Friday, February 12, 2016

Murli 13 February 2016

13/02/16 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, at the confluence age, you receive new and unique knowledge. You know that all of us souls are actors. No one's part can be the same as another's.   
Question:
What method have you spiritual warriors been given in order to conquer Maya?
Answer:
O spiritual warriors, constantly continue to follow shrimat! Become soul conscious and remember the Father! Wake up every morning and practise staying in remembrance and you will gain victory over Maya. You will be saved from any wrong type of thinking. The sweet method of remembrance will make you into conquerors of Maya.
Song:
What can storms do to those whose companion is God?   
Om Shanti
This song was composed by human beings. No one understands the meaning of it at all. Devotees sing songs of praise and devotional songs, but they don't understand anything at all. They sing a lot of praise. You children don't have to praise anyone. Children never praise their father. A Father knows that they are his children and the children know that He is our Baba. Now, this is an unlimited aspect. Nevertheless, everyone remembers the unlimited Father; even now, they continue to remember Him. They say to God: Oh Baba! His name is Shiv Baba. Just as we are souls, so Shiv Baba is also a soul. He is the Supreme Soul and He is called the Supreme; we are His children. He is also called the Supreme Soul. Where is His residence? In the supreme abode. All souls reside there. Souls are actors. You know that all actors in a play are numberwise; each one receives a salary according to his part. All the souls that reside there are actors. However, each one has received a numberwise part. The spiritual Father sits here and explains how spirits have their imperishable parts recorded in them. No two souls can have the same part; not everyone has the same strength. You know that the best parts are of those who come into the rosary of Rudra, of Shiva, first. Very good actors in a play are praised a great deal. People go there just to see them. Here, this is an unlimited drama. The one Father is at the top of this unlimited drama. You could even say that He is the highest-on-high Actor, Creator and Director. All other actors and directors etc. are limited. They have all received their small parts. It is the soul that plays a part. However, because of body consciousness, they say that such is the part of that person. The Father says: The whole part is in the soul. You have to become soul conscious. The Father has explained that everyone in the golden age is soul conscious. They don't know the Father. Here, in the iron age, neither are they soul conscious nor do they know the Father. You are now becoming soul conscious and you also know the Father. You Brahmins are receiving unique knowledge. You know about the soul and how all souls are actors. Everyone has received his own part; no two souls can have the same part. It is a soul that has the whole part recorded in him. In fact, it is a soul that takes on a part in a play. It is a soul that takes a good part. A soul says, “I am a governor”, or, “I am So-and-so”. However, they don't become soul conscious. In the golden age, they understand that they are souls and that they have to shed their bodies and take others. No one there knows God. At this time you know everything. You Brahmins are more elevated than the shudras and the deities. Where do so many Brahmins who become this come from? Hundreds of thousands come to the exhibitions, and those who take this knowledge and understand it very well become subjects. Each king has many subjects. You are creating many subjects. Some understand this knowledge from the projectors and exhibitions and become very good. They study everything and also have yoga. They will now continue to emerge. Subjects will emerge, wealthy ones, kings and queens and the poor will all emerge. There are many princes and princesses; princes and princesses have to be created for the golden and silver ages. There won't be just eight or 108 of them. All of them are now being created. You continue to do service. This too is nothing new. Your holding functions is nothing new. You have done this many times. At the confluence age, you only do this business. What else would you do? The Father comes to purify the impure. This is called the history and geography of the world. Everything is numberwise. Everyone says of someone who gives good lectures, that so-and-so gave a very good lecture. Then, when they hear someone else, they say that the first person used to explain very well. Then, if a third one is better than those two, they say, “This one is better than both.” You have to make effort in each aspect to go ahead of others. Those who are clever instantly raise their hands to give lectures. All of you are effort-makers. As you move forward you will become mail trains (express train). Mama was a special mail train. You can't know about Baba because both of them are together. You aren't able to tell which one is speaking. You must always consider it to be Shiv Baba who is explaining. Bap and Dada both know but He is the One who knows what is within each one. Externally, He says: This one is very clever. The father is pleased to hear the praise. When someone's child studies well and claims a high status, his father understands that his son will glorify his name. One can understand when such-and-such a child is clever in this spiritual service. The main thing is to explain the Father’s message in a lecture. Baba gave you an example of someone who had five children, but when he was asked how many children he had, he replied that he had two children. The other person said to him: But you have five children! Then he replied: But, I only have two worthy children! It is the same here. There are many children. The Father says: This daughter, Dr. Nirmala, is very good. She explained to her physical father with a lot of love and made him open a centre for her. This is service of Bharat. You are making Bharat into heaven. Ravan has made this Bharat into hell. It wasn't just one Sita in jail, but all of you are Sitas who are in Ravan's jail. They have written many tall stories in the scriptures. This path of devotion is also in the drama. You know that whatever has passed from the golden age will repeat. You become worthy of worship and you become worshippers. The Father says: I have to come and change you from worshippers into those who are worthy of worship. You first become golden aged and then iron aged. In the golden age, it is the kingdom of the sun-dynasty Lakshmi and Narayan. The kingdom of Rama is the moon dynasty. At this time all of you are spiritual warriors. Those who go onto a battlefield are called warriors. You are spiritual warriors whereas others are physical warriors. Their fighting and battling is with physical power. In the beginning, they used to have hand-to-hand fighting; they would fight one another and one of them would gain victory. Now, they have created bombs etc. You are warriors and they too are warriors. You gain victory over Maya by following shrimat. You are spiritual warriors. It is the spirits that do everything through the physical senses of the bodies. The Father comes and teaches spirits: Children, when you remember Me, Maya will not eat you up. Your sins will be absolved and you won’t have wrong thoughts. By remembering the Father, there will also be that happiness. This is why the Father tells you to practise this early in the morning: Baba, You are so sweet! It is the soul that says: “Baba!” The Father has given you the recognition: I am your Father. I have come to tell you the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. This is the inverted human world tree. This is the human world of the variety of religions. This is called a variety play. The Father has explained that He is the Seed of this human tree. People remember Me. Some belong to one tree and others to another tree. They continue to emerge, numberwise. This drama is predestined. It is said that so-and-so was sent as the founder of that religion. However, no one is sent from there. All of this repeats according to the drama. Only that One establishes a religion and a kingdom together. No one in the world knows this. It is now the confluence age. The flames of destruction have to emerge. This is the sacrificial fire of the knowledge of Shiv Baba. They have given it the name Rudra. You Brahmins have been created through Prajapita Brahma. You are the highest; all the other generations emerge later. In fact, all are the children of Brahma. Brahma is called the great-great-grandfather. There is the genealogical tree. First comes highest Brahma and then the rest of the genealogical tree grows. People ask how God creates the world. The creation is there. When they become impure, they call out to Him. He comes and makes the unhappy world happy. This is why people call out: O Remover of Sorrow and Bestower of Happiness, come! They have kept the name Haridwar. Haridwar means “Gateway to God”. The Ganges flows there. They believe that by bathing in the Ganges they will be able to go through the Gateway to God, but where is the Gateway to God? They refer to Krishna in this. It is Shiv Baba who is God, the Gateway. He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You first have to go home. You children now know your Father and your home. The throne of the Father is a little higher. In a rosary, there is the flower (tassel) and the dual-bead is beneath that. Then they speak of the rosary of Rudra. The rosary of Rudra then becomes the rosary of Vishnu. Those who become the garland around the neck of Vishnu then rule in the land of Vishnu. There is no rosary of Brahmins because it repeatedly continues to break. The Father explains: Everything is numberwise. Today, you are moving along fine whereas tomorrow, there would be storms and an eclipse and you become slack. The Father says: Some belong to Me, they are amazed at the knowledge they hear, they speak about it, they even go into trance and they become threaded in the rosary. Then, they completely run away and thereby become cremators. Therefore, how could a rosary be created? The Father explains that a rosary of Brahmins cannot be created. The rosary of devotees is separate from the rosary of Rudra. In the rosary of devotees, Meera is the main one of the females and Narad of the males. This is the rosary of Rudra. Only at the confluence age does the Father come to grant liberation and liberation-in-life. You children understand that you were the masters of heaven and that it is now hell. The Father says: Kick hell away and claim the sovereignty of heaven that Ravan snatched away from you. Only the Father comes and explains all of this to you. He knows all the scriptures and pilgrimages. He is the Seed, the Ocean of Knowledge, the Ocean of Peace. Souls say this. The Father explains that Lakshmi and Narayan were the masters of the golden age. What was there before they existed? It must definitely have been the end of the iron age, when there was the confluence age which then became heaven. The Father is called the Creator of Heaven; He is the One who establishes heaven. Lakshmi and Narayan were the masters of heaven. From whom did they receive their inheritance? From the Father, the Creator of Heaven. This is the Father's inheritance. You can ask anyone how Lakshmi and Narayan claimed the kingdom they had in the golden age and no one will be able to tell you. Even this Dada says: I didn't know this. I used to worship them, but I didn't know anything. The Father has now explained: You study Raja Yoga at the confluence age. Raja Yoga is mentioned in the Gita. Raja Yoga is not mentioned anywhere other than in the Gita. The Father says: I make you into the kings of kings. God came and gave you the knowledge to change from an ordinary human into Narayan. The main scripture of Bharat is the Gita. No one knows when the Gita was created. The Father says: I come at the confluence age of the cycle. Those who were given the kingdom lost that kingdom and became tamopradhan and unhappy. It is the kingdom of Ravan. It is the story of the whole of Bharat. Bharat is all-round (it exists all the time). All others come later. The Father says: I tell you the secrets of 84 births. 5000 years ago you were deities. You don’t even know about your births. O people of Bharat, the Father comes at the end. If He were to come at the beginning, how could He give you the knowledge of the beginning, the middle and the end? If the world population hadn't grown, how could He explain it? There is no need for knowledge there. It is only now, at the confluence age, that the Father gives you knowledge. He is the Knowledge-full One. He definitely has to come at the end to speak knowledge. What could He tell you at the beginning? These matters have to be understood. God speaks: I teach you Raja Yoga. This is the University of the Pandava Government. It is now the confluence age. They have sat and shown the armies of the Yadavas, Kauravas and Pandavas. The Father explains: The Yadavas and Kauravas have non-loving intellects at the time of destruction. They continue to insult one another. They have no love for the Father. They say that God is in the cats and dogs. The Pandavas, however, have loving intellects. The Companion of the Pandavas is God Himself. Pandavas means spiritual guides. Those are physical guides whereas you are spiritual guides. Achcha.



To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Be soul conscious and play a hero part in this unlimited play. Each actor has his own part. Therefore, don't compare your part with that of anyone else.
2. Wake up early in the morning and talk to yourself. Practise being separate from the physical senses. Baba, You are so sweet! You give us the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world.
Blessing:
May you be a powerful soul with catching power and catch your original sanskars and become an embodiment of them.   
The main basis of your effort is catching power. Scientists are able to catch sound a lot in advance. Similarly, you who have the power of silence, have to catch your original deity sanskars. For this, always have the awareness that you were that and that you are becoming that once again. The more you catch those sanskars, the more you will become an embodiment of them. Experience the things of 5000 years ago as though it is only a matter of “yesterday”. Make your awareness very elevated and clear, for only then will you become powerful.
Slogan:
The breath of Brahmin life is happiness. You may leave your body, but do not let go of your happiness.  
 

मुरली 13 फरवरी 2016

13-02-16 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे– संगम पर तुम्हें नई और निराली नॉलेज मिलती है, तुम जानते हो हम सब आत्मायें एक्टर्स हैं, एक का पार्ट न मिले दूसरे से|”  
प्रश्न:
माया पर जीत पाने के लिए तुम रूहानी योद्धों को (क्षत्रियों को) कौन-सी युक्ति मिली हुई है?
उत्तर:
हे रूहानी क्षत्रिय, तुम सदा श्रीमत पर चलते रहो। आत्म-अभिमानी बन बाप को याद करो, रोज़ सवेरेसवेरे उठ याद में रहने का अभ्यास डालो तो माया पर विजय प्राप्त कर लेंगे। उल्टे-सुल्टे संकल्पों से बच जायेंगे। याद की मीठी युक्ति मायाजीत बना देगी।
गीतः
जिसका साथी है भगवान.......  
ओम् शान्ति।
यह मनुष्यों के बनाये हुए गीत हैं। इनका अर्थ कोई कुछ भी नहीं जानते। गीत भजन आदि गाते हैं, महिमा करते हैं भक्त लोग परन्तु जानते कुछ नहीं। महिमा बहुत करते हैं। तुम बच्चों को कोई महिमा नहीं करनी है। बच्चे बाप की कभी महिमा नहीं करते। बाप जानते हैं यह हमारे बच्चे हैं। बच्चे जानते हैं यह हमारा बाबा है। अभी यह बेहद की बात है। फिर भी सब बेहद के बाप को याद करते हैं। अब तक भी याद करते रहते हैं। भगवान को कहते हैं– हे बाबा, इनका नाम शिवबाबा है। जैसे हम आत्मायें हैं वैसे शिवबाबा है। वह है परम आत्मा, जिसको सुप्रीम कहा जाता है, उनके हम बच्चे हैं। उनको सुप्रीम सोल कहा जाता है। उनका निवास स्थान कहाँ हैं? परमधाम में। सब सोल्स वहाँ रहती हैं। एक्टर्स ही सोल्स हैं। तुम जानते हो नाटक में एक्टर्स नम्बरवार होते हैं। हर एक के पार्ट अनुसार इतनी तनख्वाह (पगार) मिलती है। सब आत्मायें जो वहाँ रहती हैं, सब पार्टधारी हैं, परन्तु नम्बरवार सबको पार्ट मिला हुआ है। रूहानी बाप बैठ समझाते हैं कि रूहों में कैसे अविनाशी पार्ट नूँधा हुआ है। सब रूहों का पार्ट एक जैसा नहीं हो सकता। सबमें ताकत एक जैसी नहीं। तुम जानते हो कि सबसे अच्छा पार्ट उनका है जो पहले शिव की रूद्र माला में हैं। नाटक में जो बहुत अच्छे-अच्छे एक्टर्स होते हैं उनकी कितनी महिमा होती है। सिर्फ उनको देखने लिए भी लोग जाते हैं। तो यह बेहद का ड्रामा है। इस बेहद के ड्रामा में भी ऊंच एक बाप है। ऊंच ते ऊंच एक्टर, क्रियेटर, डायरेक्टर भी कहें, वह सब हैं हद के एक्टर्स, डायरेक्टर्स आदि। उनको अपना छोटा पार्ट मिला हुआ है। पार्ट आत्मा बजाती है परन्तु देह-अभिमान के कारण कह देते कि मनुष्य का ऐसा पार्ट है। बाप कहते पार्ट सारा आत्मा का है। आत्म-अभिमानी बनना पड़ता है। बाप ने समझाया है कि सतयुग में आत्म-अभिमानी होते हैं। बाप को नहीं जानते। यहाँ कलियुग में तो आत्म-अभिमानी भी नहीं और बाप को भी नहीं जानते। अभी तुम आत्म-अभिमानी बनते हो। बाप को भी जानते हो।

तुम ब्राह्मणों को निराली नॉलेज मिलती है। तुम आत्मा को जान गये हो कि हम सब आत्मायें एक्टर्स हैं। सबको पार्ट मिला हुआ है, जो एक न मिले दूसरे से। वह पार्ट सारा आत्मा में है। यूँ तो जो नाटक बनाते हैं वह भी पार्ट आत्मा ही धारण करती है। अच्छा पार्ट भी आत्मा ही लेती है। आत्मा ही कहती है मैं गवर्नर हूँ, फलाना हूँ। परन्तु आत्म-अभिमानी नहीं बनते। सतयुग में समझेंगे कि मैं आत्मा हूँ। एक शरीर छोड़ दूसरा लेना है। परमात्मा को वहाँ कोई नहीं जानते इस समय तुम सब कुछ जानते हो। शूद्रों और देवताओं से तुम ब्राह्मण उत्तम हो। इतने ढेर ब्राह्मण कहाँ से आयेंगे, जो बनेंगे। लाखों आते हैं प्रदर्शनी में। जिसने अच्छी तरह समझा, ज्ञान सुना वह प्रजा बन गये। एक-एक राजा की प्रजा बहुत होती है। तुम प्रजा बहुत बना रहे हो। प्रदर्शनी, प्रोजेक्टर से कोई समझकर अच्छे भी बन जायेंगे। सीखेंगे, योग लगायेंगे। अभी वह निकलते जायेंगे। प्रजा भी निकलेगी फिर साहूकार, राजा-रानी, गरीब आदि सब निकलेंगे। प्रिन्स-प्रिन्सेज बहुत होते हैं। सतयुग से त्रेता तक प्रिन्स-प्रिन्सेज बनने हैं। सिर्फ 8 वा 108 तो नहीं होंगे। लेकिन अभी सब बन रहे हैं। तुम सर्विस करते रहते हो। यह भी नथिंगन्यु। तुमने कोई फंक्शन किया, यह भी नई बात नहीं। अनेक बार किया है फिर संगम पर यही धन्धा करेंगे और क्या करेंगे! बाप आयेंगे पतितों को पावन बनाने। इसको कहा जाता है वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी। नम्बरवार तो हर बात में होता ही है। तुम्हारे में जो अच्छा भाषण करते हैं तो सब कहेंगे कि इसने बहुत अच्छा भाषण किया। दूसरे का सुनेंगे तो भी कहेंगे कि पहले वाले अच्छा समझाते थे। तीसरे फिर उनसे तीखे होंगे तो कहेंगे यह उनसे भी तीखे हैं। हर बात में पुरुषार्थ करना होता है कि हम उनसे ऊपर जायें। होशियार जो होते हैं वह झट हाथ उठायेंगे, भाषण करने लिए। तुम सब पुरुषार्थी हो, आगे चल मेल ट्रेन बन जायेंगे। जैसे मम्मा स्पेशल मेल ट्रेन थी। बाबा का तो पता नहीं पड़ेगा क्योंकि दोनों इकट्ठे हैं। तुम समझ नहीं सकेंगे कि कौन कहते हैं। तुम सदैव समझो कि शिवबाबा समझाते हैं। बाप और दादा दोनों जानते हैं परन्तु वह अन्तर्यामी है। बाहर से कहते हैं यह तो बहुत होशियार है। बाप भी महिमा सुन खुश होते हैं। लौकिक बाप का भी कोई बच्चा अच्छी तरह पढकर ऊंच पद पाता है तो बाप समझते हैं कि यह बच्चा अच्छा नाम निकालेगा। यह भी समझते हैं कि फलाना बच्चा इस रूहानी सर्विस में होशियार है। मुख्य तो भाषण है, किसको बाप का सन्देश देना, समझाना। बाबा ने मिसाल भी बताया था कि किसको 5 बच्चे थे तो कोई ने पूछा कि तुमको कितने बच्चे हैं? तो बोला कि दो बच्चे हैं। कहा कि तुमको तो 5 बच्चे हैं! कहा सपूत दो हैं। यहाँ भी ऐसे है। बच्चे तो बहुत हैं। बाप कहेंगे कि यह डॉक्टर निर्मला बच्ची बहुत अच्छी है। बहुत प्रेम से लौकिक बाप को समझाए सेन्टर खुलवा दिया है। यह भारत की सर्विस है। तुम भारत को स्वर्ग बनाते हो। इस भारत को नर्क रावण ने बनाया। एक सीता कैद में नहीं थी लेकिन तुम सीतायें रावण की कैद में थी। बाकी शास्त्रों में सब दन्त कथायें हैं। यह भक्ति मार्ग भी ड्रामा में है। तुम जानते हो सतयुग से लेकर जो पास हुआ वह रिपीट होगा। आपेही पूज्य आपेही पुजारी बनते हैं। बाप कहते हैं मुझे आकर पुजारी से पूज्य बनाना है। पहले गोल्डन एजेड फिर आइरन एजेड बनना है। सतयुग में सूर्यवंशी लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। रामराज्य तो चन्द्रवंशी था।

इस समय तुम सब रूहानी क्षत्रिय (योद्धे) हो। लड़ाई के मैदान में आने वाले को क्षत्रिय कहा जाता है। तुम हो रूहानी क्षत्रिय। बाकी वह हैं जिस्मानी क्षत्रिय। उनको कहा जाता है बाहुबल से लड़ना-झगड़ना। शुरू में मल्ल युद्ध होती थी बांहों आदि से। आपस में लड़ते थे फिर विजय को पाते थे। अभी तो देखो बॉम्ब्स आदि बने हुए हैं। तुम भी क्षत्रिय हो, वह भी क्षत्रिय हैं। तुम माया पर जीत पाते हो, श्रीमत पर चल। तुम हो रूहानी क्षत्रिय। रूहें ही सब कुछ कर रही हैं इन शरीर की कर्मेन्द्रियों द्वारा। रूह को बाप आकर सिखलाते हैं– बच्चे, मुझे याद करने से फिर माया खायेगी नहीं। तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे और तुमको उल्टा-सुल्टा संकल्प नहीं आयेगा। बाप को याद करने से खुशी भी रहेगी इसलिए बाप समझाते हैं कि सवेरे उठकर अभ्यास करो। बाबा आप कितने मीठे हो। आत्मा कहती है– बाबा। बाप ने पहचान दी है– मैं तुम्हारा बाप हूँ, तुमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का नॉलेज सुनाने आया हूँ। यह मनुष्य सृष्टि का उल्टा झाड़ है। यह वैराइटी धर्मों की मनुष्य सृष्टि है, इसको कहा जाता है विराट लीला। बाप ने समझाया है कि इस मनुष्य झाड़ का मैं बीज रूप हूँ। मुझे याद करते हैं। कोई किस झाड़ का है, कोई किस झाड़ का है। फिर नम्बरवार निकलते हैं। यह ड्रामा बना हुआ है। कहावत है कि फलाने ने धर्म स्थापक पैगम्बर को भेजा। परन्तु वहाँ से भेजते नहीं हैं। यह ड्रामा अनुसार रिपीट होता है। यह एक ही है जो धर्म और राजधानी स्थापन कर रहे हैं। यह दुनिया में कोई भी नहीं जानते। अभी है संगम। विनाश की ज्वाला प्रज्जवलित होनी है। यह है शिवबाबा का ज्ञान यज्ञ। उन्हों ने रूद्र नाम रख दिया है। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा तुम ब्राह्मण पैदा हुए हो। तुम ऊंच ठहरे ना। पीछे और बिरादरियाँ निकलती हैं। वास्तव में तो सब ब्रह्मा के बच्चे हो। ब्रह्मा को कहा जाता है ग्रेट-ग्रेट ग्रैण्ड फादर। सिजरा है, पहले-पहले ब्रह्मा ऊंच फिर सिजरा निकलता है। कहते हैं भगवान सृष्टि कैसे रचते हैं। रचना तो है। जब वह पतित होते हैं तब उनको बुलाते हैं। वही आकर दुःखी सृष्टि को सुखी बनाते हैं इसलिए बुलाते हैं बाबा दुःख हर्ता सुख कर्ता आओ। नाम रखा है हरिद्वार। हरिद्वार अर्थात् हरी का द्वार। वहाँ गंगा बहती है। समझते हैं हम गंगा में स्नान करने से हरी के द्वार चले जायेंगे। परन्तु हरी का द्वार है कहाँ? वह फिर कृष्ण को कह देते हैं। हरी का द्वार तो शिवबाबा है। दुःख हर्ता सुख कर्ता। पहले तुमको जाना है अपने घर। तुम बच्चों को अपने बाप का और घर का अभी मालूम पड़ा है। बाप की गद्दी थोड़ी ऊंची है। फूल है ऊपर में फिर युगल दाना उससे नीचे। फिर रूद्र माला कहते हैं। रूद्र माला सो विष्णु की माला। विष्णु के गले का हार वही फिर विष्णुपुरी में राज्य करते हैं। ब्राह्मणों की माला नहीं है क्योंकि घड़ी-घड़ी टूट पड़ते हैं। बाप समझाते हैं कि नम्बरवार तो हैं ना। आज ठीक हैं कल तूफान आ जाते हैं, गृहचारी आने से ठण्डे हो जाते हैं। बाप कहते हैं कि मेरा बनन्ती, आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती, ध्यान में जावन्ती, माला में पिरवन्ती... फिर एकदम भागन्ती, चण्डाल बनन्ती। फिर माला कैसे बनें? तो बाप समझाते हैं कि ब्राह्मणों की माला नहीं बनती। भक्त माला अलग है, रूद्र माला अलग है। भक्त माला में मुख्य हैं फीमेल्स में मीरा और मेल्स में नारद। यह है रूद्र माला। संगम पर बाप ही आकर मुक्ति-जीवनमुक्ति देते हैं। बच्चे समझते हैं कि हम ही स्वर्ग के मालिक थे। अभी नर्क में हैं। बाप कहते हैं कि नर्क को लात मारो, स्वर्ग की बादशाही लो, जो तुम्हारी रावण ने छीन ली है। यह तो बाप ही आकर बताते हैं। वह इन सब शास्त्रों, तीर्थों आदि को जानते हैं। बीजरूप है ना। ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर..... यह आत्मा कहती है।

बाप समझाते हैं कि यह लक्ष्मी-नारायण सतयुग के मालिक थे। उनके आगे क्या था? जरूर कलियुग का अन्त होगा तो संगमयुग हुआ होगा फिर अब स्वर्ग बनता है। बाप को स्वर्ग का रचयिता कहा जाता है, स्वर्ग स्थापन करने वाला। यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक थे। इन्हों को वर्सा कहाँ से मिला? स्वर्ग के रचता बाप से। बाप का ही यह वर्सा है। तुम कोई से भी पूछ सकते हो कि इन लक्ष्मी-नारायण को सतयुग की राजधानी थी। कैसे ली? कोई बता नहीं सकेंगे। यह दादा भी कहता है कि मैं नहीं जानता था। पूजा करता था परन्तु जानता नहीं था। अब बाप ने समझाया है– यह संगम पर राजयोग सीखते हैं। गीता में ही राजयोग का वर्णन है। सिवाए गीता के और कोई भी शास्त्र में राजयोग की बात नहीं है। बाप कहते हैं कि मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। भगवान ने ही आकर नर से नारायण बनने की नॉलेज दी है। भारत का मुख्य शास्त्र है गीता। गीता कब रची गई, यह जानते नहीं। बाप कहते हैं कल्प-कल्प संगम पर आता हूँ। जिनको राज्य दिया था वो राज्य गँवाकर फिर तमोप्रधान दुःखी बन पड़े हैं। रावण का राज्य है। सारे भारत की ही कहानी है। भारत है आलराउण्ड, और तो सब बाद में आते हैं। बाप कहते हैं कि तुमको 84 जन्मों का राज़ बताता हूँ। 5 हज़ार वर्ष पहले तुम देवी-देवता थे फिर अपने जन्मों को नहीं जानते हो। हे भारतवासियों– बाप आते हैं अन्त में। आदि में आये तो आदि-अन्त का नॉलेज कैसे सुनाये? सृष्टि की वृद्धि ही नहीं हुई है तो समझाये कैसे? वहाँ तो नॉलेज की दरकार ही नहीं। बाप अभी संगम पर ही नॉलेज देते हैं। नॉलेजफुल है ना। जरूर नॉलेज सुनाने अन्त में आना पड़े। आदि में तुमको क्या सुनायेंगे! यह समझने की बातें हैं। भगवानुवाच कि मैं तुमको राजयोग सिखाता हूँ। यह युनिवर्सिटी है पाण्डव गवर्मेन्ट की। अभी है संगम– यादव, कौरव और पाण्डव, उन्होंने बैठ सेनायें दिखाई हैं। बाप समझाते हैं यादव-कौरव विनाश काले विपरीत बुद्धि। एक-दो को गाली देते रहते हैं। बाप से प्रीत नहीं है। कह देते कि कुत्ते-बिल्ली सबमें परमात्मा है। बाकी पाण्डवों की प्रीत बुद्धि थी। पाण्डवों का साथी स्वयं परमात्मा था। पाण्डव माना रूहानी पण्डे। वह हैं जिस्मानी पण्डे, तुम हो रूहानी पण्डे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1. आत्म-अभिमानी बन इस बेहद नाटक में हीरो पार्ट बजाना है। हर एक एक्टर का पार्ट अपना-अपना है इसलिए किसी के पार्ट से रीस नहीं करनी है।
2. सवेरे-सवेरे उठकर अपने आपसे बातें करनी है, अभ्यास करना है– मैं इन शरीर की कर्मेन्द्रियों से अलग हूँ, बाबा आप कितने मीठे हो, आप हमें सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान देते हो।
वरदान:
कैचिंग पावर द्वारा अपने असली संस्कारों को कैच कर उनका स्वरूप बनने वाले शक्तिशाली भव!   
पुरुषार्थ का मुख्य आधार कैचिंग पावर है। जैसे साइंसदान बहुत पहले के साउण्ड को कैच करते हैं ऐसे आप साइलेन्स की शक्ति से अपने आदि दैवी संस्कार कैच करो, इसके लिए सदैव यही स्मृति रहे कि मैं यही था और फिर बन रहा हूँ। जितना उन संस्कारों को कैच करेंगे उतना उसका स्वरूप बनेंगे। 5 हजार वर्ष की बात इतनी स्पष्ट अनुभव में आये जैसे कल की बात है। अपनी स्मृति को इतना श्रेष्ठ और स्पष्ट बनाओ तब शक्तिशाली बनेंगे।
स्लोगन:
ब्राह्मण जीवन का श्वांस खुशी है, शरीर भल चला जाए लेकिन खुशी न जाए।   
 

Thursday, February 11, 2016

Murli 12 February 2016

12/02/16 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, the Father has come to liberate you from the kingdom of Ravan and to grant you salvation. He has come to change you residents of hell into residents of heaven.   
Question:
What has the Father reminded you children, you people of Bharat, about?
Answer:
O children, people of Bharat, you were residents of heaven. 5000 years ago Bharat was heaven. There were palaces studded with diamonds and jewels. You were the masters of the whole world. The earth and the sky all belonged to you. Bharat was the Shivalaya established by Shiv Baba. There was purity there. Such a Bharat is now going to be created once again.
Song:
Show the path to the blind, dear God!   
Om Shanti
You sweetest, spiritual children, souls, heard the song. Who said this? The spiritual Father of souls. The spiritual children said to the spiritual Father: O Baba! He is called Ishwar and also the Father. Which Father? The Supreme Father, because there are two fathers: a worldly one and the One from beyond this world. A worldly father’s children call out to the Father from beyond this world: O Baba! Achcha, what is Baba’s name? Shiva. He is incorporeal and is worshipped. He is called the Supreme Father. A worldly father cannot be called the Supreme. There is only the one highest-on-high Father of all souls. All human souls remember that one Father. Souls have forgotten who their Father is. They call out: O God, the Father! Give us blind ones sight so that we can recognise our Father. Liberate us from stumbling along on the path of devotion. They call out to the Father for the third eye with which to receive salvation and to meet Him. This is because it is the Father who comes in Bharat every cycle and makes it into heaven. It is now the iron age. After this, the golden age has to come. This is the most elevated confluence age. The unlimited Father comes and makes those who have become impure and corrupt into the most elevated beings. They (Lakshmi and Narayan) were the most elevated in Bharat. It used to be the kingdom of the dynasty of Lakshmi and Narayan. 5000 years ago, in the golden age, it was the kingdom of Shri Lakshmi and Shri Narayan. Baba reminds you children of all this. 5000 years ago you people of Bharat were the residents of heaven. All are now the residents of hell. 5000 years ago Bharat was heaven. There is a lot of praise of what Bharat was; there were golden palaces studded with diamonds. Now, there is nothing! At that time, there were no other religions; there was only the sun dynasty. Even the moon dynasty came later. The Father explains: You belonged to the sun dynasty. Even today, they continue to build temples to Lakshmi and Narayan. However, no one knows when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan or how they attained that. People continue to worship them but they don't understand anything. Therefore, that is blind faith. They worship Shiva and Lakshmi and Narayan, but they don't know the biography of any of them. The people of Bharat themselves now say: We are impure! Baba, the One who purifies us impure ones, come! Come and liberate us from sorrow and from Ravan’s kingdom! Only the Father comes and liberates everyone. You children know that there really was one kingdom in the golden age. Even Bapuji (Gandhi) used to say that he wanted the kingdom of Rama. The religion of the household, which has become impure, has to become pure. We want to become the residents of heaven. You can see what the condition of the residents of hell has now become. This is called hell, the devil world. This Bharat was the deity world. The Father sits here and explains how you have taken 84 births, and not 8.4 million births. The Father explains: Originally, you were residents of the land of peace. You have come here to play your parts. You have played parts for 84 births. You definitely have to take rebirth. There are 84 rebirths. The unlimited Father has now come to give you children your unlimited inheritance. The Father is talking to you children, you souls. In other spiritual gatherings, human beings tell human beings things of the path of devotion. For half the cycle when Bharat was heaven, there wasn't a single impure being. At this time, there isn't a single pure being. This is the impure world. They have written in the Gita that God Krishna speaks, but he didn't speak the Gita. Those people don't even know the scripture of their own religion. They have even forgotten their own religion. There is not a Hindu religion. There are four main religions. First is the original eternal deity religion. The sun and moon dynasties together are called the deity religion, deityism. There was no mention of sorrow there. You were in the land of happiness for 21 births. Then, the kingdom of Ravan, the path of devotion began. The path of devotion is for coming down. Devotion is the night, and knowledge is the day. It is now the night of total darkness. There are two terms: Shiv Jayanti (the Birthday of Shiva) and Shiv Ratri (the Night of Shiva). When does Shiv Baba come? During the night. The Father comes when the people of Bharat are in total darkness; they continue to worship dolls without knowing the biography of anyone. The scriptures of the path of devotion had to be created. This drama and world cycle have to be understood. This knowledge isn't in the scriptures. That is the knowledge of devotion, philosophy. That knowledge is not for the path of salvation. The Father says: I come and give you real knowledge through Brahma. People call out: Show us the path to the land of happiness and peace. The Father says: 5000 years ago there was heaven over the whole world which you ruled. When it was the kingdom of the sun dynasty, all the rest of the souls were in the land of peace; 900,000 have been remembered there. 5000 years ago you children were made very wealthy; you were given so much wealth! So, what did you do with it all? You were so wealthy! Bharat was the most elevated land of all. In fact, it is the pilgrimage place for all, because it is the birthplace of the Purifier Father. The Father comes and grants salvation to those of all religions. It is now Ravan’s kingdom over the whole world, not just Lanka. The five vices exist in everyone. There were no vices when it was the sun-dynasty kingdom. Bharat was viceless then. It is now vicious. It was the deity community of the golden age. They took 84 births and have now become the devilish community. They are to become the deity community again. Bharat used to be very wealthy. It has now become poor for that is why it begs for aid. The Father says: You were so wealthy! No one else can receive the happiness that you receive. You were the masters of the whole world. The earth and the sky all belonged to you. The Father reminds you that Bharat was the Temple of Shiva (Shivalaya) which was established by Shiv Baba. There was purity there and the deities ruled that new world. The people of Bharat do not even know what the relationship between Radhe and Krishna was. Each belonged to a separate kingdom. Then, on their marriage, they became Lakshmi and Narayan. No human being has this knowledge. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. He gives you this spiritual knowledge. Only the Father can give you this spiritual knowledge. The Father now says: Become soul conscious! Remember Me, your Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva! Only through remembrance will you become satopradhan. You come here to change from humans into deities, that is, from impure to pure. This is now the kingdom of Ravan. The kingdom of Ravan begins on the path of devotion. It wasn’t that Ravan abducted only one Sita: all of those who do devotion are in Ravan’s claws. The whole world is in Ravan’s jail of the five vices. Everyone is now experiencing sorrow in the cottage of sorrow. The Father comes and liberates everyone. The Father is now creating heaven once again. It isn’t that those who have a lot of wealth are in heaven. No; it is now hell! All are impure and this is why they go to bathe in the Ganges. They believe that the Ganges is the Purifier. However, no one becomes pure. Only the Father, and not the rivers, should be called the Purifier. All of that belongs to the path of devotion. Only the Father comes and explains all of these things. You now know that one is a worldly father, the other is Prajapita Brahma, the subtle father, and then there is also the Father from beyond this world; there are three fathers. Shiv Baba establishes the Brahmin religion through Prajapita Brahma. Brahmins are taught Raja Yoga in order for them to become deities. The Father only comes once and teaches you souls Raja Yoga. Souls take rebirth. The soul says: I shed my body and take another. The Father says: Consider yourself to be a soul and remember Me, your Father, and you will become pure. Don’t remember any bodily beings! This is now the end of the land of death. The land of immortality is being established. All the rest of the innumerable religions are to be destroyed. In the golden age, there is just the one deity religion. Then, in the silver age, there is the moon dynasty; Rama and Sita. Baba reminds you children of the whole world cycle. Only the Father establishes the land of peace and happiness. Human beings cannot grant salvation to human beings. All of them are gurus of the path of devotion. People on the path of devotion make many images and worship them and then go and say: Drown! Drown! They worship the images a great deal and feed them (offer them food). However, it is the brahmin priests who eat it all. That is called the worship of dolls. There is so much blind faith! Now, who can explain to them? The Father says: You are now God’s children. You are now studying Raja Yoga with the Father. This kingdom is being established. Many subjects have to be created. Only a handful out of the few become kings. The golden age is called the garden of flowers. It is now a jungle of thorns. The kingdom of Ravan is now changing. This destruction has to take place. Only you Brahmins receive this knowledge. Even Lakshmi and Narayan do not have this knowledge; this knowledge disappears. No one on the path of devotion knows the Father. Only the Father is the Creator. Brahma, Vishnu and Shankar are also the creation. When God is called omnipresent, everyone becomes the Father; in which case, there would be no right to an inheritance. The Father comes and gives all of you children your inheritance. Only the Father is the Bestower of Salvation. It is explained that the only ones who take 84 births are those who go into the golden age first. How many births would the Christians take? Perhaps about 40 births. This calculation can be made. People stumble around so much searching for the one God. You do not now have to stumble any more. You just have to remember the one Father. This is the pilgrimage of remembrance. This is the Godfatherly University of the Purifier. You souls are studying. Sages and holy men say that souls are immune to the effect of action. It is souls that have to take rebirth according to their actions. It is souls that perform good or bad actions. At this time, your actions have become sinful. In the golden age, actions are neutral. There are no sinful actions there. That is the world of charitable souls. All of these matters have to be understood and explained. Achcha.



To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Do the service of changing thorns into flowers and of establishing the garden of flowers, the golden age. Do not perform any bad actions.
2. Tell everyone the spiritual knowledge that the Father gives you. Make effort to become soul conscious. Only remember the one Father and no bodily being.
Blessing:
May you follow the highest code of conduct which making BapDada’s task your goal and become a most elevated master.   
It is said: When you grind your own ingredients you can feel the intoxication. Never let your vision be drawn to the income of others. Instead of making the intoxication of others your goal, make BapDada’s virtues and His task your goal. Be BapDada’s helper in and in establishing the true religion destroying irreligiousness. Those who destroy irreligiousness cannot carry out any task of irreligiousness or break the codes of conduct of the divine family. They are the elevated masters who follow the highest code of conduct.
Slogan:
Be knowledge-full and sacrifice all wasteful questions and your time will be saved.  
 

मुरली 12 फरवरी 2016

12-02-16 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे– बाप आये हैं तुम्हें रावण राज्य से लिबरेट कर सद्गति देने, नर्कवासियों को स्वर्गवासी बनाने|”  
प्रश्न:
बाप ने तुम भारतवासी बच्चों को कौनसी-कौनसी स्मृति दिलाई है?
उत्तर:
हे भारतवासी बच्चे! तुम स्वर्गवासी थे। आज से 5 हज़ार वर्ष पहले भारत स्वर्ग था, हीरे सोने के महल थे। तुम सारे विश्व के मालिक थे। धरती आसमान सब तुम्हारे थे। भारत शिवबाबा का स्थापन किया हुआ शिवालय था। वहाँ पवित्रता थी। अब फिर से ऐसा भारत बनने वाला है।
गीतः
नयन हीन को राह दिखाओ प्रभू........  
ओम् शान्ति।
मीठे-मीठे रूहानी बच्चों (आत्माओं) ने यह गीत सुना। किसने कहा? आत्माओं के रूहानी बाप ने। तो रूहानी बाप को रूहानी बच्चों ने कहा कि हे बाबा। उनको ईश्वर भी कहा जाता है, पिता भी कहा जाता है। कौन सा पिता? परमपिता क्योंकि बाप दो हैं– एक लौकिक, दूसरा पारलौकिक। लौकिक बाप के बच्चे पारलौकिक बाप को पुकारते हैं– हे बाबा। अच्छा बाबा का नाम? शिव। वह तो निराकार पूजा जाता है। उनको कहा जाता है सुप्रीम फादर। लौकिक बाप को सुप्रीम नहीं कहा जाता। ऊंच ते ऊंच सभी आत्माओं का बाप एक ही है। सभी जीव आत्मायें उस बाप को याद करती हैं। आत्मायें यह भूल गयी हैं कि हमारा बाप कौन है? पुकारते हैं ओ गॉड फादर हम नयनहीन को नयन दो तो हम अपने बाप को पहचानें। भक्तिमार्ग की ठोकरों से छुड़ाओ। सद्गति के लिए तीसरा नेत्र लेने लिए, बाप से मिलने लिए पुकारते हैं क्योंकि बाप ही कल्प-कल्प भारत में आकर भारत को स्वर्ग बनाते हैं। अभी कलियुग है, कलियुग के बाद सतयुग आना है। यह है पुरूषोत्तम संगमयुग। बेहद का बाप आकर जो पतित भ्रष्टाचारी बन गये हैं उन्हों को पुरूषोत्तम बनाते हैं। यह (लक्ष्मी-नारायण) पुरूषोत्तम भारत में थे। लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी का राज्य था। आज से 5 हज़ार वर्ष पहले सतयुग में श्री लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। यह बच्चों को स्मृति दिलाते हैं। तुम भारतवासी आज से 5 हज़ार वर्ष पहले स्वर्गवासी थे। अब तो सब नर्कवासी हैं। आज से 5 हज़ार वर्ष पहले भारत हेविन था। भारत की बहुत महिमा थी, हीरे-सोने के महल थे। अभी तो कुछ भी नहीं है। उस समय और कोई धर्म नहीं था, सिर्फ सूर्यवंशी ही थे। चन्द्रवंशी भी पीछे आते हैं। बाप समझाते हैं तुम सूर्यवंशी डिनायस्टी के थे। अभी तक भी इन लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर बनाते रहते हैं। परन्तु लक्ष्मी-नारायण का राज्य कब था, कैसे पाया, यह किसको पता नहीं है। पूजा करते हैं, जानते नहीं। तो ब्लाइन्डफेथ हुआ ना। शिव की, लक्ष्मी-नारायण की पूजा करते हैं, बायोग्राफी को भी नहीं जानते। अभी भारतवासी खुद कहते हैं– हम पतित हैं। हम पतितों को पावन बनाने वाला बाबा आओ। आकर हमको दुःखों से, रावण राज्य से लिबरेट करो। बाप ही आकर सबको लिबरेट करते हैं। बच्चे जानते हैं सतयुग में बरोबर एक राज्य था। बापू जी भी कहते थे कि हमको फिर से रामराज्य चाहिए, गृहस्थ धर्म जो पतित बन गया है सो पावन चाहिए। हम स्वर्गवासी बनने चाहते हैं। अभी नर्कवासियों का क्या हाल है, देख रहे हो ना। इसको कहा जाता है हेल, डेविल वर्ल्ड। यही भारत डीटी वर्ल्ड था। बाप बैठ समझाते हैं तुमने 84 जन्म लिए हैं, न कि 84 लाख। बाप समझाते हैं तुम असुल शान्तिधाम के रहने वाले हो। तुम यहाँ पार्ट बजाने आये हो। 84 जन्मों का पार्ट बजाया है। पुनर्जन्म तो जरूर लेना पड़े ना। पुनर्जन्म 84 होते हैं।

अब बेहद का बाप आये हैं तुम बच्चों को बेहद का वर्सा देने। बाप तुम बच्चों (आत्माओं) से बात कर रहे हैं। और सतसंगों में मनुष्य, मनुष्यों को भक्तिमार्ग की बातें सुनाते हैं। आधाकल्प भारत जब स्वर्ग था तो एक भी पतित नहीं था। इस समय एक भी पावन नहीं। यह है ही पतित दुनिया। गीता में कृष्ण भगवानुवाच लिख दिया है। उसने तो गीता सुनाई नहीं। ये लोग अपने धर्मशास्त्र को भी नहीं जानते। अपने धर्म को ही भूल गये हैं। हिन्दू कोई धर्म नहीं है। धर्म मुख्य हैं चार। पहले हैं आदि सनातन देवी-देवता धर्म। सूर्यवंशी और चन्द्रवंशी दोनों को मिलाकर कहा जाता है देवी-देवता धर्म, डीटीज्म। वहाँ दुःख का नाम नहीं था। 21 जन्म तो तुम सुखधाम में थे फिर रावण राज्य, भक्ति मार्ग शुरू होता है। भक्तिमार्ग है ही नीचे उतरने का। भक्ति है रात, ज्ञान है दिन। अभी है घोर अंधियारी रात। शिव जयन्ती और शिवरात्रि, दोनों अक्षर आते हैं। शिवबाबा कब आते हैं? जब रात्रि होती है। भारतवासी घोर अन्धियारे में आ जाते हैं तब बाप आते हैं। गुड़ियों की पूजा करते रहते हैं, एक की भी बायोग्राफी नहीं जानते। यह भक्तिमार्ग के शास्त्र भी बनने ही हैं। यह ड्रामा, सृष्टि चक्र को भी समझना है। शास्त्रों में यह नॉलेज नहीं है। वह है भक्ति का ज्ञान, फिलॉसॉफी। वह कोई सद्गति मार्ग का ज्ञान नहीं है। बाप कहते हैं– मैं आकर तुमको ब्रह्मा द्वारा यथार्थ ज्ञान सुनाता हूँ। पुकारते भी हैं, हमको सुखधाम, शान्तिधाम का रास्ता बताओ। बाप कहते हैं आज से 5 हज़ार वर्ष पहले सुखधाम था, जिसमें तुम सारे विश्व पर राज्य करते थे। सूर्यवंशी डिनायस्टी का राज्य था। बाकी सब आत्मायें शान्तिधाम में थीं। वहाँ 9 लाख गाये जाते हैं। तुम बच्चों को आज से 5 हज़ार वर्ष पहले बहुत साहूकार बनाया था। इतना धन दिया फिर तुमने वह कहाँ गँवाया? तुम कितने साहूकार थे। भारत कौन सडावे (कहलाये)। भारत ही सबसे ऊंच ते ऊंच खण्ड है। सभी का वास्तव में यह तीर्थ है, क्योंकि पतित-पावन बाप का जन्म स्थान है। जो भी धर्म वाले हैं, सभी की बाप आकर सद्गति करते हैं। अभी रावण का राज्य सारी सृष्टि में है, सिर्फ लंका में नहीं था। सभी में 5 विकार प्रवेश हैं। जब सूर्यवंशी राज्य था तो यह विकार ही नहीं थे। भारत वाइसलेस था। अभी विशश है। सतयुग में दैवी सप्रदाय थी। वह फिर 84 जन्म भोग अभी आसुरी सप्रदाय बने हैं फिर दैवी सप्रदाय बनते हैं। भारत बहुत साहूकार था। अब गरीब बना है इसलिए भीख मांग रहे हैं। बाप कहते हैं तुम कितने साहूकार थे। तुम्हारे जैसा सुख किसको भी मिल नहीं सकता। तुम सारे विश्व के मालिक थे, धरती आसमान सब तुम्हारे थे। बाप स्मृति दिलाते हैं, भारत शिवबाबा का स्थापन किया हुआ शिवालय था। वहाँ पवित्रता थी, उस नई दुनिया में देवी-देवतायें राज्य करते थे। भारतवासी तो यह भी नहीं जानते कि राधे-कृष्ण का आपस में क्या संबंध है? दोनों अलग-अलग राजधानी के थे फिर स्वयंवर के बाद लक्ष्मी-नारायण बने हैं। यह ज्ञान कोई मनुष्य में नहीं है। परमपिता परमात्मा ही ज्ञान का सागर है, वही तुम्हें यह रूहानी ज्ञान देते हैं, यह प्रीचुअल नॉलेज सिर्फ एक बाप ही दे सकते हैं। अब बाप कहते हैं– आत्म-अभिमानी बनो। मुझ अपने परमपिता परमात्मा शिव को याद करो। याद से ही सतोप्रधान बनेंगे। तुम यहाँ आते ही हो मनुष्य से देवता अथवा पतित से पावन बनने। अभी यह है रावण राज्य। भक्ति मार्ग में रावण राज्य शुरू होता है। रावण ने कोई एक सीता को नहीं चुराया है। तुम सब भक्ति करने वाले, रावण के चम्बे में हो। सारी सृष्टि 5 विकारों रूपी रावण की कैद में है। सभी शोक वाटिका में दुःखी हैं। बाप आकर सबको लिबरेट करते हैं। अब बाप फिर से स्वर्ग बना रहे हैं। ऐसे नहीं कि अभी जिनको धन बहुत है, वह स्वर्ग में हैं। नहीं, अभी है ही नर्क। सभी पतित हैं इसलिए गंगा में जाकर स्नान करते हैं, समझते हैं गंगा पतित-पावनी है। परन्तु पावन तो कोई बनते नहीं हैं। पतित-पावन तो बाप को ही कहा जाता है, न कि नदियों को। यह सब है भक्ति मार्ग। बाप ही यह बातें आकर समझाते हैं। अब तुम यह तो जानते हो एक है लौकिक बाप, दूसरा फिर प्रजापिता ब्रह्मा है अलौकिक बाप और वह पारलौकिक बाप। तीन बाप हैं। शिवबाबा, प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण धर्म स्थापन करते हैं। ब्राह्मणों को देवता बनाने के लिए राजयोग सिखलाते हैं। एक ही बार बाप आकर आत्माओं को राजयोग सिखलाते हैं। आत्मायें पुनर्जन्म लेती हैं। आत्मा ही कहती है– मैं एक शरीर छोड़ दूसरा लेती हूँ। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो तो तुम पावन बनेंगे। कोई भी देहधारी को याद नहीं करो। अभी यह है मृत्युलोक का अन्त। अमरलोक की स्थापना हो रही है। बाकी सब अनेक धर्म खलास हो जायेंगे। सतयुग में एक ही देवता धर्म था। फिर त्रेता में चन्द्रवंशी राम-सीता। तुम बच्चों को सारे चक्र की याद दिलाते हैं। शान्तिधाम, सुखधाम की स्थापना करते ही हैं बाप। मनुष्य, मनुष्य को सद्गति दे नहीं सकते। वह सब हैं भक्ति मार्ग के गुरू। भक्ति मार्ग में मनुष्य अनेक प्रकार के चित्र बनाए पूजा कर फिर जाकर कहते हैं डूब जा, डूब जा। बहुत पूजा करते, खिलाते पिलाते, अब खाते तो ब्राह्मण लोग हैं। इसको कहा जाता है गुड़ियों की पूजा। कितनी अन्धश्रद्धा है। अब उन्हों को कौन समझाये।

बाप कहते हैं अभी तुम हो ईश्वरीय सन्तान। तुम अभी बाप से राजयोग सीख रहे हो। यह राजधानी स्थापन हो रही है। प्रजा तो बहुत बननी है। कोटों में कोई राजा बनते हैं। सतयुग को कहा जाता है फूलों का बगीचा। अभी है कांटों का जंगल। अभी रावण राज्य बदल रहा है। यह विनाश होना ही है। यह नॉलेज अभी सिर्फ तुम ब्राह्मणों को मिलती है। लक्ष्मीनारा यण को भी यह ज्ञान नहीं रहता। यह ज्ञान प्रायःलोप हो जाता है। भक्ति मार्ग में कोई भी बाप को जानते ही नहीं। बाप ही रचता है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर भी रचना हैं। परमात्मा सर्वव्यापी कहने से सब बाप हो जाते। वर्से का हक नहीं रहता। बाप तो आकर सभी बच्चों को वर्सा देते हैं। सर्व का सद्गति दाता एक ही बाप है। यह भी समझाया है 84 जन्म वह लेते हैं जो पहले-पहले सतयुग में आते हैं। क्रिश्चियन लोग के जन्म कितने होंगे? करके 40 जन्म होंगे। यह हिसाब निकाला जाता है। एक भगवान को ढूँढने के लिए कितने धक्के खाते हैं। अभी तुम धक्के नहीं खायेंगे। तुमको सिर्फ एक बाप को याद करना है। यह है याद की यात्रा। यह है पतित-पावन गॉड फादरली युनिवर्सिटी। तुम्हारी आत्मा पढती है। साधू सन्त फिर कह देते हैं आत्मा निर्लेप है। अरे आत्मा को ही कर्मों अनुसार दूसरा जन्म लेना पड़ता है। आत्मा ही अच्छा वा बुरा काम करती है। इस समय तुम्हारा कर्म विकर्म होता है। सतयुग में कर्म अकर्म होते हैं। वहाँ विकर्म होता नहीं। वह है पुण्य आत्माओं की दुनिया। यह सब समझने और समझाने की बातें हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार कांटे से फूल बनने वाले बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) कांटे से फूल बन फूलों का बगीचा (सतयुग) स्थापन करने की सेवा करनी है। कोई भी बुरा कर्म नहीं करना है।
2) रूहानी ज्ञान जो बाप से सुना है वही सबको सुनाना है। आत्म-अभिमानी बनने की मेहनत करनी है। एक बाप को ही याद करना है, किसी देहधारी को नहीं।
वरदान:
बापदादा के कर्तव्य को अपना निशाना बनाने वाले मास्टर मर्यादा पुरुषोत्तम भव!   
कहा जाता है– अपनी घोट तो नशा चढ दूसरे की कमाई में कभी भी आंख नहीं जानी चाहिए। दूसरे के नशे को निशाना बनाने के बजाए बापदादा के गुण और कर्तव्य को निशाना बनाओ। बापदादा के साथ अधर्म विनाश और सतधर्म की स्थापना के कर्तव्य में मददगार बनो। अधर्म विनाश करने वाले अधर्म का कार्य वा दैवी मर्यादा को तोड़ने का कार्य कर नहीं सकते, वे मास्टर मर्यादा पुरुषोत्तम होते हैं।
स्लोगन:
नॉलेजफुल बन व्यर्थ प्रश्नों को स्वाहा कर दो तो समय बच जायेगा।   
 

Wednesday, February 10, 2016

Murli 11 February 2016

11/02/16 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, you definitely have to make effort to stay in remembrance, because it is only through the power of remembrance that you will become conquerors of sinful actions.   
Question:
Having which thought makes you fall while making effort? Which service do the children who are God’s helpers continue to do?
Answer:
Some children think that there is still time left and that they will make effort later on. However, death has no discipline! While you continue to say "tomorrow, tomorrow" death will come. Therefore, don’t think that there are still many more years and that you will gallop at the end. This thought will make you fall even more. As much as possible, make effort to stay in remembrance and continue to benefit yourself by following shrimat. Spiritual children, who are God's helpers, should continue to do the service of salvaging souls and purifying the impure.
Song:
Salutations to Shiva!   
Om Shanti
It has been explained to you children that without the corporeal one the incorporeal Father cannot perform actions that He cannot play His part. The spiritual Father comes and explains to the spiritual children through Brahma. You children have to become satopradhan with the power of yoga and then become the masters of the satopradhan world. This is in the intellects of you children. The Father comes to teach you Raja Yoga every cycle. He establishes the original, eternal deity religion through Brahma, that is, He changes humans into deities. Human beings who were deities have now changed into impure shudras. When Bharat was the land of divinity, there was purity, peace and happiness; there was everything. This is a matter of 5000 years. The Father sits here and explains the accurate account to you. There is no one higher than Him. Only the Father can explain to you the secrets of the beginning, the middle and the end of the world or the tree called the kalpa tree. There was the deity religion in Bharat, which has now disappeared The deity religion no longer exists. There are definitely the images of the deities. The people of Bharat know that it used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age, but they have made a mistake in the scriptures by showing Krishna in the copper age. Only the Father comes and shows the right path to those who have forgotten it. When the One who shows you the path comes here, all souls go to the land of liberation. This is why He is called the Bestower of Salvation for All. There is only one Creator and only one world. There is only one world history and geography and it continues to repeat. There are the golden, silver, copper and iron ages and then the confluence age. There are impure beings in the iron age and pure beings in the golden age. When it is the golden age, the iron age will definitely have been destroyed. Establishment takes place before destruction. Establishment does not take place in the golden age. God only comes when the world is impure. The golden age is the pure world. God has to come to make the impure world pure. The Father is now showing you the easiest method of all: Renounce all bodily relations, become soul conscious and remember the Father. Someone has to be the Purifier. There is only one God who gives devotees the fruit of their devotion. He gives knowledge to the devotees. The Ocean of Knowledge only comes into the impure world to purify you. It is through yoga that you become pure. No one but the Father can purify you. All of these things are made to sit in your intellects so that you can explain to others. The message has to be given to every home. Don't say straight away that God has come! You have to explain with great tact. Tell them: He is the Father, is He not? One is your worldly father and the other is the Father from beyond this world. At the time of sorrow, everyone remembers the Father from beyond. No one remembers Him in the land of happiness. In the golden age, in the kingdom of Lakshmi and Narayan, there is nothing but happiness; there is purity, peace and prosperity. Once you have received your inheritance, why would you call out to Him? Souls know that they have happiness. Anyone can say that there is nothing but happiness there. The Father doesn’t create a world of sorrow. This play is predestined. Those who have parts of just two to four births at the end will definitely remain in peace for the rest of the time. However, it is not possible for anyone to come out of the predestined drama. Everyone has to come to play his part in this play. When someone only has one or two births, it is as though he has eternal liberation for the rest of the time. Souls are actors. Some souls receive elevated parts and others lesser parts. You understand this at this time. It is sung that no one can reach the end of God. Only the Father comes and tells you about the Creator and the beginning, the middle and the end of creation. Until the Creator, Himself, comes, no one can know the Creator or creation. Only the Father comes and tells you that He enters an ordinary body. The one whom I enter does not know his own births. I sit and tell him the story of 84 births. There cannot be any change in anyone's part. This play is predestined. Even this doesn’t sit in anyone's intellect. It can only sit in their intellects when they try to understand with pure intellects. The seven-day bhatthi is so that you can understand everything very clearly. They have a reading of the Bhagawad, etc. for seven days. Here, too, you know that no one can understand anything unless they come for seven days. Some are able to understand very well whereas others don’t understand anything after seven days; it just doesn't sit in the intellects. They would say: I have been coming for seven days, but nothing has sat in my intellect. If they are not going to claim a high status, it does not sit in their intellects. OK, at least they will have received some benefit. This is how subjects are created. However, it requires incognito effort to claim the fortune of the kingdom. Only by remembering the Father are your sins absolved. Whether you follow them or not, these are the Father's directions. You always remember someone you love. On the path of devotion, people sing: O Purifier, come! Now that you have found Him, He says: Remember Me so that your rust can be removed. Sovereignty cannot be received that easily! There has to be some effort! There is effort in remembrance. The main thing is the pilgrimage of remembrance. Those who stay in remembrance a great deal attain their karmateet stage. If you don’t stay in full remembrance, your sins are not absolved. It is with the power of yoga that you become a conqueror of sins. Previously, too, you conquered sins with the power of yoga. How did Lakshmi and Narayan become so pure when there wasn't a single pure being at the end of the iron age? It is clearly written that the Gita episode is now repeating. God Shiva says: Mistakes continue to be made. Only the Father comes and frees you from making mistakes. All the scriptures of Bharat belong to the path of devotion. The Father says: No one knows what I spoke previously. Those who were told all of this received a status. They received their reward of 21 births and then this knowledge disappeared. You are the ones who went around the cycle. Only those who heard this in the previous cycle will come again. You know that you are now planting the sapling for changing humans into deities. This is the sapling of the deity tree. Those people continue to plant many saplings of physical trees. The Father comes and shows you the contrast. The Father plants the sapling of the deity flowers. Those people continue to plant saplings for forests. You show what the Kauravas are doing and what the Pandavas are doing. What are their plans and what are your plans? They make plans to stop the world population increasing. They have family planning so that the population doesn't increase. They continue to work hard to achieve this. The Father tells you a very good thing: The one family of the deity religion will be established and all the innumerable religions will be destroyed. In the golden age, there was just the one family of the original eternal deities; there weren't so many families then. There are so many families in Bharat: the Gujarati family, the Maharashtrian family. In fact, there should only be one family of the residents of Bharat. When there are very many families, there is definitely conflict among them; there is also civil war. There is civil war in families too. Christians have their own family. They also have civil war among themselves: two brothers don't meet one another and they even fight over water. Those who belong to the Sikh religion want to give more happiness to those who belong to the Sikh religion. Because that string is pulled, they continue to make effort for them. When the end comes, there will also be civil wars etc. They will begin to fight among themselves. Destruction has to take place; they continue to manufacture many bombs. In the Great War, two bombs were dropped. They have now manufactured so many of them. This is something that has to be understood. You have to explain that this is the same Mahabharat War. All the important people say that if this war is not stopped, the whole world will be set on fire. You know that the world will be set ablaze. The Father is establishing the original eternal deity religion. This Raja Yoga is for the golden age. That deity religion has now disappeared. Many images of that have also been created. The Father says: All the obstacles that took place in the previous cycle will be there again. You were not aware of this at first. Then you understood that the same thing happened in the previous cycle. This drama is predestined. We are bound by this drama. You shouldn't forget the pilgrimage of remembrance. This is just called a test. It is because you become tired that you’re unable to stay on the pilgrimage of remembrance. There is a song: O traveller of the night, do not become weary! No one understands the meaning of this. This is the pilgrimage of remembrance through which the night comes to an end and the day begins. When half the cycle is completed, sorrow begins. Only the Father explains to you the meaning of “Manmanabhav”. Because Krishna’s name was used in the Gita, there is no longer that strength. Everyone is now to benefit. That means that we are benefiting all human beings: Bharat in particular and the world in general. We are benefiting everyone by following shrimat. Those who become benevolent will receive an inheritance. There cannot be any benefit without the pilgrimage of remembrance. It is now explained to you that He is the unlimited Father. You received your inheritance from the Father. You people of Bharat have taken 84 births. There is also the account of rebirth. No one understands who takes 84 births; they continue to write and recite their own verses. It is the same Gita in which they have written many defamatory things. They have given more importance to the Bhagawad than the Gita. There is knowledge in the Gita and there is the life story in the Bhagawad. In fact, the Gita is more important. The Father is the Ocean of Knowledge and His knowledge continues all the time. They read the Gita in half an hour! You are now writing this and will continue to listen to knowledge. People will continue to come to you every day; they will come gradually. If the great kings were to come now, it wouldn't take long; the sound would spread very quickly. So, this is why everything continues slowly, tactfully. This knowledge is incognito. No one knows what we are doing. Only you, and no one else, know how you battle with Ravan. God speaks: Remember Me in order to become satopradhan and all sins will be absolved. Become pure, for only then will I take you back with Me. You all have to receive liberation-in-life. There will be liberation from the kingdom of Ravan. You write: We Shiv Shaktis, the Brahma Kumars and Kumaris, will establish the elevated world, according to the shrimat of the Supreme Father, the Supreme Soul, exactly as we did 5000 years ago. 5000 years ago, the world was elevated. You have to make this sit in your intellects. Only when you have the main points in your intellect will you be able to stay on the pilgrimage of remembrance. There are those with stone intellects. Some think that there is still time left and that they will make effort later on. However, death has no discipline! Anyone can die tomorrow while saying, "tomorrow, tomorrow". If you haven't made effort, don't think that you still have many years and that you will gallop at the end. This thought will make you fall even more. Continue to make as much effort as possible. Each one of you has to benefit yourself by following shrimat. You have to check yourself. How much do I remember the Father and how much service do I do? You are God’s spiritual helpers. You salvage spirits. He shows you ways to make spirits become pure from impure. There are good and bad human beings in the world. Each one has his own individual part. This is something unlimited. Only the main branches are counted, but there are many leaves. The Father continues to say: Children, make effort! Give everyone the Father's introduction so that their intellects are connected in yoga to the Father. The Father tells all the children: Become pure and you will go to the land of liberation. No one in the world knows what is going to happen through the Mahabharat War. This sacrificial fire of knowledge has been created for the new world. At the completion of our sacrificial fire, everything will be sacrificed into it. Achcha.



To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children
Essence for Dharna:
1. This drama is predestined. Therefore, don't be afraid of obstacles. Don't forget the pilgrimage of remembrance because of obstacles. Pay attention that your pilgrimage of remembrance doesn't stop.
2. Give everyone the introduction of the Father from beyond and show them ways to become pure. Plant the sapling of the divine tree.
Blessing:
May you be a karma yogi who constantly carries out the task of renewal through service with the awareness of Karavanhar.  
Transform your stage into that of a karma yogi when you perform any action. You are not there just to perform the action, but you are a karma yogi. “Karma” means interaction and “yoga” means doing something in the name of God: let there be a balance of the two. While looking after the livelihood of the body, do not forget the livelihood of the soul. Let whatever actions you perform be for Godly service. For this, constantly remember the mantra of being an instrument for service and also remember the awareness of Karanhar. If you do not forget Karavanhar, renewal will continue to take place in service.
Slogan:
The reason for obstacles in service, relationships and connections is old sanskars; let there be disinterest for those sanskars.  
 

मुरली 11 फरवरी 2016

11-02-16 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे– तुम्हें याद में रहने का पुरूषार्थ जरूर करना है, क्योंकि याद के बल से ही तुम विकर्माजीत बनेंगे|”   
प्रश्न:
कौन सा ख्याल आया तो पुरुषार्थ में गिर पड़ेंगे? खुदाई खिदमतगार बच्चे कौन सी सेवा करते रहेंगे?
उत्तर:
कई बच्चे समझते हैं अभी टाइम पड़ा है, पीछे पुरुषार्थ कर लेंगे, परन्तु मौत का नियम थोड़ेही है। कलकल करते मर जायेंगे इसलिए ऐसे मत समझो बहुत वर्ष पड़े हैं, पिछाड़ी में गैलप कर लेंगे। यह ख्याल और ही गिरा देगा। जितना हो सके याद में रहने का पुरुषार्थ कर, श्रीमत पर अपना कल्याण करते रहो। रूहानी खुदाई खिदमतगार बच्चे रूहों को सैलवेज करने, पतितों को पावन बनाने की सेवा करते रहेंगे।
गीतः
ओम् नमो शिवाए........   
ओम् शान्ति।
यह तो बच्चों को समझाया गया है निराकार बाप साकार बिगर कोई भी कर्म नहीं कर सकते हैं। पार्ट बजा नहीं सकते। रूहानी बाप आकर ब्रह्मा द्वारा रूहानी बच्चों को समझाते हैं। योगबल से ही बच्चों को सतोप्रधान बनना है फिर सतोप्रधान विश्व का मालिक बनना है। यह बच्चों की बुद्धि में है। कल्प-कल्प बाप आकरके राजयोग सिखलाते हैं। ब्रह्मा द्वारा आकर आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करते हैं। यानी मनुष्य को देवता बनाते हैं। मनुष्य जो देवी-देवता थे सो अब बदलकर शूद्र पतित बन पड़े हैं। भारत जब पारसपुरी था तो पवित्रता-सुख-शान्ति सब थी। यह 5 हज़ार वर्ष की बात है। एक्यूरेट हिसाब-किताब बाप बैठ समझाते हैं। उनसे ऊंच तो कोई है नहीं। सृष्टि वा झाड़, जिसको कल्प वृक्ष कहते हैं, उसके आदि-मध्य-अन्त का राज़ बाप ही बता सकते हैं। भारत का जो देवी-देवता धर्म था वह अब प्रायःलोप हो गया है। देवी-देवता धर्म तो अभी रहा नहीं है। देवताओं के चित्र जरूर हैं। यह तो भारतवासी जानते हैं। सतयुग में लक्ष्मीनारा यण का राज्य था। भल शास्त्रों में यह भूल कर दी है जो कृष्ण को द्वापर में ले गये हैं। बाप ही आकर भूले हुए को पूरा रास्ता बताते हैं। रास्ता बतलाने वाला आता है तो सब आत्मायें मुक्तिधाम में चली जाती हैं इसलिए उनको कहा जाता है सर्व का सद्गति दाता। रचता एक ही होता है। एक ही सृष्टि है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी एक ही है, वह रिपीट होती रहती है। सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग फिर होता है संगमयुग। कलियुग में हैं पतित, सतयुग में हैं पावन। सतयुग होगा तो जरूर कलियुग विनाश होगा। विनाश से पहले स्थापना होगी। सतयुग में तो स्थापना नहीं होगी। भगवान आयेगा ही तब जब पतित दुनिया है। सतयुग तो है ही पावन दुनिया। पतित दुनिया को पावन दुनिया बनाने भगवान को आना पड़ता है। अब बाप सहज से सहज युक्ति बताते हैं। देह के सब सम्बन्ध छोड़ देही-अभिमानी बन बाप को याद करो। कोई एक तो पतित-पावन है ना। भक्तों को फल देने वाला एक ही भगवान है। भक्तों को ज्ञान देते हैं। पतित दुनिया में ज्ञान सागर ही आते हैं पावन बनाने लिए। पावन बनते हो योग से। बाप बिगर तो कोई पावन बना न सके। यह सब बातें बुद्धि में बिठाई जाती हैं औरों को समझाने के लिए। घर-घर में सन्देश देना है। ऐसे नहीं कहना है कि भगवान आया है। बड़ा युक्ति से समझाना होता है। बोलो, वह बाप है ना। एक है लौकिक बाप, दूसरा पारलौकिक बाप। दुःख के समय पारलौकिक बाप को ही याद करते हैं। सुखधाम में कोई भी याद नहीं करते हैं। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण के राज्य में सुख ही सुख था। प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी थी। बाप का वर्सा मिल गया फिर पुकारते क्यों। आत्मा जानती है हमको सुख है। यह तो कोई भी कहेंगे वहाँ सुख ही सुख है। बाप ने दुःख के लिए तो सृष्टि नहीं रची है। यह बना-बनाया खेल है। जिनका पार्ट पिछाड़ी में है, 2-4 जन्म लेते हैं वह जरूर बाकी समय शान्ति में रहेंगे। बाकी ड्रामा के खेल से ही निकल जाएं, यह हो नहीं सकता। खेल में तो सबको आना होगा। एक-दो जन्म मिलते हैं। तो बाकी समय जैसेकि मोक्ष में हैं। आत्मा पार्टधारी है ना। कोई आत्मा को ऊंच पार्ट मिला हुआ है कोई को कम। यह भी अभी तुम जानते हो, गाया जाता है ईश्वर का कोई अन्त नहीं पा सकते। बाप ही आकर अन्त देते हैं रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का। जब तक रचता खुद न आये तब तक रचता और रचना को जान नहीं सकते। बाप ही आकर बतलाते हैं। मैं साधारण तन में प्रवेश करता हूँ। मैं जिसमें प्रवेश करता हूँ वह अपने जन्मों को नहीं जानते। उनको बैठ 84 जन्मों की कहानी सुनाता हूँ। कोई के पार्ट में चेंज नहीं हो सकती। यह बना-बनाया खेल है। यह भी किसकी बुद्धि में नहीं बैठता है। बुद्धि में तब बैठे जब पवित्र होकर समझें। अच्छी रीति समझने के लिए ही 7 रोज़ भट्ठी है। भागवत आदि भी 7 दिन रखते हैं। यहाँ भी समझ में आता है– कम से कम 7 दिन के सिवाए कोई समझ नहीं सकेंगे। कोई-कोई तो अच्छा समझ लेते हैं। कोई-कोई तो 7 रोज समझकर भी कुछ नहीं समझते। बुद्धि में बैठता नहीं। कह देते हैं हम तो 7 रोज़ आया। हमारी बुद्धि में कुछ बैठता नहीं। ऊंच पद पाना नहीं होगा तो बुद्धि में बैठेगा नहीं। अच्छा फिर भी उनका कल्याण तो हुआ ना। प्रजा तो ऐसे ही बनती है। बाकी राज्य-भाग्य लेना उसमें तो गुप्त मेहनत है। बाप को याद करने से ही विकर्म विनाश होते हैं। अब करो न करो परन्तु बाप का डायरेक्शन यह है। प्यारी वस्तु को तो याद किया जाता है ना। भक्ति मार्ग में भी गाते हैं हे पतित-पावन आओ। अब वह मिला है, कहते हैं मुझे याद करो तो कट उतर जायेगी। बादशाही सहज थोड़ेही मिल सकती। कुछ तो मेहनत होगी ना। याद में ही मेहनत है। मुख्य है ही याद की यात्रा। बहुत याद करने वाले कर्मातीत अवस्था को पा लेते हैं। पूरा याद न करने से विकर्म विनाश नहीं होंगे। योगबल से ही विकर्माजीत बनना है। आगे भी योगबल से ही विकर्मों को जीता है। लक्ष्मी-नारायण इतने पवित्र कैसे बनें जबकि कलियुग अन्त में कोई भी पवित्र नहीं हैं। इसमें तो साफ है, यह गीता के ज्ञान का एपीसोड रिपीट हो रहा है। शिव भगवानुवाच भूलें तो होती रहती हैं ना। बाप ही आकर अभुल बनाते हैं। भारत के जो भी शास्त्र हैं वो सब हैं भक्ति मार्ग के। बाप कहते हैं मैंने जो कहा था वह किसको भी पता नहीं है। जिन्हों को कहा था उन्होंने पद पाया। 21 जन्मों की प्रालब्ध पाई फिर ज्ञान प्रायःलोप हो जाता है। तुम ही चक्र लगाकर आये हो। कल्प पहले जिन्होंने सुना है वही आयेंगे। अभी तुम जानते हो हम सैपलिंग लगा रहे हैं, मनुष्य को देवता बनाने का। यह है दैवी झाड़ का सैपलिंग। वो लोग फिर उन झाड़ों का सैपलिंग बहुत लगाते रहते हैं। बाप आकर कान्ट्रास्ट बताते हैं। बाप दैवी फूलों का सैपलिंग लगाते हैं। वे तो जंगल का सैपलिंग लगाते रहते हैं। तुम दिखाते भी हो– कौरव क्या करत भये, पाण्डव क्या करत भये। उनके क्या प्लैन हैं और तुम्हारे क्या प्लैन्स हैं। वो अपना प्लैन बनाते हैं कि दुनिया बढ़े नहीं। फैमिली प्लैनिंग करें जो मनुष्य जास्ती न बढ़ें, उसके लिए मेहनत करते रहते हैं। बाप तो बहुत अच्छी बात बतलाते हैं, अनेक धर्म विनाश हो जायेंगे और एक ही देवी-देवता धर्म की फैमिली स्थापन करते हैं। सतयुग में एक ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म की फैमिली थी और इतनी फैमिलीज़ थी नहीं। भारत में कितनी फैमिली हैं। गुजराती फैमिली, महाराष्ट्रियन फैमिली..... वास्तव में भारतवासियों की एक फैमिली होनी चाहिए। बहुत फैमिलीज़ होंगी तो जरूर आपस में खिटपिट ही रहेगी। फिर सिविलवार हो जाती है। फैमिली में भी सिविलवार हो जाती है। जैसे क्रिश्चियन की अपनी फैमिली है। उन्हों की भी आपस में लगती है। आपस में दो-भाई नहीं मिलते, पानी भी बांटा जाता है। सिक्ख धर्म वाले समझेंगे हम अपने सिक्ख धर्म वालों को जास्ती सुख दें, रग जाती है तो माथा मारते रहते हैं। जब अन्त होती है तो फिर सिविलवार आदि सब आ जाती हैं। आपस में लड़ने लग पड़ते हैं। विनाश तो होना ही है। बॉम्बस ढेर बनाते रहते हैं। बड़ी लड़ाई जब लगी थी जिसमें दो बॉम्बस छोड़े थे, अभी तो ढेर बनाये हैं। समझ की बात है ना। तुमको समझाना है यह लड़ाई वही महाभारत की है। बड़े-बड़े लोग जो भी हैं, कहते हैं अगर इस लड़ाई को बन्द नहीं किया तो सारी दुनिया को आग लग जायेगी। आग तो लगनी ही है, यह तुम जानते हो। बाप आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना कर रहे हैं। राजयोग है ही सतयुग का। वह देवी-देवता धर्म अब प्रायःलोप है। चित्र भी बने हैं। बाप कहते हैं कल्प पहले मुआफिक जो विघ्न पड़ने होंगे वह पड़ेंगे। पहले थोड़ेही पता पड़ता है। फिर समझा जाता है कल्प पहले ऐसे हुआ होगा। यह बना बनाया ड्रामा है। ड्रामा में हम बांधे हुए हैं। याद की यात्रा को भूल नहीं जाना चाहिए, इनको परीक्षा कहा जाता है। याद की यात्रा में ठहर नहीं सकते हैं, थक जाते हैं। गीत है ना– रात के राही...... इसका अर्थ कोई समझ न सके। यह है याद की यात्रा। जिससे रात पूरी हो दिन आ जायेगा। आधाकल्प पूरा हो फिर सुख शुरू होगा। बाप ने ही मनमनाभव का अर्थ भी समझाया है। सिर्फ गीता में कृष्ण का नाम डालने से वह ताकत नहीं रही है। अब कल्याण तो सबका होना है। गोया हम सब मनुष्य मात्र का कल्याण कर रहे हैं। भारत खास और दुनिया आम। सबका श्रीमत पर हम कल्याण कर रहे हैं। कल्याणकारी जो बनेंगे तो वर्सा भी उनको मिलेगा। याद की यात्रा के सिवाए कल्याण हो न सके।

अभी तुमको समझाया जाता है, वह तो बेहद का बाप है। बाप से वर्सा मिला था। भारतवासियों ने ही 84 जन्म लिए हैं। पुनर्जन्म का भी हिसाब है। कोई समझते नहीं कि 84 जन्म कौन लेते हैं। अपने ही श्लोक आदि बनाकर सुनाते रहते हैं। गीता वही, टीकायें अनेक लिख देते हैं। गीता से तो भागवत बड़ा कर दिया है। गीता में है ज्ञान। भागवत में है जीवन कहानी। वास्तव में बड़ी गीता होनी चाहिए। ज्ञान का सागर बाप है, उनका ज्ञान तो चलता ही रहता है। वह गीता तो आधा घण्टा में पढ लेते हैं। अभी तुम लिखते हो ज्ञान सुनते ही आते हो। दिन-प्रतिदिन तुम्हारे पास आते रहेंगे। धीरे-धीरे आयेंगे। अभी ही अगर बड़े-बड़े राजायें आ जाएं फिर तो देरी न लगे। झट आवाज़ निकल जाए इसलिए युक्ति से धीरे-धीरे चलता रहता है। यह है ही गुप्त ज्ञान। किसको पता नहीं है कि यह क्या कर रहे हैं। रावण के साथ तुम्हारी युद्ध कैसे है। यह तो तुम ही जानो और कोई जान न सके। भगवानुवाच– तुम सतोप्रधान बनने के लिए मुझे याद करो तो पाप नाश हो जायेंगे। पवित्र बनो तब तो साथ ले जाऊं। जीवनमुक्ति सबको मिलनी है। रावण राज्य से मुक्ति हो जायेगी। तुम लिखते भी हो हम शिव शक्ति ब्रह्माकुमार-कुमारियां, श्रेष्ठाचारी दुनिया स्थापन करेंगे। परमपिता परमात्मा की श्रीमत पर, 5 हज़ार वर्ष पहले मुआफिक। 5 हज़ार वर्ष पहले श्रेष्ठाचारी दुनिया थी। यह बुद्धि में बिठाना चाहिए। मुख्य-मुख्य प्वाइंटस बुद्धि में धारण होंगी तब याद की यात्रा में रहेंगे। पत्थरबुद्धि हैं ना। कोई समझते हैं अभी टाइम पड़ा है पीछे पुरूषार्थ कर लेंगे। परन्तु मौत का नियम थोड़ेही है। कल मर जाएं तो कल-कल करते मर जायेंगे। पुरूषार्थ तो किया नहीं इसलिए ऐसे मत समझो बहुत वर्ष पड़े हैं। पिछाड़ी में गैलप कर लेंगे। यह ख्याल और ही गिरा देंगे। जितना हो सके पुरूषार्थ करते रहो। श्रीमत पर हर एक को अपना कल्याण करना है। अपनी जांच करनी है। कितना बाप को याद करता हूँ और कितना बाप की सर्विस करता हूँ! रूहानी खुदाई खिदमतगार तुम हो ना। तुम रूहों को सैलवेज करते हो। रूह पतित से पावन कैसे बने, उसकी युक्तियां बतलाते हैं। दुनिया में अच्छे और बुरे मनुष्य तो होते ही हैं, हर एक का पार्ट अपना-अपना है। यह है बेहद की बात। मुख्य टाल टालियां ही गिनी जाती हैं। बाकी तो पत्ते अनेक हैं। बाप समझाते रहते हैं– बच्चे मेहनत करो। सबको बाप का परिचय दो तो बाप से बुद्धियोग जुट जाए। बाप सब बच्चों को कहते हैं, पवित्र बनो तो मुक्तिधाम में चले जायेंगे। दुनिया को थोड़ेही पता है कि महाभारत लड़ाई से क्या होगा। यह ज्ञान यज्ञ रचा गया है क्योंकि नई दुनिया चाहिए। हमारा यज्ञ पूरा होगा तो सब इस यज्ञ में स्वाहा हो जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) यह बना बनाया ड्रामा है इसलिए विघ्नों से घबराना नहीं है। विघ्नों में याद की यात्रा को भूल नहीं जाना है। ध्यान रहे– याद की यात्रा कभी ठहर न जाए।
2) पारलौकिक बाप का परिचय सबको देते हुए पावन बनने की युक्ति बतलानी है। दैवी झाड़ का सैपलिंग लगाना है।
वरदान:
करावनहार की स्मृति से सेवा में सदा निर्माण का कार्य करने वाले कर्मयोगी भव!   
कोई भी कर्म, कर्मयोगी की स्टेज में परिवर्तन करो, सिर्फ कर्म करने वाले नहीं लेकिन कर्मयोगी हैं। कर्म अर्थात् व्यवहार और योग अर्थात् परमार्थ दोनों का बैलेन्स हो। शरीर निर्वाह के पीछे आत्मा का निर्वाह भूल न जाए। जो भी कर्म करो वह ईश्वरीय सेवा अर्थ हो। इसके लिए सेवाओं में निमित्त मात्र का मंत्र वा करनहार की स्मृति का संकल्प सदा याद रहे। करावनहार भूले नहीं तो सेवा में निर्माण ही निर्माण करते रहेंगे।
स्लोगन:
सेवा व सम्बन्ध-सम्पर्क में विघ्न पड़ने का कारण है पुराने संस्कार, उन संस्कारों से वैराग्य हो।