Wednesday, September 2, 2015

Murli 02 September 2015

Sweet children, the Father has come to give you the third eye of knowledge through which you come to know the beginning, the middle and the end of the world.

Question:

Which aspect can only the Shaktis, the lionesses explain with courage?

Answer:

You Shaktis have to explain to those of other religions that the Father says: Consider yourself to be a soul and not the Supreme Soul. When you consider yourself to be a soul and remember the Father your sins will be absolved and you will go to the land of liberation. Your sins are not absolved by considering yourself to be the Supreme Soul. Only you Shaktis, you lionesses who have a great deal of courage, are able to explain this aspect. You need to practise explaining this.

Song:

Show the path to the blind, dear God!

Essence for Dharna:

1. This old world is now to be destroyed. Therefore, renounce this old world! You don’t have to leave the world and go anywhere, but your intellect has to forget it.

2. In order to go to the land of nirvana, become completely pure. Fully understand the beginning, middle and end of creation, and claim a high status in the new world.

Blessing:

May you become an overflowing treasure-store of the treasure of happiness by giving everyone the good news of happiness.

Constantly keep in front of you your form of a treasure-store who is overflowing with the treasure of happiness. Bring into your awareness all the countless, imperishable treasures you have received. You will be happy by remembering the treasures and where there is happiness, sorrow is removed for all time. By having awareness of the treasures the soul becomes powerful and all waste finishes. An overflowing soul never comes into upheaval. Such souls remain happy themselves and also give good news of happiness to others.

Slogan:

In order to become worthy, keep a balance of karma and yoga.


Om Shanti
_____________________________

02/09/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, the Father has come to give you the third eye of knowledge through which you come to know the beginning, the middle and the end of the world.   
Question:
Which aspect can only the Shaktis, the lionesses explain with courage?
Answer:
You Shaktis have to explain to those of other religions that the Father says: Consider yourself to be a soul and not the Supreme Soul. When you consider yourself to be a soul and remember the Father your sins will be absolved and you will go to the land of liberation. Your sins are not absolved by considering yourself to be the Supreme Soul. Only you Shaktis, you lionesses who have a great deal of courage, are able to explain this aspect. You need to practise explaining this.
Song:
Show the path to the blind, dear God!   
Om Shanti
Children experience difficulty and it is also seen that there are difficulties in staying on the spiritual pilgrimage of remembrance. On the path of devotion they stumble from door to door. They do many different types of penance, tapasya, hold sacrificial fires and read scriptures etc. This is why it is called the night of Brahma. For half the cycle it is the night and for the other half cycle it is the day. Brahma is not alone, is he? Since he is Prajapita Brahma (Father of the People), his children, the kumars and kumaris, would surely be there. However, people don’t understand this. Only the Father gives you children the third eye of knowledge through which you receive the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. You were Brahmins and then became deities in the previous cycle too. Those who became this will become the same again. You belong to the original eternal deity religion. It is only you who become worthy of being worshipped and then you become worshippers. In English, they are called “worship worthy” and “worshippers”. It is Bharat that becomes a worshipper for half the cycle. The soul accepts that he was worthy of being worshipped and that he then became a worshipper. You become worshippers from worthy of being worshipped and you then you become worthy of being worshipped again. The Father does not become worthy of being worshipped or a worshipper. You say that when you were deities you were pure and worthy of being worshipped. Then, after 84 births, you became completely impure worshippers. At this time, the people of Bharat, who belonged to the original eternal deity religion, don’t know anything about their own religion. Those of all the other religions do not understand these things you speak about. Those who have been converted from this religion are the ones who will come back again. Many have been converted. The Father says: This is very easy for those who are worshippers of Shiva and the deities. Those of all the other religions will eat your head (ask many questions)! Those who have been converted will be touched by these things and will come and try to understand. Otherwise, they won’t believe it. Many have come from the Arya Samajis. Some from the Sikh community have also come here. Those of the original eternal deity religion who have been converted will definitely come back into their own religion. There are the different sections shown in the picture of the tree. They will all come again, numberwise. The branches and twigs will continue to emerge. Because those souls are pure, they create a very good impact. At this time, the foundation of the deity religion doesn’t exist, and it therefore has to be laid once again. You have to make them into brothers and sisters. We are all souls, brothers, children of the one Father. We then become brothers and sisters. Now, since the new world is being established, first of all, there are the Brahmins. Prajapita Brahma is definitely needed for establishing the new world. Brahmins are created through Brahma. This is also called the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Brahmins are definitely needed for this. The children of Prajapita Brahma are definitely needed. He is the great-great-grandfather. Brahmins are the first number, the topknot. People believe in Adam and Bibi or Adam and Eve. At this time, from worshippers, you are becoming worthy of being worshipped. The Dilwara Temple is the best memorial of all of you. You are shown sitting on the ground in tapasya and the kingdom is portrayed up above on the ceiling; you are sitting here in the living form. All of those temples are to be destroyed and then created again on the path of devotion. You know that we are now studying Raja Yoga and that we will then go to the new world. That is a non-living temple, whereas you are sitting here in the living form. That main temple has been created accurately. They have portrayed heaven on the ceiling. Where else could heaven be shown? You can explain this topic very well. Tell them: Bharat alone was heaven and it has now become hell. Those of this religion will quickly understand this. Many Hindus too have gone into other religions. You have to make a lot of effort to bring them back. Baba has explained: Consider yourself to be a soul and constantly remember Me alone! That’s all! Don’t talk of anything else at all! Those who don’t have this practice should not even say anything. Otherwise, they will defame the name of the Brahma Kumaris. If there are others from different religions who come, explain to them: If you want to go to the land of liberation, consider yourself to be a soul and remember the Father. Don’t consider yourself to be the Supreme Soul. By considering yourself to be a soul and remembering the Father, your sins of many births will be cut away and you will go to the land of liberation. This mantra “Manmanabhav” is enough for you. However, you do need courage in order to speak. Only the Shaktis, the lionesses, can do this service. Sannyasis go abroad and invite foreigners here, saying: Come, I will give you spiritual knowledge. They don’t even know the Father. They consider the brahm element to be God and tell everyone to remember that. They simply give this mantra, just as a bird is put in a cage. It takes time to explain in this way. Baba has told you: “God Shiva speaks” should be written on every picture. You know that everyone is an orphan without his Lord and Master. People call out: You are the Mother and Father. OK., what does this mean? They simply continue to say, “Through Your mercy, we have a lot of happiness.” The Father is now teaching you for the happiness of heaven and you are making effort for that. Those who do something will receive the return of it. At this time, everyone is impure. Only heaven is the pure world, the new world. Here, not a single person can be satopradhan. Those who were satopradhan in the golden age have become tamopradhan and impure. All those of the Christian religion who come after Christ would be satopradhan at first, would they not? When there are hundreds of thousands of them, their army is ready to battle and claim their kingdom. They experience less happiness and less sorrow. No one else can experience the happiness that you have. You are now being made ready to go to the land of happiness. None of those of other religions will go to heaven. No other land can be as pure as Bharat was when it was heaven. It is only when the Father comes that the kingdom of God is established. There is no question of any war there. Fighting and battling start a lot later on. The people of Bharat have not fought as much as others. They did fight among themselves a little and they became divided. In the copper age, they attack one another. It takes great wisdom to create these pictures etc. You should also write: Come and understand how Bharat, that was once heaven, has now become hell. Bharat was in salvation but is now in degradation. Only the Father can give the knowledge through which you receive salvation. Human beings don’t have this spiritual knowledge. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, has this knowledge. The Father alone gives this knowledge to you souls. Everywhere else it is human beings who give knowledge to other human beings. The scriptures have been written by human beings and are studied by human beings. Here, the spiritual Father is teaching you and it is you spirits that are studying. It is souls that are studying. There, it is human beings who write and study. The Supreme Soul doesn’t need to study any scriptures etc. The Father says: No one can receive salvation by studying those scriptures etc. I alone have to come and take everyone back home. There are now billions of human beings in the world. When it was the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age there were 900,000 beings. That was a very small tree. Just think about where all the rest of the souls went to. They did not merge into the brahm element or into water. All of them remained in the land of liberation. Every soul is imperishable and has an imperishable part recorded in him that can never be erased. A soul can never be destroyed. A soul is just a point. No one can go to the land of nirvana etc. yet. Everyone has to play his part. When all souls have come down, I then come and take everyone back. The Father’s part is at the end. There is establishment of the new world and then destruction of the old world. This too is fixed in the drama. When you explain to a group of Arya Samajis, anyone in that group who might have belonged to the deity religion will be touched by this knowledge. He will understand that what you are saying really is right. How can God be omnipresent? God is the Father and we receive our inheritance from Him. Anyone from the Arya Samajis who comes to you is called a sapling. Continue to explain to them, and those who belong to your clan will come to you. God, the Father, is showing you ways to become pure. God speaks: Constantly remember Me alone! I am the Purifier. By remembering Me, your sins will be absolved and you will go to the land of liberation. This message is for those of all religions. Tell them: The Father says: Renounce all bodily religions and remember Me and you will become satopradhan from tamopradhan. Let go of the consciousness of being a Gujarati or a so-and-so. Consider yourself to be a soul and remember the Father. This is the fire of yoga. Every step you take must be with caution. Not everyone will understand this. The Father says: I alone am the Purifier. All of you are impure. No one can go to the land of nirvana without first becoming pure. You also have to understand the beginning, the middle and the end of creation. Only by understanding this fully will you claim a high status. Those who have done less devotion will understand very little of this knowledge. Those who have done a great deal of devotion will take a great deal of this knowledge. You have to imbibe everything that the Father explains to you. This is even easier for those in the stage of retirement. They have moved away from the interaction of the household. The age of retirement only comes after the age of 60; it is then that they adopt a guru. Nowadays, even children are made to adopt a guru. Otherwise, first there is the father, then the teacher, and then, only after the age of 60 is a guru adopted. Only the one Father is the Bestower of Salvation. None of those gurus can be a bestower of salvation. All of those are methods for them to earn money. There is only the one Satguru, the One who grants salvation to everyone. The Father says: I explain to you the essence of all the Vedas and scriptures. All of those are the expansion of the path of devotion. Everyone has to descend the ladder. It is said: Knowledge, devotion and then there is disinterest in devotion. It is when you receive knowledge that you become disinterested in devotion. You have disinterest in this old world. Where else would you go if you left the world? You know that this world is to be destroyed. This is why the unlimited world has to be renounced. You cannot return home without first becoming pure. The pilgrimage of remembrance is required in order to become pure. It is only after there have been rivers of blood in Bharat that there will be rivers of milk there. Vishnu has been shown lying in a lake of milk. It is explained that the gates of liberation and liberation-in-life open through this war. The more progress you children make, the more this sound will continue to emerge. The war is now about to take place. Look what happened earlier from just one spark! They believe that they will definitely fight. Wars continue all the time. They become helpers of one another. You also need a new world. Therefore, the old world definitely has to be destroyed. Achcha.



To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. This old world is now to be destroyed. Therefore, renounce this old world! You don’t have to leave the world and go anywhere, but your intellect has to forget it.
2. In order to go to the land of nirvana, become completely pure. Fully understand the beginning, middle and end of creation, and claim a high status in the new world.
Blessing:
May you become an overflowing treasure-store of the treasure of happiness by giving everyone the good news of happiness.   
Constantly keep in front of you your form of a treasure-store who is overflowing with the treasure of happiness. Bring into your awareness all the countless, imperishable treasures you have received. You will be happy by remembering the treasures and where there is happiness, sorrow is removed for all time. By having awareness of the treasures the soul becomes powerful and all waste finishes. An overflowing soul never comes into upheaval. Such souls remain happy themselves and also give good news of happiness to others.
Slogan:
In order to become worthy, keep a balance of karma and yoga.  
 

मुरली 02 सितम्बर 2015

“मीठे बच्चे - बाप आये हैं तुम्हें ज्ञान का तीसरा नेत्र देने, जिससे तुम सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो”  

प्रश्न:

शेरनी शक्तियां ही कौन सी बात हिम्मत के साथ समझा सकती हैं?

उत्तर:

दूसरे धर्म वालों को यह बात समझाना है कि बाप कहते हैं तुम अपने को आत्मा समझो, परमात्मा नहीं। आत्मा समझकर बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और तुम मुक्तिधाम में चले जायेंगे। परमात्मा समझने से तुम्हारे विकर्म विनाश नहीं हो सकते। यह बात बहुत हिम्मत से शेरनी शक्तियां ही समझा सकती हैं। समझाने का भी अभ्यास चाहिए।

गीतः

नयन हीन को राह दिखाओ........

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) यह पुरानी दुनिया अब खत्म होनी है इसलिए इस पुरानी दुनिया का सन्यास करना है। दुनिया को छोड़कर कहाँ जाना नहीं है, लेकिन इसे बुद्धि से भूलना है।

2) निर्वाणधाम में जाने के लिए पूरा पावन बनना है। रचना के आदि-मध्य-अन्त को पूरा समझकर नई दुनिया में ऊंच पद पाना है।

वरदान:

सबको खुशखबरी सुनाने वाले खुशी के खजाने से भरपूर भण्डार भव!  

सदा अपने इस स्वरूप को सामने रखो कि हम खुशी के खजाने से भरपूर भण्डार हैं। जो भी अनगिनत और अविनाशी खजाने मिले हैं उन खजानों को स्मृति में लाओ। खजानों को स्मृति में लाने से खुशी होगी और जहाँ खुशी है वहाँ सदाकाल के लिए दु:ख दूर हो जाते हैं। खजानों की स्मृति से आत्मा समर्थ बन जाती है, व्यर्थ समाप्त हो जाता है। भरपूर आत्मा कभी हलचल में नहीं आती, वह स्वयं भी खुश रहती और दूसरों को भी खुशखबरी सुनाती है।

स्लोगन:

योग्य बनना है तो कर्म और योग का बैलेन्स रखो।  


ओम् शांति ।

_____________________________
02-09-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - बाप आये हैं तुम्हें ज्ञान का तीसरा नेत्र देने, जिससे तुम सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो”   
प्रश्न:
शेरनी शक्तियां ही कौन सी बात हिम्मत के साथ समझा सकती हैं?
उत्तर:
दूसरे धर्म वालों को यह बात समझाना है कि बाप कहते हैं तुम अपने को आत्मा समझो, परमात्मा नहीं। आत्मा समझकर बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और तुम मुक्तिधाम में चले जायेंगे। परमात्मा समझने से तुम्हारे विकर्म विनाश नहीं हो सकते। यह बात बहुत हिम्मत से शेरनी शक्तियां ही समझा सकती हैं। समझाने का भी अभ्यास चाहिए।
गीतः
नयन हीन को राह दिखाओ........  
ओम् शान्ति।
बच्चे अनुभव कर रहे हैं - रूहानी याद की यात्रा में कठिनाई देखने में आती है। भक्ति मार्ग में दर-दर ठोकरें खानी ही होती हैं। अनेक प्रकार के जप-तप-यज्ञ करते, शास्त्र आदि पढ़ते हैं, जिस कारण ही ब्रह्मा की रात कहा जाता है। आधाकल्प रात, आधाकल्प दिन। ब्रह्मा अकेला तो नहीं होगा ना। प्रजापिता ब्रह्मा है तो जरूर उनके बच्चे कुमार-कुमारियाँ भी होंगे। परन्तु मनुष्य नहीं जानते हैं। बाप ही बच्चों को ज्ञान का तीसरा नेत्र देते हैं, जिससे तुमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान मिला हुआ है। तुम कल्प पहले भी ब्राह्मण थे और देवता बने थे, जो बने थे वही फिर बनेंगे। आदि सनातन देवी-देवता धर्म के तुम हो। तुम ही पूज्य और पुजारी बनते हो। अंग्रेजी में पूज्य को वर्शिपवर्दी (worshipworthy) और पुजारी को वर्शिपर (worshipper) कहा जाता है। भारत ही आधाकल्प पुजारी बनता है। आत्मा मानती है हम पूज्य थे फिर हम ही पुजारी बने हैं। पूज्य से पुजारी फिर पूज्य बनते हैं। बाप तो पूज्य पुजारी नहीं बनते। तुम कहेंगे हम पूज्य पावन सो देवी-देवता थे फिर 84 जन्मों के बाद कम्पलीट पतित पुजारी बन जाते हैं। अभी भारतवासी जो आदि सनातन देवी- देवता धर्म वाले थे, उन्हों को अपने धर्म का कुछ भी पता नहीं है। तुम्हारी इन बातों को सब धर्म वाले नहीं समझेंगे, जो इस धर्म के कहाँ कनवर्ट हो गये होंगे, वही आयेंगे। ऐसे कनवर्ट तो बहुत हो गये हैं। बाप कहते हैं जो शिव और देवताओं के पुजारी हैं, उनको सहज है। अन्य धर्म वाले माथा खपायेंगे, जो कनवर्ट होगा उनको टच होगा। और आकर समझने की कोशिश करेंगे। नहीं तो मानेंगे नहीं। आर्य समाजियों में से भी बहुत आये हुए हैं। सिक्ख लोग भी आये हुए हैं। आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले जो कनवर्ट हो गये हैं, उनको अपने धर्म में जरूर आना पड़ेगा। झाड़ में भी अलग-अलग सेक्शन हैं। फिर आयेंगे भी नम्बरवार। टाल-टालियाँ निकलती रहेंगी। वह पवित्र होने कारण उन्हों का प्रभाव अच्छा निकलता है। इस समय देवी-देवता धर्म का फाउन्डेशन है नहीं जो फिर लगाना पड़ता है। बहन-भाई तो बनाना ही पड़े। हम एक बाप के बच्चे सब आत्मायें भाई-भाई हैं। फिर भाई-बहन बनते हैं। अब जैसे कि नई सृष्टि की स्थापना हो रही है, पहले-पहले हैं ब्राह्मण। नई सृष्टि की स्थापना में प्रजापिता ब्रह्मा तो जरूर चाहिए। ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण होंगे। इनको रूद्र ज्ञान यज्ञ भी कहा जाता है, इसमें ब्राह्मण जरूर चाहिए। प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद जरूर चाहिए। वह है ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर। ब्राह्मण हैं पहले नम्बर में चोटी वाले। आदम बीबी, एडम ईव को मानते भी हैं। इस समय तुम पुजारी से पूज्य बन रहे हो। तुम्हारा सबसे अच्छा यादगार मन्दिर देलवाड़ा मन्दिर है। नीचे तपस्या में बैठे हैं, ऊपर में राजाई और यहाँ तुम चैतन्य में बैठे हो। यह मन्दिर खलास हो जायेंगे फिर भक्ति मार्ग में बनेंगे।

तुम जानते हो अभी हम राजयोग सीख रहे हैं फिर नई दुनिया में जायेंगे। वह जड़ मन्दिर, तुम चैतन्य में बैठे हो। मुख्य मन्दिर यह ठीक बना हुआ है। स्वर्ग को नहीं तो कहाँ दिखायें, इसलिए छत में स्वर्ग को दिखाया है। इस पर बहुत अच्छा समझा सकते हो। बोलो, भारत ही स्वर्ग था फिर अब भारत नर्क है। इस धर्म वाले झट समझेंगे। हिन्दुओं में भी देखेंगे तो अनेक प्रकार के धर्मों में जाकर पड़े हैं। तुमको बहुत मेहनत करनी पड़ती है निकालने में। बाबा ने समझाया है अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो, बस, और कुछ बात ही नहीं करना चाहिए। जिनका अभ्यास नहीं, उनको तो बात करनी भी नहीं चाहिए। नहीं तो बी.के. का नाम बदनाम कर देते हैं। अगर दूसरे धर्म वाले हैं तो समझाना चाहिए कि यदि तुम मुक्तिधाम में जाना चाहते हो तो अपने को आत्मा समझो, बाप को याद करो। अपने को परमात्मा नहीं समझो। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करेंगे तो तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जायेंगे और मुक्तिधाम में चले जायेंगे। तुम्हारे लिए यह मनमनाभव का मंत्र ही बस है। परन्तु बात करने की हिम्मत चाहिए। शेरनी शक्तियां ही सर्विस कर सकती हैं। सन्यासी लोग बाहर में जाकर विलायत वालों को ले आते हैं कि चलो तुमको स्प्रीचुअल नॉलेज देवें। अब वह बाप को तो जानते ही नहीं। ब्रह्म को भगवान समझ कह देते, इसको याद करो। बस यह मंत्र दे देते हैं, जैसे किसी चिडि़या को अपने पिंजड़े में डाल देते हैं। तो ऐसे-ऐसे समझाने में भी टाइम लगता है। बाबा ने कहा था-हर एक चित्र के ऊपर लिखा हुआ हो शिव भगवानुवाच।

तुम जानते हो इस दुनिया में धनी बिगर सब निधनके हैं। पुकारते हैं तुम मात-पिता.... अच्छा उनका अर्थ क्या? ऐसे ही बोलते रहते तुम्हारी कृपा से सुख घनेरे। अब बाप तुमको स्वर्ग के सुख के लिए पढ़ा रहे हैं, जिसके लिये तुम पुरूषार्थ कर रहे हो। जो करेगा वह पायेगा। इस समय तो सब पतित हैं। पावन दुनिया तो एक स्वर्ग है नई दुनिया। यहाँ सतोप्रधान कोई हो न सके। सतयुग में जो सतोप्रधान थे वही तमोप्रधान पतित बन जाते हैं। क्राइस्ट के पिछाड़ी जो उनके धर्म वाले आते हैं, वह तो पहले सतोप्रधान होंगे ना। जब लाखों की अन्दाज में होते हो तब लश्कर तैयार होता है, लड़कर बादशाही लेने। उनको सुख भी कम तो दु:ख भी कम। तुम्हारे जैसा सुख तो किसको मिल न सके। तुम अभी तैयार हो रहे हो - सुखधाम में आने के लिए। बाकी सब धर्म कोई स्वर्ग में थोड़ेही आते हैं। भारत जब स्वर्ग था तो उन जैसा पावन खण्ड कोई होता नहीं। जब बाप आते हैं तब ही ईश्वरीय राज्य स्थापन होता है। वहाँ लड़ाई आदि की बात नहीं। लड़ना-झगड़ना तो बहुत पीछे शुरू होता है। भारतवासी इतना नहीं लड़े हैं। थोड़े आपस में लड़कर अलग हो गये हैं। द्वापर में एक-दो पर चढ़ाई करते हैं। यह चित्र आदि बनाने में भी बड़ी बुद्धि चाहिए। यह भी लिखना चाहिए कि भारत जो स्वर्ग था सो फिर नर्क जैसा कैसे बना है, आकर समझो। भारत सद्गति में था, अब दुर्गति में है। अब सद्गति को पाने के लिए बाप ही नॉलेज देते हैं। मनुष्यों में यह रूहानी नॉलेज होती नहीं। यह होती है परमपिता परमात्मा में। बाप यह नॉलेज देते हैं आत्माओं को। बाकी तो सब मनुष्य, मनुष्यों को ही देते हैं। शास्त्र भी मनुष्यों ने लिखे हैं, मनुष्यों ने पढ़े हैं। यहाँ तो तुम्हें रूहानी बाप पढ़ाते हैं और रूह पढ़ती है। पढ़ने वाली तो आत्मा है ना। वह लिखने और पढ़ने वाले मनुष्य ही हैं। परमात्मा को तो शास्त्र आदि पढ़ने की दरकार नहीं। बाप कहते हैं इन शास्त्रों आदि से किसकी भी सद्गति हो नहीं सकती। मुझे ही आकर सबको वापस ले जाना है। अभी तो दुनिया में करोड़ों मनुष्य हैं। सतयुग में जब इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तो वहाँ 9 लाख होते हैं। बहुत छोटा झाड़ होगा। फिर विचार करो इतनी सब आत्मायें कहाँ गई? ब्रह्म में वा पानी में तो नहीं लीन हो गई। वह सब मुक्तिधाम में रहती हैं। हर एक आत्मा अविनाशी है। उनमें अविनाशी पार्ट नूंधा हुआ है जो कभी मिट नहीं सकता। आत्मा विनाश हो न सके। आत्मा तो बिन्दी है। बाकी निर्वाण आदि में कोई भी जाता नहीं, सबको पार्ट बजाना ही है। जब सब आत्मायें आ जाती हैं तब मैं आकर सबको ले जाता हूँ। पिछाड़ी में है ही बाप का पार्ट। नई दुनिया की स्थापना फिर पुरानी दुनिया का विनाश। यह भी ड्रामा में नूंध है। तुम आर्य समाजियों के झुण्ड को समझायेंगे तो उसमें जो कोई इस देवता धर्म का होगा उनको टच होगा। बरोबर यह बात तो ठीक है, परमात्मा सर्वव्यापी कैसे हो सकता। भगवान तो बाप है, उनसे वर्सा मिलता है। कोई आर्य समाजी भी तुम्हारे पास आते हैं ना। उनको ही सैपलिंग कहा जाता है। तुम समझाते रहो फिर तुम्हारे कुल का जो होगा वह आ जायेगा। भगवान बाप ही पावन होने की युक्ति बताते हैं। भगवानुवाच मामेकम् याद करो। मैं पतित-पावन हूँ, मुझे याद करने से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे और मुक्तिधाम में आ जायेंगे। यह पैगाम सब धर्म वालों के लिए है। बोलो, बाप कहते हैं देह के सब धर्म छोड़ मुझे याद करो तो तुम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे। मैं गुजराती हूँ, फलाना हूँ - यह सब छोड़ो। अपने को आत्मा समझो और बाप को याद करो। यह है योग अग्नि। सम्भाल कर कदम उठाना है। सब नहीं समझेंगे। बाप कहते हैं - पतित-पावन मैं ही हूँ। तुम सब हो पतित, निर्वाणधाम में भी पावन होने बिगर आ न सकें। रचना के आदि-मध्य-अन्त को भी समझना है। पूरा समझने से ही ऊंच पद पायेंगे। थोड़ी भक्ति की होगी तो थोड़ा ज्ञान समझेंगे। बहुत भक्ति की होगी तो बहुत ज्ञान उठायेंगे। बाप जो समझाते हैं उसको धारण करना है। वानप्रस्थियों के लिए और ही सहज है। गृहस्थ व्यवहार से किनारा कर लेते हैं। वानप्रस्थ अवस्था 60 वर्ष के बाद होती है। गुरू भी तब करते हैं। आजकल तो छोटेपन में ही गुरू करा देते हैं। नहीं तो पहले बाप, फिर टीचर फिर 60 वर्ष के बाद गुरू किया जाता। सद्गति दाता तो एक ही बाप है, यह अनेक गुरू लोग थोड़ेही हैं। यह तो सब पैसे कमाने की युक्तियाँ हैं, सतगुरू है ही एक - सबकी सद्गति करने वाला। बाप कहते हैं मैं तुमको सब वेदों-शास्त्रों का सार समझाता हूँ। यह सब है भक्ति मार्ग की सामाग्री। सीढ़ी उतरना होता है। ज्ञान, भक्ति फिर भक्ति का है वैराग्य। जब ज्ञान मिलता है तब ही भक्ति का वैराग्य होता है। इस पुरानी दुनिया से तुमको वैराग्य होता है। बाकी दुनिया को छोड़ कहाँ जायेंगे? तुम जानते हो यह दुनिया ही खत्म होनी है। इसलिए अब बेहद की दुनिया का सन्यास करना है। पवित्र बनने बिगर घर जा न सकें। पवित्र बनने के लिए याद की यात्रा चाहिए। भारत में रक्त की नदियाँ होने के बाद फिर दूध की नदियाँ बहेंगी। विष्णु को भी क्षीर सागर में दिखाते हैं। समझाया जाता है - इस लड़ाई से मुक्ति-जीवनमुक्ति के गेट खुलते हैं। जितना तुम बच्चे आगे बढ़ेंगे उतना ही आवाज़ निकलता रहेगा। अब लड़ाई लगी कि लगी। एक चिन्गारी से देखो आगे क्या हुआ था। समझते हैं कि लड़ेंगे जरूर। लड़ाई चलती ही रहती है। एक-दो के मददगार बनते रहते हैं। तुमको भी नई दुनिया चाहिए तो पुरानी दुनिया जरूर खत्म होनी चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) यह पुरानी दुनिया अब खत्म होनी है इसलिए इस पुरानी दुनिया का सन्यास करना है। दुनिया को छोड़कर कहाँ जाना नहीं है, लेकिन इसे बुद्धि से भूलना है।
2) निर्वाणधाम में जाने के लिए पूरा पावन बनना है। रचना के आदि-मध्य-अन्त को पूरा समझकर नई दुनिया में ऊंच पद पाना है।
वरदान:
सबको खुशखबरी सुनाने वाले खुशी के खजाने से भरपूर भण्डार भव!   
सदा अपने इस स्वरूप को सामने रखो कि हम खुशी के खजाने से भरपूर भण्डार हैं। जो भी अनगिनत और अविनाशी खजाने मिले हैं उन खजानों को स्मृति में लाओ। खजानों को स्मृति में लाने से खुशी होगी और जहाँ खुशी है वहाँ सदाकाल के लिए दु:ख दूर हो जाते हैं। खजानों की स्मृति से आत्मा समर्थ बन जाती है, व्यर्थ समाप्त हो जाता है। भरपूर आत्मा कभी हलचल में नहीं आती, वह स्वयं भी खुश रहती और दूसरों को भी खुशखबरी सुनाती है।
स्लोगन:
योग्य बनना है तो कर्म और योग का बैलेन्स रखो।   
 

Murli 01 September 2015

Sweet children, you are now sitting in the true pathshala (place of study). This is also a true satsang (Company of the Truth). Here, you receive the company of the true Father and it is this that takes you across.

Question:

What is the difference between the understanding you have and the understanding other people have regarding karmic accounts?

Answer:

People believe that, in this play of happiness and sorrow, it is God who gives both happiness and sorrow, whereas you children know that this is a play of each one’s karmic accounts. The Father never causes sorrow for anyone. In fact, He comes to show you the path to happiness. Baba says: Children, I have never made anyone unhappy. That unhappiness is the fruit of your own actions.

Song:

Take us away from this world of sin to a place of rest and comfort.

Essence for Dharna:

1. Imbibe the virtue of tolerance and pass all the obstacles of Maya. At the time when many calamities come and a lot of assaults take place, you have to stay in remembrance of the Father and tolerate everything. Earn a true income.

2. Become one who has a vast and unlimited intellect and who very clearly understands this predestined drama. Everything in this wonderful drama is predestined. Therefore, no questions can arise. Continue to follow the good directions that the Father gives you.

Blessing:

May you be a special soul who revives unconscious souls with the life-giving herb in the form of specialities.

Give every soul the life-giving herb of an elevated conscious and awareness of their specialities and they will become conscious from unconscious. Keep a mirror in the form of specialities in front of them. By reminding others of these you will automatically become a special soul. If you tell others about their weaknesses they would hide them or put them aside, whereas if you tell them about their specialities they will experience their weaknesses very clearly. Revive those who are unconscious with this life-giving herb and continue to fly and enable others to fly.

Slogan:

Renunciation of even the thought of name, respect, honour and facilities is the greatest renunciation.


Om Shanti
_____________________________
01/09/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, you are now sitting in the true pathshala (place of study). This is also a true satsang (Company of the Truth). Here, you receive the company of the true Father and it is this that takes you across.   
Question:
What is the difference between the understanding you have and the understanding other people have regarding karmic accounts?
Answer:
People believe that, in this play of happiness and sorrow, it is God who gives both happiness and sorrow, whereas you children know that this is a play of each one’s karmic accounts. The Father never causes sorrow for anyone. In fact, He comes to show you the path to happiness. Baba says: Children, I have never made anyone unhappy. That unhappiness is the fruit of your own actions.
Song:
Take us away from this world of sin to a place of rest and comfort.  
Om Shanti
You sweetest, spiritual children heard the song. To whom were they calling out? To the Father. Baba, come and take us away from this iron-aged world of sin to the golden-aged world of charity. All human souls are now iron aged. Their intellects go upwards. The Father says: No one knows Me as I am or what I am. Rishis and munis too have been saying: We do not know the Creator, the Master, the unlimited Father, or the beginning, middle or end of His unlimited creation. The place where souls reside is the element of brahm, the element of light, where neither the sun nor the moon exists. They neither exist in the incorporeal region nor in the subtle region. However, there does have to be light etc. for this stage. Therefore, this stage receives light from the moon and stars at night and from the sun during the day. These are the lights. Although these lights do exist, there is still said to be darkness. At night, you still have to switch on a light. The golden and silver ages are called the day and the path of devotion is called the night. This is a matter of understanding. The new world will then definitely become old. That will then become new again and the old one will definitely be destroyed. This is the unlimited world. Some of the homes of the kings etc. are very large. This home is unlimited. This is the stage. This stage can also be called the field of action. You definitely do have to perform actions. This is the field of action for all human beings. Everyone has to perform actions. Everyone has to play his part. Every soul has received a part in advance. There are also some among you who are able to understand these things very well. In fact, this is the Gita Pathshala. Do old people ever study in a pathshala? Here, everyone studies - young and old. This isn’t called the Vedas Pathshala; there is no aim or objective there. They study the Vedas and scriptures etc. so much, but they don’t know what they will become by doing that. None of those satsangs have any aim or objective. One is embarrassed now even to call that a satsang (Company of the Truth). Only the one Father is the Truth, and it is of Him that it is said: Good company takes you across and bad company drowns you. Bad company is the company of iron-aged human beings and only the company of the One is the company of the Truth. You are now amazed at how the Father gives you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the whole world. You should have the happiness of knowing that you are sitting in the true pathshala. All other pathshalas are false. No one becomes someone special by going to those satsangs etc. At least, by going to a school or college they become something because they study; there is no study anywhere else. A satsang is not called a study. People study the scriptures and then open shops; they earn money in that way. They study the Granth a little and open up a gurudwara (Sikh temple, doorway to the Guru). So many gurudwaras have been opened. The dwara (doorway) of the Guru would be the home, would it not? When they open the doors of big gurudwaras, people go and study the scriptures there. Your gurudwara, the doorway to the Satguru, is to the land of liberation and the land of liberation-in-life. What is the name of the Satguru? The Immortal Image. The Satguru is called the Immortal Image. He comes and opens the gates to liberation and liberation-in-life. He is the Immortal Image, is He not? Death cannot come to Him. A soul is just a point. How could a soul experience death? That soul would leave the body and run off. People don’t understand that a soul leaves his old body and takes a new one. So, what is there to cry about? You know that this drama is created eternally. Everyone has to play his own part. The Father has explained that those in the golden age had conquered attachment. There is the story of the king who conquered attachment. Pundits relate the scriptures, and mothers, having listened to the Granth, start to relate it themselves. Many people go there and listen to it. That is called pleasing the ears. According to the drama plan, people ask: “Why should I be blamed?” The Father says: You called out to Me to come and take you away from the world of sorrow. I have now come. Therefore, you should listen to Me, should you not? The Father sits here and explains to you children. When you receive good directions, you should take them, should you not? You are not to be blamed. This too was the drama. The play about Rama’s kingdom and Ravan’s kingdom is created. In a play, some are defeated, but they can’t be blamed; there is victory and defeat. There is no question of a battle in this. You had that kingdom. Previously, you didn’t know this. You now know the ones who are serviceable and whose names are well known. Who is the most well- known one in Delhi who explains this knowledge? They instantly mention the name of Brother Jagdish. He also has a magazine printed for you. Everything is included in that. Many different points are written in that. Brother Brijmohan also writes such points. To write these points is not like going to your aunty’s home! Therefore, they must definitely churn the ocean of knowledge. The service they do is very good. So many become very happy when they read it. Children receive refreshment. Some beat their heads a great deal at the exhibitions. Others are trapped in their karmic bondages. This is why they are unable to take that much knowledge. This too is called the drama. It is also a part in the drama for innocent ones to be beaten. The question of why there is such a part doesn’t arise: it is predestined in the drama. You cannot do anything about it. Some ask: What crime have I committed that such a part has been created for me? There is no question of a crime. It is just a part. Some innocent ones will be instruments to be assaulted. In that case, they would all say: Why have I been given this part? No! This drama is predestined. Even some men are assaulted. You have to be very tolerant of those things. You need a lot of tolerance. Many obstacles of Maya will come. Since you are claiming sovereignty over the world, you do have to make some effort. There are so many calamities and conflicts in the drama. “Assaults on innocent ones” has been written about. Rivers of blood will flow too. There won’t be safety anywhere. You are now able to go to the centres for morning class. The time will come when you won’t even be able to go out. Day by day, the times are worsening and have to become even worse. Days of sorrow will come with great force. When someone has an illness and suffers pain, he remembers God and calls out to Him. You know that only a few more days now remain, and that we will then definitely go to our land of peace and then our land of happiness. No one in the world even knows this. You children feel that you now know the Father fully. All of them think that God is an oval shape. They even worship that oval shape (Shiva lingam). When you used to go to the temple of Shiva, did you ever wonder what the Shiva lingam was? Since that non-living image exists, there must be a living being whom it represents. What is all of that? God, the Creator, is up above. That image is a symbol of Him and is used to worship Him. When those who are worthy of worship exist, these things do not exist. The people who go to Shiva’s temple at Kashi are unaware that God is incorporeal and that they are His children. We are His children, so why do we experience sorrow? This is something to think about. The soul says: I am a child of God. So, why am I unhappy? The Father is the Bestower of Happiness. You called out: O God, remove our sorrow! How can He remove that? Happiness and sorrow are the accounts of your own karma. People believe that God gives happiness as the return of happiness and sorrow as the return of sorrow. They attribute everything to Him. The Father says: I never cause sorrow. I return home having granted you happiness for half the cycle. This is a play about happiness and sorrow. If it were just a play about happiness, there would not be any worshipping etc. People worship etc. in order to meet God. The Father sits here and explains everything to you. He says: You children are so fortunate! Those rishis and munis are very famous. You are Raj Rishis. They are hatha yoga rishis. Rishi means someone who is pure. You are becoming the kings of heaven so you definitely do have to become pure. Whoever the kingdom belonged to in the golden and silver ages, it will belong to them once again and everyone else will come later. You now say: We are establishing our own kingdom by following shrimat. It does take time for the old world to be destroyed. The golden age has to come and the iron age has to go. The world is so large. Every city is full of so many people. Wealthy people go on world tours. However, here, no one can see the whole world. Yes, they can see it in the golden age because there is just the one kingdom and very few kings. Here, the world is so large. Who would tour the whole world? There, you won’t even have to travel by sea. Will Ceylon, Burma etc. exist there? Not at all! None of those places exist there. Even Karachi doesn’t exist there. All of you reside on the banks of the sweet rivers. There are many farms and fields etc. The world is large. Initially there are very few human beings and then the number of them increases. Then they go abroad and establish their own kingdoms. They gradually began to take over everything and established their own kingdoms. Everyone now has to let go of them. It is Bharat alone that has never snatched anyone’s kingdom away because in reality Bharat is non-violent. It was Bharat alone that was the master of the whole world. All the others came later and took pieces of land. You have not taken over anyone. The British took over many countries. The Father is making you people of Bharat into the masters of the world. You did not go and settle anywhere. All of these things are in the intellects of you children. The old mothers cannot understand any of these things. The Father says: It is good that you haven’t studied anything. You have to remove from your intellects everything you have studied. Simply imbibe one thing: Sweet children, remember the Father! You used to say: Baba, when You come we will sacrifice ourselves to You. You then have to sacrifice Yourself to us. There is an exchange. At their wedding ceremony, the bride and groom give each other salt. You tell the Father: I give you everything of mine that is old. Everyone has to die. Everything is going to be destroyed. You will then give us all of that in the new world. The Father has come to take everyone back home. He is the Great Death. In Sindh, they used to ask: Which Death is this that is taking everyone away? You children become very happy because the Father has come to take you back home. You will return to your home in great happiness. There is plenty that has to be tolerated. Very good mothers from fine homes also experience being beaten. You are earning a true income. People don’t know anything. They are the iron-aged shudra community whereas you are the confluence-aged community. You are becoming the most elevated beings. You know that the number one most elevated beings are Lakshmi and Narayan. Then their degrees continue to decrease. They first come down from up above and then they gradually continue to fall. At this time everyone has fallen. The tree has become very old and the trunk has decayed. Therefore, establishment is now taking place; the foundation is being laid. The sapling is very small. Then such a big tree grows from it. There is this tree in the golden age too. At that time the tree is very small. Now it is very big. There are so many varieties of flower of the human world; there are so many varieties on just the one tree. This is the human tree of the variety of religions. One person’s face cannot be identical to another’s. It is predestined in the drama that no two people can play the same part. It is called the unlimited, predestined, wonderful drama, and in that too, there are many artificial things. The things that are real continue to be used up. Then, once again, after 5000 years, they come into reality (existence). The pictures etc. that have been made are not real (true likenesses). You will see the face of Brahma again after 5000 years. You need a vast and unlimited intellect in order to understand the secrets of this drama. Even if you don’t understand anything else, just keep one thing in your intellect: I only belong to Shiv Baba and none other! The soul says: Baba, I will only remember You. This is easy, is it not? While you continue to perform actions with your hands, continue to remember the Father with your intellect. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Imbibe the virtue of tolerance and pass all the obstacles of Maya. At the time when many calamities come and a lot of assaults take place, you have to stay in remembrance of the Father and tolerate everything. Earn a true income.
2. Become one who has a vast and unlimited intellect and who very clearly understands this predestined drama. Everything in this wonderful drama is predestined. Therefore, no questions can arise. Continue to follow the good directions that the Father gives you.
Blessing:
May you be a special soul who revives unconscious souls with the life-giving herb in the form of specialities.  
Give every soul the life-giving herb of an elevated conscious and awareness of their specialities and they will become conscious from unconscious. Keep a mirror in the form of specialities in front of them. By reminding others of these you will automatically become a special soul. If you tell others about their weaknesses they would hide them or put them aside, whereas if you tell them about their specialities they will experience their weaknesses very clearly. Revive those who are unconscious with this life-giving herb and continue to fly and enable others to fly.
Slogan:
Renunciation of even the thought of name, respect, honour and facilities is the greatest renunciation.   

मुरली 01 सितम्बर 2015

“मीठे बच्चे - तुम अभी सच्ची-सच्ची पाठशाला में बैठे हो, यह सतसंग भी है, यहाँ तुम्हें सत बाप का संग मिला है, जो पार लगा देता है”

प्रश्न:

हिसाब-किताब के खेल में मनुष्यों की समझ और तुम्हारी समझ में कौन सा अन्तर है?

उत्तर:

मनुष्य समझते हैं - यह जो दु:ख-सुख का खेल चलता है, यह दु:ख-सुख सब परमात्मा ही देते हैं और तुम बच्चे समझते हो कि यह हर एक के कर्मों के हिसाब का खेल है। बाप किसी को भी दु:ख नहीं देते। वह तो आते ही हैं सुख का रास्ता बताने। बाबा कहते हैं - बच्चे, मैंने किसी को भी दु:खी नहीं किया है। यह तो तुम्हारे ही कर्मों का फल है।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) सहनशीलता का गुण धारण कर माया के विघ्नों में पास होना है। अनेक आपदायें आयेंगी, अत्याचार होंगे-ऐसे समय पर सहन करते बाप की याद में रहना है, सच्ची कमाई करनी है।

2) विशाल बुद्धि बन इस बने बनाये ड्रामा को अच्छी रीति समझना है, यह कुदरती ड्रामा बना हुआ है इसलिए प्रश्न उठ नहीं सकता। बाप जो अच्छी मत देते हैं, उस पर चलते रहना है।

वरदान:

विशेषता रूपी संजीवनी बूटी द्वारा मूर्छित को सुरजीत करने वाले विशेष आत्मा भव!

हर आत्मा को श्रेष्ठ स्मृति की, विशेषताओं की स्मृति रूपी संजीवनी बूटी खिलाओ तो वह मूर्छित से सुरजीत हो जायेगी। विशेषताओं के स्वरूप का दर्पण उसके सामने रखो। दूसरों को स्मृति दिलाने से आप विशेष आत्मा बन ही जायेंगे। अगर आप किसी को कमजोरी सुनायेंगे तो वह छिपायेंगे, टाल देंगे आप विशेषता सुनाओ तो स्वयं ही अपनी कमजोरी स्पष्ट अनुभव करेंगे। इसी संजीवनी बूटी से मूर्छित को सुरजीत कर उड़ते चलो और उड़ाते चलो।

स्लोगन:

नाम-मान-शान व साधनों का संकल्प में भी त्याग ही महान त्याग है।

ओम् शांति ।

_____________________________
01-09-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - तुम अभी सच्ची-सच्ची पाठशाला में बैठे हो, यह सतसंग भी है, यहाँ तुम्हें सत बाप का संग मिला है, जो पार लगा देता है”   
प्रश्न:
हिसाब-किताब के खेल में मनुष्यों की समझ और तुम्हारी समझ में कौन सा अन्तर है?
उत्तर:
मनुष्य समझते हैं - यह जो दु:ख-सुख का खेल चलता है, यह दु:ख-सुख सब परमात्मा ही देते हैं और तुम बच्चे समझते हो कि यह हर एक के कर्मों के हिसाब का खेल है। बाप किसी को भी दु:ख नहीं देते। वह तो आते ही हैं सुख का रास्ता बताने। बाबा कहते हैं - बच्चे, मैंने किसी को भी दु:खी नहीं किया है। यह तो तुम्हारे ही कर्मों का फल है।
गीतः
इस पाप की दुनिया से........  
ओम् शान्ति।
मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत सुना। किसको पुकारते हैं? बाप को। बाबा आकर इस पाप की कलियुगी दुनिया से सतयुगी पुण्य की दुनिया में ले चलो। अभी जीव आत्मायें सब कलियुगी हैं। उन्हों की बुद्धि ऊपर जाती है। बाप कहते हैं मैं जो हूँ, जैसा हूँ, ऐसा कोई नहीं जानते हैं। ऋषि-मुनि आदि भी कहते हैं हम रचयिता मालिक अर्थात् बेहद के बाप और उनकी बेहद की रचना के आदि-मध्य-अन्त को नहीं जानते हैं। आत्मायें जहाँ रहती हैं वह है ब्रह्म महतत्व, जहाँ सूर्य चांद नहीं होते हैं। न मूलवतन, न सूक्ष्मवतन में। बाकी इस माण्डवे में तो बिजलियाँ आदि सब चाहिए ना। तो इस माण्डवे को बिजली मिलती है-रात को चांद सितारे, दिन में सूर्य। यह हैं बत्तियाँ। इन बत्तियों के होते हुए भी अन्धियारा कहा जाता है। रात को तो फिर भी बत्ती जलानी पड़ती है। सतयुग त्रेता को कहा जाता है दिन और भक्ति मार्ग को कहा जाता है रात। यह भी समझ की बात है। नई दुनिया सो फिर पुरानी जरूर बनेंगी। फिर नई होगी तो पुरानी का जरूर विनाश होगा। यह है बेहद की दुनिया। मकान भी कोई बहुत बड़े-बड़े होते हैं राजाओं आदि के। यह है बेहद का घर, माण्डवा अथवा स्टेज, इनको कर्मक्षेत्र भी कहा जाता है। कर्म तो जरूर करना होता है। सब मनुष्यों के लिए यह कर्मक्षेत्र है। सबको कर्म करना ही है, पार्ट बजाना ही है। पार्ट हर एक आत्मा को पहले से मिला हुआ है। तुम्हारे में भी कोई हैं जो इन बातों को अच्छी रीति से समझ सकते हैं। वास्तव में यह गीता पाठशाला है। पाठशाला में कभी बूढ़े आदि पढ़ते हैं क्या? यहाँ तो बूढ़े, जवान आदि सब पढ़ते हैं। वेदों की पाठशाला नहीं कहेंगे। वहाँ कोई भी एम ऑब्जेक्ट होती नहीं है। हम इतने वेद-शास्त्र आदि पढ़ते हैं, इनसे क्या बनेंगे - वह जानते नहीं। कोई भी जो सतसंग हैं, एम ऑब्जेक्ट कुछ नहीं है। अब तो उनको सतसंग कहने से लज्जा आती है। सत् तो एक बाप ही है, जिसके लिए कहा जाता है संग तारे.... कुसंग बोरे.....। कुसंग कलियुगी मनुष्यों का। सत् का संग तो एक ही है। अभी तुमको वण्डर लगता है। सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान कैसे बाप देते हैं, तुमको तो खुशी होनी चाहिए। तुम सच्ची-सच्ची पाठशाला में बैठे हो। बाकी सब हैं झूठी पाठशालायें, उन सतसंगों आदि से कुछ भी बनकर निकलते नहीं। स्कूल-कॉलेज आदि से फिर भी कुछ बनकर निकलते हैं क्योंकि पढ़ते हैं। बाकी कहाँ भी पढ़ाई नहीं है। सतसंग को पढ़ाई नहीं कहेंगे। शास्त्र आदि तो पढ़कर फिर दुकान खोल बैठते हैं, पैसा कमाते हैं। ग्रंथ थोड़ा सीखकर, गुरूद्वारा खोल बैठ जाते हैं। गुरूद्वारे भी कितने खोलते हैं। गुरू का द्वार अर्थात् घर कहेंगे ना। फाटक खुलता है, वहाँ जाकर शास्त्र आदि पढ़ते हैं। तुम्हारा गुरूद्वारा है - मुक्ति और जीवनमुक्ति धाम, सतगुरू द्वार। सतगुरू का नाम क्या है? अकाल मूर्त। सतगुरू को अकाल मूर्त कहते हैं, वह आकर मुक्ति-जीवनमुक्ति का द्वार खोलते हैं। अकालमूर्त हैं ना। जिसको काल भी खा नहीं सकता। आत्मा है ही बिन्दी। उनको काल कैसे खायेगा। वह आत्मा तो शरीर छोड़कर भाग जाती है। मनुष्य समझते थोड़ेही हैं कि एक पुराना शरीर छोड़ फिर जाए दूसरा लेगी फिर इसमें रोने की क्या दरकार है। यह तुम जानते हो-ड्रामा अनादि बना हुआ है। हर एक को पार्ट बजाना ही है। बाप ने समझाया है - सतयुग में हैं नष्टोमोहा। मोहजीत की भी कहानी है ना। पण्डित लोग सुनाते हैं, मातायें भी सुन- सुन कर फिर ग्रंथ रख बैठ जाती हैं - सुनाने के लिए। बहुत मनुष्य जाकर सुनते हैं। उनको कहा जाता है कनरस। ड्रामा प्लैन अनुसार मनुष्य तो कहेंगे हमारा दोष क्या है। बाप कहते हैं तुम हमको बुलाते हो कि दु:ख की दुनिया से ले जाओ। अब मैं आया हूँ तो मेरा सुनना चाहिए ना। बाप बच्चों को बैठ समझाते हैं, अच्छी मत मिलती है तो वह लेनी चाहिए ना। तुम्हारा भी कोई दोष नहीं है। यह भी ड्रामा था। राम राज्य, रावण राज्य का खेल बना हुआ है। खेल में कोई हार जाते हैं उनका दोष थोड़ेही है। जीत और हार होती है, इसमें लड़ाई की बात नहीं। तुमको बादशाही थी। यह भी आगे तुमको मालूम नहीं था, अभी तुम समझते हो जो सर्विसएबुल हैं, जिसका नाम बाला है। देहली में सबसे नामीग्रामी समझाने वाला कौन है? तो झट नाम लेंगे जगदीश का। तुम्हारे लिए मैगजीन भी निकालते हैं। उसमें सब कुछ आ जाता है। अनेक प्रकार की प्वाइंट्स लिखते हैं, बृजमोहन भी लिखते हैं। लिखना कोई मासी का घर थोड़ेही है। जरूर विचार सागर मंथन करते हैं, अच्छी सर्विस करते हैं। कितने लोग पढ़कर खुश होते हैं। बच्चों को भी रिफ्रेशमेंट मिलती है। कोई कोई प्रदर्शनी में बहुत माथा मारते हैं, कोई-कोई कर्मबन्धन में फंसे हुए हैं, इसलिए इतना उठा नहीं सकते हैं। यह भी कहेंगे ड्रामा, अबलाओं पर भी अत्याचार होने का ड्रामा में पार्ट है। ऐसा पार्ट क्यों बजाया, यह प्रश्न ही नहीं उठता। यह तो अनादि बना बनाया ड्रामा है। उनको कुछ कर थोड़ेही सकते हैं। कोई कहते हैं हमने गुनाह क्या किया जो ऐसा पार्ट रखा है। अब गुनाह की तो बात नहीं। यह तो पार्ट है। अबलायें कोई तो निमित्त बनेंगी, जिन पर सितम होंगे। ऐसे तो फिर सब कहेंगे हमको यह पार्ट क्यों? नहीं, यह बना-बनाया ड्रामा है। पुरूषों पर भी अत्याचार होते हैं। इन बातों में सहनशीलता कितनी रखनी पड़ती है। बहुत सहनशीलता चाहिए। माया के विघ्न तो बहुत पड़ेंगे। विश्व की बादशाही लेते हो तो कुछ मेहनत करनी पड़े। ड्रामा में आपदायें, खिटपिट आदि कितनी है। अबलाओं पर अत्याचार लिखा हुआ है। रक्त की नदियाँ भी बहेंगी। कहाँ भी सेफ्टी नहीं रहेगी। अभी तो सुबह को क्लास आदि में जाते हो, सेन्टर्स पर। वह भी समय आयेगा जो तुम बाहर निकल भी नहीं सकेंगे। दिन-प्रतिदिन जमाना बिगड़ता जाता है और बिगड़ना है। दु:ख के दिन बहुत जोर से आयेंगे। बीमारी आदि में दु:ख होता है तो फिर भगवान को याद करते, पुकारते हैं। अभी तुमको मालूम है बाकी थोड़े दिन हैं। फिर हम अपने शान्तिधाम, सुखधाम जरूर जायेंगे। दुनिया को तो यह भी पता नहीं है। अभी तुम बच्चे फील करते हो ना। अभी बाप को पूरी रीति जान गये हैं। वह सब तो समझते हैं परमात्मा लिंग है। शिवलिंग की पूजा भी करते हैं। तुम शिव के मन्दिर में जाते थे, कभी यह ख्याल किया कि शिवलिंग क्या चीज़ है? जरूर यह जड़ है तो चैतन्य भी होगा! यह तब क्या है? भगवान तो रचता है ऊपर में। उनकी निशानी है सिर्फ पूजा के लिए। पूज्य होंगे तो फिर यह चीज़ें नहीं होंगी। शिव काशी के मंदिर में जाते हैं, किसको पता थोड़ेही है भगवान निराकार है। हम भी उनके बच्चे हैं। बाप के बच्चे होकर फिर हम दु:खी क्यों हैं? विचार करने की बात है ना। आत्मा कहती है हम परमात्मा की सन्तान हैं फिर हम दु:खी क्यों हैं? बाप तो है ही सुख देने वाला। बुलाते भी हैं - हे भगवान, हमारे दु:ख मिटाओ। वह कैसे मिटाये? दु:ख-सुख यह तो अपने कर्मों का हिसाब है। मनुष्य समझते हैं सुख का एवजा सुख, दु:ख का एवजा दु:ख परमात्मा ही देते हैं। उन पर रख देते हैं, बाप कहते हैं मैं कभी दु:ख नहीं देता हूँ। मैं तो आधाकल्प के लिए सुख देकर जाता हूँ। यह फिर सुख और दु:ख का खेल है। सिर्फ सुख का ही खेल होता फिर तो यह भकि्त आदि कुछ न हो, भगवान से मिलने के लिए ही यह भक्ति आदि सब करते हैं ना। अब बाप बैठ सारा समाचार सुनाते हैं। बाप कहते हैं तुम बच्चे कितने भाग्यशाली हो। उन ऋषि-मुनियों आदि का कितना नाम है। तुम हो राजऋषि, वह हैं हठयोग ऋषि। ऋषि अर्थात् पवित्र। तुम स्वर्ग के राजा बनते हो तो पवित्र जरूर बनना पड़े। सतयुग-त्रेता में जिनका राज्य था उनका ही फिर होगा। बाकी सब पीछे आयेंगे। तुम अभी कहते हो हम श्रीमत पर अपना राज्य स्थापन कर रहे हैं। पुरानी दुनिया का विनाश होने में भी समय तो लगेगा ना। सतयुग आना है, कलियुग जाना है।

कितनी बड़ी दुनिया है। एक-एक शहर मनुष्यों से कितना भरा हुआ है। धनवान आदमी दुनिया का चक्र लगाते हैं। परन्तु यहाँ सारी दुनिया को कोई देख न सके। हाँ सतयुग में देख सकते हैं क्योंकि सतयुग में है ही एक राज्य, इतने थोड़े राजायें होंगे, यहाँ तो देखो कितनी बड़ी दुनिया है। इतनी बड़ी दुनिया का चक्र कौन लगाये। वहाँ तुमको समुद्र में जाने का नहीं है। वहाँ सीलॉन, बर्मा आदि होंगे? नहीं, कुछ भी नहीं। यह करांची नहीं होगी। तुम सब मीठी नदियों के किनारे पर रहते हो। खेती बाड़ी आदि सब होती है, सृष्टि तो बड़ी है। मनुष्य बहुत थोड़े रहते हैं फिर पीछे वृद्धि होती है। फिर वहाँ जाकर अपना राज्य स्थापन किया। धीरे-धीरे हप करते गये। अपना राज्य स्थापन कर दिया। अभी तो सबको छोड़ना पड़ता है। एक भारत ही है, जिसने किसी का भी राज्य छीना नहीं है क्योंकि भारत असुल में अहिंसक है ना। भारत ही सारी दुनिया का मालिक था और सब पीछे आये हैं जो टुकड़े-टुकड़े लेते गये हैं। तुमने कोई को हप नहीं किया है, अंग्रेजों ने हप कर लिया है। तुम भारतवासियों को तो बाप विश्व का मालिक बनाते हैं। तुम कहाँ गये थोड़ेही हो। तुम बच्चों की बुद्धि में यह सारी बातें हैं, बूढ़ी मातायें तो इतना सब समझ न सकें। बाप कहते हैं अच्छा है जो तुम कुछ भी पढ़ी नहीं हो। पढ़ा हुआ सब बुद्धि से निकालना पड़ता है, एक बात सिर्फ धारण करनी है - मीठे बच्चे बाप को याद करो। तुम कहते भी थे ना बाबा आप आयेंगे तो हम वारी जायेंगे, कुर्बान जायेंगे। तुम्हें फिर हमारे पर कुर्बान जाना है। लेन-देन होती है ना। शादी के टाइम स्त्री- पुरूष एक दो के हाथ में नमक देते हैं। बाप को भी कहते हैं, हम पुराना सब कुछ आपको देते हैं। मरना तो है, यह सब खत्म होना है। आप हमको फिर नई दुनिया में देना। बाप आते ही हैं सबको ले जाने। काल है ना। सिन्ध में कहते थे - यह कौन सा काल है जो सबको भगाकर ले जाते हैं, तुम बच्चे तो खुश होते हो। बाप आते ही हैं ले जाने। हम तो खुशी से अपने घर जायेंगे। सहन भी करना पड़ता है। अच्छे-अच्छे बड़े-बड़े घर की मातायें मारें खाती हैं। तुम सच्ची कमाई करते हो। मनुष्य थोड़ेही जानते हैं, वह हैं ही कलियुगी शूद्र सम्प्रदाय। तुम हो संगमयुगी, पुरूषोत्तम बन रहे हो। जानते हो पहले नम्बर में पुरूषोत्तम यह लक्ष्मी-नारायण हैं ना। फिर डिग्री कम होती जायेगी। ऊपर से नीचे आते रहेंगे। फिर आहिस्ते-आहिस्ते गिरते रहेंगे। इस समय सब गिर चुके हैं। झाड़ पुराना हो चुका है, तना सड़ गया है। अब फिर स्थापना होती है। फाउन्डेशन लगता है ना। कलम कितना छोटा होता है फिर उनसे कितना बड़ा झाड़ बढ़ जाता है। यह भी झाड़ है, सतयुग में बहुत छोटा झाड़ होता है। अब कितना बड़ा झाड़ है। वैराइटी फूल कितने हैं, मनुष्य सृष्टि के। एक ही झाड़ में कितनी वैराइटी है। अनेक वैराइटी धर्मों का झाड़ है मनुष्यों का। एक सूरत न मिले दूसरे से। बना-बनाया ड्रामा है ना। एक जैसा पार्ट कोई का हो नहीं सकता। इनको कहा जाता है कुदरती बना-बनाया बेहद का ड्रामा, इनमें भी बनावट बहुत है। जो चीज़ रीयल होती है वह खत्म भी होती है। फिर 5 हज़ार वर्ष के बाद रीयल्टी में आयेंगे। चित्र आदि भी कोई रीयल बने हुए थोड़ेही हैं। ब्रह्मा की भी शक्ल फिर 5 हज़ार वर्ष बाद तुम देखेंगे। इस ड्रामा के राज़ को समझने में बुद्धि बड़ी विशाल चाहिए। और कुछ न समझो सिर्फ एक बात बुद्धि में रखो – एक शिवबाबा दूसरा न कोई। यह आत्मा ने कहा - बाबा, हम आपको ही याद करेंगे। यह तो सहज है ना। हाथों से कर्म करते रहो और बुद्धि से बाप को याद करते रहो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) सहनशीलता का गुण धारण कर माया के विघ्नों में पास होना है। अनेक आपदायें आयेंगी, अत्याचार होंगे-ऐसे समय पर सहन करते बाप की याद में रहना है, सच्ची कमाई करनी है।
2) विशाल बुद्धि बन इस बने बनाये ड्रामा को अच्छी रीति समझना है, यह कुदरती ड्रामा बना हुआ है इसलिए प्रश्न उठ नहीं सकता। बाप जो अच्छी मत देते हैं, उस पर चलते रहना है।
वरदान:
विशेषता रूपी संजीवनी बूटी द्वारा मूर्छित को सुरजीत करने वाले विशेष आत्मा भव!   
हर आत्मा को श्रेष्ठ स्मृति की, विशेषताओं की स्मृति रूपी संजीवनी बूटी खिलाओ तो वह मूर्छित से सुरजीत हो जायेगी। विशेषताओं के स्वरूप का दर्पण उसके सामने रखो। दूसरों को स्मृति दिलाने से आप विशेष आत्मा बन ही जायेंगे। अगर आप किसी को कमजोरी सुनायेंगे तो वह छिपायेंगे, टाल देंगे आप विशेषता सुनाओ तो स्वयं ही अपनी कमजोरी स्पष्ट अनुभव करेंगे। इसी संजीवनी बूटी से मूर्छित को सुरजीत कर उड़ते चलो और उड़ाते चलो।
स्लोगन:
नाम-मान-शान व साधनों का संकल्प में भी त्याग ही महान त्याग है।   

Sunday, August 30, 2015

Murli 31 August 2015

Sweet children, your aim and objective is to become the masters of the wonderful, colourful world (of heaven). Therefore, remain constantly cheerful in that happiness and don’t wilt.

Question:

What enthusiasm will the fortunate children constantly have?

Answer:

The unlimited Father is teaching us in order to make us into princes and princesses of the new world. You can explain to everyone with the same enthusiasm that heaven is merged in this war. It will be after this war that the doors of heaven open. Remain in this happiness and also explain to others with great happiness.

Song:

Baba, the world is very colourful.

Essence for Dharna:

1. Value the imperishable jewels of knowledge that you attain from the Ocean of the jewels of knowledge. Churn the ocean of knowledge and imbibe these jewels yourself. Always let jewels emerge from your lips.

2. Stay on the pilgrimage of remembrance and make your words powerful. It is only through remembrance that the soul will become pure. Therefore, imbibe the wisdom to have remembrance.

Blessing:

May you be an image of support and an image of upliftment who makes all souls powerful by being aware of your ancestor form.

In this world tree, you Brahmins, who are to become deities, are the main trunk and the ancestors of all souls. The basis of every action, the basis of the codes of conduct of the clan, the basis of the customs and systems, are you ancestor souls who are the images of support and upliftment for all souls. It is through you, the trunk, that all souls attain the power of elevated thoughts and all powers. Everyone is following you and so, with every thought and every action consider yourself to have such a huge responsibility because the time and stage of the world depend on you ancestor souls.

Slogan:

Those who spread the rays of all powers everywhere are master suns of knowledge.


Om Shanti
_____________________________
31/08/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, your aim and objective is to become the masters of the wonderful, colourful world (of heaven). Therefore, remain constantly cheerful in that happiness and don’t wilt.   
Question:
What enthusiasm will the fortunate children constantly have?
Answer:
The unlimited Father is teaching us in order to make us into princes and princesses of the new world. You can explain to everyone with the same enthusiasm that heaven is merged in this war. It will be after this war that the doors of heaven open. Remain in this happiness and also explain to others with great happiness.
Song:
Baba, the world is very colourful.
Om Shanti
Who said to Baba that this is a colourful world? No one else can understand the meaning of this. The Father has now explained that this play is very colourful. In films, etc. there are very colourful scenes and scenery. Now, no one knows this unlimited world. Among you too, the knowledge that you have of the beginning, the middle and the end of the whole world is numberwise according to your efforts. You understand how colourful heaven is, how beautiful it is. No one else knows this. It is not in anyone’s intellect how colourful and wonderful that world is. There is praise of the wonders of the world. Only you know this. You are the ones who make effort, according to your own fortune, for that wonder of the world. That is your aim and objective. That is the wonder of the world; it is a very colourful world, where there are palaces studded with diamonds and jewels. You go to wonderful Paradise in just a second. You play and dance etc. It is definitely a wonderful world. Here, it is the kingdom of Maya. This too is so wonderful! Human beings do all sorts of things. No one in the world knows that we are performing a drama. If they understood that this is a drama, they would also have the knowledge of the beginning, the middle and the end of the drama. You children understand that the Father is so simple. Maya makes you forget everything completely. She grabs hold of you by the nose and makes you forget everything. One moment, you are in remembrance and very cheerful: “Oho! We are becoming the masters of heaven, the wonder of the world”. Then, the next moment, you forget this and wilt. Some wilt so much! Even the bheels (poor ones) don’t wilt as much. It is as though they don’t even understand that they are going to heaven, that the unlimited Father is teaching us. It is as though they become complete corpses. That happiness and intoxication doesn’t remain. The establishment of the wonder of the world is now taking place. Shri Krishna is the prince of the wonder of the world. You also understand this. Those who are clever in knowledge would explain about the birthday of Krishna (Janamashtmi). Shri Krishna was the prince of the wonder of the world. Where did that golden age go to? How did you come down the ladder from the golden age? How did the golden age become the iron age? How did the stage of descent come? This only enters the intellects of you children. You should explain with happiness that Shri Krishna is coming. The kingdom of Krishna is being established once again. The people of Bharat should be happy to hear this. However, only those who are fortunate will have that enthusiasm. People of the world even throw away these jewels thinking that they are stones. These jewels are the imperishable jewels of knowledge. The Father is the Ocean of these jewels of knowledge. These jewels of knowledge are very valuable. You have to imbibe these jewels of knowledge. You are now listening directly to the Ocean of Knowledge. Therefore, there is no need to listen to anything else. These jewels do not exist in the golden age. There are no LLBs (barristers) there, nor does anyone there have to become a surgeon, etc. This knowledge doesn’t exist there. There, you experience the reward. So, you children have to explain about the birthday of Krishna very well. So many murlis have been spoken about this. You children have to churn the ocean of knowledge; only then will points emerge. If you want to give a lecture, then wake up early in the morning and write it down, and then read it through. The points you forgot should be added. You will be able to imbibe them well. However, not everyone can speak everything that they wrote down; one point or another will be forgotten. Therefore, you have to explain who Krishna was. He was the master of the wonder of the world. Bharat was Paradise. Shri Krishna was the master of that Paradise. We are giving you the message that Shri Krishna is coming. God Himself taught Raja Yoga and He is teaching us this even now. He is enabling us to make effort to become pure in order to make us into double-crowned deities. You children should have all of this in your awareness. Those who have practised this will be able to explain very well. The writing on Krishna’s picture is first-class. After this war, the gates to heaven will open. Heaven is merged in this war. You children should remain in great happiness. On the day of Janamashtmi, people wear new clothes etc. However, you now know that we will leave those old bodies and take new, pure bodies. It is said: A completely pure body, that is, a golden body. Souls there are pure and the bodies are also pure. At present they are not pure. They are becoming that, numberwise. They will only become pure through the pilgrimage of remembrance. Baba knows that there are many who don’t even have the sense to remember Baba. It is when you make effort to have remembrance that your words become powerful. Where is that strength now? There isn’t yoga. Your faces have to show that you are becoming Lakshmi or Narayan. You have to study. It is very easy to explain about the birthday of Shri Krishna. It is of Krishna that it is said “The ugly and the beautiful one”. They have made Krishna, Narayan and also Rama dark blue. The Father Himself says: Where did My children, who first sat on the pyre of knowledge and became the masters of heaven, go to? They sat on the pyre of lust and continued to fall, numberwise. The world changes from satopradhan, to sato, rajo and tamo. Similarly, the stage of human beings also becomes the same. By sitting on the pyre of lust, they have all become ugly. I have now come to make everyone beautiful. Souls have to be made beautiful. Baba understands from the behaviour of each one of you what your thoughts, words and deeds are. It is understood from how you perform actions. The activity of you children should be really first-class. Jewels should constantly emerge from your lips. It is very good to explain on the birthday of Krishna. Have the topic of “The ugly and the beautiful one”. Why do they make Krishna dark blue, and Narayan and Radhe dark blue too? The Shivalingam is also of dark stone. However, He is not dark. Look what Shiva is and how He has been portrayed! Only you children understand these things. You can explain why they have made Him dark. Baba will now see what service you children do. The Father says: This knowledge is for those of all religions. You also have to tell them that the Father says: Remember Me and your sins of innumerable births will be cut away. You have to become pure. You can tie a rakhi on anyone. You can tie them on the Europeans as well. Whoever they are, you have to tell them: These are God’s versions. He would definitely say this through someone’s body. He says: Remember Me alone. Forget all your bodily religions and consider yourself to be a soul. Baba explains so much, yet they don’t understand. Therefore, the Father understands that it is not in their fortune. They have to understand that Shiv Baba is teaching them. He cannot teach without a chariot. It is enough just to give a signal. Some children have a good practice of explaining. You understand that Baba and Mama will claim an elevated status. Mama too used to do service. These aspects also have to be explained. There are also many forms of Maya. Many say that Mama enters them or that Shiv Baba enters them. However, new points will only be given through the chariot that is fixed. Or, would they be given through anyone else? That is not possible. In fact, there are many daughters who share their own points. In the magazine, there are so many articles. It isn’t that Mama or Baba enters them and dictates that. No, the Father comes here directly; this is why you come here to listen to Him. If Mama or Baba entered anyone, you would sit there and study with them. No; everyone feels a pull to come here. Those who live far away are attracted more. Therefore, you children can do a great deal of service on Janamashtmi. When did Krishna take birth? No one knows this. Your aprons are now being filled. Therefore, you should remain happy. However, Baba sees that some don’t have any happiness at all. It is as though they take a vow not to follow shrimat. Serviceable children will think about service and only service. They think that if they don’t do Baba’s service, that if they don’t show this path to others, it is as though they are blind. These aspects have to be understood. There is a picture of Krishna on your badge. You can use it to explain. Ask anyone why he has been shown as dark blue. No one will be able to tell you. It is written in the scriptures that Rama’s wife was abducted. However, such things don’t happen there. Only you people of Bharat were residents of the land of angels. Now you have become residents of the land of death. You now sit on the pyre of knowledge and imbibe divine virtues and become residents of the land of angels. You children have to do service; give everyone this message. A great deal of understanding is needed for this. There has to be a great deal of intoxication that God is teaching us. We are living with God. We are God’s children and we also study with Him. When you live in a boarding school, you are not coloured by the things of the world outside. This too is a school. At least Christians have manners, but people now have no manners and are impure and tamopradhan. They go in front of the deities and bow their heads. Their praise is so great. In the golden age they all had divine characters. They now have devilish characters. Give lectures in this way and everyone will become very happy listening to you. It is said of Krishna that He is small, yet he talks big. You now listen to great versions in order to become so great. You can tie a rakhi on anyone. Give the Father’s message to everyone. It is through this war that the gates of heaven will open. You now have to become pure from impure. You have to remember the Father. Do not remember bodily beings. Only the one Father grants salvation to everyone. This is the iron-aged world. The intellects of you children imbibe this knowledge, numberwise, according to the effort you make. In schools they make a great deal of effort to claim a scholarship. Here, too, there is a very big scholarship to be gained. There is a great deal of service to be done. The mothers can do a great deal of service. Use all the pictures. Use the dark blue pictures of Krishna, Narayan, Ramachandra and Shiva, and sit and explain them. Why have they made the deities dark blue? Explain the ugly and the beautiful one. If you go to the Shrinath Temple you can see completely dark pictures. Therefore, collect such pictures. You can also show your own (Baba’s) pictures. Explain the meaning of the ugly and the beautiful one and tell them: You should now have a rakhi tied. Step down from the pyre of lust. By sitting on the pyre of knowledge, you will become beautiful. You can also do service here. You can give very good lectures about why the deities have been portrayed as dark blue. Why has the Shivalingam been shown dark? We will explain why it is said, “The beautiful and the ugly one”. No one will become upset by this. Service is very easy. The Father continues to explain: Children, imbibe virtues well. Glorify the name of your clan. You know that you now belong to the highest-on-high Brahmin clan. Then you can explain to anyone the meaning of tying a rakhi. You can also explain to prostitutes and tie rakhis on them too. Keep the pictures with you. The Father says: Remember Me alone. By obeying this order you will become beautiful. There are many methods. No one will become upset. No one but One can grant salvation to anyone. Even if it is not the occasion of Rakhi, you can still tie a rakhi on someone at any time. The meaning of that has to be understood. A rakhi can be tied whenever you want. This is your business. Tell them to make a promise to the Father. Tell them: The Father says: Remember Me alone and you will become pure. You can even go to the mosques and explain to them that you have come to tie a rakhi on them and that they also have a right to understand this matter. The Father says: Remember Me and your sins will be cut away. Become pure and you will become the masters of the pure world. This world is now impure. There definitely was the golden age. It is now the iron age. Do you not want to go to Khuda in the golden age? Tell them in this way and they will quickly come and fall at your feet. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Value the imperishable jewels of knowledge that you attain from the Ocean of the jewels of knowledge. Churn the ocean of knowledge and imbibe these jewels yourself. Always let jewels emerge from your lips.
2. Stay on the pilgrimage of remembrance and make your words powerful. It is only through remembrance that the soul will become pure. Therefore, imbibe the wisdom to have remembrance.
Blessing:
May you be an image of support and an image of upliftment who makes all souls powerful by being aware of your ancestor form.   
In this world tree, you Brahmins, who are to become deities, are the main trunk and the ancestors of all souls. The basis of every action, the basis of the codes of conduct of the clan, the basis of the customs and systems, are you ancestor souls who are the images of support and upliftment for all souls. It is through you, the trunk, that all souls attain the power of elevated thoughts and all powers. Everyone is following you and so, with every thought and every action consider yourself to have such a huge responsibility because the time and stage of the world depend on you ancestor souls.
Slogan:
Those who spread the rays of all powers everywhere are master suns of knowledge.   
 

मुरली 31 अगस्त 2015

“मीठे बच्चे - तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट है वण्डरफुल रंग-बिरंगी दुनिया (स्वर्ग) का मालिक बनना, तो सदा इसी खुशी में हर्षित रहो, मुरझाया हुआ नहीं”

प्रश्न:

तकदीरवान बच्चों को कौन-सा उमंग सदा बना रहेगा?

उत्तर:

हमें बेहद का बाप नई दुनिया का प्रिंस-प्रिन्सेज़ बनाने के लिए पढ़ा रहे हैं। तुम इसी उमंग से सबको समझा सकते हो कि इस लड़ाई में स्वर्ग समाया हुआ है। इस लड़ाई के बाद स्वर्ग के द्वार खुलने हैं - इसी खुशी में रहना है और खुशी-खुशी से दूसरों को भी समझाना है।

गीतः

दुनिया रंग रंगीली बाबा........

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) ज्ञान रत्नों के सागर से जो अविनाशी ज्ञान रत्न प्राप्त हो रहे हैं, उनकी वैल्यु रखनी है। विचार सागर मंथन कर स्वयं में ज्ञान रत्न धारण करने हैं। मुख से सदैव रत्न निकालने हैं।

2) याद की यात्रा में रहकर वाणी को जौहरदार बनाना है। याद से ही आत्मा कंचन बनेंगी इसलिए याद करने का अक्ल सीखना है।

वरदान:

अपने पूर्वज स्वरूप की स्मृति द्वारा सर्व आत्माओं को शक्तिशाली बनाने वाले आधार, उद्धारमूर्त भव!

इस सृष्टि वृक्ष के मूल तना, सर्व के पूर्वज आप ब्राह्मण सो देवता हो। हर कर्म का आधार, कुल मर्यादाओं का आधार, रीति रस्म का आधार आप पूर्वज सर्व आत्माओं के आधार और उद्धारमूर्त हो। आप तना द्वारा ही सर्व आत्माओं को श्रेष्ठ संकल्पों की शक्ति वा सर्वशक्तियों की प्राप्ति होती है। आपको सब फालो कर रहे हैं इसलिए इतनी बड़ी जिम्मेवारी समझते हुए हर संकल्प और कर्म करो क्योंकि आप पूर्वज आत्माओं के आधार पर ही सृष्टि का समय और स्थिति का आधार है।

स्लोगन:

जो सर्व शक्तियों रूपी किरणें चारों ओर फैलाते हैं वही मास्टर ज्ञान-सूर्य हैं।


ओम् शांति ।

_____________________________
31-08-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट है वण्डरफुल रंग-बिरंगी दुनिया (स्वर्ग) का मालिक बनना, तो सदा इसी खुशी में हर्षित रहो, मुरझाया हुआ नहीं”  
प्रश्न:
तकदीरवान बच्चों को कौन-सा उमंग सदा बना रहेगा?
उत्तर:
हमें बेहद का बाप नई दुनिया का प्रिंस-प्रिन्सेज़ बनाने के लिए पढ़ा रहे हैं। तुम इसी उमंग से सबको समझा सकते हो कि इस लड़ाई में स्वर्ग समाया हुआ है। इस लड़ाई के बाद स्वर्ग के द्वार खुलने हैं - इसी खुशी में रहना है और खुशी-खुशी से दूसरों को भी समझाना है।
गीतः
दुनिया रंग रंगीली बाबा........
ओम् शान्ति।
यह किन्होंने कहा बाबा को, कि दुनिया रंग-बिरंगी है? अब इनका अर्थ दूसरा कोई समझ न सके। बाप ने समझाया है यह खेल रंग-रंगीला है। कोई भी बाइसकोप आदि होता है तो बहुत रंग-बिरंगी सीन-सीनरियाँ आदि होती हैं ना। अब इस बेहद की दुनिया को कोई जानते ही नहीं। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार सारे विश्व के आदि-मध्य- अन्त का ज्ञान है। तुम समझते हो स्वर्ग कितना रंग-बिरंगा है, खूबसूरत है। जिसको कोई भी जानते नहीं। कोई की बुद्धि में नहीं है, वह है वण्डरफुल रंग-बिरंगी दुनिया। गाया जाता है वण्डर ऑफ दी वर्ल्ड - इसको सिर्फ तुम जानते हो। तुम ही वण्डर ऑफ वर्ल्ड के लिए अपनी-अपनी तकदीर अनुसार पुरूषार्थ कर रहे हो। एम आब्जेक्ट तो है। वह है वण्डर ऑफ वर्ल्ड, बड़ी रंग-बिरंगी दुनिया है, जहाँ हीरे-जवाहरातों के महल होते हैं। तुम एक सेकण्ड में वण्डरफुल बैकुण्ठ में चले जाते हो। खेलते हो, रास-विलास आदि करते हो। बरोबर वण्डरफुल दुनिया है ना। यहाँ है माया का राज्य। यह भी कितना वण्डरफुल है। मनुष्य क्या-क्या करते रहते हैं। दुनिया में यह कोई भी नहीं समझते कि हम नाटक में खेल कर रहे हैं। नाटक अगर समझें तो नाटक के आदि-मध्य-अन्त का भी ज्ञान हो। तुम बच्चे जानते हो बाप भी कितना साधारण है। माया बिल्कुल ही भुला देती है। नाक से पकड़ा, यह भुलाया। अभी-अभी याद में हैं, बहुत हर्षित रहते हैं। ओहो! हम वण्डर ऑफ वर्ल्ड स्वर्ग के मालिक बन रहे हैं, फिर भूल जाते हैं तो मुरझा पड़ते हैं। ऐसा मुरझा जाते हैं जो भील भी ऐसा मुरझाया हुआ न हो। ज़रा भी जैसेकि समझते ही नहीं कि हम स्वर्ग में जाने वाले हैं। हमको बेहद का बाप पढ़ा रहे हैं। जैसे एकदम मुर्दे बन जाते हैं। वह खुशी, नशा नहीं रहता। अभी वण्डर ऑफ वर्ल्ड की स्थापना हो रही है। वण्डर ऑफ वर्ल्ड का श्रीकृष्ण है प्रिन्स। यह भी तुम जानते हो। कृष्ण जन्माष्टमी पर भी जो ज्ञान में होशियार हैं वह समझाते होंगे। श्रीकृष्ण वण्डर ऑफ वर्ल्ड का प्रिन्स था। वह सतयुग फिर कहाँ गया! सतयुग से लेकर सीढ़ी कैसे उतरे। सतयुग से कलियुग कैसे हुआ? उतरती कला कैसे हुई? तुम बच्चों की बुद्धि में ही आयेगा। उस खुशी से समझाना चाहिए। श्रीकृष्ण आ रहे हैं। कृष्ण का राज्य फिर स्थापन हो रहा है। यह सुनकर भारतवासियों को भी खुशी होनी चाहिए। परन्तु यह उमंग उन्हों को आयेगा जो तकदीरवान होंगे। दुनिया के मनुष्य तो रत्नों को भी पत्थर समझकर फेंक देंगे। यह अविनाशी ज्ञान रत्न हैं ना। इन ज्ञान रत्नों का सागर है बाप। इन रत्नों की बहुत वैल्यु है। यह ज्ञान रत्न धारण करने हैं। अभी तुम ज्ञान सागर से डायरेक्ट सुनते हो तो फिर और कुछ भी सुनने की दरकार ही नहीं। सतयुग में यह होते नहीं। न वहाँ एल.एल.बी., न सर्जन आदि बनना होता है। वहाँ यह नॉलेज ही नहीं। वहाँ तो तुम प्रालब्ध भोगते हो। तो जन्माष्टमी पर बच्चों को अच्छी रीति समझाना है। अनेक बार मुरली भी चली हुई है। बच्चों को विचार सागर मंथन करना है, तब ही प्वाइंट्स निकलेंगी। भाषण करना है तो सवेरे उठकर लिखना चाहिए, फिर पढ़ना चाहिए। भूली हुई प्वाइंट्स फिर एड करनी चाहिए। इससे धारणा अच्छी होगी फिर भी लिखत मुआफ़िक सब नहीं बोल सकेंगे। कुछ न कुछ प्वाइंट्स भूल जायेंगे। तो समझाना होता है, कृष्ण कौन है, यह तो वण्डर ऑफ वर्ल्ड का मालिक था। भारत ही पैराडाइज था। उस पैराडाइज का मालिक श्रीकृष्ण था। हम आपको सन्देश सुनाते हैं कि श्रीकृष्ण आ रहे हैं। राजयोग भगवान ने ही सिखाया है। अब भी सिखला रहे हैं। पवित्रता के लिए भी पुरूषार्थ करा रहे हैं, डबल सिरताज देवता बनाने के लिए। यह सब बच्चों को स्मृति में आना चाहिए। जिनकी प्रैक्टिस होगी वह अच्छी रीति समझा सकेंगे। कृष्ण के चित्र में भी लिखत बड़ी फर्स्टक्लास है। इस लड़ाई के बाद स्वर्ग के द्वार खुलने हैं। इस लड़ाई में जैसे स्वर्ग समाया हुआ है। बच्चों को भी बहुत खुशी में रहना चाहिए, जन्माष्टमी पर मनुष्य कपड़े आदि नये पहनते हैं। लेकिन तुम जानते हो कि अभी हम यह पुराना शरीर छोड़ नया कंचन शरीर लेंगे। कंचन काया कहते हैं ना अर्थात् सोने की काया। आत्मा भी पवित्र, शरीर भी पवित्र। अभी कंचन नहीं है। नम्बरवार बन रही है। कंचन बनेंगी ही याद की यात्रा से। बाबा जानते हैं बहुत हैं जिनको याद करने का भी अक्ल नहीं है। याद की जब मेहनत करेंगे तब ही वाणी जौहरदार होगी। अभी वह ताकत कहाँ है। योग है नहीं। लक्ष्मी-नारायण बनने की शक्ल भी चाहिए ना। पढ़ाई चाहिए। कृष्ण जन्माष्टमी पर समझाना बहुत सहज है। कृष्ण के लिए कहते हैं श्याम-सुन्दर। कृष्ण को भी काला, नारायण को भी काला, राम को भी काला बनाया है। बाप खुद कहते हैं, मेरे बच्चे जो पहले ज्ञान चिता पर बैठ स्वर्ग के मालिक बनें फिर कहाँ चले गये। काम चिता पर बैठ नम्बरवार गिरते चले आये। सृष्टि भी सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो बनती है। तो मनुष्यों की अवस्था भी ऐसी होती है। काम चिता पर बैठ सब श्याम अर्थात् काले बन गये हैं। अब मैं आया हूँ सुन्दर बनाने। आत्मा को सुन्दर बनाया जाता है। बाबा हर एक की चलन से समझ जाते हैं - मन्सा, वाचा, कर्मणा कैसे चलते हैं। कर्म कैसे करते हैं, उससे पता पड़ जाता है। बच्चों की चलन तो बड़ी फर्स्टक्लास होनी चाहिए। मुख से सदैव रत्न निकलने चाहिए। कृष्ण जयन्ती पर समझाने का बहुत अच्छा है। श्याम और सुन्दर की टॉपिक हो। कृष्ण को भी काला तो नारायण को फिर राधे को भी काला क्यों बनाते हैं? शिवलिंग भी काला पत्थर रखते हैं। अब वह कोई काला थोड़ेही है। शिव है क्या, और चीज़ क्या बनाते हैं। इन बातों को तुम बच्चे जानते हो। काला क्यों बनाते हैं - तुम इस पर समझा सकेंगे। अब देखेंगे बच्चे क्या सर्विस करते हैं। बाप तो कहते हैं - यह ज्ञान सब धर्म वालों के लिए है। उन्हों को भी कहना है बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जायेंगे। पवित्र बनना है। किसको भी तुम राखी बांध सकते हो। यूरोपियन को भी बांध सकते हो। कोई भी हो उनको कहना है-भगवानुवाच, जरूर कोई तन से कहेंगे ना। कहते हैं मामेकम् याद करो। देह के सब धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझो। बाबा कितना समझाते हैं, फिर भी नहीं समझते हैं तो बाप समझ जाते हैं इनकी तकदीर में नहीं है। यह तो समझते होंगे शिवबाबा पढ़ाते हैं। रथ बिगर तो पढ़ा न सकें, इशारा देना ही बस है। कोई-कोई बच्चों को समझाने की प्रैक्टिस अच्छी है। बाबा-मम्मा के लिए तो समझते हो यह ऊंच पद पाने वाले हैं। मम्मा भी सर्विस करती थी ना। इन बातों को भी समझाना होता है। माया के भी अनेक प्रकार के रूप होते हैं। बहुत कहते हैं हमारे में मम्मा आती है, शिवबाबा आते हैं परन्तु नई-नई प्वाइंट्स तो मुकरर तन द्वारा ही सुनायेंगे कि दूसरे किसी द्वारा सुनायेंगे। यह हो नहीं सकता। ऐसे तो बच्चियाँ भी बहुत प्रकार की प्वाइंट्स अपनी भी सुनाती हैं। मैगजीन में कितनी बातें आती हैं। ऐसे नहीं कि मम्मा-बाबा उनमें आते, वह लिखवाते हैं। नहीं, बाप तो यहाँ डायरेक्ट आते हैं, तब तो यहाँ सुनने के लिए आते हो। अगर मम्मा-बाबा कोई में आते हैं तो फिर वहाँ ही बैठ उनसे पढ़ें। नहीं, यहाँ आने की सबको कशिश होती है। दूर रहने वालों को और ही जास्ती कशिश होती है। तो बच्चे जन्माष्टमी पर भी बहुत सर्विस कर सकते हैं। कृष्ण का जन्म कब हुआ, यह भी किसको पता नहीं है। तुम्हारी अब झोली भर रही है तो खुशी रहनी चाहिए। परन्तु बाबा देखते हैं खुशी कोई-कोई में बिल्कुल है नहीं। श्रीमत पर न चलने का तो जैसे कसम उठा लेते हैं। सर्विसएबुल बच्चों को तो जैसे सर्विस ही सर्विस सूझती रहेगी। समझते हैं बाबा की सर्विस नहीं की, किसको रास्ता नहीं बताया तो गोया हम अन्धे रहे। यह समझने की बात है ना। बैज में भी कृष्ण का चित्र है, इस पर भी तुम समझा सकते हो। कोई से भी पूछो इन्हों को काला क्यों दिखाया है, बता नहीं सकेंगे। शास्त्रों में लिख दिया है राम की स्त्री चुराई गई। परन्तु ऐसी कोई बात वहाँ होती नहीं।

तुम भारतवासी ही परिस्तानी थे, अब कब्रिस्तानी बने हैं फिर ज्ञान चिता पर बैठ दैवी गुण धारण कर परिस्तानी बनते हैं। सर्विस तो बच्चों को करनी है। सबको पैगाम देना है। इसमें बड़ी समझ चाहिए। इतना नशा चाहिए-हमको भगवान पढ़ाते हैं। भगवान के साथ रहते हैं। भगवान के बच्चे भी हैं तो फिर हम पढ़ते भी हैं। बोर्डिंग में रहते हैं तो फिर बाहर का संग नहीं लगेगा। यहाँ भी स्कूल है ना। क्रिश्चियन में फिर भी मैनर्स होते हैं अभी तो बिल्कुल नो मैनर्स, तमोप्रधान पतित हैं। देवताओं के आगे जाकर माथा टेकते हैं। कितनी उनकी महिमा है। सतयुग में सभी के दैवी कैरेक्टर थे, अभी आसुरी कैरेक्टर हैं। ऐसे-ऐसे तुम भाषण करो तो सुनकर बहुत खुश हो जाएं। मुख छोटा बात बड़ी - यह कृष्ण के लिए कहते हैं। अभी तुम कितनी बड़ी बातें सुनते हो, इतना बड़ा बनने के लिए। तुम राखी कोई को भी बांध सकते हो। यह बाप का पैगाम तो सबको देना है। यह लड़ाई स्वर्ग का द्वार खोलती है। अब पतित से पावन बनना है। बाप को याद करना है। देहधारी को नहीं याद करना है। एक ही बाप सर्व की सद्गति करते हैं। यह है ही आइरन एजेड वर्ल्ड। तुम बच्चों की बुद्धि में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार धारणा होती है, स्कूल में भी स्कालरशिप लेने के लिए बहुत मेहनत करते हैं। यहाँ भी कितनी बड़ी स्कालरशिप है। सर्विस बहुत है। मातायें भी बहुत सर्विस कर सकती हैं, चित्र भी सब उठाओ। कृष्ण का काला, नारायण का काला, रामचन्द्र का भी काला चित्र उठाओ, शिव का भी काला.... फिर बैठ समझाओ। देवताओं को काला क्यों किया है? श्याम-सुन्दर। श्रीनाथ द्वारे जाओ तो बिल्कुल काला चित्र है। तो ऐसे-ऐसे चित्र इकट्ठे करने चाहिए। अपना भी दिखाना चाहिए। श्याम-सुन्दर का अर्थ समझाकर कहो कि तुम भी अब राखी बांध, काम चिता से उतर ज्ञान चिता पर बैठेंगे तो गोरा बन जायेंगे। यहाँ भी तुम सर्विस कर सकते हो। भाषण बहुत अच्छी रीति कर सकते हो कि इन्हों को काला क्यों किया है! शिवलिंग को भी काला क्यों किया है! सुन्दर और श्याम क्यों कहते हैं, हम समझायें। इसमें कोई नाराज़ नहीं होगा। सर्विस तो बहुत सहज है। बाप तो समझाते रहते हैं-बच्चे, अच्छे गुण धारण करो, कुल का नाम बाला करो। तुम जानते हो अभी हम ऊंच ते ऊंच ब्राह्मण कुल के हैं। फिर राखी बंधन का अर्थ तुम कोई को भी समझा सकते हो। वेश्याओं को भी समझाकर राखी बांध सकते हो। चित्र भी साथ में हों। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो-यह फरमान मानने से तुम गोरे बन जायेंगे। बहुत युक्तियाँ हैं। कोई भी नाराज़ नहीं होगा। कोई भी मनुष्य मात्र किसकी सद्गति कर नहीं सकते सिवाए एक के। भल राखी बंधन का दिन न हो, कभी भी राखी बांध सकते हो। यह तो अर्थ समझना है। राखी जब चाहे तब बांधी जा सकती है। तुम्हारा धन्धा ही यह है। बोलो, बाप के साथ प्रतिज्ञा करो। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो पवित्र बन जायेंगे। मस्जिद में भी जाकर तुम उनको समझा सकते हो। हम राखी बांधने के लिए आये हैं। यह बात तुमको भी समझने का हक है। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो पाप कट जायेंगे, पावन बन पावन दुनिया का मालिक बन जायेंगे। अभी तो पतित दुनिया है ना। गोल्डन एज थी जरूर, अब आइरन एज है। तुमको गोल्डन एज में खुदा के पास नहीं जाना है? ऐसे सुनाओ तो झट आकर चरणों पर पड़ेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) ज्ञान रत्नों के सागर से जो अविनाशी ज्ञान रत्न प्राप्त हो रहे हैं, उनकी वैल्यु रखनी है। विचार सागर मंथन कर स्वयं में ज्ञान रत्न धारण करने हैं। मुख से सदैव रत्न निकालने हैं।
2) याद की यात्रा में रहकर वाणी को जौहरदार बनाना है। याद से ही आत्मा कंचन बनेंगी इसलिए याद करने का अक्ल सीखना है।
वरदान:
अपने पूर्वज स्वरूप की स्मृति द्वारा सर्व आत्माओं को शक्तिशाली बनाने वाले आधार, उद्धारमूर्त भव!  
इस सृष्टि वृक्ष के मूल तना, सर्व के पूर्वज आप ब्राह्मण सो देवता हो। हर कर्म का आधार, कुल मर्यादाओं का आधार, रीति रस्म का आधार आप पूर्वज सर्व आत्माओं के आधार और उद्धारमूर्त हो। आप तना द्वारा ही सर्व आत्माओं को श्रेष्ठ संकल्पों की शक्ति वा सर्वशक्तियों की प्राप्ति होती है। आपको सब फालो कर रहे हैं इसलिए इतनी बड़ी जिम्मेवारी समझते हुए हर संकल्प और कर्म करो क्योंकि आप पूर्वज आत्माओं के आधार पर ही सृष्टि का समय और स्थिति का आधार है।
स्लोगन:
जो सर्व शक्तियों रूपी किरणें चारों ओर फैलाते हैं वही मास्टर ज्ञान-सूर्य हैं।