Thursday, July 2, 2015

Murli 03 July 2015

Sweet children, you have to become true Vaishnavs. True Vaishnavs have a pure diet and also remain pure.  
Question:

By transforming which weakness into a virtue can your boat go across?

Answer:

Attachment is the biggest weakness. Because of attachment, the remembrance of relatives troubles you. (There is the example of a monkey.) When a relative dies, they continue to remember him for 12 months. They cover their faces and continue to weep because they constantly remember him. If you were troubled by remembrance of the Father and remembered Him day and night in the same way, your boat would go across. It would be your great fortune for you to remember the Father in the same way as you remember your physical relatives!

Essence for Dharna:

1. The Father uplifts those who defame Him. Therefore, follow the Father! When someone says anything, listen but do not listen. Simply continue to smile. Only listen to the one Father.

2. Become bestowers of happiness and give happiness to everyone. Don't fight or quarrel amongst yourselves. Become wise and fill your aprons with the imperishable jewels of knowledge.

Blessing:

May you become a conqueror of Maya and make Maya your devotee by experiencing the stage of being lost in love.  

In order to experience the stage of being lost in love, keep in your awareness your many titles and forms, your decoration of many virtues, your many types of happiness, spiritual intoxication, points of the Creator and the expansion of creation and points of your attainments. Churn your likes and you will easily be able to experience the stage of being lost in love and you will then never be influenced by anyone else. Maya will bow down to you for all time. Maya will become the first devotee of the confluence age. When you become a conqueror of Maya and a master god, Maya will then become a devotee.

Slogan:

Let your words and your activity be the same as those of Father Brahma and you will then be called a true Brahmin.  

Om Shanti
_________________________


03/07/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, you have to become true Vaishnavs. True Vaishnavs have a pure diet and also remain pure.   
Question:
By transforming which weakness into a virtue can your boat go across?
Answer:
Attachment is the biggest weakness. Because of attachment, the remembrance of relatives troubles you. (There is the example of a monkey.) When a relative dies, they continue to remember him for 12 months. They cover their faces and continue to weep because they constantly remember him. If you were troubled by remembrance of the Father and remembered Him day and night in the same way, your boat would go across. It would be your great fortune for you to remember the Father in the same way as you remember your physical relatives!
Om Shanti
The Father explains to the children every day: Consider yourselves to be souls and sit in remembrance of the Father. Today, Baba is adding to that: Don't just consider Him to be the Father. You also have to consider Him to be someone else. The main thing is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. He is also called God, the Father. He is the Ocean of Knowledge too. Because He is the Ocean of Knowledge, He is also the Teacher and teaches Raja Yoga. Only when this is explained can they understand that the true Father is teaching us. He tells us the practical aspect that He is the Father of everyone and also the Teacher and the Bestower of Salvation. Then, He is also called the knowledge-full One. He is the Father, Teacher, Purifier and the Ocean of Knowledge. First of all, praise the Father. He is teaching us. We are Brahma Kumars and Kumaris. Brahma too is a creation of Shiv Baba, and it is now the confluence age. The aim and objective is of Raja Yoga; He is teaching us Raja Yoga. This proves, therefore, that He is also our Teacher, and that this study is for the new world. While you are sitting here, make the things that you have to explain to others very firm. You have to inculcate this knowledge into yourselves. You know that some are able to imbibe more than others. Those who are clever in knowledge are glorified. Their status also becomes high. Baba continues to show you the precautions you have to observe. You are becoming complete Vaishnavas. Vaishnavas means those who are vegetarian; they don’t eat meat or drink alcohol etc., but they do indulge in vice. In that case what is the use of becoming a Vaishnav? They call themselves the ones who belong to the Vaishnav caste. This means that they don't eat onions and other tamoguni things. You children know what the tamoguni things are. Some people are very good. They are called religious minded or devotees. Sannyasis are called pure souls, and those who give donations etc. are called charitable souls. This proves that it is the soul that gives donations and performs charity. This is why it is said: A pure soul, a charitable soul. A soul is not immune to the effect of action. You should remember such very good terms. Saddhus are called great souls. It is not said: Great Supreme Soul. Therefore, it is wrong to say that God is omnipresent. They are all souls; there is a soul in every human being. Those who are educated try to prove that there is a soul in trees as well. They say that there is a soul in each of the 8.4 million species. They ask: How could all these things grow if there were no soul in them? The human soul cannot transmigrate into non-sentient things. Such things have been written in the scriptures. For instance, someone was pushed out of Indraprasth and turned to stone. The Father now sits here and explains. He says to the children: Break away from all bodily relations and consider yourselves to be souls. Constantly remember Me alone. You are now completing your 84th birth. You now have to become satopradhan from tamopradhan. The land of sorrow is the impure land. The land of peace and the land of happiness are pure lands. You understand this much, do you not? People bow down to the idols of the deities who resided in the land of happiness. This proves that they were pure souls in the new world of Bharat. They had a high status. Now people sing: I am without virtue, I have no virtues. It truly is like that! They have no virtues at all! Human beings have a lot of attachment. They constantly remember those who have died. It’s in their intellects: “This one was my child”. When someone's husband or child dies, she continues to remember him. A widow would remember him very well for nearly 12 months. She covers her face and continues to weep all the time. If you were to cover your face and remember the Father day and night in the same way, your boat would go across. The Father says: Just as you continue to remember your husband, remember Me in the same way and your sins will be absolved. The Father shows you different ways of doing this. Continue to check your accounts: Today, there was this much expenditure and this much profit. They calculate their balance every day. Some calculate it every month. It is most essential to do this here. The Father tells you this again and again. He says: You children are one hundred times, a thousand times, a million times, a billion times and multimillion times fortunate. The children who consider themselves to be fortunate would definitely be remembering the Father very well. They will become roses. This has to be explained in a nutshell. You have to become fragrant flowers. The main thing is remembrance. Sannyasis use the term "yoga". Your physical father wouldn’t say, "Remember me!" He wouldn’t even ask you if you were remembering him. A father remembers his children and his children remember their father all the time; that is the law. You have to be asked that here, because Maya makes you forget. When you come here, you understand that you are coming to the Father. So, there should be remembrance of the Father. This is why Baba has had these pictures created. You should also have these with you. First of all, begin with the praise of the Father: This is our Baba. In fact, He is everyone's Father. He is the Bestower of Salvation for All, the Ocean of Knowledge and the knowledge-full One. Baba is giving us the knowledge of the beginning, middle and end of the world cycle through which we become trikaldarshi. No human being in this world would be trikaldarshi. The Father says: Even Lakshmi and Narayan wouldn’t be trikaldarshi. Of what use would it be for them to be trikaldarshi? You become this and make others the same. If Lakshmi and Narayan had this knowledge, it would have continued from time immemorial. However, destruction takes place in between. Therefore, it cannot continue from time immemorial. So you children should remember this study very well. Your highest-on-high study takes place at the confluence age. When you don't stay in remembrance but become body conscious, Maya slaps you. When you have become 16 celestial degrees full, the preparations for destruction will also have been completed. They are making preparations for destruction and you are making preparations to claim your imperishable status. There wasn’t a war between the Kauravas and the Pandavas; the war is between the Kauravas and the Yadavs. Pakistan was created according to the drama. That began after you took birth. Now that the Father has come, everything has to happen in a practical way. It is of here that it is said: Rivers of blood flow everywhere and then there will be rivers of ghee. Even now, look: they continue to fight so much! "Give us this particular city or we will start a war." "Don't pass through here. This is our path." What can they do? How would steamers be able to go across? Then they have discussions. They definitely have to ask others for advice. Whatever hopes they had of receiving help are finished for them. Civil war is fixed in the drama here. The Father now says: Sweet children, become very, very sensible. When you leave here and go back to your homes, you shouldn't forget. You come here to accumulate an income. When you bring small children here, you remain bound to them. You have come here to the shores of the Ocean of Knowledge. Therefore, the more you earn, the better it is. You should become engrossed in this. You come here to fill your aprons with the imperishable jewels of knowledge. People sing: O Innocent Lord, fill our aprons! Devotees go in front of an image of Shankar and say: Fill our aprons! They consider Shiva and Shankar to be one and the same. They say: Shiv Shankar, Mahadev (the Great Deity). So the Great Deity is to be considered greater. Small things such as this have to be understood very clearly. It is explained to you children: You are Brahmins and you are now receiving this knowledge. Human beings reform themselves by studying. Their activity and behaviour become very good. You are now studying. Those who study the most and teach others have very good manners too. You would say that Mama and Baba have the best manners. This one is the senior mother. Baba enters him and creates you children. The mother and Father are combined. These are such incognito matters! Just as you are studying, Mama too studied. She was then adopted. According to the drama, because she was very wise, she was named Saraswati. The Brahmaputra is the largest river. There is the meeting of the Brahmaputra River with the ocean. This one is the biggest river; therefore, he is also the mother. You sweetest children are uplifted so much! The Father only sees you children. He doesn't have to remember anyone else. This one's soul has to remember the Father. The father says: Both of us look at the children. I, the soul, don't have to see everything as a detached observer. However, I am in the Father's company. Therefore, I also look at everything in the same way. I am staying with the Father after all! I am His child and I look at everything with Him. I become the master of the world and tour around everywhere as though I am doing everything. I give drishti. Everything, including the body, has to be forgotten. It is as though the child and the Father become one. Therefore, the Father explains: Make a lot of effort. Truly, Mama and Baba do the most service. In a household too, the mother and father do a lot of service. Those who do service will definitely claim a high status. Therefore, you should follow them. Just as the Father uplifts those who defame Him, so you have to follow the Father in the same way. You have to understand the meaning of that. The Father says: Remember Me and don't listen to anyone else. When anyone says anything, listen but do not listen! Simply continue to smile and he will automatically cool down. Baba has told you that when someone becomes angry with you, shower flowers on him. Tell him: You are defaming me and I am uplifting you. The Father Himself says: Human beings of the whole world defame Me. They have caused Me so much defamation by saying that I am omnipresent. However, I still uplift everyone. You children are also those who have to uplift everyone. Just think about what you were and what you are going to become. You are becoming the masters of the world. You never even thought or dreamt of this! Many had visions whilst sitting at home. However, nothing happens through visions. The tree will gradually continue to grow. The sapling of the new divine tree is being planted. You children know that your garden of divine flowers is now being created. In the golden age, there will only be deities. That period is going to come again; the cycle continues to turn. You are the ones who will take 84 births. Where would other souls come from? None of the souls that are in the drama can be liberated from their parts. This cycle continues to turn. A soul never diminishes; it doesn't become bigger or smaller. The Father explains to you sweetest children. He says: Children, become bestowers of happiness. A mother would tell her children not to fight among themselves. The unlimited Father tells you children: The pilgrimage of remembrance is very easy. You have been going on those pilgrimages for birth after birth. In spite of that, you souls have continued to come down the ladder and become sinful. The Father says: This is a spiritual pilgrimage. You don't have to return to this land of death. People return from those pilgrimages but remain the same as they were before they went. You know that you are going to go to heaven. Heaven used to exist and it will exist again. This cycle has to turn. There is only the one world; there is not another world in the stars etc. People beat their heads so much to go up there to see what is there. While they are beating their heads, death will come to them. All of that is science. What will happen once they reach there? Death is standing ahead. On the one hand, they go up above and do research. On the other hand, they continue to manufacture bombs for death. Look what the intellects of human beings are like! They understand that someone is inspiring them to do all of that. They themselves say that world war will definitely take place. It will be that same Mahabharat War. The more effort you children make, the more you will benefit others. You are children of Khuda, God, anyway. God has made you His children. Therefore, you become gods and goddesses. Lakshmi and Narayan are called a goddess and a god. People believe that Krishna is God. Not as many believe in Radhe. There is praise of Saraswati, but not of Radhe. An urn has been shown on Lakshmi. They have made that mistake as well. They have given Saraswati many names. You are the same ones. You are worshipped as goddesses and you are also worshipped as souls. The Father continues to explain everything to you children. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. The Father uplifts those who defame Him. Therefore, follow the Father! When someone says anything, listen but do not listen. Simply continue to smile. Only listen to the one Father.
2. Become bestowers of happiness and give happiness to everyone. Don't fight or quarrel amongst yourselves. Become wise and fill your aprons with the imperishable jewels of knowledge.
Blessing:
May you become a conqueror of Maya and make Maya your devotee by experiencing the stage of being lost in love.   
In order to experience the stage of being lost in love, keep in your awareness your many titles and forms, your decoration of many virtues, your many types of happiness, spiritual intoxication, points of the Creator and the expansion of creation and points of your attainments. Churn your likes and you will easily be able to experience the stage of being lost in love and you will then never be influenced by anyone else. Maya will bow down to you for all time. Maya will become the first devotee of the confluence age. When you become a conqueror of Maya and a master god, Maya will then become a devotee.
Slogan:
Let your words and your activity be the same as those of Father Brahma and you will then be called a true Brahmin.   

मुरली 03 जुलाई 2015

“मीठे बच्चे - तुम्हें सच्चा-सच्चा वैष्णव बनना है, सच्चे वैष्णव भोजन की परहेज के साथ-साथ पवित्र भी रहते हैं”

प्रश्न:

कौन-सा अवगुण गुण में परिवर्तन हो जाए तो बेडा पार हो सकता है?

उत्तर:

सबसे बड़ा अवगुण है मोह। मोह के कारण सम्बन्धियों की याद सताती रहती है। (बन्दरी का मिसाल) किसी का कोई सम्बन्धी मरता है तो 12 मास तक उसे याद करते रहते हैं। मुँह ढक कर रोते रहेंगे, याद आती रहेगी। ऐसे ही अगर बाप की याद सताये, दिन-रात तुम बाप को याद करो तो तुम्हारा बेडा पार हो जायेगा। जैसे लौकिक सम्बन्धी को याद करते ऐसे बाप को याद करो तो अहो सौभाग्य...।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) जैसे बाप अपकारी पर भी उपकार करते हैं, ऐसे फालो फादर करना है। कोई कुछ बोले तो सुना अनसुना कर देना है, मुस्कराते रहना है। एक बाप से ही सुनना है।

2) सुखदाई बन सबको सुख देना है, आपस में लड़ना-झगड़ना नहीं है। समझदार बन अपनी झोली अविनाशी ज्ञान रत्नों से भरपूर करनी है।

वरदान:

मगन अवस्था के अनुभव द्वारा माया को अपना भक्त बनाने वाले मायाजीत भव!

मगन अवस्था का अनुभव करने के लिए अपने अनेक टाइटल वा स्वरूप, अनेक गुणों के श्रृंगार, अनेक प्रकार के खुशी की, रूहानी नशे की, रचता और रचना के विस्तार की पाइंटस, प्राप्तियों की पाइंटस स्मृति में रखो। जो आपकी पसन्दी हो उस पर मनन करो तो मगन अवस्था सहज अनुभव होगी, फिर कभी परवश नहीं होंगे, माया सदा के लिए नमस्कार करेगी। संगमयुग का पहला भक्त माया बन जायेगी। जब आप मायाजीत मास्टर भगवान बनेंगे तब माया भक्त बनेगी।

स्लोगन:

आपका उच्चारण और आचरण ब्रह्मा बाप के समान हो तब कहेंगे सच्चे ब्राह्मण।

ओम् शांति ।

_____________________________


03-07-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - तुम्हें सच्चा-सच्चा वैष्णव बनना है, सच्चे वैष्णव भोजन की परहेज के साथ-साथ पवित्र भी रहते हैं”   
प्रश्न:
कौन-सा अवगुण गुण में परिवर्तन हो जाए तो बेडा पार हो सकता है?
उत्तर:
सबसे बड़ा अवगुण है मोह। मोह के कारण सम्बन्धियों की याद सताती रहती है। (बन्दरी का मिसाल) किसी का कोई सम्बन्धी मरता है तो 12 मास तक उसे याद करते रहते हैं। मुँह ढक कर रोते रहेंगे, याद आती रहेगी। ऐसे ही अगर बाप की याद सताये, दिन-रात तुम बाप को याद करो तो तुम्हारा बेडा पार हो जायेगा। जैसे लौकिक सम्बन्धी को याद करते ऐसे बाप को याद करो तो अहो सौभाग्य...।
ओम् शान्ति।
बाप रोज़-रोज़ बच्चों को समझाते हैं कि अपने को आत्मा समझ बाप की याद में बैठो। आज उसमें एड करते हैं-सिर्फ बाप नहीं दूसरा भी समझना है। मुख्य बात ही यह है-परमपिता परमात्मा शिव, उनको गॉड फादर भी कहते हैं, ज्ञान सागर भी है। ज्ञान सागर होने कारण टीचर भी है, राजयोग सिखलाते हैं। यह समझाने से समझेंगे कि सत्य बाप इन्हों को पढ़ा रहे हैं। प्रैक्टिकल बात यह सुनाते हैं। वह सबका बाप भी है, टीचर भी है, सद्गति दाता भी है और फिर उनको नॉलेजफुल कहा जाता है। बाप, टीचर, पतित-पावन, ज्ञान सागर है। पहले-पहले तो बाप की महिमा करनी चाहिए। वह हमको पढ़ा रहे हैं। हम हैं ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। ब्रह्मा भी रचना है शिवबाबा की और अभी है भी संगमयुग। एम ऑब्जेक्ट भी राजयोग की है, हमको राजयोग सिखलाते हैं। तो टीचर भी सिद्ध हुआ। और यह पढ़ाई है ही नई दुनिया के लिए। यहाँ बैठे यह पक्का करो-हमको क्या-क्या समझाना है। यह अन्दर धारणा होनी चाहिए। यह तो जानते हैं कोई को जास्ती धारणा होती है, कोई को कम। यहाँ भी जो ज्ञान में जास्ती तीखे जाते हैं उनका नाम होता है। पद भी ऊंचा होता है। परहेज भी बाबा बतलाते रहते हैं। तुम पूरे वैष्णव बनते हो। वैष्णव अर्थात् जो वेजीटेरियन होते हैं। मास मदिरा आदि नहीं खाते हैं। परन्तु विकार में तो जाते हैं, बाकी वैष्णव बना तो क्या हुआ। वैष्णव कुल के कहलाते हैं अर्थात् प्याज़ आदि तमोगुणी चीज़ें नहीं खाते हैं। तुम बच्चे जानते हो-तमोगुणी चीजें क्या-क्या होती हैं। कोई अच्छे मनुष्य भी होते हैं, जिसको रिलीजस माइन्डेड वा भक्त कहा जाता है। सन्यासियों को कहेंगे पवित्र आत्मा और जो दान आदि करते हैं उनको कहेंगे पुण्य आत्मा। इससे भी सिद्ध होता है-आत्मा ही दान-पुण्य करती है इसलिए पुण्य आत्मा, पवित्र आत्मा कहा जाता है। आत्मा कोई निर्लेप नहीं है। ऐसे अच्छे-अच्छे अक्षर याद करने चाहिए। साधुओं को भी महान् आत्मा कहते हैं। महान् परमात्मा नहीं कहा जाता है। तो सर्वव्यापी कहना रांग है। सर्व आत्मायें हैं, जो भी हैं सबमें आत्मा है। पढ़े लिखे जो हैं वह सिद्ध कर बतलाते हैं झाड़ में भी आत्मा है। कहते हैं 84 लाख योनियां जो हैं उनमें भी आत्मा है। आत्मा न होती तो वृद्धि को कैसे पाती! मनुष्य की जो आत्मा है वह तो जड़ में जा नहीं सकती। शास्त्रों में ऐसी-ऐसी बातें लिख दी हैं। इन्द्रप्रस्थ से धक्का दिया तो पत्थर बन गया। अब बाप बैठ समझाते हैं, बाप बच्चों को कहते हैं देह के सम्बन्ध तोड़ अपने को आत्मा समझो। मामेकम् याद करो। बस तुम्हारे 84 जन्म अब पूरे हुए। अब तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। दु:खधाम है अपवित्र धाम। शान्तिधाम और सुखधाम है पवित्र धाम। यह तो समझते हो ना। सुखधाम में रहने वाले देवताओं के आगे माथा टेकते हैं। सिद्ध होता है भारत में नई दुनिया में पवित्र आत्मायें थी, ऊंच पद वाले थे। अभी तो गाते हैं मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। है भी ऐसे। कोई गुण नहीं हैं। मनुष्यों में मोह भी बहुत होता है, मरे हुए की भी याद रहती है। बुद्धि में आता है यह मेरे बच्चे हैं। पति अथवा बच्चा मरे तो उनको याद करते रहते। स्त्री 12 मास तक तो अच्छी रीति याद करती है, मुँह ढक कर रोती रहती है। ऐसे मुँह ढक कर अगर तुम बाप को याद करो दिन-रात तो बेडा ही पार हो जाए। बाप कहते हैं-जैसे पति को तुम याद करती रहती हो ऐसे मेरे को याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जाएं। बाप युक्तियां बतलाते हैं ऐसे-ऐसे करो।

पोतामेल देखते हैं आज इतना खर्चा हुआ, इतना फायदा हुआ, बैलेन्स रोज़ निकालते हैं। कोई मास-मास निकालते हैं। यहाँ तो यह बहुत जरूरी है, बाप ने बार-बार समझाया है। बाप कहते हैं तुम बच्चे सौभाग्यशाली, हजार भाग्यशाली, करोड़ भाग्यशाली, पदम, अरब, खरब भाग्यशाली हो। जो बच्चे अपने को सौभाग्यशाली समझते हैं, वह जरूर अच्छी तरह से बाप को याद करते रहेंगे। वही गुलाब के फूल बनेंगे। यह तो नटशेल में समझाना होता है। बनना तो खुशबूदार फूल है। मुख्य है याद की बात। सन्यासियों ने योग अक्षर कह दिया है। लौकिक बाप ऐसे नहीं कहेंगे कि मुझे याद करो या पूछे कि मुझे याद करते हो? बाप बच्चे को, बच्चा बाप को याद है ही। यह तो लॉ है। यहाँ पूछना पड़ता है क्योंकि माया भुला देती है। यहाँ आते हैं, समझते हैं हम बाप के पास जाते हैं तो बाप की याद रहनी चाहिए इसलिए बाबा चित्र भी बनाते हैं तो वह भी साथ में हो। पहले-पहले हमेशा बाप की महिमा शुरू करो। यह हमारा बाबा है, यूँ तो सबका बाप है। सर्व का सद्गति दाता, ज्ञान का सागर नॉलेजफुल है। बाबा हमको सृष्टि चक्र के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान देते हैं, जिससे हम त्रिकालदर्शी बन जाते हैं। त्रिकालदर्शी इस सृष्टि पर कोई मनुष्य हो नहीं सकता। बाप कहते हैं यह लक्ष्मी-नारायण भी त्रिकालदर्शी नहीं हैं। यह त्रिकालदर्शी बन क्या करेंगे! तुम बनते हो और बनाते हो। इन लक्ष्मी-नारायण में ज्ञान होता तो परम्परा चलता। बीच में तो विनाश हो जाता है इसलिए परम्परा तो चल न सके। तो बच्चों को इस पढ़ाई का अच्छी रीति सिमरण करना है। तुम्हारी भी ऊंच ते ऊंच पढ़ाई संगम पर ही होती है। तुम याद नहीं करते हो, देह-अभिमान में आ जाते हो तो माया थप्पड़ मार देती है। 16 कला सम्पूर्ण बनेंगे तब विनाश की भी तैयारी होगी। वह विनाश के लिए और तुम अविनाशी पद के लिए तैयारी कर रहे हो। कौरव और पाण्डवों की लड़ाई हुई नहीं, कौरवों और यादवों की लगती है। ड्रामा अनुसार पाकिस्तान भी हो गया। वह भी शुरू तब हुआ जब तुम्हारा जन्म हुआ। अब बाप आये हैं तो सब प्रैक्टिकल होना चाहिए ना। यहाँ के लिए ही कहते हैं रक्त की नदियाँ बहती हैं तब फिर घी की नदी बहेगी। अब भी देखो लड़ते रहते हैं। फलाना शहर दो नहीं तो लड़ाई करेंगे। यहाँ से पास न करो, यह हमारा रास्ता है। अब वह क्या करें। स्टीमर कैसे जायेंगे! फिर राय करते हैं। जरूर राय पूछते होंगे। मदद की उम्मीद मिली होगी, वह आपस में ही खत्म कर देंगे। यहाँ फिर सिविलवार की ड्रामा में नूँध है।

अभी बाप कहते हैं - मीठे बच्चे, बहुत-बहुत समझदार बनो। यहाँ से बाहर घर में जाने से फिर भूल नहीं जाओ। यहाँ तुम आते हो कमाई जमा करने। छोटे-छोटे बच्चों को ले आते हो तो उनके बन्धन में रहना पड़ता है। यहाँ तो ज्ञान सागर के कण्ठे पर आते हो, जितनी कमाई करेंगे उतना अच्छा है। इसमें लग जाना चाहिए। तुम आते ही हो अविनाशी ज्ञान रत्नों की झोली भरने। गाते भी हैं ना भोलानाथ भर दे झोली। भक्त तो शंकर के आगे जाकर कहते हैं झोली भर दो। वह फिर शिव-शंकर को एक समझ लेते हैं। शिव-शंकर महादेव कह देते हैं। तो महादेव बड़ा हो जाता। ऐसी छोटी-छोटी बातें बहुत समझने की हैं।

तुम बच्चों को समझाया जाता है - अभी तुम ब्राह्मण हो, नॉलेज मिल रही है। पढ़ाई से मनुष्य सुधरते हैं। चाल-चलन भी अच्छी होती है। अभी तुम पढ़ते हो। जो सबसे जास्ती पढ़ते और पढ़ाते हैं, उनके मैनर्स भी अच्छे होते हैं। तुम कहेंगे सबसे अच्छे मम्मा-बाबा के मैनर्स हैं। यह फिर हो गई बड़ी मम्मा, जिसमें प्रवेश कर बच्चों को रचते हैं। मात-पिता कम्बाइन्ड हैं। कितनी गुप्त बातें हैं। जैसे तुम पढ़ते हो वैसे मम्मा भी पढ़ती थी। उनको एडाप्ट किया। सयानी थी तो ड्रामा अनुसार सरस्वती नाम पड़ा। ब्रह्मपुत्रा बड़ी नदी है। मेला भी लगता है सागर और ब्रह्मपुत्रा का। यह बड़ी नदी ठहरी तो माँ भी ठहरी ना। तुम मीठे-मीठे बच्चों को कितना ऊंच ले जाते हैं। बाप तुम बच्चों को ही देखते हैं। उनको तो किसी को याद करना नहीं है। इनकी आत्मा को तो बाप को याद करना है। बाप कहते हैं हम दोनों, बच्चों को देखते हैं। मुझ आत्मा को तो साक्षी हो नहीं देखना है, परन्तु बाप के संग में हम भी ऐसे देखता हूँ। बाप के साथ रहता तो हूँ ना। उनका बच्चा हूँ तो साथ में देखता हूँ। मैं विश्व का मालिक बन घूमता हूँ, जैसेकि मैं ही यह करता हूँ। मैं दृष्टि देता हूँ। देह सहित सब कुछ भूलना होता है। बाकी बच्चा और बाप जैसे एक हो जाते हैं। तो बाप समझाते हैं खूब पुरूषार्थ करो। बरोबर मम्मा-बाबा सबसे जास्ती सर्विस करते हैं। घर में भी माँ-बाप बहुत सर्विस करते हैं ना। सर्विस करने वाले जरूर पद भी ऊंच पायेंगे तो फिर फालो करना चाहिए ना। जैसे बाप अपकारियों पर भी उपकार करते हैं, ऐसे तुम भी फालो फादर करो। इसका भी अर्थ समझना है। बाप कहते हैं मुझे याद करो और किसका भी नहीं सुनो। कोई कुछ बोले, सुना-अनसुना कर दो। तुम मुस्कराते रहो तो वह आपेही ठण्डा हो जायेगा। बाबा ने कहा था कोई क्रोध करे तो तुम उन पर फूल चढ़ाओ, बोलो तुम अपकार करते हो, हम उपकार करते हैं। बाप खुद कहते हैं सारी दुनिया के मनुष्य मेरे अपकारी हैं, मुझे सर्वव्यापी कहकर कितनी गाली देते हैं मैं तो सबका उपकारी हूँ। तुम बच्चे भी सबका उपकार करने वाले हो। तुम ख्याल करो-हम क्या थे, अभी क्या बनते हैं! विश्व के मालिक बनते हैं। ख्याल-ख्वाब में भी नहीं था। बहुतों को घर बैठे साक्षात्कार हुआ है। परन्तु साक्षात्कार से कुछ होता थोड़ेही है। आहिस्ते-आहिस्ते झाड़ वृद्धि को पाता रहेगा। यह नया दैवी झाड़ स्थापन हो रहा है ना। बच्चे जानते हैं हमारा दैवी फूलों का बगीचा बन रहा है। सतयुग में देवतायें ही रहते हैं सो फिर आने हैं, चक्र फिरता रहता है। 84 जन्म भी वही लेंगे। दूसरी आत्मायें फिर कहाँ से आयेंगी। ड्रामा में जो भी आत्मायें हैं, कोई भी पार्ट से छूट नहीं सकती। यह चक्र फिरता ही रहता है। आत्मा कभी घटती नहीं। छोटी-बड़ी नहीं होती है।

बाप बैठ मीठे बच्चों को समझाते हैं, कहते हैं बच्चे सुखदाई बनो। माँ कहती है ना-आपस में लड़ो-झगड़ो नहीं। बेहद का बाप भी बच्चों को कहते हैं याद की यात्रा बहुत सहज है। वह यात्रा तो जन्म-जन्मान्तर करते आये हो फिर भी सीढ़ी नीचे उतरते पाप आत्मा बनते जाते हो। बाप कहते हैं यह है रूहानी यात्रा। तुमको इस मृत्युलोक में लौटना नहीं है। उस यात्रा से तो लौटकर आते हैं फिर वैसे के वैसे बन जाते हैं। तुम तो जानते हो हम स्वर्ग में जाते हैं। स्वर्ग था फिर होगा। यह चक्र फिरना है। दुनिया एक ही है बाकी स्टार्स आदि में कोई दुनिया है नहीं। ऊपर जाकर देखने के लिए कितना माथा मारते रहते हैं। माथा मारते-मारते मौत सामने आ जायेगा। यह सब है साइंस। ऊपर जायेंगे फिर क्या होगा। मौत तो सामने खड़ा है। एक तरफ ऊपर जाकर खोज करते हैं। दूसरे तरफ मौत के लिए बॉम्ब्स बना रहे हैं। मनुष्यों की बुद्धि देखो कैसी है। समझते भी हैं कोई प्रेरक है। खुद कहते हैं वर्ल्ड वार जरूर होनी है। यह वही महाभारत लड़ाई है। अब तुम बच्चे भी जितना पुरूषार्थ करेंगे, उतना ही कल्याण करेंगे। खुदा के बच्चे तो हो ही। भगवान अपना बच्चा बनाते हैं तो तुम भगवान- भगवती बन जाते हो। लक्ष्मी-नारायण को गॉड गॉडेज कहते हैं ना। कृष्ण को गॉड मानते हैं, राधे को इतना नहीं। सरस्वती का नाम है, राधे का नाम नहीं है। कलष फिर लक्ष्मी को दिखाते हैं। यह भी भूल कर दी है। सरस्वती के भी अनेक नाम रख दिये हैं। वह तो तुम ही हो। देवियों की भी पूजा होती है तो आत्माओं की पूजा होती है। बाप बच्चों को हर बात समझाते रहते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) जैसे बाप अपकारी पर भी उपकार करते हैं, ऐसे फालो फादर करना है। कोई कुछ बोले तो सुना अनसुना कर देना है, मुस्कराते रहना है। एक बाप से ही सुनना है।
2) सुखदाई बन सबको सुख देना है, आपस में लड़ना-झगड़ना नहीं है। समझदार बन अपनी झोली अविनाशी ज्ञान रत्नों से भरपूर करनी है।
वरदान:
मगन अवस्था के अनुभव द्वारा माया को अपना भक्त बनाने वाले मायाजीत भव!   
मगन अवस्था का अनुभव करने के लिए अपने अनेक टाइटल वा स्वरूप, अनेक गुणों के श्रृंगार, अनेक प्रकार के खुशी की, रूहानी नशे की, रचता और रचना के विस्तार की पाइंटस, प्राप्तियों की पाइंटस स्मृति में रखो। जो आपकी पसन्दी हो उस पर मनन करो तो मगन अवस्था सहज अनुभव होगी, फिर कभी परवश नहीं होंगे, माया सदा के लिए नमस्कार करेगी। संगमयुग का पहला भक्त माया बन जायेगी। जब आप मायाजीत मास्टर भगवान बनेंगे तब माया भक्त बनेगी।
स्लोगन:
आपका उच्चारण और आचरण ब्रह्मा बाप के समान हो तब कहेंगे सच्चे ब्राह्मण।   
 

Wednesday, July 1, 2015

Murli 02 July 2015

Sweet children, only when a body has a soul inside it does it have any value. However, it is the body that is decorated, not the soul.

Question:

What is the duty of you children? What service do you have to do?

Answer:

Your duty is to show your equals the way to change from an ordinary woman or man into Lakshmi or Narayan. You now have to do true spiritual service of Bharat. You have each received a third eye of knowledge. Therefore, your intellect and behaviour should be very refined. There shouldn’t be the slightest attachment for anyone.

Song:

Show the path to the blind dear God!

Essence for Dharna:

1. We have now been made worth a pound by the Father. We are going to become deities. Therefore, maintain the intoxication of becoming like Narayan. Become free from bondage and do service. Don't become trapped by any bondage.

2. Become clever in knowledge and yoga and become a king of flowers like the mother and father. Also serve your equals.

Blessing:

May you be as loving and detached as a lotus and remain under the Father’s canopy of protection even in adverse situations.

At the confluence age, when the Father comes as the Server, He constantly serves you children with a canopy of protection. Within a second, of you remembering Him, you can experience His company. This canopy of protection of remembrance makes you as loving and detached as a lotus even in adverse situations; it does not take any effort. By bringing the Father in front of you and by remaining stable in your original stage, every type of adverse situation is transformed.

Slogan:

Do not let the curtain of any matter come between you and the Father and you will continue to experience the Father’s company.

Om Shanti

_____________________________



02/07/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, only when a body has a soul inside it does it have any value. However, it is the body that is decorated, not the soul.   
Question:
What is the duty of you children? What service do you have to do?
Answer:
Your duty is to show your equals the way to change from an ordinary woman or man into Lakshmi or Narayan. You now have to do true spiritual service of Bharat. You have each received a third eye of knowledge. Therefore, your intellect and behaviour should be very refined. There shouldn’t be the slightest attachment for anyone.
Song:
Show the path to the blind dear God!   
Om Shanti
Double Om shanti. You children have to respond with “Om shanti. Our original religion is peace. You would not go anywhere else to find peace. Human beings go to sages and holy men to attain peace of mind. However, the mind and intellect are organs of the soul. Just as these organs are of the body, so, the mind, the intellect and this eye too are organs of the soul. This eye is not like physical eyes. People say: O God, show the path to the blind! One has no experience of the Father’s love by saying “Prabhu” or “Ishwar”. Children receive an inheritance from their father. You are sitting here in front of the Father, and you are also studying. Who is teaching you? You would not say that the Supreme Soul or Prabhu is teaching you. You would say that Shiv Baba is teaching you. The word “Baba” is very simple, and it is BapDada. A soul is called a soul. In the same way, He is the Supreme Soul. He says: I am the Supreme Soul, that is, I am God, your Father. Then, according to the drama, I, the Supreme Soul, have been given the name Shiva. Everyone in the drama has to have a name. There is also the temple to Shiva. Instead of just the one name, people on the path of devotion have given many names. They continue to build many temples, but He is the same One. The Somnath Temple is so large. It has been decorated so much. The palaces etc. are also decorated a great deal. Just as souls cannot be decorated, in the same way, the Supreme Soul cannot be decorated; He is just a point. All the decoration is only of the body. The Father says: Neither am I decorated nor are souls decorated. Souls are just points. Such a tiny point cannot play a part. When a tiny soul enters a body, the body is decorated in so many different ways. Human beings have so many names. Kings and queens are decorated so much, souls are simple points. You children have now understood that it is the soul that imbibes knowledge. The Father says: I too have knowledge. The body does not have knowledge. I, the soul, have knowledge. I have to take a body in order to speak this knowledge to you. You cannot hear it without a body. The song, “Show the path to the blind dear God”, has been composed. Is it the body that has to be shown the path? No, the soul has to be shown the path. It is the soul that calls out. The body has two eyes; it cannot have three eyes. The third eye is symbolised by a tilak on the forehead. Some just put a dot and others draw a line. The dot symbolises the soul. You each receive a third eye of knowledge. Previously, none of you souls had a third eye of knowledge. No human being has this knowledge. This is why they are said to be without the eye of knowledge. Although everyone has physical eyes, no one in the whole world has a third eye. You are the most elevated Brahmin caste. You know how much difference there is between the path of devotion and the path of knowledge. By knowing the knowledge of the Creator and the beginning, the middle and the end of creation, you become rulers of the globe. Those who study for the I.C.S. claim a very high status. However, here, you don't become an M.P. etc. by studying. Here, M.P.s are elected; they become M.P.s etc. on the basis of the votes they receive. You souls are now receiving shrimat from the Father. No one else can say: I am giving directions to souls. All of them are body conscious. Only the Father comes and teaches you to become soul conscious. All are body conscious. Human beings take so much pride in their bodies. Here, the Father only looks at souls. Bodies are perishable, not worth a penny! At least the skin of animals can be sold. The bodies of human beings are of no use at all! The Father now comes and makes you worth a pound. You children know that you are now becoming deities. Therefore, you should have the intoxication of that. However, your intoxication remains numberwise according to the effort each of you makes. People have intoxication of wealth too. You children are now becoming very wealthy; you are earning huge incomes. You are praised in many ways. You are creating the garden of flowers. The golden age is called the garden of flowers. No one knows when that sapling is planted. The Father is explaining to you. People call out: O Master of the Garden, come! He would not be called the Gardener. You children who look after centres are called gardeners. There are many types of gardener. There is only the one Master of the Garden. The gardener of the Mughal Gardens must receive a very high salary. He has created such beautiful gardens that everyone goes there to see them. The Mughals were very fond of such things. When the wife of Shah Jahan died, he built the Taj Mahal in her memory. Their names are still remembered. They have created such beautiful memorials. So, the Father explains that human beings are praised so much. Human beings are human beings. Many human beings die in war. Then, what is done to them? Petrol or kerosene is poured on all the bodies to burn them. Some remain lying there just like that; they are not buried; there is no respect at all. You children should now have the intoxication of becoming Narayan. This is the intoxication of becoming a master of the world. This is the story of the true Narayan. Therefore, you would definitely become Narayan. Each of you souls receives a third eye of knowledge. It is the Father who gives it. There is also the story of the third eye. The Father sits here and explains the meaning of all these stories. Those who relate these stories don't know anything at all. They also tell the story of immortality. They go so far to Amarnath. The Father comes here and tells you this story. He doesn't relate it from up above. It wasn't that He sat up there and related the story of immortality to Parvati. All the devotional stories that have been made up are fixed in the drama. That will happen again. The Father sits here and shows you children the contrast between knowledge and devotion. You have now each received a third eye of knowledge. They say: O God, show the path to the blind! They call out on the path of devotion. The Father comes and gives each of you a third eye of knowledge. No one except you knows about this. Someone who doesn't have a third eye of knowledge is called one-eyed or half blind. The eyes of people are different. Some people's eyes are very beautiful. They are given prizes because of their beauty. They are called "Miss India" or "Miss So-and-so". Look what the Father is now making you into from what you were. There is natural beauty there. Why is Krishna praised so much? Because he becomes the most beautiful one of all. He claims the number one karmateet stage. This is why his praise is number one. The Father sits here and explains all of this to you. The Father says again and again: Children, manmanabhav! O souls, remember your Father! It is numberwise amongst you children too. For instance, when a father has five children, if one is very sensible, he would be number one. They would be like beads of a rosary. He would say: This one is the second number and this one is the third number. They can never all be the same. The father's love for them would also be numberwise. That is a limited aspect. Here, it is an unlimited aspect. The behaviour and intellects of the children who have received a third eyes of knowledge are very refined. There is the king flower. Similarly, this Brahma and Saraswati are the king and queen flowers. They are clever in both knowledge and yoga. You know that you are becoming deities. Eight main ones become the eight jewels. First of all, there is the Flower, the tassel. Then there is the dual-bead, Brahma and Saraswati. People turn the beads of a rosary. In fact, you are not worshipped; you are only remembered. Flowers mustn’t be offered to you. Flowers can only be offered when bodies are pure. Here, no one's body is pure. Everyone is born through vice, and this is why they are called vicious. Lakshmi and Narayan are said to be completely viceless. Children will be born there too; it isn't that babies will be born in tubes. All of these things have to be understood. You children are made to sit here in a bhatthi for seven days. Some bricks are made very strong in a furnace, whereas others remain weak. The example of the furnace is given. How could bricks in a furnace be mentioned in the scriptures? Then, the story of the kittens is also mentioned. There is also the story of Gul-Bakavli that mentions a cat. The cat would extinguish the lamp. The same happens to you! Maya, the cat, causes obstacles. She makes your stage fall. Body consciousness is number one, and then the other vices follow. There is also a lot of attachment. A daughter would say: I will do spiritual service to make Bharat into heaven. However, because of their attachment, the parents would say: We won't allow this. There is so much attachment! You mustn't become a cat of attachment. The Father comes and makes you into a deity from an ordinary human, Narayan from an ordinary man. This is your aim and objective. Your duty is to serve your equals and to serve Bharat. You know what you were and what you have now become. Now make effort once again to become a king of kings. You know that you are establishing your own kingdom. There is no question of difficulty in this. The way destruction will take place is created in the drama. Previously, too, there was the war with missiles. Destruction will take place when all your preparations are made and all of you have become flowers. Someone is a king of flowers, others are roses and others are jasmine. Each of you can understand yourself and realise whether you are an uck flower or another type of flower. There are many who are unable to imbibe any knowledge at all. Everyone is numberwise; they would become from completely the highest to completely the lowest. The kingdom is created here. In the scriptures, the Pandavas have been portrayed melting away. Nothing is known of what happened afterwards. Many stories have been written, but nothing like that happened. The intellects of you children are now becoming so clean. Baba continues to explain to you in many different ways. It is so easy! Simply remember the Father and your inheritance. The Father says: I alone am the Purifier. Both you, the soul, and your body are impure. You now have to become pure. When a soul becomes pure, the body too becomes pure. You have to make a lot of effort. The Father says: Some children are very weak. They forget to remember the Father. Baba relates his own experience: While having my meal, I remember that Shiv Baba is feeding me. Then, I forget and then I suddenly remember again. You too are numberwise, according to the effort you make. Some are free from bondage, but they then become trapped. They even adopt children. You children have now found the Father who gives you the third eye of knowledge. They have referred to this as the story of receiving the third eye. You are now becoming theists from atheists. You children know that the Father is a point. He is the Ocean of Knowledge. People say that He is beyond name and form. Oh! but since He is the Ocean of Knowledge, He would definitely be the One who speaks that knowledge. His form is also shown as an oval image. Therefore, how could He be beyond name and form? He has been given hundreds of names. All of this knowledge should remain in your intellects very well. It is said that God is the Ocean of Knowledge. Even if the whole forest were made into pens and the ocean into ink, there would be no end to the knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. We have now been made worth a pound by the Father. We are going to become deities. Therefore, maintain the intoxication of becoming like Narayan. Become free from bondage and do service. Don't become trapped by any bondage.
2. Become clever in knowledge and yoga and become a king of flowers like the mother and father. Also serve your equals.
Blessing:
May you be as loving and detached as a lotus and remain under the Father’s canopy of protection even in adverse situations.   
At the confluence age, when the Father comes as the Server, He constantly serves you children with a canopy of protection. Within a second, of you remembering Him, you can experience His company. This canopy of protection of remembrance makes you as loving and detached as a lotus even in adverse situations; it does not take any effort. By bringing the Father in front of you and by remaining stable in your original stage, every type of adverse situation is transformed.
Slogan:
Do not let the curtain of any matter come between you and the Father and you will continue to experience the Father’s company.   
 

मुरली 02 जुलाई 2015

“मीठे बच्चे-इस शरीर की वैल्यु तब है जब इसमें आत्मा प्रवेश करे, लेकिन सजावट शरीर की होती, आत्मा की नहीं”

प्रश्न:

तुम बच्चों का फ़र्ज़ क्या है? तुम्हें कौन-सी सेवा करनी है?

उत्तर:

तुम्हारा फ़र्ज़ है - अपने हमजिन्स को नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनने की युक्ति बताना। तुम्हें अब भारत की सच्ची रूहानी सेवा करनी है। तुम्हें ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है तो तुम्हारी बुद्धि और चलन बड़ी रिफाइन होनी चाहिए। किसी में मोह ज़रा भी न हो।

गीतः

नयन हीन को राह दिखाओ.............

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) अभी हम बाप द्वारा बर्थ पाउण्ड बने हैं, हम सो देवता बनने वाले हैं, इसी नारायणी नशे में रहना है, बन्धन-मुक्त बन सेवा करनी है। बन्धनों में फंसना नहीं है।

2) ज्ञान-योग में तीखे बन मात-पिता समान किंग आफ फ्लावर बनना है और अपने हमजिन्स की भी सेवा करनी है।

वरदान:

बाप की छत्रछाया के नीचे नाज़ुक परिस्थितियों में भी कमल पुष्प समान न्यारे और प्यारे भव!

संगमयुग पर जब बाप सेवाधारी बन करके आते हैं तो छत्रछाया के रूप में बच्चों की सदा सेवा करते हैं। याद करते ही सेकण्ड में साथ का अनुभव होता है। यह याद की छत्रछाया कैसी भी नाज़ुक परिस्थितियों में कमल पुष्प के समान न्यारा और प्यारा बना देती है। मेहनत नहीं लगती। बाप को सामने लाने से, स्व स्थिति में स्थित होने से कैसी भी परिस्थिति परिवर्तन हो जाती है।

स्लोगन:

बातों का पर्दा बीच में आने न दो तो बाप के साथ का अनुभव होता रहेगा।

ओम् शांति ।

___________________________

02-07-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे-इस शरीर की वैल्यु तब है जब इसमें आत्मा प्रवेश करे, लेकिन सजावट शरीर की होती, आत्मा की नहीं”   
प्रश्न:
तुम बच्चों का फ़र्ज़ क्या है? तुम्हें कौन-सी सेवा करनी है?
उत्तर:
तुम्हारा फ़र्ज़ है - अपने हमजिन्स को नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनने की युक्ति बताना। तुम्हें अब भारत की सच्ची रूहानी सेवा करनी है। तुम्हें ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है तो तुम्हारी बुद्धि और चलन बड़ी रिफाइन होनी चाहिए। किसी में मोह ज़रा भी न हो।
गीतः
नयन हीन को राह दिखाओ..............  
ओम् शान्ति।
डबल शान्ति। तुम बच्चों को रेसपान्ड करना चाहिए ओम् शान्ति। हमारा स्वधर्म है शान्ति। तुम अभी शान्ति के लिए थोड़ेही कहाँ जायेंगे। मनुष्य मन की शान्ति के लिए साधू-सन्तों के पास भी जाते हैं ना। अब मन-बुद्धि तो हैं आत्मा के आरगन्स। जैसे यह शरीर के आरगन्स हैं वैसे मन, बुद्धि और चक्षु। अब चक्षु जैसे यह नयन हैं, वैसे वह नहीं हैं। कहते हैं-हे प्रभू, नयन हीन को राह बताओ। अब प्रभू वा ईश्वर कहने से वह बाप का लव नहीं आता है। बाप से तो बच्चों को वर्सा मिलता है। यहाँ तो तुम बाप के सामने बैठे हो। पढ़ते भी हो। तुमको कौन पढ़ाते हैं? तुम ऐसे नहीं कहेंगे कि परमात्मा वा प्रभू पढ़ाते हैं। तुम कहेंगे शिवबाबा पढ़ाते हैं। बाबा अक्षर तो बिल्कुल सिम्पल है। है भी बापदादा। आत्मा को आत्मा ही कहा जाता है, वैसे वह परम आत्मा है। वह कहते हैं मैं परम आत्मा यानी परमात्मा तुम्हारा बाप हूँ। फिर मुझ परम आत्मा का ड्रामा अनुसार नाम रखा हुआ है शिव। ड्रामा में सबका नाम भी चाहिए ना। शिव का मन्दिर भी है। भक्ति मार्ग वालों ने तो एक के बदले अनेक नाम रख दिये हैं। और फिर ढेर के ढेर मन्दिर बनाते रहते हैं। ची॰ज एक ही है। सोमनाथ का मन्दिर कितना बड़ा है, कितना सजाते हैं। महलों आदि की भी कितनी सजावट रखते हैं। आत्मा की तो कोई सजावट नहीं है, वैसे परम आत्मा की भी सजावट नहीं है। वह तो बिन्दी है। बाकी जो भी सजावट है, वह शरीरों की है। बाप कहते हैं-न हमारी सजावट है, न आत्माओं की सजावट है। आत्मा है ही बिन्दी। इतनी छोटी बिन्दी तो कुछ पार्ट बजा न सके। वह छोटी-सी आत्मा शरीर में प्रवेश करती है तो शरीर की कितने प्रकार की सजावट होती है। मनुष्यों के कितने नाम हैं। किंग क्वीन की सजावट कैसे होती है, आत्मा तो सिम्पुल बिन्दी है। अभी तुम बच्चों ने यह भी समझा है। आत्मा ही ज्ञान धारण करती है। बाप कहते हैं मेरे में भी ज्ञान है ना। शरीर में थोड़ेही ज्ञान होता है। मुझ आत्मा में ज्ञान है, मुझे यह शरीर लेना पड़ता है तुमको सुनाने के लिए। शरीर बिगर तो तुम सुन न सको। अब यह गीत बनाया है, नयन हीन को राह बताओ...... क्या शरीर को राह बतानी है? नहीं। आत्मा को। आत्मा ही पुकारती है। शरीर को तो दो नेत्र हैं। तीन तो हो न सकें। तीसरे नेत्र का यहाँ (मस्तक में) तिलक भी देते हैं। कोई सिर्फ बिन्दी मुआफ़िक देते हैं, कोई लकीर निकालते हैं। बिन्दी तो है आत्मा। बाकी ज्ञान का तीसरा नेत्र मिलता है। आत्मा को पहले यह ज्ञान का तीसरा नेत्र नहीं था। कोई भी मनुष्य मात्र को यह ज्ञान नहीं है, इसलिए ज्ञान नेत्रहीन कहा जाता है। बाकी यह आँखें तो सबको हैं। सारी दुनिया में कोई को यह तीसरा नेत्र नहीं है। तुम हो सर्वोत्तम ब्राह्मण कुल के। तुम जानते हो भक्ति मार्ग और ज्ञान मार्ग में कितना फ़र्क है। तुम रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानकर चक्रवर्ती राजा बनते हो। जैसे आई. सी. एस. वाले भी बहुत ऊंचा पद पाते हैं। परन्तु यहाँ कोई पढ़ाई से एम.पी. आदि नहीं बनते हैं। यहाँ तो चुनाव होते हैं, वोट्स पर एम.पी. आदि बनते हैं। अभी तुम आत्माओं को बाप की श्रीमत मिलती है। और कोई भी ऐसे नहीं कहेंगे कि हम आत्मा को मत देते हैं। वह तो सब हैं देह-अभिमानी। बाप ही आकर देही-अभिमानी बनना सिखलाते हैं। सब हैं देह-अभिमानी। मनुष्य शरीर का कितना भभका रखते हैं। यहाँ तो बाप आत्माओं को ही देखते हैं। शरीर तो विनाशी, वर्थ नाट ए पेनी है। जानवरों की तो फिर भी खाल आदि बिकती है। मनुष्य का शरीर तो कोई काम में नहीं आता। अब बाप आकर वर्थ पाउण्ड बनाते हैं।

तुम बच्चे जानते हो कि अभी हम सो देवता बन रहे हैं तो यह नशा चढ़ा रहना चाहिए। परन्तु यह नशा भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार रहता है। धन का भी नशा होता है ना। अभी तुम बच्चे बहुत धनवान बनते हो। तुम्हारी बहुत कमाई हो रही है। तुम्हारी महिमा भी अनेक प्रकार की है। तुम फूलों का बगीचा बनाते हो। सतयुग को कहा जाता है गार्डन ऑफ फ्लावर्स। इसका सैपलिंग कब लगता है-यह भी किसको पता नहीं। तुमको बाप समझाते हैं। बुलाते भी हैं-हे बागवान आओ। उनको माली नहीं कहेंगे। माली तुम बच्चे हो जो सेन्टर्स सम्भालते हो। माली अनेक प्रकार के होते हैं। बागवान एक ही है। मुगल गार्डन के माली को पगार भी इतना बड़ा मिलता होगा ना। बगीचा ऐसा सुन्दर बनाते हैं जो सब देखने आते हैं। मुगल लोग बहुत शौकीन होते थे, उनकी स्त्री मरी तो ताजमहल बनाया। उनका नाम चला आता है। कितने अच्छे- अच्छे यादगार बनाये हैं। तो बाप समझाते हैं, मनुष्य की कितनी महिमा होती है। मनुष्य तो मनुष्य ही हैं। लड़ाई में ढेर के ढेर मनुष्य मरते हैं फिर क्या करते हैं। घासलेट, पेट्रोल डाल खलास कर देते हैं। कोई तो ऐसे ही पड़े रहते हैं। दफन थोड़ेही करते हैं। कुछ भी मान नहीं। तो अब तुम बच्चों को कितना नारायणी नशा चढ़ना चाहिए। यह है विश्व के मालिकपने का नशा। सत्य नारायण की कथा है तो जरूर नारायण ही बनेंगे। आत्मा को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिलता है। देने वाला है बाप। तीजरी की कथा भी है। इन सबका अर्थ बाप बैठ समझाते हैं। कथा सुनाने वाले कुछ भी नहीं जानते। अमरकथा भी सुनाते हैं। अब अमरनाथ पर कहाँ दूर-दूर जाते हैं। बाप तो यहाँ आकर सुनाते हैं। ऊपर तो सुनाते नहीं हैं। वहाँ थोड़ेही पार्वती को बैठ अमरकथा सुनाई। यह कथायें आदि जो बनाई हैं - यह भी ड्रामा में नूँध हैं। फिर भी होगा। बाप बैठ तुम बच्चों को भक्ति और ज्ञान का कान्ट्रास्ट बताते हैं। अभी तुमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। कहते हैं ना-हे प्रभू, अन्धों को राह बताओ। भक्ति मार्ग में पुकारते हैं। बाप आकर तीसरा नेत्र देते हैं जिसका कोई को पता नहीं है सिवाए तुम्हारे। ज्ञान का तीसरा नेत्र नहीं है तो कहेंगे चूँचा, धुंधकारी। आँखें भी कोई की कैसी, कोई की कैसी होती है ना। कोई की बहुत शोभावान आँखें होती हैं। फिर उस पर इनाम भी मिलता है फिर नाम रखते हैं मिस इन्डिया, मिस फलानी। तुम बच्चों को अब बाप क्या से क्या बनाते हैं। वहाँ तो नैचुरल ब्युटी रहती है। कृष्ण की इतनी महिमा क्यों है? क्योंकि सबसे जास्ती ब्युटीफुल बनते हैं। नम्बरवन में कर्मातीत अवस्था को पाते हैं, इसलिए नम्बरवन में गायन है। यह भी बाप बैठ समझाते हैं। बाप बार-बार कहते हैं-बच्चे, मनमनाभव। हे आत्मायें अपने बाप को याद करो। बच्चों में भी नम्बरवार तो हैं ना। लौकिक बाप को भी समझो 5 बच्चे हैं, उनमें जो बहुत सयाना होगा उनको नम्बरवन रखेंगे। माला का दाना हुआ ना। कहेंगे यह दूसरा नम्बर है, यह तीसरा नम्बर है। एक जैसे कभी नहीं होते हैं। बाप का प्यार भी नम्बरवार होता है। वह है हद की बात। यह है बेहद की बात।

जिन बच्चों को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है उनकी बुद्धि और चलन आदि बड़ी रिफाइन होती है। एक किंग ऑफ फ्लावर होता है तो यह ब्रह्मा और सरस्वती किंग क्वीन फ्लावर ठहरे। ज्ञान और याद दोनों में तीखे हैं। तुम जानते हो हम देवता बनते हैं। मुख्य 8 रत्न बनते हैं। पहले-पहले है फूल। फिर युगल दाना ब्रह्मा-सरस्वती। माला सिमरते हैं ना। वास्तव में तुम्हारा पूजन नहीं है, सिमरण है। तुम्हारे ऊपर फूल नहीं चढ़ सकते हैं। फूल तब चढ़े जब शरीर भी पवित्र हो। यहाँ कोई का भी शरीर पवित्र नहीं है। सब विष से पैदा होते हैं, इसलिए विकारी कहा जाता है। इन लक्ष्मी-नारायण को कहते ही है सम्पूर्ण निर्विकारी। बच्चे तो पैदा होते होंगे ना। ऐसे तो नहीं कोई ट्यूब से बच्चा पैदा हो जायेगा। यह भी सब समझने की बातें हैं। तुम बच्चों को यहाँ 7 रोज़ भट्ठी में बिठाया जाता है। भट्ठी में ईटें कोई तो पूरी पक जाती हैं, कोई कच्ची रह जाती हैं। भट्ठी का मिसाल देते हैं। अब ईट की भट्ठी का थोड़ेही शास्त्रों में वर्णन हो सकता है। फिर उसमें बिल्ली की भी बात है। गुलबकावली की कहानी में भी बिल्ली का नाम दिखाया है। दीवे (दीपक) को बुझा देती थी। तुम्हारा भी यह हाल होता है ना। माया बिल्ली विघ्न डाल देती है। तुम्हारी अवस्था को ही गिरा देती है। देह-अभिमान है पहला नम्बर फिर और विकार आते हैं। मोह भी बहुत होता है। बच्ची कहे मैं भारत को स्वर्ग बनाने की रूहानी सेवा करूँगी, मोह वश माँ-बाप कहते हम एलाऊ नहीं करेंगे। यह भी कितना मोह है। तुम्हें मोह की बिल्ली या बिल्ला नहीं बनना है। तुम्हारी एम आबजेक्ट ही यह है। बाप आकर मनुष्य से देवता, नर से नारायण बनाते हैं। तुम्हारा भी फ़र्ज़ है अपने हमजिन्स की सेवा करना, भारत की सर्विस करना। तुम जानते हो हम क्या थे, क्या बन गये हैं। अब फिर पुरूषार्थ करो राजाओं का राजा बनने के लिए। तुम जानते हो हम अपना राज्य स्थापन करते हैं। कोई तकलीफ की बात नहीं। विनाश के लिए भी ड्रामा में युक्ति रची हुई है। आगे भी मूसलों से लड़ाई लगी थी। जब तुम्हारी पूरी तैयारी हो जायेगी सब फूल बन जायेंगे तब विनाश होगा। कोई किंग ऑफ फ्लावर हैं, कोई गुलाब, कोई मोतिया हैं। हर एक अपने को अच्छी रीति समझ सकते हैं कि हम अक हैं वा फूल हैं? बहुत हैं जिनको ज्ञान की कुछ धारणा नहीं होती है। नम्बरवार तो बनेंगे ना। या तो बिल्कुल हाइएस्ट, या तो बिल्कुल लोएस्ट। राजधानी यहाँ ही बनती है। शास्त्रों में तो दिखाया है पाण्डव गल मरे फिर क्या हुआ, कुछ भी पता नहीं। कथायें तो बहुत बनाई हैं, ऐसी कोई बात है नहीं। अभी तुम बच्चे कितने स्वच्छ बुद्धि बनते हो। बाबा तुमको बहुत प्रकार से समझाते रहते हैं। कितना सहज है। सिर्फ बाप को और वर्से को याद करना है। बाप कहते हैं मैं ही पतित-पावन हूँ। तुम्हारी आत्मा और शरीर दोनों पतित हैं। अब पावन बनना है। आत्मा पवित्र बनती है तो शरीर भी पवित्र बनता है। अभी तुमको बहुत मेहनत करनी है। बाप कहते हैं-बच्चे बहुत कमज़ोर हैं। याद भूल जाती है। बाबा खुद अपना अनुभव बताते हैं। भोजन पर याद करता हूँ-शिवबाबा हमको खिलाते हैं फिर भूल जाते हैं। फिर स्मृति में आता है। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार हैं। कोई तो बन्धनमुक्त होते हुए भी फिर फँस मरते हैं। धर्म के भी बच्चे बना देते हैं। अभी तुम बच्चों को ज्ञान का तीसरा नेत्र देने वाला बाप मिला हुआ है-इनको फिर नाम दिया है तीजरी की कथा अर्थात् तीसरा नेत्र मिलने की कथा। अब तुम नास्तिक से आस्तिक बनते हो। बच्चे जानते हैं बाप बिन्दी है। ज्ञान का सागर है। वह तो कह देते नाम-रूप से न्यारा है। अरे, ज्ञान का सागर तो जरूर ज्ञान सुनाने वाला होगा ना। इनका रूप भी लिंग दिखाते हैं फिर उनको नाम-रूप से न्यारा कैसे कहते! सैकड़ों नाम रख दिये हैं। बच्चों की बुद्धि में यह सारा ज्ञान अच्छी रीति रहना चाहिए। कहते भी हैं परमात्मा ज्ञान का सागर है। सारा जंगल कलम बनाओ तो भी अन्त नहीं हो सकता है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) अभी हम बाप द्वारा बर्थ पाउण्ड बने हैं, हम सो देवता बनने वाले हैं, इसी नारायणी नशे में रहना है, बन्धन-मुक्त बन सेवा करनी है। बन्धनों में फंसना नहीं है।
2) ज्ञान-योग में तीखे बन मात-पिता समान किंग आफ फ्लावर बनना है और अपने हमजिन्स की भी सेवा करनी है।
वरदान:
बाप की छत्रछाया के नीचे नाज़ुक परिस्थितियों में भी कमल पुष्प समान न्यारे और प्यारे भव!   
संगमयुग पर जब बाप सेवाधारी बन करके आते हैं तो छत्रछाया के रूप में बच्चों की सदा सेवा करते हैं। याद करते ही सेकण्ड में साथ का अनुभव होता है। यह याद की छत्रछाया कैसी भी नाज़ुक परिस्थितियों में कमल पुष्प के समान न्यारा और प्यारा बना देती है। मेहनत नहीं लगती। बाप को सामने लाने से, स्व स्थिति में स्थित होने से कैसी भी परिस्थिति परिवर्तन हो जाती है।
स्लोगन:
बातों का पर्दा बीच में आने न दो तो बाप के साथ का अनुभव होता रहेगा।   
 






Murli 01 July 2015

Sweet children, give everyone the good news that peace is once again being established in the world. The Father has come to establish the one original eternal deity religion.

Question:

Why are you children repeatedly given the signal to stay in remembrance?

Answer:

Because it is only by having remembrance that you become ever healthy and ever pure. This is why, whenever you have time, stay in remembrance. Early in the morning, after bathing etc., go for a walk in solitude or sit down. Here, there is nothing but income. It is by having remembrance that you will become the masters of the world.

Essence for Dharna:

1. We Brahmins are instruments to establish peace in the world so we have to remain very, very peaceful. We have to speak very softly and with great royalty.

2. Renounce being careless and make effort for remembrance. Never become hopeless.

Blessing:

May you be a fortunate soul and fill your apron to overflowing from the open treasure-store by knowing the importance of amrit vela.

You can draw whatever line of fortune you want from the Bestower of Blessings and the Bestower of Fortune at amrit vela because He is love-full at that time in the form of the Innocent Lord of all treasures. Therefore, become a master and claim your rights. There is no lock or key on the treasure. At that time, simply let go of Maya’s game of excuses and have the one thought: However I am, whatever I am, I am Yours. Surrender your mind and intellect to the Father and be seated on your throne and you will experience all the Father’s treasures to be your treasures.

Slogan:

If selfishness is mixed into service success will also then be mixed. Therefore, become an altruistic server.

 Om Shanti

_____________________________


01/07/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, give everyone the good news that peace is once again being established in the world. The Father has come to establish the one original eternal deity religion.   
Question:
Why are you children repeatedly given the signal to stay in remembrance?
Answer:
Because it is only by having remembrance that you become ever healthy and ever pure. This is why, whenever you have time, stay in remembrance. Early in the morning, after bathing etc., go for a walk in solitude or sit down. Here, there is nothing but income. It is by having remembrance that you will become the masters of the world.
Om Shanti
You sweet children know that, at this time, everyone in the world wants peace. You continually hear the sound of people asking how there can be peace in the world. However, no one knows when there was the peace in the world that they now want. Only you children know that there was peace in the world when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Even now, people continue to build temples to Lakshmi and Narayan. You can tell anyone that there was peace in the world 5000 years ago, and that it is now being established once again. Who is establishing it? Human beings don’t know this. The Father has explained everything to you children. Therefore, you can explain this to anyone. You can write to them. However, as yet, no one has had the courage to write to anyone. You hear from the papers that everyone wants peace in the world. When a war takes place, people have a sacrificial fire for there to be peace in the world. Which sacrificial fire? They create a sacrificial fire of Rudra. You children now know that the Father, who is called Rudra Shiva, has created this sacrificial fire of knowledge. Peace is now being established in the world. There must definitely have been rulers in the golden-aged new world where there was peace. You would not say that there should be peace in the world about the incorporeal world; it is peaceful there anyway. The world is where human beings reside. The incorporeal world cannot be called the world. That is the abode of peace. Baba explains this again and again. Nevertheless, some children forget and some are able to keep it in their intellects and are thereby able to explain to others. It is very easy to explain to someone how there was peace in the world and how it is now being established once again. When it was the kingdom of the original eternal religion of the deities in Bharat, there was only that one religion. There used to be peace in the world. This is a very easy thing to explain and write about. You can even write to those who build huge temples: There used to be peace in the world 5000 years ago when it was the kingdom of those to whom you build temples. It used to be their kingdom in Bharat. There were no other religions then. This is very easy and it is a question of common sense. According to the drama, everything will be understood as you progress further. You can give this good news to everyone. Also print it on beautiful cards. There was peace in the world 5000 years ago. When it was the new world and new Bharat, it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Peace is once again being established in the world. Just by remembering these aspects, you children should remain very happy. You know that it is only by remembering the Father that you can become the masters of the world. Everything depends on the effort you children make. Baba has explained that you should stay in remembrance of Baba whenever you have time. Early in the morning, after bathing, go for a walk in solitude or sit down somewhere. Here, you just have to earn an income. This remembrance is for becoming ever pure and ever healthy. Although the sannyasis here are pure, some definitely fall ill. This is the world of disease. That is the world free from disease. Only you know this. How can anyone in the world know that everyone in heaven is free from disease? No one knows what heaven is. You now know this. Baba says: You can explain to whomever you meet. For instance, someone here may be called a king or queen, but no one here is really a king or queen. Tell them: You are not a king or queen now. This has to be removed from their intellects. The kingdom of emperor Shri Narayan and empress Shri Lakshmi is now being established. Therefore, there surely wouldn’t be any kings or queens here. They were told to forget that they were kings and queens, and that they should continue to act like ordinary human beings. They also have money and gold etc. Laws are now being passed for everything to be taken from them. They will then become like common human beings. These tactics are being created. It is remembered: Some people’s wealth remained buried underground and some people’s wealth was looted by the kings. Kings do not loot from anyone now. There are no kings anyway. It is people who loot from other people. Today’s kingdom is so wonderful! When the names of kings have completely disappeared, the kingdom is then re-established. You now understand that you are going to a place where there is peace in the world. That is the land of happiness, the satopradhan world. We are making effort to go there. You children should sit here and explain with splendour. There shouldn’t just be artificial external splendour. Nowadays, there are many who are artificial. Here, you have to become true, firm Brahma Kumars and Kumaris. You Brahmins are carrying out the task of establishing peace in the world with Father Brahma. Very peaceful and also very sweet children are needed to establish such peace, because you know that you have become instruments to establish peace in the world. So, first of all, we need to have a great deal of peace. You also have to converse very softly and with great royalty. You are totally incognito. Your intellects are filled with the treasures of the imperishable jewels of knowledge. You are the Father’s heirs. You have to fill yourselves with as many treasures as the Father has. All of His property is yours. However, when you don’t have enough courage, you are unable to take it. Only those who take it will claim a high status. You should be keen to explain to others. We have to make Bharat into heaven once again. While carrying out your business etc., you also have to do this service. This is why Baba is telling us to hurry up. In spite of that, everything happens according to the drama. Each one does everything according to his own time. You children are being inspired to make effort. You children have the faith that very little time now remains. This is our final birth and then we will be in heaven. This is the land of sorrow and it will then become the land of happiness. Of course, it will take time to become that. This destruction is not a small one. When a new home is being built, one only remembers the new home. That is a limited aspect. Relationships etc. don’t change in that. Here, the old world has to change. Then, those who have studied well will go into the royal family. Otherwise, they will become subjects. You children should have great happiness. Baba has explained that you experience happiness for 50 to 60 births. You also have a great deal of wealth in the copper age. Sorrow comes later. It is when the kings start to fight amongst themselves and split up that sorrow begins. Grain is still very cheap at first; famine comes later on. You have a great deal of wealth. From being satopradhan, you gradually become tamopradhan. Therefore, you children should have a lot of internal happiness. If you yourselves don’t have peace and happiness, how are you going to establish peace in the world? The intellects of many are peaceless. The Father comes to give the blessing of peace. He says: Remember Me. Then, with the power of this remembrance, souls that have been peaceless because of becoming tamopradhan will become satopradhan and peaceful. However, some children are unable to make effort to have remembrance. Because they don’t stay in remembrance, Maya brings many storms. If you don’t stay in remembrance and become completely pure, there will have to be punishment and the status will be destroyed. Don’t think that you will go to heaven anyway. Oh! is it good to experience a pennyworth of happiness after being beaten? People make so much effort to claim a high status. You should not think that you will be content with whatever you receive. There isn’t anyone who would not make some effort. Even fakirs (religious beggars) go begging to collect money. Everyone is hungry for money. With money, you can have every type of happiness. You children know that you are receiving limitless wealth from Baba. If you make less effort, you receive less wealth. The Father gives you wealth. People say: If I had wealth, I would travel to America etc. The more you remember the Father and do service, the more happiness you will receive. A father inspires his children to make effort in every respect and become elevated. He believes that his children will glorify the name of his family. You children have to glorify the name of God’s family and also the Father’s name. That One is the true Father, the true Teacher and the true Satguru. The Father is the Highest on High and He is also the true Satguru. You have been told that there is only one Guru and none other. The Bestower of Salvation for all is only One. Only you know this. You are now becoming those with divine intellects. You are becoming divine kings and queens of the land of divinity. It is such an easy matter to explain that Bharat was golden aged. You can explain, using the picture of Lakshmi and Narayan, how there used to be peace in the world. There used to be peace in heaven. It is now hell and there is peacelessness. This Lakshmi and Narayan reside in heaven. Krishna is called Lord Krishna. He is also called God Krishna. There are many lords. Even those who own a lot of land are called landlords. Krishna was a prince of the world where there was peace in the world. No one knows that Radhe and Krishna became Lakshmi and Narayan. So many stories have been made up about you. They cause so much upheaval. They say that you make everyone into brothers and sisters. It has been explained that you Brahmins are the mouth-born children of Prajapita Brahma. It is of you that it is said: Salutations to the Brahmins who are to become deities. Worldly brahmins say namaste to you because you are true brothers and sisters; you remain pure. Therefore, why would they not respect those who are pure? When a kumari is pure, everyone bows down at her feet. Even a visitor from outside would bow down to a kumari. Why is there so much praise for kumaris at this time? Because you are Brahma Kumars and Kumaris and the majority of you is of kumaris. The Shiv Shakti Pandava Army has been remembered. There are males in this army too, but you are remembered because the majority of you is female. Those who study well become elevated. You now know the history and geography of the whole world. It is very easy to explain the cycle. Bharat was the land of divinity and it is now the land of stone. Therefore, everyone is a lord of stone. You children know the cycle of 84 births. You now have to return home. Therefore, you also have to remember the Father so that your sins can be absolved. However, some children are unable to make enough effort for remembrance because of their carelessness. They don’t wake up early in the morning. Even if they do wake up, they don’t enjoy it. They begin to feel sleepy and go back to sleep. They become hopeless. Baba says: Children, this is a battlefield. You mustn’t become hopeless in this. You have to gain victory over Maya with the power of remembrance. You have to make effort for this. There are many good children who don’t remember the Father accurately. By keeping a chart, you can tell how much profit and loss you have made. Some say: The chart has really worked wonders on my stage. Scarcely a few write such a chart. This takes great effort. In many centres, there are even some false ones who go and sit there; they continue to perform sinful actions. When they don’t follow the Father’s directions, a lot of damage is caused. Children can’t tell whether it is the incorporeal One speaking or the corporeal one speaking. It has been explained to you children many times that you must always consider it to be Shiv Baba who is giving you directions. Your intellects will then remain connected up above. Nowadays, for an engagement, they show a photograph. They even advertise for a partner by printing a photograph with the words, “Someone from a good home is required for so-and-so.” Look at what the condition of the world has become and what it is to become! You children know that there are many ideas and opinions. You Brahmins only have one direction: The direction to establish peace in the world. You are establishing peace in the world by following shrimat. Therefore, you children have to remain very peaceful. Those who do something receive the reward of it. Otherwise, there would be a great loss. There would be that loss for birth after birth. You children have been told to look at your profit and loss account. Check your chart to see whether you caused anyone sorrow. The Father says: At this time, every second of yours is most valuable. It is not a big thing to receive a little something after experiencing punishment. Your desire is to become very wealthy. Those who were at first worthy of worship have become worshippers. Only when they have so much wealth can they build the temple to Somnath and worship Him. This too is an account. Nevertheless, it is explained to you children: There is benefit for you when you keep a chart. Note everything down. Continue to give everyone the message. Don’t just sit quietly. You can also explain on the trains and give them some literature. Tell them: This is something worth millions. When there was the kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat, there was peace in the world. The Father has now come once again to establish that kingdom. Remember the Father and your sins will be absolved and there will be peace in the world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. We Brahmins are instruments to establish peace in the world so we have to remain very, very peaceful. We have to speak very softly and with great royalty.
2. Renounce being careless and make effort for remembrance. Never become hopeless.
Blessing:
May you be a fortunate soul and fill your apron to overflowing from the open treasure-store by knowing the importance of amrit vela.   
You can draw whatever line of fortune you want from the Bestower of Blessings and the Bestower of Fortune at amrit vela because He is love-full at that time in the form of the Innocent Lord of all treasures. Therefore, become a master and claim your rights. There is no lock or key on the treasure. At that time, simply let go of Maya’s game of excuses and have the one thought: However I am, whatever I am, I am Yours. Surrender your mind and intellect to the Father and be seated on your throne and you will experience all the Father’s treasures to be your treasures.
Slogan:
If selfishness is mixed into service success will also then be mixed. Therefore, become an altruistic server.   

मुरली 01 जुलाई 2015

“मीठे बच्चे - सभी को यह खुशखबरी सुनाओ कि अब फिर से विश्व में शान्ति स्थापन हो रही है, बाप आये हैं एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करने”

प्रश्न:

तुम बच्चों को बार-बार याद में रहने का इशारा क्यों दिया जाता है?

उत्तर:

क्योंकि एवर हेल्दी और सदा पावन बनने के लिए है ही याद इसलिए जब भी टाइम मिले याद में रहो। सवेरे-सवेरे स्नान आदि कर फिर एकान्त में चक्र लगाओ या बैठ जाओ। यहाँ तो कमाई ही कमाई है। याद से ही विश्व के मालिक बन जायेंगे।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) हम विश्व में शान्ति स्थापन करने के निमित्त ब्राह्मण हैं, हमें बहुत-बहुत शान्तचित रहना है, बातचीत बहुत आहिस्ते वा रॉयल्टी से करनी है।

2) अलबेलापन छोड़ याद की मेहनत करनी है। कभी भी होपलेस नहीं बनना है।

वरदान:

अमृतवेले का महत्व जानकर खुले भण्डार से अपनी झोली भरपूर करने वाले तकदीरवान भव!

अमृतवेले वरदाता, भाग्य विधाता से जो तकदीर की रेखा खिंचवाने चाहो खिंचवा लो क्योंकि उस समय भोले भगवान के रूप में लवफुल हैं इसलिए मालिक बनो और अधिकार लो। खजाने पर कोई भी ताला-चाबी नहीं है। उस समय सिर्फ माया के बहाने बाजी को छोड़ एक संकल्प करो कि जो भी हूँ, जैसी भी हूँ, आपकी हूँ। मन बुद्धि बाप के हवाले कर तख्तनशीन बन जाओ तो बाप के सर्व खजाने अपने खजाने अनुभव होंगे।

स्लोगन:

सेवा में यदि स्वार्थ मिक्स है तो सफलता भी मिक्स हो जायेगी इसलिए नि:स्वार्थ सेवाधारी बनो।

ओम् शांति ।

_____________________________



01-07-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - सभी को यह खुशखबरी सुनाओ कि अब फिर से विश्व में शान्ति स्थापन हो रही है, बाप आये हैं एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करने”   
प्रश्न:
तुम बच्चों को बार-बार याद में रहने का इशारा क्यों दिया जाता है?
उत्तर:
क्योंकि एवर हेल्दी और सदा पावन बनने के लिए है ही याद इसलिए जब भी टाइम मिले याद में रहो। सवेरे-सवेरे स्नान आदि कर फिर एकान्त में चक्र लगाओ या बैठ जाओ। यहाँ तो कमाई ही कमाई है। याद से ही विश्व के मालिक बन जायेंगे।
ओम् शान्ति।
मीठे बच्चे जानते हैं कि इस समय सभी विश्व में शान्ति चाहते हैं। यह आवाज़ सुनते रहते हैं कि विश्व में शान्ति कैसे हो? परन्तु विश्व में शान्ति कब थी जो फिर अब चाहते हैं-यह कोई नहीं जानते। तुम बच्चे ही जानते हो विश्व में शान्ति थी जब इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अभी तक भी लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर बनाते रहते हैं। तुम कोई को भी यह बता सकते हो विश्व में शान्ति 5 हज़ार वर्ष पहले थी, अब फिर से स्थापन हो रही है। कौन स्थापन करते हैं? यह मनुष्य नहीं जानते। तुम बच्चों को बाप ने समझाया है, तुम किसको भी समझा सकते हो। तुम लिख सकते हो। परन्तु अभी तक कोई को हिम्मत नहीं है जो किसको लिखे। अखबार में आवाज़ सुनते तो हैं-सब कहते हैं विश्व में शान्ति हो। लड़ाई आदि होगी तो मनुष्य विश्व में शान्ति के लिए यज्ञ रचेंगे। कौन-सा यज्ञ? रूद्र यज्ञ रचेंगे। अभी बच्चे जानते हैं इस समय बाप जिसको रूद्र शिव भी कहा जाता है, उसने ज्ञान यज्ञ रचा है। विश्व में शान्ति अब स्थापन हो रही है। सतयुग नई दुनिया में जहाँ शान्ति थी जरूर राज्य करने वाले भी होंगे। निराकारी दुनिया के लिए तो नहीं कहेंगे कि विश्व में शान्ति हो। वहाँ तो है ही शान्ति। विश्व मनुष्यों की होती है। निराकारी दुनिया को विश्व नहीं कहेंगे। वह है शान्तिधाम। बाबा बार-बार समझाते रहते हैं फिर भी कोई भूल जाते हैं, कोई-कोई की बुद्धि में है वह समझा सकते हैं। विश्व में शान्ति कैसे थी, अब फिर कैसे स्थापन हो रही है-यह किसको समझाना बहुत सहज है। भारत में जब आदि सनातन देवी-देवता धर्म का राज्य था तो एक ही धर्म था। विश्व में शान्ति थी, यह बड़ी सहज समझाने की और लिखने की बात है। बड़े-बड़े मन्दिर बनाने वालों को भी तुम लिख सकते हो-विश्व में शान्ति आज से 5 हज़ार वर्ष पहले थी, जब इनका राज्य था, जिनके ही तुम मन्दिर बनाते हो। भारत में ही इन्हों का राज्य था और कोई धर्म नहीं था। यह तो सहज है और सयानप की बात है। ड्रामा अनुसार आगे चल सब समझ जायेंगे। तुम यह खुशखबरी सबको सुना सकते हो, छपा भी सकते हो, ब्युटीफुल कार्ड पर। विश्व में शान्ति आज से 5 हज़ार वर्ष पहले थी, जब नई दुनिया नया भारत था। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अब फिर से विश्व में शान्ति स्थापन हो रही है। यह बातें सिमरण करने से भी तुम बच्चों को बड़ी खुशी होनी चाहिए। तुम जानते हो बाप को याद करने से ही हम विश्व के मालिक बनने वाले हैं। सारा मदार तुम बच्चों के पुरूषार्थ पर है। बाबा ने समझाया है जो भी टाइम मिले बाबा की याद में रहो। सवेरे में स्नान कर फिर एकान्त में चक्र लगाओ या बैठ जाओ। यहाँ तो कमाई ही कमाई करनी है। एवर हेल्दी और सदा पावन बनने के लिए ही याद है। यहाँ भल सन्यासी पवित्र हैं, तो भी बीमार जरूर होते हैं। यह है ही रोगी दुनिया। वह है निरोगी दुनिया। यह भी तुम जानते हो। दुनिया में किसको क्या पता कि स्वर्ग में सब निरोगी होते हैं। स्वर्ग किसको कहा जाता है, कोई को पता नहीं। तुम अभी जानते हो। बाबा कहते हैं-कोई भी मिले तुम समझा सकते हो। समझो कोई राजा-रानी अपने को कहलाते हैं। अब राजा-रानी तो कोई हैं नहीं। बोलो तुम अभी राजा-रानी तो हो नहीं। यह बुद्धि से भी निकालना पड़े। महाराजा-महारानी श्री लक्ष्मी-नारायण की राजधानी तो अब स्थापन हो रही है। तो जरूर यहाँ कोई भी राजा-रानी नहीं होने चाहिए। हम राजा-रानी हैं यह भी भूल जाओ। ऑर्डनरी मनुष्यों के मुआफ़िक चलो। इन्हों के पास भी पैसे सोना आदि रहता तो है ना। अभी कायदे पास हो रहे हैं, यह सब ले लेंगे। फिर कॉमन मनुष्यों के मुआफ़िक हो जायेंगे। यह भी युक्तियां रच रहे हैं। गायन भी है ना, किसकी दबी रहे धूल में, किसकी राजा खाए. . . . अब राजा कोई की खाते नहीं हैं। राजायें तो हैं नहीं। प्रजा ही प्रजा का खा रही है। आजकल का राज्य बड़ा वन्डरफुल है। जब बिल्कुल राजाओं का नाम निकल जाता है तो फिर राजधानी स्थापन होती है। अभी तुम जानते हो-हम वहाँ जा रहे हैं जहाँ विश्व में शान्ति होती है। है ही सुखधाम, सतोप्रधान दुनिया। हम वहाँ जाने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हैं। बच्चियां भभके से बैठकर समझायें, बाहर का सिर्फ आर्टीफिशल भभका नहीं चाहिए। आजकल तो आर्टीफिशल भी बहुत निकले हैं ना। यहाँ तो पक्के ब्रह्माकुमार-कुमारियां चाहिए।

तुम ब्राह्मण ब्रह्मा बाप के साथ विश्व में शान्ति की स्थापना का कार्य कर रहे हो। ऐसे शान्ति स्थापन करने वाले बच्चे बहुत शान्तचित और बहुत मीठे चाहिए क्योंकि जानते हैं-हम निमित्त बने हैं विश्व में शान्ति स्थापन करने। तो पहले हमारे में बहुत शान्ति चाहिए। बातचीत भी बहुत आहिस्ते-आहिस्ते बड़ी रॉयल्टी से करनी है। तुम बिल्कुल गुप्त हो। तुम्हारी बुद्धि में अविनाशी ज्ञान रत्नों का खजाना भरा हुआ है। बाप के तुम वारिस हो ना। जितना बाप के पास खजाना है, तुमको भी पूरा भरना चाहिए। सारी मिलकियत आपकी है, परन्तु वह हिम्मत नहीं है तो ले नहीं सकते। लेने वाले ही ऊंच पद पायेंगे। कोई को समझाने का बड़ा शौक चाहिए। हमको भारत को फिर से स्वर्ग बनाना है। धंधा आदि करते साथ में यह भी सर्विस करनी है इसलिए बाबा जल्दी-जल्दी करते हैं। फिर भी होता तो ड्रामा अनुसार ही है। हर एक अपने टाइम पर चल रहा है, बच्चों को भी पुरूषार्थ करा रहे हैं। बच्चों को निश्चय है कि अभी बाकी थोड़ा समय है। यह हमारा अन्तिम जन्म है फिर हम स्वर्ग में होंगे। यह दु:खधाम है फिर सुखधाम हो जायेगा। बनने में टाइम तो लगता है ना। यह विनाश छोटा थोड़ेही है। जैसे नया घर बनता है तो फिर नये घर की ही याद आती है। वह है हद की बात, उसमें कोई सम्बन्ध आदि थोड़ेही बदल जाते हैं। यह तो पुरानी दुनिया ही बदलनी है फिर जो अच्छी रीति पढ़ेंगे वह राजाई कुल में आयेंगे। नहीं तो प्रजा में चले जायेंगे। बच्चों को बड़ी खुशी होनी चाहिए। बाबा ने समझाया है 50-60 जन्म तुम सुख पाते हो। द्वापर में भी तुम्हारे पास बहुत धन रहता है। दु:ख तो बाद में होता है। राजायें जब आपस में लड़ते हैं, फूट पड़ती है तब दु:ख शुरू होता है। पहले तो अनाज आदि भी बहुत सस्ते होते हैं। फैमन आदि भी बाद में पड़ती है। तुम्हारे पास बहुत धन रहता है। सतोप्रधान से तमोप्रधान में धीरे-धीरे आते हो। तो तुम बच्चों को अन्दर में बहुत खुशी रहनी चाहिए। खुद को ही खुशी नहीं होगी, शान्ति नहीं होगी तो वह विश्व में शान्ति क्या स्थापन करेंगे! बहुतों की बुद्धि में अशान्ति रहती है। बाप आते ही हैं शान्ति का वरदान देने। कहते हैं मुझे याद करो तो तमोप्रधान बनने कारण जो आत्मा अशान्त हो पड़ी है वह याद से सतोप्रधान शान्त बन जायेगी। परन्तु बच्चों से याद की मेहनत पहुँचती ही नहीं है, याद में न रहने के कारण ही फिर माया के तूफान आते हैं। याद में रहकर पूरा पावन नहीं बनेंगे तो स॰जा खानी पड़ेगी। पद भी भ्रष्ट होगा। ऐसे नहीं समझना चाहिए स्वर्ग में तो जायेंगे ना। अरे, मार खाकर पाई पैसे का सुख पाना यह कोई अच्छा है क्या। मनुष्य ऊंच पद पाने के लिए कितना पुरूषार्थ करते हैं। ऐसे नहीं कि जो मिला सो अच्छा है। ऐसा कोई नहीं होगा जो पुरूषार्थ नहीं करेगा। भीख मांगने वाले फकीर लोग भी अपने पास पैसे इकट्ठे करते हैं। पैसे के तो सभी भूखे होते हैं। पैसे से हर बात का सुख होता है। तुम बच्चे जानते हो हम बाबा से अथाह धन लेते हैं। पुरूषार्थ कम करेंगे तो धन भी कम मिलेगा। बाप धन देते हैं ना। कहते भी हैं-धन है तो अमेरिका आदि का चक्र लगाओ। तुम जितना बाप को याद करेंगे और सर्विस करेंगे उतना सुख पायेंगे। बाप हर बात में पुरूषार्थ कराते, ऊंच बनाते हैं। समझते हैं बच्चे नाम बाला करेंगे हमारे कुल का। तुम बच्चों को भी ईश्वरीय कुल का, बाप का नाम बाला करना है। यह सत बाप, सत टीचर, सतगुरू ठहरा। ऊंच ते ऊंच बाप ऊंच ते ऊंच सच्चा सतगुरू भी ठहरा। यह भी समझाया है कि गुरू एक ही होता है, दूसरा न कोई। सर्व का सद्गति दाता एक। यह भी तुम जानते हो। अभी तुम पारसबुद्धि बन रहे हो। पारसपुरी के पारसनाथ राजा-रानी बनते हो। कितनी सहज बात है। भारत गोल्डन एजड था, विश्व में शान्ति कैसे थी-यह तुम इस लक्ष्मी-नारायण के चित्र पर समझा सकते हो। हेविन में शान्ति थी। अभी है हेल। इनमें अशान्ति है। हेविन में यह लक्ष्मी-नारायण रहते हैं ना। कृष्ण को लॉर्ड कृष्णा भी कहते हैं। कृष्ण भगवान भी कहते हैं। अब लॉर्ड तो बहुत हैं, जिसके पास लैण्ड (जमीन) जास्ती होती है उनको भी कहते हैं-लैण्डलार्ड। कृष्ण तो विश्व का प्रिन्स था, जिस विश्व में शान्ति थी। यह भी किसको पता नहीं राधे-कृष्ण ही लक्ष्मी-नारायण बनते हैं।

तुम्हारे लिए लोग कितनी बातें बनाते हैं, हंगामा मचाते हैं, कहते हैं यह तो भाई-बहन बनाते हैं। समझाया जाता है प्रजापिता ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्राह्मण, जिसके लिए ही गाते हैं ब्राह्मण देवी-देवताए नम:। ब्राह्मण भी उन्हों को नमस्ते करते हैं क्योंकि वह सच्चे भाई-बहन हैं। पवित्र रहते हैं। तो पवित्र की क्यों नहीं इज्ज़त करेंगे। कन्या पवित्र है तो उनके भी पांव पड़ते हैं। बाहर का विजीटर आयेगा, वह भी कन्या को नमन करेगा। इस समय कन्या का इतना मान क्यों हुआ है? क्योंकि तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हो ना। मैजारिटी तुम कन्याओं की है। शिवशक्ति पाण्डव सेना गाई हुई है। इनमें मेल भी हैं, मैजारटी माताओं की है इसलिए गाया जाता है। तो जो अच्छी रीति पढ़ते हैं वह ऊंच बनते हैं। अभी तुम सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी जान गये हो। चक्र पर भी समझाना बहुत सहज है। भारत पारसपुरी था, अभी है पत्थरपुरी। तो सभी पत्थरनाथ ठहरे ना। तुम बच्चे इस 84 के चक्र को भी जानते हो। अभी जाना है घर तो बाप को भी याद करना है, जिससे पाप कटते हैं। परन्तु बच्चों से याद की मेहनत पहुँचती नहीं है क्योंकि अलबेलापन है। सवेरे उठते नहीं हैं। अगर उठते हैं तो मजा नहीं आता। नींद आने लगती है तो फिर सो जाते हैं। होपलेस हो जाते हैं। बाबा कहते हैं-बच्चे, यह युद्ध का मैदान है ना। इसमें होपलेस नहीं होना चाहिए। याद के बल से ही माया पर जीत पानी है। इसमें मेहनत करनी चाहिए। बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे जो यथार्थ रीति याद नहीं करते, चार्ट रखने से घाटे-फायदे का पता पड़ जाता है। कहते हैं चार्ट ने तो मेरी अवस्था में कमाल कर दी है। ऐसे विरला कोई चार्ट रखता है। यह भी बड़ी मेहनत है। बहुत सेन्टर्स में झूठे भी जाकर बैठते हैं, विकर्म करते रहते हैं। बाप के डायरेक्शन पर अमल न करने से बहुत नुकसान कर देते हैं। बच्चों को पता थोड़ेही पड़ता है-निराकार कहते हैं वा साकार? बच्चों को बार-बार समझाया जाता है-हमेशा समझो शिवबाबा डायरेक्शन देते हैं। तो तुम्हारी बुद्धि वहाँ लगी रहेगी।

आजकल सगाई होती है तो चित्र दिखाते हैं, अखबार में भी डालते हैं कि इनके लिए ऐसे-ऐसे अच्छे घर की चाहिए। दुनिया का क्या हाल हो गया है, क्या होने का है! तुम बच्चे जानते हो अनेक प्रकार की मतें हैं। तुम ब्राह्मणों की है एक मत। विश्व में शान्ति स्थापन करने की मत। तुम श्रीमत से विश्व में शान्ति स्थापन करते हो तो बच्चों को भी शान्ति में रहना पड़े। जो करेगा सो पायेगा। नहीं तो बहुत घाटा है। जन्म-जन्मान्तर का घाटा है। बच्चों को कहते हैं अपना घाटा और फायदा देखो। चार्ट देखो हमने किसको दु:ख तो नहीं दिया? बाप कहते हैं तुम्हारा यह समय एक-एक सेकण्ड मोस्ट वैल्युबुल है, मोचरा खाकर मानी टुक्कड़ खाना वह क्या बड़ी बात है। तुम तो बहुत धनवान बनने चाहते हो ना। पहले- पहले जो पूज्य हैं उनको ही पुजारी बनना है। इतना धन होगा, सोमनाथ का मन्दिर बनायें तब तो पूजा करें। यह भी हिसाब है। बच्चों को फिर भी समझाते है चार्ट रखो तो बहुत फायदा होगा। नोट करना चाहिए। सबको पैगाम देते जाओ, चुप करके नहीं बैठो। ट्रेन में भी तुम समझाकर लिटरेचर दे दो। बोलो, यह करोड़ों की मिलकियत है। लक्ष्मी-नारायण का भारत में जब राज्य था तो विश्व में शान्ति थी। अब बाप फिर से वह राजधानी स्थापन करने आये हैं, तुम बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हों और विश्व में शान्ति हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) हम विश्व में शान्ति स्थापन करने के निमित्त ब्राह्मण हैं, हमें बहुत-बहुत शान्तचित रहना है, बातचीत बहुत आहिस्ते वा रॉयल्टी से करनी है।
2) अलबेलापन छोड़ याद की मेहनत करनी है। कभी भी होपलेस नहीं बनना है।
वरदान:
अमृतवेले का महत्व जानकर खुले भण्डार से अपनी झोली भरपूर करने वाले तकदीरवान भव!   
अमृतवेले वरदाता, भाग्य विधाता से जो तकदीर की रेखा खिंचवाने चाहो खिंचवा लो क्योंकि उस समय भोले भगवान के रूप में लवफुल हैं इसलिए मालिक बनो और अधिकार लो। खजाने पर कोई भी ताला-चाबी नहीं है। उस समय सिर्फ माया के बहाने बाजी को छोड़ एक संकल्प करो कि जो भी हूँ, जैसी भी हूँ, आपकी हूँ। मन बुद्धि बाप के हवाले कर तख्तनशीन बन जाओ तो बाप के सर्व खजाने अपने खजाने अनुभव होंगे।
स्लोगन:
सेवा में यदि स्वार्थ मिक्स है तो सफलता भी मिक्स हो जायेगी इसलिए नि:स्वार्थ सेवाधारी बनो।