देवताएं कैसे होंगे? यहाँ तो मनुष्य असुर से देवता बनते हैं। उनको देवता नहीं कह सकते। वह तो सूर्य, चादं सितारे हैं। सूर्य का भी झण्डा लगाते हैं। जापान में सूर्यवंशी कहते हैं। वास्तव में ज्ञान सूर्यवंशी तो सब हैं। परन्तु नॉलेज नहीं है, अब कहाँ वह सूर्य, कहाँ यह ज्ञान सूर्य। यहाँ भी यह साइन्स की इन्वेन्शन निकालते हैं, फिर भी नतीजा क्या होता है! कुछ भी नहीं। विनाश को पाया कि पाया। सेन्सीबुल जो होते हैं वह समझते हैं इस साइन्स से अपना ही विनाश करते हैं। उन्हों की है साइन्स, तुम्हारी है साइलेन्स। वह साइन्स से विनाश करते हैं, तुम साइलेन्स से स्वर्ग की स्थापना करते हो। अभी तो नर्क में सबका बेड़ा डूबा हुआ है। उस तरफ वह सेनायें, इस तरफ तुम हो योगबल की सेना। तुम सैलवेज करने वाले हो। कितनी तुम्हारे ऊपर रेसपॉन्सिबिल्टी है, तो पूरा मददगार बनना चाहिए। यह पुरानी दुनिया खत्म हो जानी है। अभी तुम ड्रामा को समझ गये हो। अभी संगम का टाइम है। बाप बेड़ा पार करने आये हैं। तुम समझते हो राजधानी पूरी स्थापना हो जायेगी फिर विनाश होगा। बीच-बीच में रिहर्सल होती रहेगी। लड़ाईयाँ तो ढेर लगती रहती हैं। यह है ही छी-छी दुनिया, तुम जानते हो बाबा हमको गुल-गुल दुनिया में ले चलते हैं। यह पुराना चोला उतारना है। फिर नया चोला पहनना है। यह तो बाप गैरन्टी करते हैं कि हम कल्प-कल्प सभी को ले जाता हूँ, इसलिए मेरा नाम कालों का काल महाकाल रखा है। पतित-पावन, रहमदिल भी कहते हैं। तुम जानते हो हम स्वर्ग में जाने का पुरूषार्थ कर रहे हैं, श्रीमत पर। बाबा कहते मुझे याद करो तो मैं तुमको स्वर्ग में भेज दूंगा, साथ-साथ शरीर निर्वाह भी करना है। कर्म बिना तो कोई रह न सके। कर्म सन्यास तो होता नहीं। स्नान आदि करना, यह भी कर्म है ना। पिछाड़ी में सब पूरा ज्ञान लेंगे, सिर्फ समझेंगे कि यह जो कहते हैं कि शिवबाबा पढ़ाते हैं, यह ठीक है, निराकार भगवानुवाच– वह तो एक ही है इसलिए बाबा कहते रहते हैं सबसे पूछो निराकार शिव से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? सब ब्रदर्स हैं तो ब्रदर्स का बाप तो होगा ना। नहीं तो कहाँ से आये। गाते भी हैं तुम मात-पिता...। यह है बाप की महिमा, बाप कहते हैं मैं ही तुमको सिखलाता हूँ। तुम फिर विश्व के मालिक बनते हो। यहाँ बैठे भी शिवबाबा को याद करना है। इन आंखों से तो शरीर को देखते हैं, बुद्धि से जानते हैं हमको पढ़ाने वाला शिवबाबा है। जो बाप के साथ हैं उसके लिए ही यह राजयोग और ज्ञान की बरसात है। पतितों को पावन बनाना– यह बाप का काम है। यह ज्ञान सागर वही है, तुम जानते हो हम शिवबाबा के पोत्रे, ब्रह्मा के बच्चे हैं। ब्रह्मा का बाप है शिव, वर्सा शिवबाबा से मिलता है। याद भी उनको करना है। अभी हमको जाना है विष्णुपुरी। यहाँ से तुम्हारा लंगर उठा हुआ है। शूद्रों की बोट (नांव) खड़ी है। तुम्हारी बोट चल पड़ी है। अभी तुम सीधा घर चले जायेंगे। पुराना कपड़ा सब छोड़ जाना है। अभी यह नाटक पूरा होता है, अब कपड़ा उतार जायेंगे घर। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) कोई भी असत् कर्म नहीं करना है, मौत सामने खड़ा है, कयामत का समय है इसलिए सबको कब्र से जगाना है। पावन बनने और बनाने की सेवा करनी है।
2) इस छी-छी दुनिया में कोई भी कामनायें नहीं रखनी है। सबके डूबे हुए बेड़े को सैलवेज करने में बाप का पूरा मददगार बनना है।
वरदान:
ब्राह्मण जीवन में सदा सुख देने और लेने वाले अतीन्द्रिय सुख के अधिकारी भव
जो अतीन्द्रिय सुख के अधिकारी हैं वे सदा बाप के साथ सुखों के झूलों में झूलते हैं। उन्हें कभी यह संकल्प नहीं आ सकता कि फलाने ने मुझे बहुत दु:ख दिया। उनका वायदा है– न दु:ख देंगे, न दु:ख लेंगे। अगर कोई जबरदस्ती भी दे तो भी उसे धारण नहीं करते। ब्राह्मण आत्मा अर्थात् सदा सुखी। ब्राह्मणों का काम ही है सुख देना और सुख लेना। वे सदा सुखमय संसार में रहने वाली सुख स्वरूप आत्मा होंगी।
स्लोगन:
नम्र बनो तो लोग नमन करते हुए सहयोग देंगे।
 

Saturday, June 24, 2017

Murli 25 June 2017

25/06/17 Madhuban Avyakt BapDada Om Shanti 13/04/82

The definitions of a renunciate and a great renunciate.
BapDada is looking at all the Brahmin children to see which children are complete renunciates. There are three types of children: 1) renunciates, 2) great renunciates 3) complete renunciates. All three are renunciates, but numberwise.

Renunciates are those who have renounced, through knowledge and yoga, the temporary benefits they got from their old relationships and old connections of the old world, and who have in their thoughts adopted the Brahmin life, that is, a yogi life. That is, they have grasped the fact that a yogi life is more elevated than their old life and that permanent benefits are more important than temporary benefits. Considering these to be essential, they have started practising knowledge and yoga. They have claimed a right to be called Brahma Kumars and Kumaris. However, even after becoming Brahma Kumars and Kumaris, they haven't completely transformed their old relationships, thoughts and sanskars but are constantly engaged in battling to transform them. One moment, they would have Brahmin sanskars and the next they would be battling to transform their old sanskars. This is called becoming a renunciate, but not having complete transformation. They simply think that to adopt renunciation means to experience the greatest fortune. They lack the courage to put it into practice. Because their sanskars of carelessness repeatedly emerge, along with thinking about renunciation, they are also those who love comfort. They understand everything, they move along, they make effort, they cannot leave this Brahmin life and they also have the determination to remain a Brahmin. Even though Maya and their relations who are influenced by Maya try to pull them back to their old life, they are very firm in their thought that Brahmin life is elevated. The intellects have very firm faith in this aspect. However, two types of obstacle prevent them from moving forward and becoming complete renunciates. What are they? Firstly, they are not able to maintain constant courage, that is, they lack the power to face obstacles. Secondly, there is a form of carelessness, that of loving comfort, whilst they move along. That is, they study all four subjects – study, remembrance, divine virtues (dharna) and service, and they are progressing whilst studying, but in comfort (at their own pace). They lack the form of a Shakti, one who has all the weapons for that complete transformation. They are loving, but they do not have the form of power. They are unable to stabilise in the form of a master almighty authority. This is why they’re unable to become great renunciates. These are renunciate souls.

Great renunciates (mahatyagi) are those who constantly have the courage and enthusiasm to transform their relationships, thoughts and sanskars. They are constantly detached from the old world and old relationships. The experience of great renunciate souls is that it is as though the old world and old relations are dead to them. They don't have to battle for this. They are constantly stable in the stage of a loving, co-operative server who is an embodiment of power. So, what else remains? They receive the fruit of the fortune of a great renunciate and become mahagyani (greatly knowledgeable ones), mahayogi (great yogis) and elevated servers, but they sometimes use the right to this fortune with a wrong type of intoxication. Although they have completely renounced their past life, they haven't yet renounced all feeling of having renounced everything. They have broken the iron chains and have become golden aged from iron aged but, sometimes, the transformation is tied by the golden chains of a beautiful life. What is that golden chain? "I" and "Mine". “I am a very good knowledgeable soul! I am a gyani and yogi soul!” This beautiful chain sometimes hinders them from becoming free from all bondage. There are three types of household. 1) the household of worldly relations and business, 2) the household connected with your body and 3) the household of service.

Renunciates have gone beyond worldly household. However, they are still busy with the household of their bodies and with looking after themselves, or they are influenced by the nature of their body consciousness, and, because of this nature, they repeatedly lose courage. They speak about it and say that they do understand it and that they even want to stop doing it but, such is their nature! This too is the household of body consciousness and of the body, due to which they’re unable to become an embodiment of power and free from that household. This is in relation to renunciates. Great renunciates, on the other hand, become free from their worldly household and the household of the body. However, instead of becoming detached from the household of service, they sometimes get trapped in that. Such souls are not even troubled by body consciousness because, day and night, they are absorbed in service. They have gone beyond the household of the body. Through the fortune of both types of renunciation, they have become gyani and yogi and have attained powers and virtues. They have become very well-known souls in the Brahmin family. They have become VIPs amongst the servers. They have begun to be showered with flowers of praise. They have become souls worthy of respect and praise, but they have also become trapped in the expansion of the household of service. Instead of becoming the great donors who give others the donation of all attainment, they accept all of that for themselves. So, "I" and "mine" become a golden chain of pure motives. Their motives and words - of not saying anything for themselves, but for service - are very pure. "I am not saying that I am a worthy teacher, but people do ask for me." "Students say that only I should do that service." “I am very detached, but others make me loving to them” What would you call that? Were they looking at the Father or were they looking at you? They like your knowledge, they like your way of serving, but where did the Father go? You made the Father the Resident of Paradham! There has to be renunciation of even the fortune, so that you are not visible, just the Father is visible. Don't make them into lovers of great souls, but make them into lovers of God. That is called going beyond all household, but not becoming complete renunciates of this last household. A trace of this pure household still remains! So they have become those who have great fortune, but are not complete renunciates. So, did you hear about the second number who are great renunciates? Now all that remains are the complete renunciates!

This is the final lesson of the renunciation course. The final lesson now remains. Baba will tell you about that at some other time because, in 1983, you are going to have the great sacrificial fire. You are going to have it at a great place. Therefore you will all make the sacrifice there, will you not? Or will you all only make preparations for the hall? You will of course serve others. You will bring many big mikes to spread the sound of the Father's revelation, will you not? You have made this plan, have you not? However, is it just the Father who will be revealed or will both Shiva and the Shaktis be revealed? Both (males and females) are included in the Shakti army! Therefore, the Father will be revealed with the children. You are thinking of spreading the sound through the mikes, but when the sound spreads throughout the world and the curtain of revelation opens, the idols behind the curtains have to be complete at that time. Or will it be that, when the curtains open, some will be getting ready and others will be about to be sitting down. You are not going to grant such a vision, are you? Someone in the form of a Shakti is still trying to hold onto her shield, and someone else is trying to hold onto her sword? You don't want such a photograph to be taken, do you? Therefore, what do you have to do? You also have to make a programme for this. So, sacrifice these golden chains into the great sacrificial fire. However, for this to happen, you need to practise it from now. Don't think that you will do it in 1983, that all of you will become servers in advance and that the ceremony of your sacrifice will take place later! You must also perform the ceremony here for this sacrifice in 1983. However, you need to practise this for a long period of time. Do you understand? Achcha.

To those who are complete renunciates, equal to the Father, to those who are great donors of the attainments they have received, like Brahma Baba, to such elevated souls who are constantly faithful and obedient to the Father and who follow the Father, BapDada's love, remembrance and namaste.

Question: What is the way to remain free from the bondage of actions (karma) whilst performing those actions?

Answer: Whilst performing any task, remain absorbed in love, in remembrance of the Father. A soul who is absorbed in love whilst performing actions will be detached. A karma yogi is one who constantly stays in remembrance whilst performing actions and thus remains free from any bondage of those actions. You will not experience it to be work, but as if you are just playing. You will not experience any type of burden or tiredness. A karma yogi is one who remains detached whilst performing every action as a game. Children who are detached in this way perform actions through their physical senses and, because they remain absorbed in love for the Father, they remain free from any bondage of their actions.

Question: With which spiritual lift can you reach your highest destination in a second? What is the highest destination?

Answer: Thoughts are the spiritual lift with which you go up - and with which you come down. To remain stable in the incorporeal stage is the highest destination. For this, you need to practise being stable in the stage of a master and to concentrate the power of your thoughts. To use all the powers when you want, where you want, in the way that you want, is the stage of a master almighty authority.

Question: What desire do all souls of the world have at present? What is the easy way to perform world benefit?

Answer: The special desire of all souls of the world at this time is to stabilise and concentrate their wandering intellects and for their minds to stop causing mischief. In order to perform world benefit, you have to practise making your elevated thoughts concentrated. It is only through this concentration that you will be able to concentrate the wandering intellects of all souls.

Question: What is concentration? Who can practise concentration?

Answer: Concentration means constantly to belong to the one Father. Only those who transform their waste thoughts into pure thoughts are constantly able to practise being stable in a constant and stable stage. Secondly, it means that, with your love for God, you are easily able to finish all types of obstacles that come from Maya.

Question: What is the main reason of being afraid of obstacles?

Answer: When any obstacles comes you forget that BapDada has already given you this knowledge in advance that all these things will test your love. When you know in advance that obstacles are going to come, what is the need to be afraid?

Question: Which questions are instrumental in finishing your love instead of finishing obstacles?

Answer: When you constantly ask questions: Why does Maya come? Why do waste thoughts come? Why does the intellect wander? Why does the atmosphere influence me? Why are my relatives not co-operating? Why do old sanskars still emerge? Instead of finishing obstacles, all of those questions become instrumental in finishing your love for the Father.

Question: What is the way to become free from obstacles?

Answer: Do not think about the reason for the obstacles but remember BapDada’s elevated versions: The more you move forward, the more Maya will come to you in different forms to test you and these tests are the way for you to move forward and not to fall. Instead of thinking about the reasons for them, think about the solution and you will become free from obstacles. Why did this come? No, they have to come. Maintain this awareness and you will become an embodiment of remembrance.

Question: What is the reason why questions arise about small obstacles? Why does the atmosphere influence you?

Answer: The main reason for questions arising is that you have become knowledgeable but you have not become an embodiment of knowledge.This is why, when there’s just a small obstacle, there is a queue of waste thoughts and it takes a lot of time to finish that queue. The atmosphere influences you when you forget that you are the ones who transform the atmosphere with your powerful attitude.
Blessing:
May you become full by having the awareness of constantly having all attainments and remain free from the sanskars of asking for anything.
One is external fullness, being full of physical things, physical facilities and the other is fullness in the mind. Those who are full in their minds, regardless of whether they have physical things and facilities or not, would never feel themselves to be lacking anything, because they are full in their minds. They would constantly sing the song that they have attained everything. They would not have the slightest trace of the sanskar of asking for anything.
Slogan:
Purity is such a fire that it completely burns away anything bad.
 

मुरली 25 जून 2017

25-06-17  प्रात: मुरली    ओम् शान्ति   “अव्यक्त-बापदादा”    रिवाइज :13-04-82 मधुबन 

त्यागी, महात्यागी की व्याख्या
बापदादा सर्व ब्राह्मण आत्माओं में सर्वस्व त्यागी बच्चों को देख रहे हैं। तीन प्रकार के बच्चे हैं - एक हैं त्यागी, दूसरे हैं महात्यागी, तीसरे हैं सर्व त्यागी, तीनों ही त्यागी हैं लेकिन नम्बरवार हैं।
त्यागी - जिन्होंने ज्ञान और योग के द्वारा अपने पुराने सम्बन्ध, पुरानी दुनिया, पुराने सम्पर्क द्वारा प्राप्त हुई अल्पकाल की प्राप्तियों को त्याग कर ब्राह्मण जीवन अर्थात् योगी जीवन संकल्प द्वारा अपनाया है अर्थात् यह सब धारणा की कि पुरानी जीवन से यह योगी जीवन श्रेष्ठ है। अल्पकाल की प्राप्ति से यह सदाकाल की प्राप्ति प्राप्त करना आवश्यक है। और उसे आवश्यक समझने के आधार पर ज्ञान योग के अभ्यासी बन गये। ब्रह्माकुमार वा ब्रह्माकुमारी कहलाने के अधिकारी बन गये। लेकिन ब्रह्माकुमार कुमारी बनने के बाद भी पुराने सम्बन्ध, संकल्प और संस्कार सम्पूर्ण परिवर्तन नहीं हुए लेकिन परिवर्तन करने के युद्ध में सदा तत्पर रहते। अभी-अभी ब्राह्मण संस्कार, अभी-अभी पुराने संस्कारों को परिवर्तन करने के युद्ध स्वरूप में। इसको कहा जाता है त्यागी बने लेकिन सम्पूर्ण परिवर्तन नहीं किया। सिर्फ सोचने और समझने वाले हैं कि त्याग करना ही महा भाग्यवान बनना है। करने की हिम्मत कम। अलबेलेपन के संस्कार बार-बार इमर्ज होने से त्याग के साथ-साथ आराम पसन्द भी बन जाते हैं। समझ भी रहे हैं, चल भी रहे हैं, पुरूषार्थ कर भी रहे हैं, ब्राह्मण जीवन को छोड़ भी नहीं सकते, यह संकल्प भी दृढ़ है कि ब्राह्मण ही बनना है। चाहे माया वा मायावी सम्बन्धी पुरानी जीवन के लिए अपनी तरफ आकार्षित भी करते हैं तो भी इस संकल्प में अटल हैं कि ब्राह्मण जीवन ही श्रेष्ठ है। इसमें निश्चयबुद्धि पक्के हैं। लेकिन सम्पूर्ण त्यागी बनने के लिए दो प्रकार के विघ्न आगे बढ़ने नहीं देते। वह कौन से? एक तो सदा हिम्मत नहीं रख सकते अर्थात् विघ्नों का सामना करने की शक्ति कम है। दूसरा - अलबेलेपन का स्वरूप आराम पसन्द बन चलना। पढ़ाई, याद, धारणा और सेवा सब सबजेक्ट में कर रहे हैं, चल रहे हैं, पढ़ रहे हैं लेकिन आराम से! सम्पूर्ण परिवर्तन करने के लिए शðाधारी शक्ति स्वरूप की कमी हो जाती है। स्नेही हैं लेकिन शक्ति स्वरूप नहीं। मास्टर सर्वशक्तिवान स्वरूप में स्थित नहीं हो सकते हैं इसलिए महात्यागी नहीं बन सकते हैं। यह हैं त्यागी आत्मायें।
महात्यागी - सदा सम्बन्ध, संकल्प और संस्कार सभी के परिवर्तन करने के सदा हिम्मत और उल्लास में रहते। पुरानी दुनिया, पुराने सम्बन्ध से सदा न्यारे हैं। महात्यागी आत्मायें सदा यह अनुभव करती कि यह पुरानी दुनिया वा सम्बन्धी मरे ही पड़े हैं। इसके लिए युद्ध नहीं करनी पड़ती है। सदा स्नेही, सहयोगी, सेवाधारी शक्ति स्वरूप की स्थिति में स्थित रहते हैं, बाकी क्या रह जाता है! महात्यागी के फलस्वरूप जो त्याग का भाग्य है - महाज्ञानी, महायोगी, श्रेष्ठ सेवाधारी बन जाते हैं! इस भाग्य के अधिकार को कहाँ-कहाँ उल्टे नशे के रूप में यू॰ज कर लेते हैं। पास्ट जीवन का सम्पूर्ण त्याग है लेकिन त्याग का भी त्याग नहीं है। लोहे की जंजीरे तो तोड़ दी, आइरन एजड से गोल्डन एजड तो बन गये, लेकिन कहाँ- कहाँ परिवर्तन सुनहरी जीवन के सोने की जंजीर में बंध जाता है। वह सोने की जंजीरें क्या है? `मैं' और `मेरा'। मैं अच्छा ज्ञानी हूँ, मैं ज्ञानी तू आत्मा, योगी तू आत्मा हूँ। यह सुनहरी जंजीर कहाँ-कहाँ सदा बन्धनमुक्त बनने नहीं देती। तीन प्रकार की प्रवृत्ति है - (1) लौकिक सम्बन्ध वा कार्य की प्रवृत्ति (2) अपने शरीर की प्रवृत्ति और (3) सेवा की प्रवृत्ति।
तो त्यागी जो हैं वह लौकिक प्रवृत्ति से पार हो गये लेकिन देह की प्रवृत्ति अर्थात् अपने आपको ही चलाने और बनाने में व्यस्त रहना वा देह भान की नेचर के वशीभूत रहना और उसी नेचर के कारण ही बार-बार हिम्मतहीन बन जाते हैं। जो स्वयं भी वर्णन करते कि समझते भी हैं, चाहते भी हैं लेकिन मेरी नेचर है। यह भी देह भान की, देह की प्रवृत्ति है, जिसमें शक्ति स्वरूप हो इस प्रवृत्ति से भी निवृत्त हो जाएं - वह नहीं कर पाते। यह त्यागी की बात सुनाई लेकिन महात्यागी लौकिक प्रवृत्ति, देह की प्रवृत्ति दोनों से निवृत्त हो जाते - लेकिन सेवा की प्रवृत्ति में कहाँ-कहाँ निवृत्त होने के बजाए फंस जाते हैं। ऐसी आत्माओं को अपनी देह का भान भी नहीं सताता क्योंकि दिन-रात सेवा में मगन हैं। देह की प्रवृत्ति से तो पार हो गये। इस दोनों ही त्याग का भाग्य - ज्ञानी और योगी बन गये, शक्तियों की प्राप्ति, गुणों की प्राप्ति हो गई। ब्राह्मण परिवार में प्रसिद्ध आत्मायें बन गये। सेवाधारियों में वी.आई.पी. बन गये। महिमा के पुष्पों की वर्षा शुरू हो गई। माननीय और गायन योग्य आत्मायें बन गये लेकिन यह जो सेवा की प्रवृत्ति का विस्तार हुआ, उस विस्तार में अटक जाते हैं। यह सर्व प्राप्ति भी महादानी बन औरों को दान करने के बजाए स्वयं स्वीकार कर लेते हैं। तो मैं और मेरा शुद्ध भाव की सोने की जंजीर बन जाती है। भाव और शब्द बहुत शुद्ध होते हैं कि हम अपने प्रति नहीं कहते, सेवा के प्रति कहते हैं। मैं अपने को नहीं कहती कि मैं योग्य टीचर हूँ लेकिन लोग मेरी मांगनी करते हैं। जिज्ञासु कहते हैं कि आप ही सेवा करो। मैं तो न्यारी हूँ लेकिन दूसरे मुझे प्यारा बनाते हैं। इसको क्या कहा जायेगा? बाप को देखा वा आपको देखा? आपका ज्ञान अच्छा लगता है, आपके सेवा का तरीका अच्छा लगता है, तो बाप कहाँ गया? बाप को परमधाम निवासी बना दिया! इस भाग्य का भी त्याग। जो आप दिखाई न दें, बाप ही दिखाई दे। महान आत्मा प्रेमी नहीं बनाओ परमात्म प्रेमी बनाओ। इसको कहा जाता है और प्रवृत्ति पार कर इस लास्ट प्रवृत्ति में सर्वंश त्यागी नहीं बनते। यह शुद्ध प्रवृत्ति का अंश रह गया। तो महाभागी तो बने लेकिन सर्वस्व त्यागी नहीं बने। तो सुना दूसरे नम्बर का महात्यागी। बाकी रह गया सर्वस्व त्यागी।
यह है त्याग के कोर्स का लास्ट सो सम्पन्न पाठ। लास्ट पाठ रह गया। वह फिर सुनायेंगे क्योंकि 83 में जो महायज्ञ कर रहे हो और महान स्थान पर कर रहे हो तो सभी कुछ तो आहुति डालेंगे ना वा सिर्फ हाल बनाने की तैयारी करेंगे। औरों की सेवा तो करेंगे। बाप की प्रत्यक्षता का आवाज बुलन्द करने के बड़े-बड़े माइक भी लायेंगे। यह तो प्लैन बनाया है ना। लेकिन क्या बाप अकेला प्रत्यक्ष होगा वा शिव शक्ति दोनों प्रत्यक्ष होंगे। शक्ति सेना में तो दोनों (मेल फीमेल) ही आ जाते। तो बाप बच्चों सहित प्रत्यक्ष होंगे। तो माइक द्वारा आवा॰ज बुलन्द करने का तो सोचा है लेकिन जब विश्व में आवा॰ज बुलन्द हो जायेगा और प्रत्यक्षता का पर्दा खुल जायेगा तो पर्दे के अन्दर प्रत्यक्ष होने वाली मूर्तियां भी सम्पन्न चाहिए ना वा पर्दा खुलेगा तो कोई तैयार हो रहा है, कोई बैठ रहा है, ऐसा साक्षात्कार तो नहीं कराना है ना! कोई शक्ति स्वरूप ढाल पकड़ रही हैं, तो कोई तलवार पकड़ रही है। ऐसा फोटो तो नहीं निकालना है ना। तो क्या करना पड़े? सम्पूर्ण स्वाहा! इसका भी प्रोग्राम बनाना पड़े ना। तो महायज्ञ में यह सोने की जंजीरें भी स्वाहा कर देना। लेकिन उसके पहले अभी से अभ्यास चाहिए। ऐसे नहीं कि 83 में करना। जैसे आप लोग सेवाधारी तो पहले से बन जाते हो और समर्पण समारोह पीछे होता है। यह भी सर्व स्वाहा का समारोह 83 में करना। लेकिन अभ्यास बहुत काल का चाहिए। समझा। अच्छा।
ऐसे सदा बाप समान सर्वंश त्यागी, सदा ब्रह्मा बाप समान प्राप्त हुए भाग्य के भी महादानी, ऐसे सदा बाप के वफादार, फरमानवरदार फालो फादर करने वाली श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।
अव्यक्त बापदादा की मुरलियों से प्रश्न - उत्तर
प्रश्न:- कर्म करते भी कर्म बन्धन से मुक्त रहने की युक्ति क्या है?
उत्तर:- कोई भी कार्य करते बाप की याद में लवलीन रहो। लवलीन आत्मा कर्म करते भी न्यारी रहेगी। कर्मयोगी अर्थात् याद में रहते हुए कर्म करने वाला सदा कर्मबन्धन मुक्त रहता है। ऐसे अनुभव होगा जैसे काम नहीं कर रहे हैं लेकिन खेल कर रहे हैं। किसी भी प्रकार का बोझ वा थकावट महसूस नहीं होगी। तो कर्मयोगी अर्थात् कर्म को खेल की रीति से न्यारे होकर करने वाला। ऐसे न्यारे बच्चे कर्मेंन्द्रियों द्वारा कार्य करते बाप के प्यार में लवलीन रहने के कारण बन्धनमुक्त बन जाते हैं।
प्रश्न:- किस रूहानी लिफ्ट द्वारा एक सेकण्ड में ऊंची मंजिल पर पहुंच सकते हो? ऊंची मंजिल कौन सी है?
उत्तर:- संकल्प ही ऊंच ले जाने और नीचे ले आने की रूहानी लिफ्ट हैं। निराकारी स्थिति में स्थित होना-यही ऊंची मंजिल है। इसके लिए प्रैक्टिस चाहिए - मालिकपन की स्थिति में स्थित हो संकल्प की शक्ति को एकाग्र करने की। जब चाहो, जहाँ चाहो, जैसे चाहो वैसे सर्व शक्तियों को कार्य में लगाना यही मास्टर सर्वशक्तिमान् स्थिति है।
प्रश्न:- वर्तमान समय सारे विश्व की आत्मायें कौन सी चाहना रखती हैं? विश्व कल्याण करने का सहज साधन क्या है?
उत्तर:- वर्तमान समय सारे विश्व की सर्व आत्मायें विशेष यही चाहना रखती हैं कि भटकी हुई बुद्धि एकाग्र हो जाए वा मन
चंचलता से एकाग्र हो जाए। विश्व कल्याण करने के लिए श्रेष्ठ संकल्पों की एकाग्रता का अभ्यास चाहिए। इस एकाग्रता द्वारा ही सर्व आत्माओं की भटकती हुई बुद्धि को एकाग्र  कर सकते हो।
प्रश्न:- एकाग्रता किसे कहा जाता है? एकाग्रता का अभ्यास कौन कर सकते हैं?
उत्तर:- एकाग्रता अर्थात् सदा एक बाप दूसरा न कोई, ऐसे निरन्तर एकरस स्थिति में स्थित होने का अभ्यास वही कर सकते जो पहले व्यर्थ संकल्पों को शुद्ध संकल्पों में परिवर्तन कर लें। दूसरा-माया के आने वाले अनेक प्रकार के विघ्नों को अपनी ईश्वरीय लगन के आधार से सहज समाप्त कर लें।
प्रश्न:- विघ्नों से घबराने का मुख्य कारण क्या है?
उत्तर:- जब कोई विघ्न आता है, तो विघ्न आते हुए यह भूल जाते हो कि बापदादा ने पहले से ही यह नॉलेज दे दी है कि लगन की परीक्षा में यह सब आयेंगे ही। जब पहले से ही मालूम है कि विघ्न आने ही हैं, फिर घबराने की क्या जरूरत? प्रश>>:- कौन से क्वेश्चन विघ्नों को मिटाने के बजाए लगन से हटाने के निमित्त बन जाते हैं?
उत्तर:- यदि क्वेश्चन करते रहते हो कि माया क्यों आती है? व्यर्थ संकल्प क्यों आते हैं? बुद्धि क्यों भटकती है? वातावरण क्यों प्रभाव डालता है? सम्बन्धी साथ क्यों नहीं देते हैं? पुराने संस्कार अब तक क्यों इमर्ज होते हैं? तो यह सब क्वेश्चन विघ्नों को मिटाने के बजाए, बाप की लगन से हटाने के निमित्त बन जाते हैं।
प्रश्न:- निर्विघ्न बनने का साधन क्या है?
उत्तर:- विघ्नों के कारण का नहीं सोचो लेकिन बापदादा के यह महावाक्य याद रखो कि जितना आगे बढ़ेंगे उतना माया भिन्न-भिन्न रूप से परीक्षा लेने के लिए आयेगी और यह परीक्षा ही आगे बढ़ाने का साधन है न कि गिराने का। कारण सोचने के बजाए निवारण सोचो, तो निर्विघ्न हो जायेंगे। क्यों आया? नहीं, लेकिन यह तो आना ही है-इस स्मृति में रहो तो समर्था स्वरूप हो जायेंगे।
प्रश्न:- छोटे से विघ्न में क्वेश्चन उठने का कारण क्या है? वातावरण प्रभाव क्यों डालता है?
उत्तर:- क्वेश्चन उठने का मुख्य कारण है-ज्ञानी बने हो लेकिन ज्ञान स्वरूप नहीं हो, इसलिए छोटे से विघ्न में व्यर्थ संकल्पों की क्यू लग जाती है, और उसी क्यू को समाप्त करने में काफी समय लग जाता है। वातावरण प्रभाव तभी डालता है जब भूल जाते हो कि हम अपनी पॉवरफुल वृत्ति द्वारा वायुमण्डल को परिवर्तन करने वाले हैं। अच्छा।
वरदान:-     सदा सर्व प्राप्तियों की स्मृति द्वारा मांगने के संस्कारों से मुक्त रहने वाले सम्पन्न व भरपूर भव
एक भरपूरता बाहर की होती है, स्थूल वस्तुओं से, स्थूल साधनों से भरपूर, लेकिन दूसरी होती है मन की भरपूरता। जो मन से भरपूर रहता है उसके पास स्थूल वस्तु या साधन नहीं भी हो फिर भी मन भरपूर होने के कारण वे कभी अपने में कमी महसूस नहीं करेंगे। वे सदा यही गीत गाते रहेंगे कि सब कुछ पा लिया, उनमें मांगने के संस्कार अंश मात्र भी नहीं होंगे।
स्लोगन:- पवित्रता ऐसी अग्नि है जिसमें सभी बुराईयां जलकर भस्म हो जाती हैं।
 

Murli 24 June 2017

24-06-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मातेश्वरी जी के स्मृति दिवस पर सुनाने के लिए विशेष महावाक्य”
“इस दु:ख की दुनिया में कोई भी तमन्ना नहीं रखनी है, सुख की दुनिया में चलने के लिए अपने संस्कार देवताई बनाने हैं”
गीत: किसी ने हमको अपना बनाके मुस्कराना सिखा दिया... 
ओम् शान्ति। एक है मुस्कराने की दुनिया और दूसरी है रोने की दुनिया.. अभी कहाँ बैठे हो? रोने की दुनिया का अन्त और मुस्कराने की दुनिया अथवा सुख की दुनिया का अभी सैपलिंग लग रहा है। हम हैं संगम पर लेकिन अभी उस सुख की दुनिया के लिये पुरूषार्थ कर रहे हैं, तो अपना सारा अटेन्शन उसी पर है। अभी इस रोने की दुनिया अथवा दु:ख की दुनिया में कोई भी तमन्ना धन-सम्पत्ति की, मर्तबे की, मान-इज्जत की किसी भी बात की नहीं रखनी है। क्योंकि अभी तो सभी में, धनसम्पत्ति में भी रोना ही है यानि दु:ख ही है। इस दुनिया की कोई भी प्राप्ति, जिसको प्राप्ति गिनी जाये उसमें अभी कोई सुख रहा नहीं है। इसलिये बाप कहते हैं कि जो मैं मुस्कराने की अर्थात् सदा सुख की दुनिया बना रहा हूँ, उसमें चलने के लिए अपने संस्कार भी ऐसे बनाओ। देखो, चित्रकार भी देवताओं के चेहरे बड़े अच्छे मुस्कराहट वाले बनाते हैं, उनके चेहरे में पवित्रता, दिव्यता आदि दर्शाते हैं। तो अभी हम वही संस्कार बना रहे हैं अथवा धारण कर रहे हैं, वहाँ कोई दु:ख का चिन्ह है ही नहीं। वहाँ कभी रोना होता नहीं है, इसलिये बाप कहते हैं अभी बहुत रोया, बहुत दु:ख पाया अर्थात् दु:ख की दुनिया के अनेक जन्म भोगे। अभी वह रात पूरी हो करके दिन भी तो आयेगा ना। तो यह रात अथवा दु:ख की जो जनरेशन्स है वह अभी पूरी होती है, अभी सुख की जनरेशन चालू होती है। तो उस सुख की दुनिया का फाउण्डेशन यहाँ लगाना है इसलिये बहुत सम्भाल रखनी है। अभी फाउण्डेशन लगा तो लगा, नहीं लगा तो फिर सदा के लिये उस सुख को प्राप्त करने से वंचित रह जायेंगे। जो गाया भी हुआ है कि मनुष्य जन्म अति दुर्लभ है, वह किस जन्म के लिये? इस जन्म के लिये क्योंकि ऐसे जन्म तो हमारे बहुत हैं, परन्तु सबसे महत्व इस जन्म का है क्योकि अभी हम अपना ऊंच जनरेशन्स का फाउण्डेशन लगा रहे हैं। कई समझते हैं कि मनुष्य जन्म 84 लाख योनियों के बाद मिलता है इसलिये समझते हैं कि यह मनुष्य जन्म अति दुर्लभ है, यह 84 लाख योनियों के बाद ही एक सुख का जन्म मिलता है। परन्तु ऐसा होता तो सभी मनुष्य सुखी होने चाहिए फिर इतना दु:ख क्यों भोगते हैं? मनुष्य को तो मनुष्य जन्म में ही अपने जन्म ले करके जो दु:ख अथवा सुख है या जो भी कर्मों का हिसाब है, वह भोगना है। बाकी ऐसे नहीं है कि कोई जानवर, पंछी, पशु या वृक्ष आदि मनुष्य बनता है। नहीं, यह तो सभी बातें अभी बुद्धि में हैं कि मनुष्य को अपने कर्म का हिसाब मनुष्य जन्म में पाना है। और यह भी जानते हैं कि मनुष्य के अधिक से अधिक 84 जन्म होते हैं। बाकी जितना-जितना जो पीछे आते हैं उनके जन्म भी कम रहेंगे। तो यह सभी हिसाब अभी बुद्धि में है, उसी हिसाब अनुसार हम जानते हैं कि हमारा अभी यह अन्तिम जन्म है जिसमें अभी हम नई जनरेशन अथवा सुख के अनेक जन्मों की जो प्रालब्ध है वह बना सकते हैं इसलिये इस जन्म की महिमा है कि यह जन्म सबसे उत्तम है क्योंकि इसमें हम उत्तम बन सकते हैं। तो इस जन्म की बहुत सम्भाल और अटेन्शन रखने का है। यही टाइम है जबकि परमात्मा आ करके अभी हमको ऊंच बनाने का बल दे रहा है। तो अभी जब उससे बल मिल रहा है तो लेना ही है। ऐसे नहीं इस जन्म में हम आपेही ऊंच बन जायेंगे। नहीं, बनाने वाला जब आया है तो उनसे अपने को बनना है। कैसे बनना है? उनके फरमान अथवा उनकी जो आज्ञा वा मत मिल रही है, उसको ले करके। अभी उसकी मत वा डायरेक्शन क्या है, वह तो अच्छी तरह से बुद्धि में है ना। “बी होली एण्ड बी योगी”। मुझे याद करो और पवित्र रहो। तो यह बात अपनी बुद्धि में अच्छी तरह से रखकर उनके फरमान पर अपने को चलाना है तब अपना जो सौभाग्य है वह ऊंच बना सकेंगे अथवा उस सदा सुख की दुनिया का सुख पा सकेंगे। ऐसे तो नहीं समझते हो कि यह सब कल्पनायें हैं, ऐसा तो ख्याल नहीं आता है ना! कल्पना क्यों समझी जाये! जबकि हम देख रहे हैं कि यह दु:ख की दुनिया है। यह तो कल्पना नहीं है, यह प्रैक्टिकल है। तो जरूर सुख की दुनिया भी प्रैक्टिकल होनी चाहिए। जो अभी नहीं है लेकिन होनी तो चाहिए ना। ऐसे तो नहीं यह संसार सदा दु:ख का ही है? इसमें सुख और दु:ख दोनों ही हैं परन्तु सुख का भी समय है। ऐसे नहीं कहेंगे कि अभी जो सुख है, बस यही सुख है, यही स्वर्ग है। ऐसा ही सुख दु:ख है, परन्तु नहीं। अभी के सुख को सुख नहीं कहेंगे, वो सुख जो था जिसमें हम सदा सुखी थे, वह चीज ही और है इसलिये सुख उसको कहेंगे। आज कल्पना क्यों समझते? क्योंकि आज वह है ही नहीं। परन्तु यह अपने विवेक और इस नॉलेज के बल से समझते हैं कि जब दु:ख की दुनिया है तो जरूर सुख की दुनिया भी होनी चाहिए। कई तो ऐसा मार्ग बतलाते हैं कि भले दु:ख आवे परन्तु तुम समझो कि मैं सुखी हूँ, इसलिये कई समझते हैं सुख की कोई इच्छा या तमन्ना नहीं रखनी है, इससे इच्छा मात्रम् अविद्या बनना है। उसकी इच्छा ही क्या रखनी है, जो होता है उसमें ही सुख समझो। फिर भले रोग हो, भले कोई अकाले मृत्यु हो, कोई भी ऐसी बात हो परन्तु तुम अपने को समझो मैं सुखी हूँ। यह तो हो गया अपनी कल्पना का सुख, इसको थोड़ेही प्रैक्टिकल कहेंगे। जैसे दु:ख प्रैक्टिकल है, कई दु:ख की बातें प्रैक्टिकल में आती हैं। ऐसे सुख भी तो प्रैक्टिकल होना चाहिए। तो अपने टाइम पर फिर उस सुख की दुनिया को आना है, लेकिन उसका फाउण्डेशन अभी लग रहा है। उसके लिये हमें अभी अपने कर्मों को श्रेष्ठ बनाना है क्योंकि यह कर्म क्षेत्र है, कर्म भूमि है इसमें जो बोयेंगे सो पायेंगे, यह भी इसका नियम है। बाप कहते हैं इस लॉ को तो मैं भी ब्रेक नहीं कर सकता हूँ। भल मैं वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी हूँ लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि मैं चाहूँ तो आसमान को नीचे करूँ, धरती को ऊपर करूँ। वह समझते हैं भगवान तो कुछ भी कर सकता है, वह मुर्दे को भी जिन्दा कर सकता है। परन्तु भगवान वा शक्ति का अर्थ यह नहीं है कि वह मुर्दे को जिन्दा करे। वह तो आत्मा को शरीर छोड़ने का ही है, वह तो बात ही नहीं है। अगर उसको जिन्दा कर दूं, तो क्या वह फिर मुर्दा नहीं बनेगा? फिर भी बनेगा। तो हर चीज का जो नियम है वह तो चलेगा ही, इसलिये इसमें कोई शक्ति दिखालाने की बात नहीं है। यह जो 5 तत्व हैं, हर तत्व का भी अपना नियम है, वह भी गोल्डन, सिल्वर, कॉपर और आइरन एज अनुसार अपनी स्टेजेस में आते हैं। यह अर्थक्वेक होता है, यह फ्लड्स होती हैं, यह तूफान आता है, यह सभी होता है, यह भी अभी डिस-आर्डर में, तमोप्रधान हो गये हैं, हर चीज में अभी तमोप्रधानता है। तो यह सभी राज बाप ही समझाते हैं कि अभी हर चीज बिगड़ चुकी है, अभी मैं आया हूँ तो हर चीज को सुधारता हूँ इसके लिए मैं पहले मनुष्य आत्मा को सुधारता हूँ, उससे सब चीजें सुधर जाती हैं। फिर संसार जब सुधरा हुआ है तो उसमें सदा सुख है फिर कोई चीज एक दो को दु:ख नहीं देती है। अभी सब चीजों से दु:ख मिलता है, तो इन सभी बातों को समझना और किस तरह से सृष्टि का अथवा इस संसार का चक्र चलता है, उसे जानना– इसी का नाम है ज्ञान। इसी का मैं नॉलेजफुल हूँ, मेरे पास इसकी फुल नॉलेज है, यह कर्मों का कैसा खाता चलता है, कैसे नम्बरवार आते हैं, इन्हीं सभी बातों को मैं जानता हूँ इसलिये कहते हैं कि ज्ञान को कोई मनुष्य यथार्थ रीति समझ नहीं सकते, क्योंकि मनुष्य तो सब इस चक्र में आने वाले हैं ना। तो जो चक्र में आने वाले हैं वह इन बातों को नहीं जान सकते हैं, जो चक्र से बाहर है, उसके पास यह सब नॉलेज रहती है। तो बाप कहते हैं कि मैं ही आ करके फिर सुनाता हूँ क्योंकि वह जानकारी मेरे पास ही रहती है और सबसे भूल जाती है। तो सबको बल देने वाला भी मैं हूँ, मेरे में ही वह पॉवर रहती है और तो सभी जन्म मरण के चक्र में आ करके अपनी पावर्स खो देते हैं। तो मैं आता हूँ अपना बल देने के लिए। यह तो सीधी बातें हैं, इसमें मूँझने की बात है ही नहीं। इसलिये मुझे परम आत्मा, सर्व शक्तिवान, जानी-जाननहार, ज्ञान का सागर,... कहकर महिमा करते हैं। यह मेरी महिमा कोई मुफ्त की थोड़ेही है, मैंने काम किया है और मेरा कुछ कर्तव्य है, मैने बहुत ऊंचा काम यहाँ किया है, इसलिए महिमा है। जैसे मनुष्य की भी महिमा क्यों होती है। गांधी के लिए कहते हैं, वह बहुत अच्छा आदमी था, ऊंचा था। तो ऊंचा माना ऐसे नहीं एकदम बड़ा बड़ा था। ऐसे तो बड़ा नहीं था ना, बड़ा माना अपने कर्तव्य में बड़ा था। उसने अच्छे कर्तव्य किये इसलिये उनको सब याद करते हैं, उनकी सब महिमा करते हैं। तो मनुष्य की हिस्ट्री में भी जो बातें आती हैं कि फलाने ने यह अच्छा काम किया, उसी अनुसार फिर उनका गायन भी होता है। तो परमात्मा की भी इतनी जो महिमा है, उसने भी हमारे लिये कुछ काम किया होगा ना। बाकी ऐसे थोड़ेही है कि बस, ऊंचा बैठा है, बस उसकी शक्ति चलती रहती है या उसका यह सब काम होता ही रहता है। उसने आ करके कुछ किया है। मनुष्यों को ऐसा ऊंचा उठाया है और इस तरीके से उठाया है इसलिये उसकी महिमा है। तो अभी परमात्मा की महिमा और परमात्मा के कर्तव्य को समझना है। जैसे धर्म पितायें भी जो आये हैं जिनकी महिमा गाई हुई है। गुरूनानक देव, क्राईस्ट, बुद्ध आदि उन्होंने भी तो उसके तरफ इशारा किया है ना। तो यह सब साफ बातें हैं जिसको समझ करके पुरूषार्थ करना है और बाप जो फरमान करते हैं कि मुझे याद करो और अपने कर्मों को अच्छा पवित्र रखो तो उसी से तुम्हारा यह जो हेविन का अधिकार है वह तुमको प्राप्त होगा। तुम वैसे भी कर्म तो करते ही हो परन्तु वह कर्म तुम्हारे राँग होते जाते हैं, उसी से तुम्हारा दु:ख बढ़ता जाता है इसलिये बाप कहते हैं अभी समझ से करो, मैं जो समझ देता हूँ, उसको ले करके अच्छी तरह से करो, मेरे डायरेक्शन्स पर रहो। मेरी मत पर चलो तो फिर तुम्हारे जो एक्शन्स हैं वह राइट रहेंगे और उसके आधार से तुम सुखी रहेंगे। अपने एक्शन्स से ही तो बनना बिगड़ना होता है। उसको हम क्या बनायें, कैसा बनाये उसकी हमको समझ चाहिए, वह अभी समझ दे रहा है, उस पर चलना है। इन बातों का समझ करके अपना ऐसा पुरूषार्थ रखना है। अच्छा। देखो, कितनी सिम्पल, सहज बात है, इसके लिये मनुष्य कितने वेद-शास्त्र, ग्रंथ-पुराण और कितने हठयोग, प्राणायाम आदि करते हैं। यह सब बातें साफ करके बाप समझाते हैं। चलना तो कर्म से ही है लेकिन कर्म को खाली सुधारते चलो। वह सुधारो कैसे? वह समझाते हैं। उसके लिये तुमको कोई विद्वान, पण्डित वा आचार्य बनने की बात ही नहीं है। तुमको अपने कर्म को स्वच्छ बनाने का है। स्वच्छता (पवित्रता) क्या है, वह बैठ करके स्पष्ट समझाते हैं कि तुम मेरी याद के बिना पवित्र बन ही नहीं सकते हो। भले तुम कोई देवता को याद करो। किसी के भी योग से तुम पवित्र नहीं बनोंगे। पापों को दग्ध करने का बल मेरे पास है इसलिए बाप कहते हैं जब तक मेरे से कनेक्शन नहीं है तब तक पावन नहीं बन सकते। जैसे बत्तियों का कनेक्शन मेन पॉवर हाउस से है ना। अगर वहाँ से कनेक्शन न हो तो बत्ती में लाइट नही होगी। वह बल नहीं आयेगा। इसी तरह से तुम्हारा कनेक्शन मेरे से हो, मैं हूँ मेन पॉवर हाउस तो उससे कनेक्शन चाहिए ना। अगर उससे कनेक्शन नहीं होगा तो तुमको ताकत नहीं मिलेगी और ताकत नहीं मिलेगी तो पाप दग्ध नहीं होंगे। पाप दग्ध नहीं होंगे तो तुम आगे नहीं बढ़ सकेंगे, तब कहते हैं एक मेरे से योग लगाओ। मेरे बिना तुम्हारी गति सद्गति नहीं हो सकती। अच्छा!

मीठे-मीठे बच्चों को यादप्यार और गुडमार्निग। ओम् शान्ति।
वरदान:
अपने चेहरे और चलन से सत्यता की सभ्यता का अनुभव कराने वाले महान आत्मा भव
महान आत्मायें वह हैं जिनमें सत्यता की शक्ति है। लेकिन सत्यता के साथ सभ्यता भी जरूर चाहिए। ऐसे सत्यता की सभ्यता वाली महान आत्माओं का बोलना, देखना, चलना, खाना-पीना, उठना-बैठना हर कर्म में सभ्यता स्वत: दिखाई देगी। अगर सभ्यता नहीं तो सत्यता नहीं। सत्यता कभी सिद्ध करने से सिद्ध नहीं होती। उसे तो सिद्ध होने की सिद्धि प्राप्त है। सत्यता के सूर्य को कोई छिपा नहीं सकता।
स्लोगन:
नम्रता को अपना कवच बना लो तो सदा सुरक्षित रहेंगे।
 

Friday, June 23, 2017

मुरली 24 जून 2017

24-06-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मातेश्वरी जी के स्मृति दिवस पर सुनाने के लिए विशेष महावाक्य”
“इस दु:ख की दुनिया में कोई भी तमन्ना नहीं रखनी है, सुख की दुनिया में चलने के लिए अपने संस्कार देवताई बनाने हैं”
गीत: किसी ने हमको अपना बनाके मुस्कराना सिखा दिया... 
ओम् शान्ति। एक है मुस्कराने की दुनिया और दूसरी है रोने की दुनिया.. अभी कहाँ बैठे हो? रोने की दुनिया का अन्त और मुस्कराने की दुनिया अथवा सुख की दुनिया का अभी सैपलिंग लग रहा है। हम हैं संगम पर लेकिन अभी उस सुख की दुनिया के लिये पुरूषार्थ कर रहे हैं, तो अपना सारा अटेन्शन उसी पर है। अभी इस रोने की दुनिया अथवा दु:ख की दुनिया में कोई भी तमन्ना धन-सम्पत्ति की, मर्तबे की, मान-इज्जत की किसी भी बात की नहीं रखनी है। क्योंकि अभी तो सभी में, धनसम्पत्ति में भी रोना ही है यानि दु:ख ही है। इस दुनिया की कोई भी प्राप्ति, जिसको प्राप्ति गिनी जाये उसमें अभी कोई सुख रहा नहीं है। इसलिये बाप कहते हैं कि जो मैं मुस्कराने की अर्थात् सदा सुख की दुनिया बना रहा हूँ, उसमें चलने के लिए अपने संस्कार भी ऐसे बनाओ। देखो, चित्रकार भी देवताओं के चेहरे बड़े अच्छे मुस्कराहट वाले बनाते हैं, उनके चेहरे में पवित्रता, दिव्यता आदि दर्शाते हैं। तो अभी हम वही संस्कार बना रहे हैं अथवा धारण कर रहे हैं, वहाँ कोई दु:ख का चिन्ह है ही नहीं। वहाँ कभी रोना होता नहीं है, इसलिये बाप कहते हैं अभी बहुत रोया, बहुत दु:ख पाया अर्थात् दु:ख की दुनिया के अनेक जन्म भोगे। अभी वह रात पूरी हो करके दिन भी तो आयेगा ना। तो यह रात अथवा दु:ख की जो जनरेशन्स है वह अभी पूरी होती है, अभी सुख की जनरेशन चालू होती है। तो उस सुख की दुनिया का फाउण्डेशन यहाँ लगाना है इसलिये बहुत सम्भाल रखनी है। अभी फाउण्डेशन लगा तो लगा, नहीं लगा तो फिर सदा के लिये उस सुख को प्राप्त करने से वंचित रह जायेंगे। जो गाया भी हुआ है कि मनुष्य जन्म अति दुर्लभ है, वह किस जन्म के लिये? इस जन्म के लिये क्योंकि ऐसे जन्म तो हमारे बहुत हैं, परन्तु सबसे महत्व इस जन्म का है क्योकि अभी हम अपना ऊंच जनरेशन्स का फाउण्डेशन लगा रहे हैं। कई समझते हैं कि मनुष्य जन्म 84 लाख योनियों के बाद मिलता है इसलिये समझते हैं कि यह मनुष्य जन्म अति दुर्लभ है, यह 84 लाख योनियों के बाद ही एक सुख का जन्म मिलता है। परन्तु ऐसा होता तो सभी मनुष्य सुखी होने चाहिए फिर इतना दु:ख क्यों भोगते हैं? मनुष्य को तो मनुष्य जन्म में ही अपने जन्म ले करके जो दु:ख अथवा सुख है या जो भी कर्मों का हिसाब है, वह भोगना है। बाकी ऐसे नहीं है कि कोई जानवर, पंछी, पशु या वृक्ष आदि मनुष्य बनता है। नहीं, यह तो सभी बातें अभी बुद्धि में हैं कि मनुष्य को अपने कर्म का हिसाब मनुष्य जन्म में पाना है। और यह भी जानते हैं कि मनुष्य के अधिक से अधिक 84 जन्म होते हैं। बाकी जितना-जितना जो पीछे आते हैं उनके जन्म भी कम रहेंगे। तो यह सभी हिसाब अभी बुद्धि में है, उसी हिसाब अनुसार हम जानते हैं कि हमारा अभी यह अन्तिम जन्म है जिसमें अभी हम नई जनरेशन अथवा सुख के अनेक जन्मों की जो प्रालब्ध है वह बना सकते हैं इसलिये इस जन्म की महिमा है कि यह जन्म सबसे उत्तम है क्योंकि इसमें हम उत्तम बन सकते हैं। तो इस जन्म की बहुत सम्भाल और अटेन्शन रखने का है। यही टाइम है जबकि परमात्मा आ करके अभी हमको ऊंच बनाने का बल दे रहा है। तो अभी जब उससे बल मिल रहा है तो लेना ही है। ऐसे नहीं इस जन्म में हम आपेही ऊंच बन जायेंगे। नहीं, बनाने वाला जब आया है तो उनसे अपने को बनना है। कैसे बनना है? उनके फरमान अथवा उनकी जो आज्ञा वा मत मिल रही है, उसको ले करके। अभी उसकी मत वा डायरेक्शन क्या है, वह तो अच्छी तरह से बुद्धि में है ना। “बी होली एण्ड बी योगी”। मुझे याद करो और पवित्र रहो। तो यह बात अपनी बुद्धि में अच्छी तरह से रखकर उनके फरमान पर अपने को चलाना है तब अपना जो सौभाग्य है वह ऊंच बना सकेंगे अथवा उस सदा सुख की दुनिया का सुख पा सकेंगे। ऐसे तो नहीं समझते हो कि यह सब कल्पनायें हैं, ऐसा तो ख्याल नहीं आता है ना! कल्पना क्यों समझी जाये! जबकि हम देख रहे हैं कि यह दु:ख की दुनिया है। यह तो कल्पना नहीं है, यह प्रैक्टिकल है। तो जरूर सुख की दुनिया भी प्रैक्टिकल होनी चाहिए। जो अभी नहीं है लेकिन होनी तो चाहिए ना। ऐसे तो नहीं यह संसार सदा दु:ख का ही है? इसमें सुख और दु:ख दोनों ही हैं परन्तु सुख का भी समय है। ऐसे नहीं कहेंगे कि अभी जो सुख है, बस यही सुख है, यही स्वर्ग है। ऐसा ही सुख दु:ख है, परन्तु नहीं। अभी के सुख को सुख नहीं कहेंगे, वो सुख जो था जिसमें हम सदा सुखी थे, वह चीज ही और है इसलिये सुख उसको कहेंगे। आज कल्पना क्यों समझते? क्योंकि आज वह है ही नहीं। परन्तु यह अपने विवेक और इस नॉलेज के बल से समझते हैं कि जब दु:ख की दुनिया है तो जरूर सुख की दुनिया भी होनी चाहिए। कई तो ऐसा मार्ग बतलाते हैं कि भले दु:ख आवे परन्तु तुम समझो कि मैं सुखी हूँ, इसलिये कई समझते हैं सुख की कोई इच्छा या तमन्ना नहीं रखनी है, इससे इच्छा मात्रम् अविद्या बनना है। उसकी इच्छा ही क्या रखनी है, जो होता है उसमें ही सुख समझो। फिर भले रोग हो, भले कोई अकाले मृत्यु हो, कोई भी ऐसी बात हो परन्तु तुम अपने को समझो मैं सुखी हूँ। यह तो हो गया अपनी कल्पना का सुख, इसको थोड़ेही प्रैक्टिकल कहेंगे। जैसे दु:ख प्रैक्टिकल है, कई दु:ख की बातें प्रैक्टिकल में आती हैं। ऐसे सुख भी तो प्रैक्टिकल होना चाहिए। तो अपने टाइम पर फिर उस सुख की दुनिया को आना है, लेकिन उसका फाउण्डेशन अभी लग रहा है। उसके लिये हमें अभी अपने कर्मों को श्रेष्ठ बनाना है क्योंकि यह कर्म क्षेत्र है, कर्म भूमि है इसमें जो बोयेंगे सो पायेंगे, यह भी इसका नियम है। बाप कहते हैं इस लॉ को तो मैं भी ब्रेक नहीं कर सकता हूँ। भल मैं वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी हूँ लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि मैं चाहूँ तो आसमान को नीचे करूँ, धरती को ऊपर करूँ। वह समझते हैं भगवान तो कुछ भी कर सकता है, वह मुर्दे को भी जिन्दा कर सकता है। परन्तु भगवान वा शक्ति का अर्थ यह नहीं है कि वह मुर्दे को जिन्दा करे। वह तो आत्मा को शरीर छोड़ने का ही है, वह तो बात ही नहीं है। अगर उसको जिन्दा कर दूं, तो क्या वह फिर मुर्दा नहीं बनेगा? फिर भी बनेगा। तो हर चीज का जो नियम है वह तो चलेगा ही, इसलिये इसमें कोई शक्ति दिखालाने की बात नहीं है। यह जो 5 तत्व हैं, हर तत्व का भी अपना नियम है, वह भी गोल्डन, सिल्वर, कॉपर और आइरन एज अनुसार अपनी स्टेजेस में आते हैं। यह अर्थक्वेक होता है, यह फ्लड्स होती हैं, यह तूफान आता है, यह सभी होता है, यह भी अभी डिस-आर्डर में, तमोप्रधान हो गये हैं, हर चीज में अभी तमोप्रधानता है। तो यह सभी राज बाप ही समझाते हैं कि अभी हर चीज बिगड़ चुकी है, अभी मैं आया हूँ तो हर चीज को सुधारता हूँ इसके लिए मैं पहले मनुष्य आत्मा को सुधारता हूँ, उससे सब चीजें सुधर जाती हैं। फिर संसार जब सुधरा हुआ है तो उसमें सदा सुख है फिर कोई चीज एक दो को दु:ख नहीं देती है। अभी सब चीजों से दु:ख मिलता है, तो इन सभी बातों को समझना और किस तरह से सृष्टि का अथवा इस संसार का चक्र चलता है, उसे जानना– इसी का नाम है ज्ञान। इसी का मैं नॉलेजफुल हूँ, मेरे पास इसकी फुल नॉलेज है, यह कर्मों का कैसा खाता चलता है, कैसे नम्बरवार आते हैं, इन्हीं सभी बातों को मैं जानता हूँ इसलिये कहते हैं कि ज्ञान को कोई मनुष्य यथार्थ रीति समझ नहीं सकते, क्योंकि मनुष्य तो सब इस चक्र में आने वाले हैं ना। तो जो चक्र में आने वाले हैं वह इन बातों को नहीं जान सकते हैं, जो चक्र से बाहर है, उसके पास यह सब नॉलेज रहती है। तो बाप कहते हैं कि मैं ही आ करके फिर सुनाता हूँ क्योंकि वह जानकारी मेरे पास ही रहती है और सबसे भूल जाती है। तो सबको बल देने वाला भी मैं हूँ, मेरे में ही वह पॉवर रहती है और तो सभी जन्म मरण के चक्र में आ करके अपनी पावर्स खो देते हैं। तो मैं आता हूँ अपना बल देने के लिए। यह तो सीधी बातें हैं, इसमें मूँझने की बात है ही नहीं। इसलिये मुझे परम आत्मा, सर्व शक्तिवान, जानी-जाननहार, ज्ञान का सागर,... कहकर महिमा करते हैं। यह मेरी महिमा कोई मुफ्त की थोड़ेही है, मैंने काम किया है और मेरा कुछ कर्तव्य है, मैने बहुत ऊंचा काम यहाँ किया है, इसलिए महिमा है। जैसे मनुष्य की भी महिमा क्यों होती है। गांधी के लिए कहते हैं, वह बहुत अच्छा आदमी था, ऊंचा था। तो ऊंचा माना ऐसे नहीं एकदम बड़ा बड़ा था। ऐसे तो बड़ा नहीं था ना, बड़ा माना अपने कर्तव्य में बड़ा था। उसने अच्छे कर्तव्य किये इसलिये उनको सब याद करते हैं, उनकी सब महिमा करते हैं। तो मनुष्य की हिस्ट्री में भी जो बातें आती हैं कि फलाने ने यह अच्छा काम किया, उसी अनुसार फिर उनका गायन भी होता है। तो परमात्मा की भी इतनी जो महिमा है, उसने भी हमारे लिये कुछ काम किया होगा ना। बाकी ऐसे थोड़ेही है कि बस, ऊंचा बैठा है, बस उसकी शक्ति चलती रहती है या उसका यह सब काम होता ही रहता है। उसने आ करके कुछ किया है। मनुष्यों को ऐसा ऊंचा उठाया है और इस तरीके से उठाया है इसलिये उसकी महिमा है। तो अभी परमात्मा की महिमा और परमात्मा के कर्तव्य को समझना है। जैसे धर्म पितायें भी जो आये हैं जिनकी महिमा गाई हुई है। गुरूनानक देव, क्राईस्ट, बुद्ध आदि उन्होंने भी तो उसके तरफ इशारा किया है ना। तो यह सब साफ बातें हैं जिसको समझ करके पुरूषार्थ करना है और बाप जो फरमान करते हैं कि मुझे याद करो और अपने कर्मों को अच्छा पवित्र रखो तो उसी से तुम्हारा यह जो हेविन का अधिकार है वह तुमको प्राप्त होगा। तुम वैसे भी कर्म तो करते ही हो परन्तु वह कर्म तुम्हारे राँग होते जाते हैं, उसी से तुम्हारा दु:ख बढ़ता जाता है इसलिये बाप कहते हैं अभी समझ से करो, मैं जो समझ देता हूँ, उसको ले करके अच्छी तरह से करो, मेरे डायरेक्शन्स पर रहो। मेरी मत पर चलो तो फिर तुम्हारे जो एक्शन्स हैं वह राइट रहेंगे और उसके आधार से तुम सुखी रहेंगे। अपने एक्शन्स से ही तो बनना बिगड़ना होता है। उसको हम क्या बनायें, कैसा बनाये उसकी हमको समझ चाहिए, वह अभी समझ दे रहा है, उस पर चलना है। इन बातों का समझ करके अपना ऐसा पुरूषार्थ रखना है। अच्छा। देखो, कितनी सिम्पल, सहज बात है, इसके लिये मनुष्य कितने वेद-शास्त्र, ग्रंथ-पुराण और कितने हठयोग, प्राणायाम आदि करते हैं। यह सब बातें साफ करके बाप समझाते हैं। चलना तो कर्म से ही है लेकिन कर्म को खाली सुधारते चलो। वह सुधारो कैसे? वह समझाते हैं। उसके लिये तुमको कोई विद्वान, पण्डित वा आचार्य बनने की बात ही नहीं है। तुमको अपने कर्म को स्वच्छ बनाने का है। स्वच्छता (पवित्रता) क्या है, वह बैठ करके स्पष्ट समझाते हैं कि तुम मेरी याद के बिना पवित्र बन ही नहीं सकते हो। भले तुम कोई देवता को याद करो। किसी के भी योग से तुम पवित्र नहीं बनोंगे। पापों को दग्ध करने का बल मेरे पास है इसलिए बाप कहते हैं जब तक मेरे से कनेक्शन नहीं है तब तक पावन नहीं बन सकते। जैसे बत्तियों का कनेक्शन मेन पॉवर हाउस से है ना। अगर वहाँ से कनेक्शन न हो तो बत्ती में लाइट नही होगी। वह बल नहीं आयेगा। इसी तरह से तुम्हारा कनेक्शन मेरे से हो, मैं हूँ मेन पॉवर हाउस तो उससे कनेक्शन चाहिए ना। अगर उससे कनेक्शन नहीं होगा तो तुमको ताकत नहीं मिलेगी और ताकत नहीं मिलेगी तो पाप दग्ध नहीं होंगे। पाप दग्ध नहीं होंगे तो तुम आगे नहीं बढ़ सकेंगे, तब कहते हैं एक मेरे से योग लगाओ। मेरे बिना तुम्हारी गति सद्गति नहीं हो सकती। अच्छा!

मीठे-मीठे बच्चों को यादप्यार और गुडमार्निग। ओम् शान्ति।
वरदान:
अपने चेहरे और चलन से सत्यता की सभ्यता का अनुभव कराने वाले महान आत्मा भव
महान आत्मायें वह हैं जिनमें सत्यता की शक्ति है। लेकिन सत्यता के साथ सभ्यता भी जरूर चाहिए। ऐसे सत्यता की सभ्यता वाली महान आत्माओं का बोलना, देखना, चलना, खाना-पीना, उठना-बैठना हर कर्म में सभ्यता स्वत: दिखाई देगी। अगर सभ्यता नहीं तो सत्यता नहीं। सत्यता कभी सिद्ध करने से सिद्ध नहीं होती। उसे तो सिद्ध होने की सिद्धि प्राप्त है। सत्यता के सूर्य को कोई छिपा नहीं सकता।
स्लोगन:
नम्रता को अपना कवच बना लो तो सदा सुरक्षित रहेंगे।
 

Murli 23 June 2017

23/06/17 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, the foundation of knowledge is faith. Make effort with your intellect having faith and you will reach the destination.
Question:
What one aspect should you understand deeply and have faith in?
Answer:
The karmic accounts of all souls are about to be settled and everyone will return to the sweet home like a swarm of mosquitoes. After that, only a few souls will go to the new world. This aspect should be understood deeply and you must have faith in it.
Question:
Which children is the Father pleased to see?
Answer:
The children who completely sacrifice themselves to the Father, those who are not shaken by Maya, that is, who are as unshakeable and immovable as Angad. The Father is pleased to see such children.
Song:
Have patience, o mind! Your days of happiness are about to come.  
Om Shanti
What did the children hear? Only the Father can say this. A sannyasi cannot say it. Only the parlokik, unlimited Father says this to the children, because the mind and the intellect are in the soul. He tells souls to have patience. You children know that the unlimited Father tells the entire world to have patience. Your days of happiness and peace are about to come. This is the land of sorrow. After this, the land of happiness has to come. Only the Father would establish the land of happiness. The Father gives patience to the children, but faith is needed first. The Brahmins who are the mouth-born progeny have this faith. How else could there be so many Brahmins? The meaning of ‘Brahma Kumars and Kumaris’ is that they are sons and daughters. There are so many who are called Brahma Kumars and Kumaris. Therefore, there must surely be Prajapita Brahma. All of you only have the one Mother and Father, whereas all others have a separate mother and father. Here, all of you have the one Mother and Father. This is a new thing. You were not Brahmins previously, but you have become Brahmins now. Those brahmins are born through sin, whereas you are the mouth-born progeny. In every aspect, there first has to be faith in who is explaining to us. God is the one who explains. Now it is the end of the iron age and the war is just ahead. There are also the Yadavas, the residents of Europe, who invented bombs etc. It is remembered that missiles which destroyed their own clan emerged from their stomachs. They will definitely destroy their clan. In fact, all belong to the one clan. They keep telling one another: We will bring about destruction. This is definitely written as well. So, the Father now explains: Children, have patience! This old world will soon finish. Only when the iron age ends will there then be the golden age. Establishment definitely has to take place before then. It is also remembered that establishment takes place through Brahma and that destruction takes place through Shankar. Establishment takes place first, and then destruction takes place when establishment has been completed. Establishment is now taking place. This is a unique path which no one understands. No one has ever heard about it, so people think that the Brahma Kumaris are like all the rest of the paths and cults. Those poor people cannot be blamed. They brought obstacles in the same way in the previous cycle too. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Shiva is known as Rudra. He is the One who teaches Raja Yoga, which is known as the ancient easy Raja Yoga. They do not understand the meaning of the word ‘ancient’. It is an aspect of the confluence. ‘Pure and impure’ means the confluence age. At the beginning of the golden age there was one religion. That is the devilish community whereas you are the divine community, but it is not a question of a war, etc. That too is a mistake. How can you brothers fight? The Father sits here and explains the essence of all the Vedas and scriptures through Brahma. In reality, there are four main religions and four main religious scriptures. Of these, the first is the original, eternal deity religion and its scripture is the Gita, which is the jewel of all scriptures. It is the main scripture of Bharat through which the original, eternal deity religion, that is, the religions of the sun dynasty and the moon dynasty, were established. That must have been at the confluence age, which is known as the meeting, the kumbha mela. You understand that this kumbha mela is a meeting between souls and the Supreme Soul. It is a beautiful and beneficial meeting. The iron age has to change into the golden age and this is why it is known as the benevolent age. When the golden age changes into the silver age and when the silver age changes into the copper age, the celestial degrees decrease; loss is taking place continually. Therefore, the One who brings benefit is needed. When there is complete loss, the Father comes to bring benefit to everyone. You must use your intellect. The Father would surely come at the confluence age to bring benefit. The Father is the One who grants salvation to everyone. Not everyone is present at the time of the copper age, nor is everyone in the golden and the silver ages. Therefore, the Father only comes at the end, when all the souls have come down. The Father comes and gives patience. Children say: Baba, there is a lot of sorrow in this old world, so take us away quickly. The Father says: No children! This drama is predestined. You cannot change from corrupt to elevated instantly. You have to develop faith in your intellects and then make effort. It is true that liberation-in-life is received in a second. As soon as you become a child, it means that you claim a right to the inheritance. However, the status there is still numberwise and, in order to claim a high status, you have to make effort and study. It is not that the karmateet stage will be achieved instantly, for you would then have to leave the body; that is not the law. You have to battle very well with Maya. You know that the war may continue for 8, 10, or even 15 years. Your war is with Maya, and for as long as the Father is here, your war will continue. The results of those who conquered Maya and to what extent each one will have reached his karmateet stage will be revealed at the end. The Father says: As much as possible, remember your home, that is, the land of peace. That is the land beyond sound. You children now have happiness in your intellects. You understand how this drama is created. You also understand the three worlds. This is not in anyone else's intellect. Baba has also studied many scriptures etc., but these things were not in his intellect then. He studied the Gita, etc., but it was not in his intellect that we are residents of the supreme region, the faraway land. It is now that we have come to know that our Baba, who is called the Supreme Father, the Supreme Soul, resides in the supreme region. Everyone remembers Him: O Purifier, come! No one can return home. It is like a maze: wherever people go, they come to a wall and cannot reach their destination. When they get tired, they cry out: Someone, show us the path! No matter how much they study the Vedas and scriptures, or how many pilgrimages they go on, they still do not understand where they are going. They simply say that such-and-such a person has merged into the light. The Father explains: No one is able to return home. When it is time for the play to end, all the actors come onto the stage. This is the law. They all line up in their costumes. They show their faces and then remove their costumes and run home. Later, they repeat those same parts. This is the unlimited play. You are now becoming soul conscious. You understand: I, the soul, will shed this body and take on the next. Everyone takes rebirth. You have adopted 84 names in 84 births. This play has now ended. Everyone has reached the state of decay. It will repeat once again. The history and geography of the world will repeat once again. You understand that your parts are now to finish and that you will return home. The Father's orders are no less. The Father, the Purifier, sits here and explains: Children, I show you a very easy method. Whether sitting or moving, let your hearts remain aware that you are actors and that you have now completed your 84 births. The Father has now come to make us beautiful, to change us from humans into deities. We are making impure ones pure. We have changed from impure to pure innumerable times before and will continue to do so. This history and geography repeat. Those of the deity religion will come first. The sapling is now being planted. We are incognito. What ceremonies etc. could we have? Internally, we have knowledge and experience happiness. Our deity religion, that is, the leaves of the tree have now become corrupt, that is, they have become corrupt in their religion (dharma) and action (karma). The dharma and karma of the people of Bharat used to be elevated. Maya never made them commit sins there; that was the world of pure charitable souls, where Ravan did not exist. Their actions were neutral actions. Later, in the kingdom of Ravan, actions started to become sinful. There, there cannot be sinful actions; no one can be corrupt. You children become the masters of the world through the power of yoga and by following shrimat. No one can become the masters of the world through physical power. You understand that if they were to come together, they could become the masters of the world, but that is not part of the drama. They show two cats fighting and a monkey taking the butter from between them. You have had visions of Krishna with butter in his mouth. He receives the butter of the kingdom of the world. The battle is between the Yavanas and the Kauravas. You see this happening now. If they read in the newspapers that there was great violence against someone, others would instantly go and kill someone or other. To begin with, there was only one religion in Bharat. How did the kingdoms of all those other religions come about? The Christians were powerful and that was why they ruled. In fact, Ravan has now taken over the entire world. This is an incognito aspect. These things are not written in the scriptures. The Father explains: These vices are your enemies for half the cycle; through them you receive sorrow from their beginning, through the middle to the end. This is why sannyasis also say that happiness is like the droppings of a crow. However, they do not know that there is constant happiness in heaven. The people of Bharat know of this; that is why when someone dies they say that he has gone to heaven. There is so much praise of heaven, and so this must definitely be a play. However, if you tell someone that he is a resident of hell, it would upset him. It is such a wonderful thing! They say with their own lips that someone has become a resident of heaven, which means that he must have left hell. However, why do you then invoke them and feed them things of hell? Because if they are in heaven, they would have all the possessions they need! This means that you don’t have faith. Some children have seen what there is in heaven. Look at the things people do in hell! A son would not hesitate to kill his father. If a wife falls in love with someone else, she would not hesitate to kill her husband. On the one hand, there is a song they sing about Bharat that goes: “What has happened to today's people?” Then, on the other hand, they also sing: “Our Bharat is the best, like gold”. Bharat was the best, but it is not that now; it is now poverty-stricken; there is no safety. We belonged to the devilish community and Baba is now inspiring us to make effort to belong to the Godly community. This is not a new thing. At the confluence of every cycle, we once again claim our inheritance. The Father comes in order to give you the inheritance, but Maya curses you. She is so powerful! The Father says: Maya, you are so powerful! You make good ones fall. In that army, they are not afraid of dying or killing. Even though they may get hurt, they return to the battlefield; theirs is a professional business. They even receive a prize. You take power from Shiv Baba and conquer Maya. The Father is also the Barrister because He frees you from Maya. You are the Shiv Shakti Army. The mothers are kept ahead: “Salutations to the mothers”. Who said this? The Father said this because you surrender to the Father. Baba is happy when someone is very firm and doesn’t shake. There is the example of Angad: Ravan could not shake him. This applies to this final period and that stage will be reached at the end. At that time, you will experience a lot of happiness. Until destruction takes place, until the earth becomes pure, the deities cannot come here. The haystack will definitely be set ablaze. All souls now have to settle their karmic accounts and return to the sweet home like swarms of mosquitoes. Millions of mosquitoes die. This is why it is said that Ravan goes when Rama goes. Everyone has to return, and then you will go to the new world. There will be very few at that time. These are matters that have to be understood and you must have faith in them. Only Baba can give you this knowledge. Achcha.

To the sweetest beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Whether sitting or moving, consider yourself to be an actor. Let your heart remember that you have now completed the part of your 84 births and have to return home. Be soul conscious.
2. Have faith in the intellect and make effort to change from thorns into flowers. Be victorious in your battle with Maya and become karmateet. Remember your home as much as possible.
Blessing:
May you remain constantly cheerful in your heart and on your face with the royalty of purity.
Souls who have the royalty, that is, the reality of purity constantly dance in happiness. Their happiness never fluctuates, it is never sometimes less and sometimes more. Day by day their happiness continues to increase. They are not one thing internally and another thing externally. They have truth in their attitude, vision, words and activity. Such real and royal souls would be constantly cheerful in their hearts which would be seen in their eyes and features. They would be eternally cheerful in their hearts and on their face.
Slogan:
The most elevated power in the world is the power of purity.