Tuesday, July 28, 2015

Murli 29 July 2015

Sweet children, whenever you have time, sit in solitude and churn the ocean of knowledge. Revise the points that you hear.

Question:

When will your pilgrimage of remembrance come to an end?

Answer:

When none of your physical organs deceive you. When you reach your karmateet stage, your pilgrimage of remembrance will come to an end. You now have to make full effort and not become disheartened. Be ever-ready for service.

Essence for Dharna:

1. Study for half an hour or three-quarters of an hour early in the morning with a lot of love and interest. Stay in remembrance of the Father. Make such effort for remembrance that all your physical organs are brought under your control.

2. Everything has to be tolerated in service: regard and disregard, happiness and sorrow, heat and cold etc. Never become tired of doing service. Open a hospital-cum-university on three square feet of land and do the service of making others into diamonds.

Blessing:

May you be a fortunate soul who uses all your treasures at the right time and experiences constant happiness.

As soon as you take your Brahmin birth from BapDada you also receive many elevated treasures for happiness. This is why, even from your name, devotees experience temporary happiness even now. Seeing your non-living images, they begin to dance in happiness. All of you are so fortunate from having received so many treasures, but you simply have to use them at the right time. Constantly keep the key in front of you, that is, constantly keep it in your awareness and put the awareness into a practical form and you will then constantly continue to experience constant happiness.

Slogan:

Those who ignite the lamp of the Father’s elevated hopes are the lamps of the clan.

Om Shanti
_____________________________
29/07/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, whenever you have time, sit in solitude and churn the ocean of knowledge. Revise the points that you hear.   
Question:
When will your pilgrimage of remembrance come to an end?
Answer:
When none of your physical organs deceive you. When you reach your karmateet stage, your pilgrimage of remembrance will come to an end. You now have to make full effort and not become disheartened. Be ever-ready for service.
Om Shanti
Are you sweetest children sitting here in soul consciousness? You children know that you have been body conscious for half a cycle. You now have to make effort to remain soul conscious. The Father comes and explains: When you sit considering yourself to be a soul, you will be able to remember the Father. Otherwise, you will forget Him. How can you stay on the pilgrimage if you don’t remember Him? How would your sins be absolved? There would be a loss. Remember this again and again. This is the main thing. The Father tells you many different methods. It has also been explained to you what is right and what is wrong. The Father is the Ocean of Knowledge. You also have knowledge of devotion. Children have to do so many things in devotion. He explains: Holding sacrificial fires and doing tapasya etc. all belong to the path of devotion. They sing songs of praise of the Father, but that praise is wrong. In fact, they don’t even know the full praise of Krishna. Each aspect has to be understood. For example, Krishna is called the Lord of Paradise. OK, Baba asks: Can Krishna be called Trilokinath (Lord of the Three Worlds)? Trilokinath has been remembered. The Lord of the Three Worlds means the Lord of the incorporeal world, the subtle world and the corporeal world. You children have been told that you are also the masters of Brahmand (the element of light). Would Krishna have considered himself to be a master of Brahmand? No; he was in Paradise. Heaven, the new world, is called Paradise. So, in fact, no one is a master of the three worlds. The Father tells you right things. There are three worlds. As well as Shiv Baba, you children too are the masters of Brahmand. There is no question of the subtle region. Shiv Baba is not even the master of the corporeal region - neither of heaven nor of hell. Krishna is a master of heaven and Ravan is the master of hell. This is called the devil’s kingdom, the kingdom of Ravan. People say this, but they don’t understand the meaning of it. The Father sits here and explains to you children. Ravan has been portrayed with ten heads: five vices of the male and five of the female. The five vices now apply to everyone; all are in the kingdom of Ravan. You are now becoming elevated. The Father comes and creates the elevated world. By sitting in solitude, you will be able to churn the ocean of knowledge in this way. In other studies too, students go and study their books in solitude. You don’t need to study any books. Yes, you do have to note down points. You then have to revise them. These aspects are very deep and have to be understood. The Father says: Today, I am telling you the deepest and newest points. Lakshmi and Narayan are the masters of the land of divinity. You would not say that Vishnu is that. They don’t understand that Vishnu is Lakshmi and Narayan. You now explain the aim and objective in short. Brahma and Saraswati are not male and female (as a couple). This one is Prajapita Brahma. So Prajapita Brahma can be called the great-great-grandfather. Shiv Baba would only be called Baba. All the rest are brothers. There are so many children of Brahma. All of them know that they are brothers, the children of God. However, that is in the incorporeal world. You have now become Brahmins. The golden age is called the new world. This age is called the most elevated confluence age. In the golden age, all are the most elevated human beings. These are very wonderful aspects. You are being made ready for the new world. It is only at this confluence age that you become the most elevated human beings. You say: I will become Lakshmi or Narayan. They are the most elevated human beings of all; they are called deities. Lakshmi and Narayan are the highest of all, they are number one. Then, you children become numberwise. The sun dynasty is said to be the highest; it is number one. The degrees decrease gradually. You children are now carrying out the inauguration of the new world. Just as children become very happy when their new home is ready and they have an inauguration ceremony, so you children also become happy on seeing the new world and you have your inauguration. It has also been written: There was a shower of golden flowers. The mercury of happiness of you children should rise very high. You receive both peace and happiness. No one else can receive so much peace and happiness. When those of other religions come, there is duality. You children have the infinite happiness of making effort to claim a high status. It shouldn’t be that you just accept whatever is in your fortune, that if you are going to pass you will pass; no. Effort definitely has to be made for everything. Someone who is unable to make effort would say, “Whatever is in my fortune.....”, and he would stop making effort. The Father says: I make you mothers so elevated. There is a great deal of respect for females everywhere else. They are given respect abroad too. Here, when a daughter is born, they turn the bed upside-down. This world is completely dirty. At this time, you children know what Bharat was and what it is now. People have forgotten this and simply keep asking for peace. They want peace in the world. You can show them the picture of Lakshmi and Narayan. When it was their kingdom, there was purity, peace and happiness. You do want such a kingdom, do you not? You wouldn’t speak about world peace for the incorporeal world, would you? It is only here that there can be peace in the world. There used to be the kingdom of deities over the whole world. The incorporeal world is the world of souls. Human beings don’t even know that there is a world of souls. The Father says: I make you into such elevated human beings. All of these matters have to be explained. It isn’t that people will believe you when you shout out to them that God has come. No, they will insult you even more. They would say: The Brahma Kumaris call their Baba God. Service can’t be done in that way. Baba continues to show you methods. Put up eight to ten pictures in a room, and, outside, write: If you want to claim your inheritance of unlimited happiness from the unlimited Father, if you want to change from ordinary human beings into deities, then come inside and we will tell you how. Many will then come to you. They will continue to come by themselves. There was peace in the world, was there not? There are now so many religions. How can there be peace in this tamopradhan world? Only God can bring about peace in the world. When Shiv Baba comes, He definitely brings a gift with Him. Only the one Father comes from so far away and He only comes once. Such a great Baba only comes once every 5000 years. When someone returns from travelling abroad, he brings gifts back with him for his children. A man becomes the husband of his wife, the father of his children and the grandfather of his grandchildren and then the great-grandfather of his great-grandchildren etc. You call this one Baba, and then he also becomes the grandfather. He will also be the great-grandfather; there are the different generations. There are the names Adam and Adi Dev, but people don’t understand the meaning of them. The Father sits here and explains to you children. You are now becoming rulers of the globe by coming to know the history and geography of the world from the Father. Baba is teaching you with so much love and interest. Therefore, you should study just as much. Everyone is free early in the morning. Just come to morning class and listen to the murli for half to three-quarters of an hour and then go back home. You can remember Baba wherever you are. Sundays are a holiday. Sit for two to three hours in the morning and make up (build up) your income for the whole day. Completely fill your aprons. You do have time, do you not? When storms of Maya come, you are unable to remember Baba. Everything Baba tells you is very easy. On the path of devotion, they go to so many satsangs etc. They go to a Krishna Temple and to the Shrinath Temple and then someone else’s temple. Many become adulterated even while on a pilgrimage. They face so many difficulties and they receive no benefit from it. That too is fixed in the drama and it will also happen again. This part is recorded in you souls. You will play the same parts that you played in the golden and silver ages; you will play the same parts that you played in the previous cycle. Those with gross intellects cannot understand this. Those who have refined intellects are able to understand everything very well and explain to others. They feel inside that this drama is eternal. No one in the world understands that this is an unlimited play. It takes time to understand it. Everything is explained to you in detail and then you are told that the main thing is the pilgrimage of remembrance. “Liberation-in-life in a second” has been remembered. There is also the praise that He is the Ocean of Knowledge and that even if you made the whole ocean into ink and all the forests into pens and the earth into paper, there could still be no end to this knowledge. From the beginning, you have been writing so much and, if you continued to write, how much paper would be used? You don’t have to stumble around. The main thing is Alpha. Remember the Father. You come here to Shiv Baba. Shiv Baba enters this one and teaches you with so much love. He does not have any external show. The Father says: I enter an old body. Look how simply Shiv Baba comes and teaches us. He has no arrogance. The Father says: You have been inviting Me to come into the impure world and an impure body, to come and give you teachings. You don’t invite Me to come in the golden age, and sit in palaces studded with diamonds and jewels and offer Me food. Shiv Baba doesn’t eat anything. Previously, you used to invite Him to come and eat. You used to offer Him 36 varieties of food. That too will happen again. This can be called the divine activities. What divine activities could Krishna have? He is a prince of the golden age. He would not be called the Purifier. You now know how he became the master of the golden-aged world. Human beings are in total darkness. You are now in total light. The Father comes and changes night into day. You rule for half the cycle. Therefore, you should be very happy. Your pilgrimage of remembrance will come to an end when none of your physical organs deceive you. When you reach your karmateet stage, your pilgrimage of remembrance will come to an end. You have not completed it yet. You now have to make full effort and not become disheartened. Just continue to do service and nothing but service. The Father has come and is also serving through this old body, is He not? The Father is Karankaravanhar. He has so many concerns for the children: I have to do this; I have to build a house. Just as a worldly father has thoughts about everything limited, in the same way, the Father from beyond this world has thoughts about everything unlimited. You children have to do service. Day by day, everything is becoming easier. The closer you come to destruction, the more strength you will continue to receive. It has been remembered that the arrows struck Bhishampitamay and others at the end. If the arrows were to strike them now, there would be so much chaos. There would be such big crowds, don’t even ask! There would be so many that you would not even have time to scratch your head. It is not like that now. However, when the big crowds come, it will then be said to be like that. Your impact will spread when the arrows strike them. All the children definitely have to receive the Father’s introduction. You can even open this imperishable hospital cum Godly university on three square feet of land. It does not matter if you don’t have any money. You will be given pictures. While you are doing service, there will be regard and disregard, happiness and sorrow, heat and cold. All of that has to be tolerated. To make anyone become like a diamond is no small thing. Does the Father ever become tired? Why do you become tired? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Study for half an hour or three-quarters of an hour early in the morning with a lot of love and interest. Stay in remembrance of the Father. Make such effort for remembrance that all your physical organs are brought under your control.
2. Everything has to be tolerated in service: regard and disregard, happiness and sorrow, heat and cold etc. Never become tired of doing service. Open a hospital-cum-university on three square feet of land and do the service of making others into diamonds.
Blessing:
May you be a fortunate soul who uses all your treasures at the right time and experiences constant happiness.   
As soon as you take your Brahmin birth from BapDada you also receive many elevated treasures for happiness. This is why, even from your name, devotees experience temporary happiness even now. Seeing your non-living images, they begin to dance in happiness. All of you are so fortunate from having received so many treasures, but you simply have to use them at the right time. Constantly keep the key in front of you, that is, constantly keep it in your awareness and put the awareness into a practical form and you will then constantly continue to experience constant happiness.
Slogan:
Those who ignite the lamp of the Father’s elevated hopes are the lamps of the clan.   
 

मुरली 29 जुलाई 2015

“मीठे बच्चे - जब समय मिले तो एकान्त में बैठ विचार सागर मंथन करो, जो प्वाइंट्स सुनते हो उसको रिवाइज करो”

प्रश्न:

तुम्हारी याद की यात्रा पूरी कब होगी?

उत्तर:

जब तुम्हारी कोई भी कर्मेद्रियाँ धोखा न दें, कर्मातीत अवस्था हो जाए तब याद की यात्रा पूरी होगी। अभी तुमको पूरा पुरूषार्थ करना है, नाउम्मीद नहीं बनना है। सर्विस पर तत्पर रहना है।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) सवेरे के समय आधा पौना घण्टा बहुत प्यार वा रूचि से पढ़ाई पढ़नी है। बाप की याद में रहना है। याद का ऐसा पुरूषार्थ हो जो सब कर्मेन्द्रियाँ वश में हो जाएं।

2) सर्विस में दु:ख-सुख, मान-अपमान, गर्मी-ठण्डी सब कुछ सहन करना है। कभी भी सर्विस में थकना नहीं है। 3 पैर पृथ्वी में भी हॉस्पिटल कम युनिवर्सिटी खोल हीरे जैसा बनाने की सेवा करनी है।

वरदान:

सर्व खजानों को समय पर यूज़ कर निरन्तर खुशी का अनुभव करने वाले खुशनसीब आत्मा भव!

बापदादा द्वारा ब्राह्मण जन्म होते ही सारे दिन के लिए अनेक श्रेष्ठ खुशी के खजाने प्राप्त होते हैं इसलिए आपके नाम से ही अब तक अनेक भक्त अल्पकाल की खुशी में आ जाते हैं, आपके जड़ चित्रों को देखकर खुशी में नाचने लगते हैं। ऐसे आप सब खुशनसीब हो, बहुत खजाने मिले हैं लेकिन सिर्फ समय पर यूज़ करो। चाबी को सदा सामने रखो अर्थात् सदा स्मृति में रखो। और स्मृति को स्वरूप में लाओ तो निरन्तर खुशी का अनुभव होता रहेगा।

स्लोगन:

बाप की श्रेष्ठ आशाओं का दीपक जगाने वाले ही कुल दीपक हैं।

ओम् शांति ।

_____________________________
29-07-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - जब समय मिले तो एकान्त में बैठ विचार सागर मंथन करो, जो प्वाइंट्स सुनते हो उसको रिवाइज करो”   
प्रश्न:
तुम्हारी याद की यात्रा पूरी कब होगी?
उत्तर:
जब तुम्हारी कोई भी कर्मेद्रियाँ धोखा न दें, कर्मातीत अवस्था हो जाए तब याद की यात्रा पूरी होगी। अभी तुमको पूरा पुरूषार्थ करना है, नाउम्मीद नहीं बनना है। सर्विस पर तत्पर रहना है।
ओम् शान्ति।
मीठे-मीठे बच्चे आत्म-अभिमानी होकर बैठे हो? बच्चे समझते हैं आधाकल्प हम देह-अभिमानी रहे हैं। अब देही-अभिमानी हो रहने के लिए मेहनत करनी पड़ती है। बाप आकर समझाते हैं अपने को आत्मा समझकर बैठो तब ही बाप याद आयेगा। नहीं तो भूल जायेंगे। याद नहीं करेंगे तो यात्रा कैसे कर सकेंगे! पाप कैसे कटेंगे! घाटा पड़ जायेगा। यह तो घड़ी-घड़ी याद करो। यह है मुख्य बात। बाकी तो बाप अनेक प्रकार की युक्तियां बतलाते हैं। रांग क्या है, राइट क्या है - वह भी समझाया है। बाप तो ज्ञान का सागर है। भक्ति को भी जानते हैं। बच्चों को भक्ति में क्या-क्या करना पड़ता है। समझाते हैं यह यज्ञ तप आदि करना, यह सब है भक्ति मार्ग। भल बाप की महिमा करते हैं, परन्तु उल्टी। वास्तव में कृष्ण की महिमा भी पूरी नहीं जानते। हर एक बात को समझना चाहिए ना। जैसे कृष्ण को वैकुण्ठ नाथ कहा जाता है। अच्छा, बाबा पूछते हैं, कृष्ण को त्रिलोकीनाथ कहा जा सकता है? गाया जाता है ना-त्रिलोकीनाथ। अब त्रिलोकी के नाथ अर्थात् तीन लोक मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन। तुम बच्चों को समझाया जाता है तुम ब्रह्माण्ड के भी मालिक हो। कृष्ण ऐसे समझते होंगे कि हम ब्रह्माण्ड के मालिक हैं? नहीं। वह तो वैकुण्ठ में थे। वैकुण्ठ कहा जाता है स्वर्ग नई दुनिया को। तो वास्तव में त्रिलोकीनाथ कोई भी है नहीं। बाप राईट बात समझाते हैं। तीन लोक तो हैं। ब्रह्माण्ड का मालिक शिवबाबा भी है, तुम भी हो। सूक्ष्मवतन की तो बात ही नहीं। स्थूल वतन में भी वह मालिक नहीं है, न स्वर्ग का, न नर्क का मालिक है। कृष्ण है स्वर्ग का मालिक। नर्क का मालिक है रावण। इनको रावण राज्य, आसुरी राज्य कहा जाता है। मनुष्य कहते भी हैं परन्तु समझते नहीं हैं। तुम बच्चों को बाप बैठ समझाते हैं। रावण को 10 शीश देते हैं। 5 विकार स्त्री के, 5 विकार पुरूष के। अब 5 विकार तो सबके लिए हैं। सब हैं ही रावण राज्य में। अभी तुम श्रेष्ठाचारी बन रहे हो। बाप आकर श्रेष्ठाचारी दुनिया बनाते हैं। एकान्त में बैठने से ऐसे-ऐसे विचार सागर मंथन चलेगा। उस पढ़ाई के लिए भी स्टूडेण्ट एकान्त में किताब ले जाकर पढ़ते हैं। तुमको किताब तो पढ़ने की दरकार नहीं। हाँ, तुम प्वाइंट्स नोट करते हो। इसको फिर रिवाइज करना चाहिए। यह बड़ी गुह्य बातें हैं समझने की। बाप कहते हैं ना-आज तुमको गुह्य ते गुह्य नई-नई प्वाइंट्स समझाता हूँ। पारसपुरी के मालिक तो लक्ष्मी-नारायण हैं। ऐसे भी नहीं कहेंगे कि विष्णु हैं। विष्णु को भी समझते नहीं हैं कि यही लक्ष्मी-नारायण है। अभी तुम शॉर्ट में एम आबजेक्ट समझाते हो। ब्रह्मा-सरस्वती कोई आपस में मेल-फीमेल नहीं हैं। यह तो प्रजापिता ब्रह्मा है ना। प्रजापिता ब्रह्मा को ग्रेट-ग्रेट ग्रैन्ड फादर कह सकते हैं, शिवबाबा को सिर्फ बाबा ही कहेंगे। बाकी सब हैं ब्रदर्स। इतने सब ब्रह्मा के बच्चे हैं। सबको मालूम है-हम भगवान के बच्चे ब्रदर्स हो गये। परन्तु वह है निराकारी दुनिया में। अभी तुम ब्राह्मण बने हो। नई दुनिया सतयुग को कहा जाता है। इनका नाम फिर पुरूषोत्तम संगमयुग रखा है। सतयुग में होते ही हैं पुरूषोत्तम। यह बड़ी वन्डरफुल बातें हैं। तुम नई दुनिया के लिए तैयार हो रहे हो। इस संगमयुग पर ही तुम पुरूषोत्तम बनते हो। कहते भी हैं हम लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। यह हैं सबसे उत्तम पुरूष। उन्हों को फिर देवता कहा जाता है। उत्तम से उत्तम नम्बरवन हैं लक्ष्मी-नारायण फिर नम्बरवार तुम बच्चे बनेंगे। सूर्यवंशी घराने को उत्तम कहेंगे। नम्बरवन तो हैं ना। आहिस्ते-आहिस्ते कला कम होती है।

अभी तुम बच्चे नई दुनिया का मुहूर्त करते हो। जैसे नया घर तैयार होता है तो बच्चे खुश होते हैं। मुहूर्त करते हैं। तुम बच्चे भी नई दुनिया को देख खुश होते हो। मुहूर्त करते हो। लिखा हुआ भी है सोने के फूलों की वर्षा होती है। तुम बच्चों को कितना खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। तुमको सुख और शान्ति दोनों मिलते हैं। दूसरा कोई नहीं जिनको इतना सुख और शान्ति मिले। दूसरे धर्म आते हैं तो द्वैत हो जाता है। तुम बच्चों को अपार खुशी है-हम पुरूषार्थ कर ऊंच पद पायें। ऐसे नहीं कि जो तकदीर में होगा सो मिलेगा, पास होने होंगे तो होंगे। नहीं, हर बात में पुरूषार्थ जरूर करना है। पुरूषार्थ नहीं पहुँचता है तो कह देते जो नसीब में होगा। फिर पुरूषार्थ करना ही बन्द हो जाता है। बाप कहते हैं तुम माताओं को कितना ऊंच बनाता हूँ। फीमेल का मान सब जगह है। विलायत में भी मान है। यहाँ बच्ची पैदा होती है तो उल्टा मंझा (उल्टी चारपाई) कर देते। दुनिया बिल्कुल ही डर्टी है। इस समय तुम बच्चे जानते हो भारत क्या था, अब क्या है। मनुष्य भूल गये हैं सिर्फ शान्ति-शान्ति मांगते रहते हैं। विश्व में शान्ति चाहते हैं। तुम यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र दिखाओ। इन्हों का राज्य था तो पवित्रता-सुख-शान्ति भी थी। तुमको ऐसा राज्य चाहिए ना। मूलवतन में तो विश्व की शान्ति नहीं कहेंगे। विश्व में शान्ति तो यहाँ होगी ना। देवताओं का राज्य सारे विश्व में था। मूलवतन तो है आत्माओं की दुनिया। मनुष्य तो यह भी नहीं जानते कि आत्माओं की दुनिया होती है। बाप कहते हैं हम तुमको कितना ऊंच पुरूषोत्तम बनाता हूँ। यह समझाने की बात है। ऐसे नहीं, रड़ियाँ मारेंगे-भगवान आया है, तो कोई मानेगा नहीं। और ही गाली खायेंगे और खिलायेंगे। कहेंगे बी.के. अपने बाबा को भगवान कहती हैं। ऐसे सर्विस नहीं होती है। बाबा युक्ति बताते रहते हैं। कमरे में 8-10 चित्र दीवाल में अच्छी रीति लगा दो और बाहर में लिख दो-बेहद के बाप से बेहद सुख का वर्सा लेना है अथवा मनुष्य से देवता बनना है, तो आओ हम आपको समझायें। ऐसे बहुत आने लग पड़ेंगे। आपेही आते रहेंगे। विश्व में शान्ति तो थी ना। अभी इतने ढेर धर्म हैं। तमोप्रधान दुनिया में शान्ति कैसे हो सकती है। विश्व में शान्ति वह तो भगवान ही कर सकता है। शिवबाबा आते हैं जरूर कुछ सौगात लाते होंगे। एक ही बाप है जो इतना दूर से आते हैं और यह बाबा एक ही बार आते हैं। इतना बड़ा बाबा 5 हजार वर्ष के बाद आते हैं। मुसाफिरी से लौटते हैं तो बच्चों के लिए सौगात ले आते हैं ना। स्त्री का पति भी, बच्चों का बाप तो बनते हैं ना। फिर दादा, परदादा, तरदादा बनते हैं। इनको तुम बाबा कहते हो फिर ग्रैन्ड फादर भी होगा। ग्रेट ग्रैन्ड फादर भी होगा। बिरादरियां हैं ना। एडम, आदि देव नाम है परन्तु मनुष्य समझते नहीं हैं। तुम बच्चों को बाप बैठ समझाते हैं। बाप द्वारा सृष्टि चक्र की हिस्ट्री-जॉग्राफी को तुम जानकर चक्रवर्ती राजा बन रहे हो। बाबा कितना प्यार और रूचि से पढ़ाते हैं तो इतना पढ़ना चाहिए ना। सवेरे का टाइम तो सब फ़्री होते हैं। सुबह का क्लास होता है - आधा पौना घण्टा, मुरली सुनकर फिर चले जाओ। याद तो कहाँ भी रहते कर सकते हो। इतवार का दिन तो छुट्टी है। सवेरे 2-3 घण्टा बैठ जाओ। दिन की कमाई को मेकप कर लो। पूरी झोली भर दो। टाइम तो मिलता है ना। माया के तूफान आने से याद नहीं कर सकते हैं। बाबा बिल्कुल सहज समझाते हैं। भक्ति मार्ग में कितने सतसंगों में जाते हैं। कृष्ण के मन्दिर में, फिर श्रीनाथ के मन्दिर में, फिर और किसके मन्दिर में जायेंगे। यात्रा में भी कितने व्यभिचारी बनते हैं। इतनी तकलीफ भी लेते, फायदा कुछ नहीं। ड्रामा में यह भी नूँध है फिर भी होगा। तुम्हारी आत्मा में पार्ट भरा हुआ है। सतयुग त्रेता में जो पार्ट कल्प पहले बजाया है वही बजायेंगे। मोटी बुद्धि यह भी नहीं समझते हैं। जो महीन बुद्धि हैं वही अच्छी रीति समझ कर समझा सकते हैं। उन्हें अन्दर भासना आती है कि यह अनादि नाटक बना हुआ है। दुनिया में कोई नहीं समझते यह बेहद का नाटक है। इनको समझने में भी टाइम लगता है। हर एक बात डीटेल में समझाकर फिर कहा जाता है-मुख्य है याद की यात्रा। सेकण्ड में जीवनमुक्ति भी गाया हुआ है। और फिर यह भी गायन है कि ज्ञान का सागर है। सारा सागर स्याही बनाओ, जंगल को कलम बनाओ, धरती को कागज़ बनाओ.... तो भी अन्त नहीं आ सकती। शुरू से लेकर तुम कितना लिखते आये हो। ढेर कागज हो जाएं। तुमको कोई धक्का नहीं खाना है। मुख्य है ही अल्फ। बाप को याद करना है। यहाँ भी तुम आते हो शिवबाबा के पास। शिवबाबा इनमें प्रवेश कर तुमको कितना प्यार से पढ़ाते हैं। कोई भी बड़ाई नहीं है। बाप कहते हैं मैं आता हूँ पुराने शरीर में। कैसे साधारण रीति शिवबाबा आकर पढ़ाते हैं। कोई अहंकार नहीं। बाप कहते हैं तुम मुझे कहते ही हो बाबा पतित दुनिया, पतित शरीर में आओ, आकर हमको शिक्षा दो। सतयुग में नहीं बुलाते हो कि आकर हीरे-जवाहरातों के महल में बैठो, भोजन आदि पाओ..... शिवबाबा भोजन पाते ही नहीं। आगे बुलाते थे कि आकर भोजन खाओ। 36 प्रकार का भोजन खिलाते थे, यह फिर भी होगा। यह भी चरित्र ही कहें। कृष्ण के चरित्र क्या हैं? वह तो सतयुग का प्रिन्स है। उनको पतित-पावन नहीं कहा जाता। सतयुग में यह विश्व के मालिक कैसे बने हैं - यह भी अभी तुम जानते हो। मनुष्य तो बिल्कुल घोर अन्धियारे में हैं। अभी तुम घोर रोशनी में हो। बाप आकर रात को दिन बना देते हैं। आधाकल्प तुम राज्य करते हो तो कितनी खुशी होनी चाहिए।

तुम्हारी याद की यात्रा पूरी तब होगी जब तुम्हारी कोई भी कर्मेन्द्रियां धोखा न दें। कर्मातीत अवस्था हो जाए तब याद की यात्रा पूरी होगी। अभी पूरी नहीं हुई है। अभी तुमको पूरा पुरूषार्थ करना है। नाउम्मीद नहीं बनना है। सर्विस और सर्विस। बाप भी आकर बूढ़े तन से सर्विस कर रहे हैं ना। बाप करनकरावनहार है। बच्चों के लिए कितना फ़िकर रहता है-यह बनाना है, मकान बनाना है। जैसे लौकिक बाप को हद के ख्यालात रहते हैं, वैसे पारलौकिक बाप को बेहद का ख्याल रहता है। तुम बच्चों को ही सर्विस करनी है। दिन-प्रतिदिन बहुत सहज होता जाता है। जितना विनाश के नजदीक आते जायेंगे उतना ताकत आती जायेगी। गाया हुआ भी है भीष्मपितामह आदि को पिछाड़ी में तीर लगे। अभी तीर लग जाए तो बहुत हंगामा हो जाए। इतनी भीड़ हो जाए जो बात मत पूछो। कहते हैं ना-माथा खुजलाने की फुर्सत नहीं। ऐसे कोई है नहीं। परन्तु भीड़ हो जाती है तो फिर ऐसे कहा जाता है। जब इन्हों को तीर लग जाए तो फिर तुम्हारा प्रभाव निकलेगा। सब बच्चों को बाप का परिचय मिलना तो है।

तुम 3 पैर पृथ्वी में भी यह अविनाशी हॉस्पिटल और गॉडली युनिवर्सिटी खोल सकते हो। पैसा नहीं है तो भी हर्जा नहीं है। चित्र तुमको मिल जायेंगे। सर्विस में मान-अपमान, दु:ख-सुख, ठण्डी-गर्मी, सब सहन करनी है। किसको हीरे जैसा बनाना कम बात है क्या! बाप कभी थकता है क्या? तुम क्यों थकते हो? अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) सवेरे के समय आधा पौना घण्टा बहुत प्यार वा रूचि से पढ़ाई पढ़नी है। बाप की याद में रहना है। याद का ऐसा पुरूषार्थ हो जो सब कर्मेन्द्रियाँ वश में हो जाएं।
2) सर्विस में दु:ख-सुख, मान-अपमान, गर्मी-ठण्डी सब कुछ सहन करना है। कभी भी सर्विस में थकना नहीं है। 3 पैर पृथ्वी में भी हॉस्पिटल कम युनिवर्सिटी खोल हीरे जैसा बनाने की सेवा करनी है।
वरदान:
सर्व खजानों को समय पर यूज़ कर निरन्तर खुशी का अनुभव करने वाले खुशनसीब आत्मा भव!   
बापदादा द्वारा ब्राह्मण जन्म होते ही सारे दिन के लिए अनेक श्रेष्ठ खुशी के खजाने प्राप्त होते हैं इसलिए आपके नाम से ही अब तक अनेक भक्त अल्पकाल की खुशी में आ जाते हैं, आपके जड़ चित्रों को देखकर खुशी में नाचने लगते हैं। ऐसे आप सब खुशनसीब हो, बहुत खजाने मिले हैं लेकिन सिर्फ समय पर यूज़ करो। चाबी को सदा सामने रखो अर्थात् सदा स्मृति में रखो। और स्मृति को स्वरूप में लाओ तो निरन्तर खुशी का अनुभव होता रहेगा।
स्लोगन:
बाप की श्रेष्ठ आशाओं का दीपक जगाने वाले ही कुल दीपक हैं।  
 

Monday, July 27, 2015

Murli 28 July 2015

Sweet children, the foundation of your study is purity. Only when there is purity are you able to fill yourself with the power of yoga. Only when there is the power of yoga can that power be carried in your words.

Question:

What full effort must you children make?

Answer:

Make full effort to remove the burden of sins on your head. If, after belonging to the Father, you commit any sins, you will fall very hard. If you cause the BKs to be defamed or cause them any other difficulty, you will accumulate a lot of sin. Then, there will be no benefit in your listening to or relating this knowledge.

Essence for Dharna:

1. Together with studying, you definitely have to become pure. Become a worthy and obedient child and give the proof of your service. Follow shrimat and make yourself elevated.

2. Don’t waste your money. Never give donations to the impure. Donate the wealth of knowledge to those who are worthy of it.

Blessing:

May you experience all relationships with the one Father and become tireless and a destroyer of obstacles.

The children who have all relationships with the one Father experience all other relationships to be in name only. They constantly dance in happiness, never experience tiredness and are tireless. They become lost in love for the Father and for service. Instead of coming to a standstill because of obstacles, they are constant destroyers of obstacles. Because of experiencing all relationships with the one Father, they remain double light and have no burdens. All their complaints have finished. They experience their complete stage and are easy yogis.

Slogan:

To be attracted to any bodily being, even in your thoughts, means to be unfaithful.


Om Shanti
_____________________________
28/07/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, the foundation of your study is purity. Only when there is purity are you able to fill yourself with the power of yoga. Only when there is the power of yoga can that power be carried in your words.   
Question:
What full effort must you children make?
Answer:
Make full effort to remove the burden of sins on your head. If, after belonging to the Father, you commit any sins, you will fall very hard. If you cause the BKs to be defamed or cause them any other difficulty, you will accumulate a lot of sin. Then, there will be no benefit in your listening to or relating this knowledge.
Om Shanti
The spiritual Father explains to you children how you can become pure from impure and become the masters of the pure world. The pure world of heaven is also called the land of Vishnu and the kingdom of Lakshmi and Narayan. Vishnu’s form comprises the combined Lakshmi and Narayan. This is why the explanation is given in that way. However, when they worship Vishnu, they don’t know who he is. They also worship Mahalakshmi, but they don’t know who she is either. Baba now explains to you children in various ways. Imbibe this very well. Some people believe that the Supreme Soul knows everything, that whatever we do, whether good or bad, He knows it all. That is called a feeling of blind faith. God doesn’t know about those things. You children know that God is the Purifier, the One who purifies the impure. He purifies them and then makes them into the masters of heaven. Those who study well will claim a high status, but don’t think that the Father knows what is in each one’s heart. That is called senselessness. Whatever actions human beings perform, they definitely receive the return of them whether good or bad, according to the drama. The Father has no connection with that. You should never think that Baba knows everything anyway. There are many who indulge in vice and continue to commit sin and who still come here or go to the centres. They think, “Baba knows anyway!” However, Baba says: I don’t do that business. Their understanding of the word “Janijananhar” (One who knows the secrets within) is wrong. You call out to the Father to come and make you pure from impure and to make you into the masters of heaven, because of the many sins of many births on your head. There are also the sins of this birth. You have to confess your sins of this birth. Many have committed such sins that they find it very difficult to become pure. The main thing is to become pure. The study is very easy, but you have to make effort to remove the burden of sin. There are many who commit a lot of sin and thereby do a lot of disservice. They try to cause difficulties for the Brahma Kumaris’ ashram. They accumulate a lot of sin by doing that. Sins cannot be erased by giving knowledge to others. Only through yoga can sins be erased. First of all, make full effort for yoga, for only then will the arrow strike someone. Only when you first become pure and have yoga can there be that power in your words. Otherwise, no matter how much you explain to others, the arrow will not strike them. Therefore, it will not enter their intellects. There are the sins of many births. The sins that are committed now become much greater than the sins of many previous births. This is why it is said: Those who defame the Satguru cannot reach their destination. That One is the true Baba, the true Teacher and the true Guru. The Father says: Those who cause the Brahma Kumaris to be defamed will also accumulate a lot of sin. First of all, you have to become pure yourself. Some have a lot of interest in explaining to others, but there isn’t a penny’s worth of yoga. Therefore, what benefit would there be? The Father says: The main thing is to become pure by having remembrance. People call out in order to become pure. On the path of devotion, they have developed the habit of simply stumbling around and making a lot of unnecessary noise. They pray to God, but God doesn’t have ears. How could He hear or say anything without ears or a mouth? He is avyakt (subtle). All of that is blind faith. The more you remember the Father, the more your sins will be absolved. Don’t think that the Father knows everything, that this one is remembering Me a great deal, or that that one is remembering Me very little. Each of you has to look at your own chart. The Father has told you: It is only by having remembrance that your sins will be absolved. Baba also asks you how much you remember Him. This can also be seen from your behaviour. Sins cannot be absolved other than by having remembrance. It isn’t that your sins and the other person’s sins will be absolved by your relating knowledge to him; no. Only when you stay in remembrance yourself can your sins be cut away. The main thing is to become pure. The Father says: Now that you belong to Me, don’t commit any sin. Otherwise, you will fall very badly. Then, you will have no hope at all of claiming a high status. When you explain to many at an exhibition, you become very happy, thinking that you have done a lot of service. However, the Father says: First of all, you must at least become pure. Remember the Father! Many fail in remembrance. Knowledge is very easy. You simply have to know the cycle of 84 births. In other studies, they have to study mathematics and make plenty of effort. What will they earn? If someone dies while studying, that study is finished. When you stay in remembrance, you are able to imbibe knowledge. By your not becoming pure and having your sins erased, there would be a lot of punishment. Don’t think that your remembrance reaches Baba anyway. What would Baba do with that? If you remember Baba, you become pure. What does Baba have to do with that? Would Baba say “Well done!” to you? Many children claim to have constant remembrance of the Father. They say: “Who else do I have apart from Him?” They continue to tell lies in this way. A lot of effort is required for remembrance. They can’t even understand whether they are remembering Baba or not. Out of ignorance, they say that they are always in remembrance. No one can become a master of the world and claim a high status without making effort. Only when you have the power of remembrance are you able to do service. Then, it will be seen how much service you have done and how many subjects you have created. There has to be the account of that. How many have I made equal to myself? You have to create subjects first. Only then can you claim a royal status. There isn’t any of that at the moment. Only when you stay in yoga and fill yourself with that power will the arrow strike someone accurately. It is mentioned in the scripture (Mahabharata) that Bhishampitamai and Dronacharya received knowledge at the end. When all impurity has been removed from the soul and the soul has become satopradhan, there will be power in the soul and the arrow will quickly strike others. Never think that Baba knows everything. Why would Baba need to know anything? Those who do something receive the reward of that. Baba continues to observe everything as the detached Observer. Some write to Baba: Baba, I went to such-and-such a place to do service. Baba asks: First of all, are you on the pilgrimage of remembrance? The first thing you must do is to break away from everyone else and connect yourself to the one Father. You have to become soul conscious. Even while living at home, you have to consider this world and your body to be old. Everything is going to be destroyed. We are only concerned with the Father and His inheritance. Baba is not telling you not to stay at home with your family or not to talk to anyone. Some ask Baba if they can go to someone’s wedding. Baba says: You may go. Go there and do service. Your intellect’s yoga should be connected to Shiv Baba. Only with the power of remembrance can the sins of many births be burnt away. If you continue to commit sin here too, there will be a great deal of punishment. If, while becoming pure, someone falls because of vice, he dies. He would be totally crushed. By your not following shrimat, there is a great deal of loss. Shrimat has to be taken at every step. Some commit such sins that they are unable to have yoga. They are unable to have remembrance. If they then go and tell others that God has come and that they should go and claim their inheritance from Him, they wouldn’t believe them. The arrow wouldn’t strike them. Baba has told you to give knowledge to the devotees and not to waste it on those who don’t want it. Otherwise, this will cause more defamation. Some children ask Baba: Baba, I have the habit of donating. What should I do now that I am on the path of knowledge? Baba advises you: Children, there are many others who will continue to donate to the poor. Poor people are not dying of starvation. Even religious beggars (fakirs) have plenty of money. Therefore, your intellects should be removed from all of those things. You need to be very cautious about giving donations. There are many who continue to perform such actions, don’t even ask! They don’t even realise that the burdens of sin on their heads are becoming heavier. The path of knowledge is not just fun and games. Dharamraj is with the Father. A lot of punishment will have to be experienced from Dharamraj. It is said: You will come to know everything when Dharamraj takes the final account. It doesn’t take a long time to experience the punishment of many births. Baba has also explained to you the example of sacrificing oneself at Kashi. That belongs to the path of devotion whereas this is the path of knowledge. Offering human sacrifice too is fixed in the drama. All of those things have to be understood. Don’t ask why this drama was created or why we were brought into the cycle. Everyone has to continue to come into the cycle. This drama is predestined. If you didn’t come into the cycle, there would be no world. There cannot be eternal liberation. Even the principal One cannot have eternal liberation. The cycle will turn in the same way after 5000 years. This is the drama. No one can receive a status just by explaining or giving knowledge to others. First of all, you have to become pure from impure. Don’t think that Baba knows everything. What would Baba do by knowing everything? First of all, you, the soul, know what you are doing according to shrimat and to what extent you are remembering Baba. What benefit would there be by Baba knowing all of that? Whatever you do, you receive the reward of that. Baba can tell from how you act and the service you do whether you are doing good service. So-and-so has performed many sinful actions even after belonging to the Father. Therefore, there is no power in the knowledge that person gives. This sword of knowledge must have the sharpness of the power of remembrance. With the power of yoga you gain victory over the whole world. With knowledge, you claim a high status in the new world. First of all, become pure. Unless you become pure, you cannot claim a high status. You come here to change from an ordinary human into Narayan. Impure ones cannot become Narayan. You have to use the correct method to become pure. Even some specially beloved children, who look after centres, have to make a lot of effort for this. Because they don’t make this effort, there isn’t that power in the soul and the arrow cannot then strike the target. There isn’t the pilgrimage of remembrance; they just explain to many at the exhibitions. First, you must become pure by having remembrance; then there is knowledge. When you become pure, you become able to imbibe knowledge. Impure ones are unable to imbibe knowledge. The main subject is remembrance. There are various subjects in a worldly study. People come to you to become Brahma Kumars and Kumaris. To become a Brahma Kumar or Kumari, a brother or sister, is not like going to your aunty’s home! You mustn’t become this just in name. In order to become a deity you first definitely have to become pure. Then, after that, there is also the study. If you only study but don’t become pure, you cannot claim a high status. Pure souls are needed. Only when you become pure can you claim a high status in the pure world. Baba emphasises purity a great deal. Unless you maintain purity, you cannot give knowledge to anyone. However, Baba doesn’t look at anything. He is sitting here Himself and explaining everything. On the path of devotion, people receive a reward for their devotion. That too is fixed in the drama. How would the Father speak without a body? How would He listen to anyone? It is when a soul has a body that he can speak and hear. The Father says: I don’t have any organs. Therefore, how could I listen to anyone or know anything? Some believe that Baba knows when they indulge in vice, that if He didn’t know, they wouldn’t consider Him to be God. There are many who are like that. The Father says: I have come to show you the way to become pure. I see everything as the detached Observer. It can be seen from a child’s behaviour whether that one is worthy or unworthy. You have to give the proof of service. You also know that you receive the reward of whatever you do. If you follow shrimat you become elevated. If you don’t follow shrimat, you yourself become dirty and fall. If you need to ask something, ask it clearly. There is no question of blind faith. Baba simply asks: If you don’t have the power of remembrance, how would you become pure? Some commit such sins even in this birth, don’t even ask! This is the world of sinful souls whereas the golden age is the world of charitable souls. This is the confluence age. Some have such dull heads that they are unable to imbibe anything; they are unable to remember Baba. Then it will be too late because the haystack will be set on fire and they will be unable to stay in yoga. At that time, there will be very many cries of distress. Mountains of great sorrow are yet to fall. The only concern you should have is how to receive your fortune of the kingdom from the Father. Renounce body consciousness and become engaged in service! Become benevolent! Don’t waste your money! Never give donations to impure ones who are not worthy of receiving them. Otherwise, the one who gives the donation accumulates that burden. It isn’t that you have to go out and beat drums saying that God has come. There are many such people in Bharat who call themselves God. No one would believe you. You know that you have now received enlightenment. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. Together with studying, you definitely have to become pure. Become a worthy and obedient child and give the proof of your service. Follow shrimat and make yourself elevated.
2. Don’t waste your money. Never give donations to the impure. Donate the wealth of knowledge to those who are worthy of it.
Blessing:
May you experience all relationships with the one Father and become tireless and a destroyer of obstacles.   
The children who have all relationships with the one Father experience all other relationships to be in name only. They constantly dance in happiness, never experience tiredness and are tireless. They become lost in love for the Father and for service. Instead of coming to a standstill because of obstacles, they are constant destroyers of obstacles. Because of experiencing all relationships with the one Father, they remain double light and have no burdens. All their complaints have finished. They experience their complete stage and are easy yogis.
Slogan:
To be attracted to any bodily being, even in your thoughts, means to be unfaithful.   
 

मुरली 28 जुलाई 2015

मीठे बच्चे - तुम्हारी पढ़ाई का फाउन्डेशन है प्योरिटी, प्योरिटी है तब योग का जौहर भर सकेगा, योग का जौहर है तो वाणी में शक्ति होगी”

प्रश्न:

तुम बच्चों को अभी कौन-सा प्रयत्न पूरा-पूरा करना है?

उत्तर:

सिर पर जो विकर्मों का बोझा है उसे उतारने का पूरा-पूरा प्रयत्न करना है। बाप का बनकर कोई विकर्म किया तो बहुत ज़ोर से गिर पड़ेंगे। बी.के. की अगर निंदा कराई, कोई तकलीफ दी तो बहुत पाप हो जायेगा। फिर ज्ञान सुनने-सुनाने से कोई फायदा नहीं।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) पढ़ाई के साथ-साथ पवित्र जरूर बनना है। ऐसा लायक वा सपूत बच्चा बन सर्विस का सबूत देना है। श्रीमत पर स्वयं को श्रेष्ठ बनाना है।

2) स्थूल धन भी व्यर्थ नहीं गँवाना है। पतितों को दान नहीं करना है। ज्ञान धन भी पात्र को देखकर देना है।

वरदान:

सर्व सम्बन्धों का अनुभव एक बाप से करने वाले अथक और विघ्न-विनाशक भव!

जिन बच्चों के सर्व सम्बन्ध एक बाप के साथ हैं उनको और सब सम्बन्ध निमित्त मात्र अनुभव होंगे, वह सदा खुशी में नाचने वाले होंगे, कभी थकावट का अनुभव नहीं करेंगे, अथक होंगे। बाप और सेवा इसी लगन में मगन होंगे। विघ्नों के कारण रूकने के बजाए सदा विघ्न विनाशक होंगे। सर्व सम्बन्धों की अनुभूति एक बाप से होने के कारण डबल लाइट रहेंगे, कोई बोझ नहीं होगा। सर्व कम्पलेन समाप्त होंगी। कम्पलीट स्थिति का अनुभव होगा। सहजयोगी होंगे।

स्लोगन:

संकल्प में भी किसी देहधारी तरफ आकर्षित होना अर्थात् बेवफा बनना।

ओम् शांति ।

_____________________________
28-07-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - तुम्हारी पढ़ाई का फाउन्डेशन है प्योरिटी, प्योरिटी है तब योग का जौहर भर सकेगा, योग का जौहर है तो वाणी में शक्ति होगी”   
प्रश्न:
तुम बच्चों को अभी कौन-सा प्रयत्न पूरा-पूरा करना है?
उत्तर:
सिर पर जो विकर्मों का बोझा है उसे उतारने का पूरा-पूरा प्रयत्न करना है। बाप का बनकर कोई विकर्म किया तो बहुत ज़ोर से गिर पड़ेंगे। बी.के. की अगर निंदा कराई, कोई तकलीफ दी तो बहुत पाप हो जायेगा। फिर ज्ञान सुनने-सुनाने से कोई फायदा नहीं।
ओम् शान्ति।
रूहानी बाप बच्चों को समझा रहे हैं कि तुम पतित से पावन बन पावन दुनिया का मालिक कैसे बन सकते हो! पावन दुनिया को स्वर्ग अथवा विष्णुपुरी, लक्ष्मी-नारायण का राज्य कहा जाता है। विष्णु अर्थात् लक्ष्मी-नारायण का कम्बाइन्ड चित्र ऐसा बनाया है, इसलिए समझाया जाता है। बाकी विष्णु की जब पूजा करते हैं तो समझ नहीं सकते कि यह कौन हैं? महालक्ष्मी की पूजा करते हैं परन्तु समझते नहीं कि यह कौन है? बाबा अभी तुम बच्चों को भिन्न-भिन्न रीति से समझाते हैं। अच्छी रीति धारण करो। कोई-कोई की बुद्धि में रहता है कि परमात्मा तो सब कुछ जानते हैं। हम जो कुछ अच्छा वा बुरा करते हैं वह सब जानते हैं। अब इसको अन्धश्रद्धा का भाव कहा जाता है। भगवान इन बातों को जानते ही नहीं। तुम बच्चे जानते हो भगवान तो है पतितों को पावन बनाने वाला। पावन बनाकर स्वर्ग का मालिक बनाते हैं फिर जो अच्छी रीति पढ़ेंगे वह ऊंच पद पायेंगे। बाकी ऐसे नहीं समझना है कि बाप सबके दिलों को जानते हैं। यह फिर बेसमझी कही जायेगी। मनुष्य जो कर्म करते हैं उनका फिर अच्छा या बुरा ड्रामा अनुसार उनको मिलता ही है। इसमें बाप का कोई कनेक्शन ही नहीं। यह ख्याल कभी नहीं करना है कि बाबा तो सब कुछ जानते ही हैं। बहुत हैं जो विकार में जाते, पाप करते रहते हैं और फिर यहाँ अथवा सेन्टर्स पर आ जाते हैं। समझते हैं बाबा तो जानते हैं। परन्तु बाबा कहते हम यह धंधा ही नहीं करते। जानी जाननहार अक्षर भी रांग है। तुम बाप को बुलाते हो कि आकर पतित से पावन बनाओ, स्वर्ग का मालिक बनाओ क्योंकि जन्म-जन्मान्तर के पाप सिर पर बहुत हैं। इस जन्म के भी हैं। इस जन्म के पाप बतलाते भी हैं। बहुतों ने ऐसे पाप किये हैं जो पावन बनना बड़ा मुश्किल लगता है। मुख्य बात है ही पावन बनने की। पढ़ाई तो बहुत सहज है, परन्तु विकर्मों का बोझा कैसे उतरे उसका प्रयत्न करना चाहिए। ऐसे बहुत हैं अथाह पाप करते हैं, बहुत डिस-सर्विस करते हैं। बी.के. आश्रम को तकलीफ देने की कोशिश करते हैं। इसका बहुत पाप चढ़ता है। वह पाप आदि कोई ज्ञान देने से नहीं मिट सकेंगे। पाप मिटेंगे फिर भी योग से। पहले तो योग का पूरा पुरूषार्थ करना चाहिए, तब किसको तीर भी लग सकेगा। पहले पवित्र बनें, योग हो तब वाणी में भी जौहर भरेगा। नहीं तो भल किसको कितना भी समझायेंगे, किसको बुद्धि में जँचेगा नहीं, तीर लगेगा नहीं। जन्म-जन्मान्तर के पाप हैं ना। अभी जो पाप करते हैं, वह तो जन्म-जन्मान्तर से भी बहुत हो जाते हैं इसलिए गाया जाता है सतगुरू के निंदक... यह सत बाबा, सत टीचर, सतगुरू है। बाप कहते हैं बी.के. की निंदा कराने वाले का भी पाप बहुत भारी है। पहले खुद तो पावन बनें। किसको समझाने का बहुत शौक रखते हैं। योग पाई का भी नहीं, इससे फायदा क्या? बाप कहते हैं मुख्य बात है ही याद से पावन बनने की। पुकारते भी पावन बनने के लिए हैं। भक्ति मार्ग में एक आदत पड़ गई है, धक्के खाने की, फालतू आवाज़ करने की। प्रार्थना करते हैं परन्तु भगवान को कान कहाँ हैं, बिगर कान, बिगर मुख, सुनेंगे, बोलेंगे कैसे? वह तो अव्यक्त है। यह सब है अन्धश्रद्धा।

तुम बाप को जितना याद करेंगे उतना पाप नाश होंगे। ऐसे नहीं कि बाप जानते हैं-यह बहुत याद करता है, यह कम याद करता है, यह तो अपना चार्ट खुद को ही देखना है। बाप ने कहा है याद से ही तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। बाबा भी तुमसे ही पूछते हैं कि कितना याद करते हो? चलन से भी मालूम पड़ता है। सिवाए याद के पाप कट नहीं सकते। ऐसे नहीं, किसको ज्ञान सुनाते हो तो तुम्हारे वा उनके पाप कट जायेंगे। नहीं, जब खुद याद करें तब पाप कटें। मूल बात है पावन बनने की। बाप कहते हैं मेरे बने हो तो कोई पाप नहीं करो। नहीं तो बहुत ज़ोर से गिर पड़ेंगे। उम्मीद भी नहीं रखनी है कि हम अच्छा पद पा सकेंगे। प्रदर्शनी में बहुतों को समझाते हैं तो बस खुश हो जाते हैं, हमने बहुत सर्विस की। परन्तु बाप कहते हैं पहले तुम तो पावन बनो। बाप को याद करो। याद में बहुत फेल होते हैं। ज्ञान तो बहुत सहज है, सिर्फ 84 के चक्र को जानना है, उस पढ़ाई में कितने हिसाब-किताब पढ़ते हैं, मेहनत करते हैं। कमायेंगे क्या? पढ़ते-पढ़ते मर जाएं तो पढ़ाई खत्म। तुम बच्चे तो जितना याद में रहेंगे उतना धारणा होगी। पवित्र नहीं बनेंगे, पाप नहीं मिटायेंगे तो बहुत सज़ा खानी पड़ेगी। ऐसे नहीं, हमारी याद तो बाबा को पहुँचती ही है। बाबा क्या करेंगे! तुम याद करेंगे तो तुम पावन बनेंगे, बाबा उसमें क्या करेंगे, क्या शाबास देंगे। बहुत बच्चे हैं जो कहते हैं हम तो सदैव बाप को याद करते ही रहते हैं, उनके बिगर हमारा है ही कौन? यह भी गपोड़ा मारते रहते हैं। याद में तो बड़ी मेहनत है। हम याद करते हैं वा नहीं, यह भी समझ नहीं सकते। अनजाने से कह देते हम तो याद करते ही हैं। मेहनत बिगर कोई विश्व का मालिक थोड़ेही बन सकते। ऊंच पद पा न सकें। याद का जौहर जब भरे तब सर्विस कर सकें। फिर देखा जाए कितनी सर्विस कर प्रजा बनाई। हिसाब चाहिए ना। हम कितने को आपसमान बनाते हैं। प्रजा बनानी पड़े ना, तब राजाई पद पा सकते। वह तो अभी कुछ है नहीं। योग में रहें, जौहर भरे तब किसको पूरा तीर लगे। शास्त्रों में भी है ना-पिछाड़ी में भीष्मपितामह, द्रोणाचार्य आदि को ज्ञान दिया। जब तुम्हारा पतितपना निकल सतोप्रधान तक आत्मा आ जाती है तब जौहर भरता है तो झट तीर लग जाता है। यह कभी ख्याल नहीं करो कि बाबा तो सब कुछ जानते हैं। बाबा को जानने की क्या दरकार है, जो करेंगे सो पायेंगे। बाबा साक्षी हो देखते रहते हैं। बाबा को लिखते हैं हमने फलानी जगह जाकर सर्विस की, बाबा पूछेंगे पहले तुम याद की यात्रा पर तत्पर हो? पहली बात ही यह है-और संग तोड़ एक बाप संग जोड़ो। देही-अभिमानी बनना पड़े। घर में रहते भी समझना है यह तो पुरानी दुनिया, पुरानी देह है। यह सब खलास होना है। हमारा काम है बाप और वर्से से। बाबा ऐसे नहीं कहते कि गृहस्थ व्यवहार में नहीं रहो, कोई से बात न करो। बाबा से पूछते हैं शादी पर जायें? बाबा कहेंगे भल जाओ। वहाँ भी जाकर सर्विस करो। बुद्धि का योग शिवबाबा से हो। जन्म-जन्मान्तर के विकर्म याद बल से ही भस्म होंगे। यहाँ भी अगर विकर्म करते हैं तो बहुत सज़ायें भोगनी पड़ें। पावन बनते-बनते विकार में गिरा तो मरा। एकदम पुर्जा-पुर्जा हो जाते। श्रीमत पर न चल बहुत नुकसान करते हैं। कदम-कदम पर श्रीमत चाहिए। ऐसे-ऐसे पाप करते हैं जो योग लग न सके। याद कर न सकें। कोई को जाकर कहेंगे-भगवान आया है, उनसे वर्सा लो, तो वह मानेंगे नहीं। तीर लगेगा नहीं। बाबा ने कहा है भक्तों को ज्ञान सुनाओ, व्यर्थ किसको न दो, नहीं तो और ही निंदा करायेंगे।

कई बच्चे बाबा से पूछते हैं-बाबा हमको दान करने की आदत है, अब तो ज्ञान में आ गये हैं, अब क्या करें? बाबा राय देते हैं-बच्चे, गरीबों को दान देने वाले तो बहुत हैं। गरीब कोई भूख नहीं मरते हैं, फकीरों के पास बहुत पैसे पड़े रहते हैं इसलिए इन सब बातों से तुम्हारी बुद्धि हट जानी चाहिए। दान आदि में भी बहुत खबरदारी चाहिए। बहुत ऐसे-ऐसे काम करते हैं, बात मत पूछो और फिर खुद समझते नहीं कि हमारे सिर पर बोझा बहुत भारी होता जाता है। ज्ञान मार्ग कोई हंसीकुडी का मार्ग नहीं है। बाप के साथ तो फिर धर्मराज भी है। धर्मराज के बड़े-बड़े डन्डे खाने पड़ते हैं। कहते हैं ना जब पिछाड़ी में धर्मराज लेखा लेंगे तब पता पड़ेगा। जन्म-जन्मान्तर की सजायें खाने में कोई टाइम नहीं लगता है। बाबा ने काशी कलवट का भी मिसाल समझाया है। वह है भक्ति मार्ग, यह है ज्ञान मार्ग। मनुष्यों की भी बलि चढ़ाते हैं, यह भी ड्रामा में नूँध है। इन सब बातों को समझना है, ऐसे नहीं कि यह ड्रामा बनाया ही क्यों? चक्र में लाया ही क्यों? चक्र में तो आते ही रहेंगे। यह तो अनादि ड्रामा है ना। चक्र में न आओ तो फिर दुनिया ही न रहे। मोक्ष तो होता नहीं। मुख्य का भी मोक्ष नहीं हो सकता। 5 हज़ार वर्ष के बाद फिर ऐसे ही चक्र लगायेंगे। यह तो ड्रामा है ना। सिर्फ कोई को समझाने, वाणी चलाने से पद नहीं मिल जायेगा, पहले तो पतित से पावन बनना है। ऐसे नहीं बाबा तो सब जानते हैं। बाबा जान करके भी क्या करेंगे, पहले तो तुम्हारी आत्मा जानती है श्रीमत पर हम क्या करते हैं, कहाँ तक बाबा को याद करते हैं? बाकी बाबा यह बैठकर जाने, इससे फायदा ही क्या? तुम जो कुछ करते हो सो तुम पायेंगे। बाबा तुम्हारी एक्ट और सर्विस से जानते हैं-यह बच्चा अच्छी सर्विस करते हैं। फलाने ने बाबा का बनकर बहुत विकर्म किये हैं तो उसकी मुरली में जौहर भर न सके। यह ज्ञान तलवार है। उसमें याद बल का जौहर चाहिए। योगबल से तुम विश्व पर विजय प्राप्त करते हो, बाकी ज्ञान से नई दुनिया में ऊंच पद पायेंगे। पहले तो पवित्र बनना है, पवित्र बनने बिगर ऊंच पद मिल न सके। यहाँ आते हैं नर से नारायण बनने के लिए। पतित थोड़ेही नर से नारायण बनेंगे। पावन बनने की पूरी युक्ति चाहिए। अनन्य बच्चे जो सेन्टर्स सम्भालते हैं उनको भी बड़ी मेहनत करनी पड़े, इतनी मेहनत नहीं करते हैं इसलिए वह जौहर नहीं भरता, तीर नहीं लगता, याद की यात्रा कहाँ! सिर्फ प्रदर्शनी में बहुतों को समझाते हैं, पहले याद से पवित्र बनना है फिर है ज्ञान। पावन होंगे तो ज्ञान की धारणा होगी। पतित को धारणा होगी नहीं। मुख्य सब्जेक्ट है याद की। उस पढ़ाई में भी सब्जेक्ट होती हैं ना। तुम्हारे पास भी भल बी.के. बनते हैं परन्तु ब्रह्माकुमार-कुमारी, भाई-बहन बनना मासी का घर नहीं है। सिर्फ कहने मात्र नहीं बनना है। देवता बनने के लिए पहले पवित्र जरूर बनना है। फिर है पढ़ाई। सिर्फ पढ़ाई होगी पवित्र नहीं होंगे तो ऊंच पद नहीं पा सकेंगे। आत्मा पवित्र चाहिए। पवित्र हो तब पवित्र दुनिया में ऊंच पद पा सके। पवित्रता पर ही बाबा ज़ोर देते हैं। बिगर पवित्रता किसको ज्ञान दे न सके। बाकी बाबा देखते कुछ भी नहीं है। खुद बैठे हैं ना, सब बातें समझाते हैं। भक्ति मार्ग में भावना का भाड़ा मिल जाता है। वह भी ड्रामा में नूँध है, शरीर बिगर बाप बात कैसे करेंगे? सुनेंगे कैसे? आत्मा को शरीर है तब सुनती बोलती है। बाबा कहते हैं मुझे आरगन्स ही नहीं तो सुनूँ, जानूँ कैसे? समझते हैं बाबा तो जानते हैं हम विकार में जाते हैं। अगर नहीं जानते हैं तो भगवान ही नहीं मानेंगे। ऐसे भी बहुत होते हैं। बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुमको पावन बनाने का रास्ता बताने। साक्षी हो देखता हूँ। बच्चों की चलन से मालूम पड़ जाता है-यह कपूत है वा सपूत है? सर्विस का भी सबूत चाहिए ना। यह भी जानते हैं जो करता है सो पाता है। श्रीमत पर चलेगा तो श्रेष्ठ बनेगा। नहीं चलेगा तो खुद ही गंदा बनकर गिरेगा। कोई भी बात है तो क्लीयर पूछो। अन्धश्रद्धा की बात नहीं। बाबा सिर्फ कहते हैं याद का जौहर नहीं होगा तो पावन कैसे बनेंगे? इस जन्म में भी पाप ऐसे-ऐसे करते हैं बात मत पूछो। यह है ही पाप आत्माओं की दुनिया, सतयुग है पुण्य आत्माओं की दुनिया। यह है संगम। कोई तो डलहेड हैं तो धारणा कर नहीं सकते। बाबा को याद नहीं कर सकते। फिर टू लेट हो जायेंगे, भंभोर को आग लग जायेगी फिर योग में भी रह नहीं सकेंगे। उस समय तो हाहाकार मच जाती है। बहुत दु:ख के पहाड़ गिरने वाले हैं। यही फुरना रहना चाहिए कि हम अपना राज्य-भाग्य तो बाप से ले लेवें। देह-अभिमान छोड़ सर्विस में लग जाना चाहिए। कल्याणकारी बनना है। धन व्यर्थ नहीं गँवाना है। जो लायक ही नहीं ऐसे पतित को कभी दान नहीं देना चाहिए, नहीं तो दान देने वाले पर भी आ जाता है। ऐसे नहीं कि ढिंढोरा पीटना है कि भगवान आया है। ऐसे भगवान कहलाने वाले भारत में बहुत हैं। कोई मानेंगे नहीं। यह तुम जानते हो तुमको रोशनी मिली है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) पढ़ाई के साथ-साथ पवित्र जरूर बनना है। ऐसा लायक वा सपूत बच्चा बन सर्विस का सबूत देना है। श्रीमत पर स्वयं को श्रेष्ठ बनाना है।
2) स्थूल धन भी व्यर्थ नहीं गँवाना है। पतितों को दान नहीं करना है। ज्ञान धन भी पात्र को देखकर देना है।
वरदान:
सर्व सम्बन्धों का अनुभव एक बाप से करने वाले अथक और विघ्न-विनाशक भव!   
जिन बच्चों के सर्व सम्बन्ध एक बाप के साथ हैं उनको और सब सम्बन्ध निमित्त मात्र अनुभव होंगे, वह सदा खुशी में नाचने वाले होंगे, कभी थकावट का अनुभव नहीं करेंगे, अथक होंगे। बाप और सेवा इसी लगन में मगन होंगे। विघ्नों के कारण रूकने के बजाए सदा विघ्न विनाशक होंगे। सर्व सम्बन्धों की अनुभूति एक बाप से होने के कारण डबल लाइट रहेंगे, कोई बोझ नहीं होगा। सर्व कम्पलेन समाप्त होंगी। कम्पलीट स्थिति का अनुभव होगा। सहजयोगी होंगे।
स्लोगन:
संकल्प में भी किसी देहधारी तरफ आकर्षित होना अर्थात् बेवफा बनना।  

Murli 27 July 2015

Sweet children, make effort and imbibe the divine virtues very well. Never cause anyone sorrow. You shouldn’t have any devilish activities.

Question:

What devilish traits spoil your decoration?

Answer:

To fight and quarrel among yourselves, to sulk, to create chaos at your centre and cause sorrow, are devilish traits that spoil your decoration. Children who, even after belonging to the Father, don’t renounce those devilish traits, but continue to perform wrong actions, suffer a great loss. An account is an account! Dharamraj is with the Father.

Song:

No one is as unique as the Innocent Lord.

Essence for Dharna:

1. We are the children of the Father who is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. We mustn’t cause sorrow for anyone. Don’t curse yourself by doing disservice.

2. Have very elevated and royal thoughts. Be merciful and remain busy in service. Renounce greed for food and drink.

Blessing:

May you have a right to blessings from all souls and serve through your benevolent attitude.

To serve with your benevolent attitude is the way to receive blessings from all souls. When you have the aim of becoming world benefactors, no task that is not benevolent would then be performed. As is the task, so is your inculcation. If you remember your task, you remain constantly merciful and a great donor. Every step you take will be with a benevolent attitude. There would be no consciousness of “mine”, but you would remember that you are an instrument. In return for doing service, such serviceable souls receive a right to blessings from all souls.

Slogan:

Attraction to facilities finishes spiritual endeavour.

Om Shanti
____________________________
27/07/15 Morning Murli Om Shanti BapDada Madhuban

Sweet children, make effort and imbibe the divine virtues very well. Never cause anyone sorrow. You shouldn’t have any devilish activities.   
Question:
What devilish traits spoil your decoration?
Answer:
To fight and quarrel among yourselves, to sulk, to create chaos at your centre and cause sorrow, are devilish traits that spoil your decoration. Children who, even after belonging to the Father, don’t renounce those devilish traits, but continue to perform wrong actions, suffer a great loss. An account is an account! Dharamraj is with the Father.
Song:
No one is as unique as the Innocent Lord.   
Om Shanti
You spiritual children know that God is the Highest on High. People sing songs about this whereas you see this with divine vision. Your intellects understand that He is teaching you. It is the soul that studies through the body. It is the soul that does everything through the body. A soul adopts a perishable body to play his part. A whole part is recorded in the soul. 84 births are recorded in the soul. First of all, consider yourself to be a soul. The Father is the Almighty Authority. You children receive power from Him. By having yoga, you receive a lot of power and you become pure through that power. The Father gives you the power to rule a whole kingdom. He gives you such great power. Those with the arrogance of science create so many things for destruction. Their intellects work for destruction whereas your intellects work to claim an imperishable status. You receive a great deal of power and you claim the kingdom of the world through that power. There, it isn’t government of the people by the people. There, it is the kingdom of the king and queen. God is the Highest on High. People remember Him. They build temples to Lakshmi and Narayan and worship them but, nevertheless, God is remembered as the Highest on High. You now understand that Lakshmi and Narayan were the masters of the world. The highest-on-high kingdom in the world is received from the unlimited Father. You are to receive such a high status! Therefore, you children should experience so much happiness! You would definitely remember someone who gives you something. A bride has so much love for her husband; she gives her life for him. When he dies, she cries so much in distress. That One is the Husband of all husbands. He is now decorating you so well for you to claim the highest-on-high status. Therefore, you children should have so much intoxication! You have to imbibe divine virtues here. Many still have a lot of devilish traits. To fight and quarrel, to sulk, to create chaos at the centre are devilish traits. Baba knows because He receives many reports. Lust is the greatest enemy, but anger is no less an enemy. “So-and-so is shown so much love. Why am I not shown any love?” “So-and-so was asked his opinion. Why wasn’t I asked?” There are many who speak like this because their intellects have doubt. A kingdom is being established. What status would such ones claim? There’s a lot of difference in the status. Even cleaners will stay in very good mansions. Others will stay somewhere else in good houses. Each one of you has to make effort for yourself very well to imbibe divine virtues. By your becoming body conscious, there are devilish activities. When you become soul conscious and imbibe all of this very well, you will be able to claim a high status. You have to make effort accordingly to imbibe such divine virtues. Never cause anyone sorrow. You are the children of the Father who is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Never cause sorrow for anyone. Those who look after centres have a great responsibility. The Father says: Children, if someone makes a mistake, he accumulates one hundredfold punishment. By becoming body conscious, there is a great loss because you Brahmins have become instruments to reform everyone. If you haven’t reformed yourself, how could you reform others? There would then be a great loss. There is also the Pandava Government. The Father is the Highest on High and Dharamraj is with Him. Very severe punishment is experienced through Dharamraj. When such wrong actions are performed, a great loss is experienced. An account is an account, there is an account for everything! The Father has all the accounts. On the path of devotion too, there is a proper account. It is still said that God takes account of everything you do. Here, the Father Himself says: Dharamraj takes full account of everything you do. What would you be able to do at that time? You will have visions of the things you did. There will be a little punishment there, whereas there will be a great deal of punishment here. In the golden age, you children won’t go into a jail-like womb. There, the womb is like a palace. No one commits sin etc. there. Therefore, you children have to be very cautious in order to attain such fortune of the kingdom. Some children become cleverer than their teacher. Their fortune becomes higher than that of their teacher. The Father has also explained that if someone doesn’t do service well, he will become a servant for birth after birth. As soon as the Father comes in front of you children, He asks you: Children, are you sitting here in soul consciousness? The elevated versions of the Father for the children are: Children, you have to make a lot of effort to become soul conscious. Whilst walking and moving around, continue to churn the ocean of knowledge. Many children feel that they want to go very soon from this dirty world of hell to the land of happiness. The Father says: Even very good maharathis fail to have yoga. Even they have to be inspired to make effort. If there isn’t any yoga, you fall down completely. Knowledge is very easy; the whole history and geography enters the intellect. Although many good daughters are very clever at explaining at exhibitions, neither do they have yoga nor do they have divine virtues. Sometimes Baba wonders at the present stage of some children! There is so much sorrow in the world! All of this should finish very soon. Baba (Brahma) is waiting to go soon to the land of happiness. Some are very desperate to go, just as some are very desperate to meet the Father, because Baba shows us the way to heaven. Some are very desperate to see such a Father. They feel that they want to listen to the Father face-to-face every day. You now understand that there are no complications here. When you live outside you have to fulfil your responsibility to everyone. Otherwise there would be a lot of conflict. This is why Baba gives everyone patience. This requires very incognito effort. No one is able to make that effort for remembrance. When you stay in incognito remembrance, you are able to follow the Father’s directions. Because of being body conscious, some don’t even follow the Father’s directions! Baba says: Write your chart and you will make a lot of progress. Who said this? Shiv Baba! When a teacher gives homework, the students do it. Here, Maya doesn’t allow even some very good children to do this. If Baba were to receive the chart of the very good children, He would see how much such children stay in remembrance. You souls understand that you are lovers of the one Beloved. There are many types of physical lovers and beloveds. You are very old lovers. You now have to become soul conscious. Something or other will have to be tolerated. Don’t consider yourselves to be that clever! Baba is not asking you to give your bones. Baba says: Keep yourselves in good health so that you are able to do service well. If you are ill, you will have to stay in bed. The doctors feel that an angel has come when some children go to serve in hospitals. They take the pictures with them. Those who do such service are said to be merciful. When you do such service, someone or other will emerge. The more power of remembrance you have, the more people will be drawn here. Only in this remembrance is there strength. Purity first! It is said that there first has to be purity, then peace and then prosperity. You become pure with the power of remembrance. Then, there is the power of knowledge. Don’t become weak in remembrance. It is in remembrance that there are obstacles. By staying in remembrance you will become pure and also develop divine virtues. You know the Father’s praise. The Father gives so much happiness! He makes you worthy of happiness for 21 births. Never cause sorrow for anyone. Some children do disservice and thereby put a curse on themselves and also trouble others a lot. When someone becomes disobedient, it is as though he curses himself. By doing disservice, some fall right down. Many children either fall due to vice or else they become angry and stop studying. Many types of children are sitting here. When they leave here, refreshed, they repent for their mistakes. However, nothing is forgiven by just their repentance. The Father says: You have to forgive yourself! Stay in remembrance! The Father doesn’t forgive anyone, because this is a study. The Father is teaching you and you children have to have mercy on yourselves by studying. You have to have good manners. Baba asks the teachers to bring the register. When Baba hears the news of each one He gives guidance. Then, because some students think that their teacher has reported them to Baba, they begin to do even more disservice. A lot of effort is required here. Maya is a great enemy. She doesn’t allow you to change from being like a monkey to becoming worthy of living in a temple. Instead of claiming a high status, some fall even more and are unable to get up; they die. The Father repeatedly explains to the children that this is a very high destination. You have to become the masters of the world. Children of eminent people behave with great royalty. They are concerned not to lose their father’s honour. Of some it would be said, “Your father is so good and you are so unworthy! You are losing your father’s honour.” Here, each one loses his own honour himself. A lot of punishment is experienced. Baba warns you: Be very cautious as you move along. Don’t become jailbirds. Jailbirds exist here. In the golden age there are no jails. Nevertheless, you now have to study and claim a high status. Don’t make mistakes! Don’t cause sorrow for anyone! Stay on the pilgrimage of remembrance! It is remembrance that is useful. The main thing to explain at exhibitions is: Only by having remembrance of the Father will you become pure. Everyone wants to become pure. This is the impure world. Only the one Father comes to grant salvation to everyone. Christ and Buddha etc. couldn’t grant salvation to anyone. People mention the name of Brahma, but even Brahma cannot be the Bestower of Salvation. He is the instrument for the deity religion. Although Shiv Baba establishes the deity religion, Brahma, Vishnu and Shankar are also remembered. People speak of Trimurti Brahma. The Father says: He is not a guru either. There is only one Guru and you become spiritual gurus through Him. Those others are founders of religions. How can the founder of a religion be called the Bestower of Salvation? These are very deep matters and have to be understood. The religious founders simply establish their religion. Then their followers follow them down. They cannot take everyone back home. They have to enter rebirth. This explanation applies to everyone. Not a single guru can grant salvation. The Father explains: There is only the one Guru and Purifier. He alone is the Bestower of Salvation and the Liberator for All. Tell everyone that we only have the one Guru. He is the One who grants salvation to everyone and takes them back home to the land of peace and the land of happiness. There are very few people at the beginning of the golden age. You would of course show the pictures of whose kingdom it was. The people of Bharat and those who worship those deities will quickly believe that they (Lakshmi and Narayan) truly were the masters of heaven, and that it used to be their kingdom in heaven. Where were all the other souls at that time? You would say that they were definitely in the incorporeal world. You now understand these things. Previously, you didn’t know anything. The cycle now turns around in your intellects. Truly, it used to be their kingdom in Bharat 5000 years ago. When the reward of knowledge comes to an end, the path of devotion begins. Then there has to be disinterest in the old world. That’s it! We will now go to the new world. The hearts are now removed from the old world. There the husband and children etc. will all be very good. The unlimited Father is making you into the masters of the world. You children, who are to become masters of the world, must have very elevated thoughts and royal behaviour. Regarding food, you should not eat too little, nor should you have any greed. The diet of those who stay in remembrance would be very subtle (light). The intellects of many are distracted by food. You children have the happiness of becoming the masters of the world. It is said: There is no nourishment like the nourishment of happiness. If you constantly maintain such happiness, your food and drink will become very light. When you eat too much, you become very heavy and you then keep dozing off. Then you say: Baba, I feel very sleepy! Your diet should be constant. It shouldn’t be that when there is good food you eat more. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.
Essence for Dharna:
1. We are the children of the Father who is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. We mustn’t cause sorrow for anyone. Don’t curse yourself by doing disservice.
2. Have very elevated and royal thoughts. Be merciful and remain busy in service. Renounce greed for food and drink.
Blessing:
May you have a right to blessings from all souls and serve through your benevolent attitude.   
To serve with your benevolent attitude is the way to receive blessings from all souls. When you have the aim of becoming world benefactors, no task that is not benevolent would then be performed. As is the task, so is your inculcation. If you remember your task, you remain constantly merciful and a great donor. Every step you take will be with a benevolent attitude. There would be no consciousness of “mine”, but you would remember that you are an instrument. In return for doing service, such serviceable souls receive a right to blessings from all souls.
Slogan:
Attraction to facilities finishes spiritual endeavour.   
 

मुरली 27 जुलाई 2015

“मीठे बच्चे - पुरूषार्थ कर दैवी गुण अच्छी रीति धारण करने हैं, किसी को भी दु:ख नहीं देना है, तुम्हारी कोई भी आसुरी एक्टिविटी नहीं चाहिए”

प्रश्न:

कौन से आसुरी गुण तुम्हारे श्रृंगार को बिगाड़ देते हैं?

उत्तर:

आपस में लड़ना-झगड़ना, रूठना, सेन्टर पर धमचक्र मचाना, दु:ख देना-यह आसुरी गुण हैं, जो तुम्हारे श्रृंगार को बिगाड़ देते हैं। जो बच्चे बाप का बन करके भी इन आसुरी गुणों का त्याग नहीं करते हैं, उल्टे कर्म करते हैं, उन्हें बहुत घाटा पड़ जाता है। हिसाब ही हिसाब है। बाप के साथ धर्मराज भी है।

गीतः

भोलेनाथ से निराला.........

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) हम दु:ख हर्ता सुख कर्ता बाप के बच्चे हैं, हमें किसी को दु:ख नहीं देना है। डिससर्विस कर अपने आपको श्रापित नहीं करना है।

2) अपने ख्यालात बड़े ऊंचे और रॉयल रखने हैं। रहमदिल बन सर्विस पर तत्पर रहना है। खाने-पीने की हबच (लालच) को छोड़ देना है।

वरदान:

कल्याणकारी वृत्ति द्वारा सेवा करने वाले सर्व आत्माओं की दुआओं के अधिकारी भव!

कल्याणकारी वृत्ति द्वारा सेवा करना-यही सर्व आत्माओं की दुआयें प्राप्त करने का साधन है। जब लक्ष्य रहता है कि हम विश्व कल्याणकारी हैं, तो अकल्याण का कर्तव्य हो नहीं सकता। जैसा कार्य होता है वैसी अपनी धारणायें होती हैं, अगर कार्य याद रहे तो सदा रहमदिल, सदा महादानी रहेंगे। हर कदम में कल्याणकारी वृत्ति से चलेंगे, मैं पन नहीं आयेगा, निमित्त पन याद रहेगा। ऐसे सेवाधारी को सेवा के रिटर्न में सर्व आत्माओं की दुआओं का अधिकार प्राप्त हो जाता है।

स्लोगन:

साधनों की आकर्षण साधना को खंडित कर देती है।

ओम् शांति ।

_____________________________
27-07-15 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे - पुरूषार्थ कर दैवी गुण अच्छी रीति धारण करने हैं, किसी को भी दु:ख नहीं देना है, तुम्हारी कोई भी आसुरी एक्टिविटी नहीं चाहिए”   
प्रश्न:
कौन से आसुरी गुण तुम्हारे श्रृंगार को बिगाड़ देते हैं?
उत्तर:
आपस में लड़ना-झगड़ना, रूठना, सेन्टर पर धमचक्र मचाना, दु:ख देना-यह आसुरी गुण हैं, जो तुम्हारे श्रृंगार को बिगाड़ देते हैं। जो बच्चे बाप का बन करके भी इन आसुरी गुणों का त्याग नहीं करते हैं, उल्टे कर्म करते हैं, उन्हें बहुत घाटा पड़ जाता है। हिसाब ही हिसाब है। बाप के साथ धर्मराज भी है।
गीतः
भोलेनाथ से निराला.........   
ओम् शान्ति।
रूहानी बच्चे यह तो जान चुके हैं कि ऊंच ते ऊंच भगवान है। मनुष्य गाते हैं और तुम देखते हो दिव्य दृष्टि से। तुम बुद्धि से भी जानते हो कि हमको वह पढ़ा रहे हैं। आत्मा ही पढ़ती है शरीर से। सब कुछ आत्मा ही करती है शरीर से। शरीर विनाशी है, जिसको आत्मा धारण कर पार्ट बजाती है। आत्मा में ही सारे पार्ट की नूँध है। 84 जन्मों की भी आत्मा में ही नूँध है। पहले-पहले तो अपने को आत्मा समझना है। बाप है सर्वशक्तिमान्। उनसे तुम बच्चों को शक्ति मिलती है। योग से शक्ति जास्ती मिलती है, जिससे तुम पावन बनते हो। बाप तुमको शक्ति देते हैं विश्व पर राज्य करने की। इतनी महान शक्ति देते हैं, वह साइंस घमन्डी आदि इतना सब बनाते हैं विनाश के लिए। उनकी बुद्धि है विनाश के लिए, तुम्हारी बुद्धि है अविनाशी पद पाने के लिए। तुमको बहुत शक्ति मिलती है जिससे तुम विश्व पर राज्य पाते हो। वहाँ प्रजा का प्रजा पर राज्य नहीं होता है। वहाँ है ही राजा-रानी का राज्य। ऊंच ते ऊंच है भगवान। याद भी उनको करते हैं। लक्ष्मी-नारायण का सिर्फ मन्दिर बनाकर पूजते हैं। फिर भी ऊंच ते ऊंच भगवान गाया जाता है। अभी तुम समझते हो यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे। ऊंच ते ऊंच विश्व की बादशाही मिलती है बेहद के बाप से। तुमको कितना ऊंच पद मिलता है। तो बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। जिससे कुछ मिलता है उनको याद किया जाता है ना। कन्या का पति से कितना लव रहता है, कितना पति के पिछाड़ी प्राण देती है। पति मरता है तो या-हुसैन मचा देती है। यह तो पतियों का पति है, तुमको कितना श्रृंगार रहे हैं-यह ऊंच ते ऊंच पद प्राप्त कराने के लिए। तो तुम बच्चों में कितना नशा होना चाहिए। दैवीगुण भी तुमको यहाँ धारण करने हैं। बहुतों में अभी तक आसुरी अवगुण हैं, लड़ना-झगड़ना, रूठना, सेन्टर पर धमचक्र मचाना....... बाबा जानते हैं बहुत रिपोर्टस आती हैं। काम महाशत्रु है तो क्रोध भी कोई कम शत्रु नहीं है। फलाने के ऊपर प्यार, मेरे ऊपर क्यों नहीं! फलानी बात इनसे पूछी, मेरे से क्यों नहीं पूछा! ऐसे-ऐसे बोलने वाले संशय बुद्धि बहुत हैं। राजधानी स्थापन होती है ना। ऐसे-ऐसे क्या पद पायेंगे। मर्तबे में तो फ़र्क बहुत रहता है। मेहतर भी देखो अच्छे-अच्छे महलों में रहते, कोई कहाँ रहते। हर एक को अपना पुरूषार्थ कर दैवीगुण अच्छे धारण करने हैं। देह-अभिमान में आने से आसुरी एक्टिविटी होती है। जब देही-अभिमानी बन अच्छी रीति धारणा करते रहो तब ऊंच पद पाओ। पुरूषार्थ ऐसा करना है, दैवीगुण धारण करने का, किसको दु:ख नहीं देना है। तुम बच्चे दु:ख हर्ता, सुख कर्ता बाप के बच्चे हो। कोई को भी दु:ख नहीं देना चाहिए। जो सेन्टर सम्भालते हैं उन पर बहुत रेसपान्सिबिलिटी है। जैसे बाप कहते हैं-बच्चे, अगर कोई भूल करता है तो सौगुणा दण्ड पड़ जाता है। देह-अभिमान होने से बड़ा घाटा होता है क्योंकि तुम ब्राह्मण सुधारने के लिए निमित्त बने हुए हो। अगर खुद ही नहीं सुधरे तो औरों को क्या सुधारेंगे। बहुत नुकसान हो पड़ता है। पाण्डव गवर्मेन्ट है ना। ऊंच ते ऊंच बाप है उनके साथ धर्मराज भी है। धर्मराज द्वारा बहुत बड़ी सज़ा खाते हैं। ऐसे कुछ कर्म करते हैं तो बहुत घाटा पड़ जाता है। हिसाब ही हिसाब है, बाबा के पास पूरा हिसाब रहता है। भक्ति मार्ग में भी हिसाब ही हिसाब है। कहते भी हैं भगवान तुम्हारा हिसाब लेगा। यहाँ बाप खुद कहते हैं धर्मराज बहुत हिसाब लेंगे। फिर उस समय क्या कर सकेंगे! साक्षात्कार होगा-हमने यह-यह किया। वहाँ तो थोड़ी मार पड़ती है, यहाँ तो बहुत मार खानी पड़ेगी। तुम बच्चों को सतयुग में गर्भ जेल में नहीं आना है। वहाँ तो गर्भ महल है। कोई पाप आदि करते नहीं। तो ऐसा राज्य-भाग्य पाने के लिए बच्चों को बहुत खबरदार होना है। कई बच्चे ब्राह्मणी (टीचर) से भी तीखे हो जाते हैं। तकदीर ब्राह्मणी से भी ऊंची हो जाती है। यह भी बाप ने समझाया है-अच्छी सर्विस नहीं करेंगे तो जन्म-जन्मान्तर दास-दासियाँ बनेंगे।

बाप सम्मुख आते ही बच्चों से पूछते हैं-बच्चे, देही-अभिमानी होकर बैठे हो? बाप के बच्चों प्रति महावाक्य हैं-बच्चे, आत्म-अभिमानी बनने का बहुत पुरूषार्थ करना है। घूमते फिरते भी विचार सागर मंथन करते रहना है। बहुत बच्चे हैं जो समझते हैं हम जल्दी-जल्दी इस नर्क की छी-छी दुनिया से जायें सुखधाम। बाप कहते हैं अच्छे-अच्छे महारथी योग में बहुत फेल हैं। उन्हों को भी पुरूषार्थ कराया जाता है। योग नहीं होगा तो एकदम गिर पड़ेंगे। नॉलेज तो बहुत सहज है। हिस्ट्री-जॉग्राफी सारी बुद्धि में आ जाती है। बहुत अच्छी-अच्छी बच्चियां हैं जो प्रदर्शनी समझाने में बड़ी तीखी हैं। परन्तु योग है नहीं, दैवीगुण भी नहीं हैं। कभी-कभी ख्याल होता है, अजुन क्या-क्या अवस्थायें हैं बच्चों की। दुनिया में कितना दु:ख है। जल्दी-जल्दी यह खत्म हो जाए। इंतज़ार में बैठे हैं, जल्दी चलें सुखधाम। तड़फते रहते हैं। जैसे बाप से मिलने लिए तड़फते हैं, क्योंकि बाबा हमको स्वर्ग का रास्ता बताते हैं। ऐसे बाप को देखने लिए तड़फते हैं। समझते हैं ऐसे बाप के सम्मुख जाकर रोज़ मुरली सुनें। अभी तो समझते हो यहाँ कोई झंझट की बात नहीं रहती है। बाहर में रहने से तो सबसे तोड़ निभाना पड़ता है। नहीं तो खिटपिट हो जाए इसलिए सबको धीरज देते हैं। इसमें बड़ी गुप्त मेहनत है। याद की मेहनत कोई से पहुँचती नहीं। गुप्त याद में रहें तो बाप के डायरेक्शन पर भी चलें। देह-अभिमान के कारण बाप के डायरेक्शन पर चलते ही नहीं। कहता हूँ चार्ट बनाओ तो बहुत उन्नति होगी। यह किसने कहा? शिवबाबा ने। टीचर काम देते हैं तो करके आते हैं ना। यहाँ अच्छे-अच्छे बच्चों को भी माया करने नहीं देती। अच्छे-अच्छे बच्चों का चार्ट बाबा के पास आये तो बाबा बतायें देखो कैसे याद में रहते हो। समझते हैं हम आत्मायें आशिक, एक माशूक की हैं। वह जिस्मानी आशिक- माशूक तो अनेक प्रकार के होते हैं। तुम बहुत पुराने आशिक हो। अभी तुमको देही-अभिमानी बनना है। कुछ न कुछ सहन करना ही पड़ेगा। मिया मिट्ठू नहीं बनना है। बाबा ऐसे थोड़ेही कहते हड्डी दे दो। बाबा तो कहते हैं तन्दुरूस्ती अच्छी रखो तो सर्विस भी अच्छी रीति कर सकेंगे। बीमार होंगे तो पड़े रहेंगे। कोई-कोई हॉस्पिटल में भी समझाने की सर्विस करते हैं तो डॉक्टर लोग कहते हैं यह तो फ़रिश्ते हैं। चित्र साथ में ले जाते हैं। जो ऐसी-ऐसी सर्विस करते हैं उनको रहमदिल कहेंगे। सर्विस करते हैं तो कोई-कोई निकल पड़ते हैं। जितना-जितना याद बल में रहेंगे उतना मनुष्यों को तुम खीचेंगे, इसमें ही ताकत है। प्योरिटी फर्स्ट। कहा भी जाता है पहले प्योरिटी, पीस, पीछे प्रासपर्टी। याद के बल से ही तुम पवित्र होते हो। फिर है ज्ञान बल। याद में कमजोर मत बनो। याद में ही विघ्न पड़ेंगे। याद में रहने से तुम पवित्र भी बनेंगे और दैवीगुण भी आयेंगे। बाप की महिमा तो जानते हो ना। बाप कितना सुख देते हैं। 21 जन्मों के लिए तुमको सुख के लायक बनाते हैं। कभी भी किसको दु:ख नहीं देना चाहिए।

कई बच्चे डिससर्विस कर अपने आपको जैसे श्रापित करते हैं, दूसरों को बहुत तंग करते हैं। कपूत बच्चा बनते हैं तो अपने आपको आपेही श्रापित कर देते हैं। डिससर्विस करने से एकदम पट पड़ जाते हैं। बहुत बच्चे हैं जो विकार में गिर पड़ते हैं या क्रोध में आकर पढ़ाई छोड़ देते हैं। अनेक प्रकार के बच्चे यहाँ बैठे हैं। यहाँ से रिफ्रेश होकर जाते हैं तो भूल का पश्चाताप् करते हैं। फिर भी पश्चाताप् से कोई माफ नहीं हो सकता है। बाप कहते हैं क्षमा अपने पर आपेही करो। याद में रहो। बाप किसको क्षमा नहीं करते हैं। यह तो पढ़ाई है। बाप पढ़ाते हैं, बच्चों को अपने पर कृपा कर पढ़ना है। मैनर्स अच्छे रखने हैं। बाबा ब्राह्मणी को कहते हैं, रजिस्टर ले आओ। एक-एक का समाचार सुनकर समझानी दी जाती है। तो समझते हैं ब्राह्मणी ने रिपोर्ट दी है और ही जास्ती डिससर्विस करने लग पड़ते हैं। बड़ी मेहनत लगती है। माया बड़ी दुश्मन है। बन्दर से मन्दिर बनने नहीं देती है। ऊंच पद पाने के बदले और ही बिल्कुल नीचे गिर पड़ते हैं। फिर कभी उठ न सकें, मर पड़ते हैं। बाप बच्चों को बार-बार समझाते हैं यह बड़ी ऊंच मंजिल है, विश्व का मालिक बनना है। बड़े आदमी के बच्चे बड़ी रायल्टी से चलते हैं। कहाँ बाप की इज्जत न जाये। कहेंगे तुम्हारा बाप कितना अच्छा है, तुम कितने कपूत हो। तुम अपने बाप की इज्जत गँवा रहे हो! यहाँ तो हर एक अपनी इज्जत गँवाते हैं। बहुत सज़ायें खानी पड़ती हैं। बाबा वारनिंग देते हैं, बड़े खबरदार हो चलो। जेल बर्डस न बनो। जेल बर्डस भी यहाँ होते हैं, सतयुग में तो कोई भी जेल नहीं होता। फिर भी पढ़कर ऊंच पद पाना चाहिए। गफलत नहीं करो। किसको भी दु:ख मत दो। याद की यात्रा पर रहो। याद ही काम में आयेगी। प्रदर्शनी में भी मुख्य बात यही बताओ। बाप की याद से ही पावन बनेंगे। पावन बनने तो सब चाहते हैं। यह है ही पतित दुनिया। सर्व की सद्गति करने तो एक ही बाप आते हैं। क्राइस्ट, बुद्ध आदि कोई की सद्गति नहीं कर सकते। फिर ब्रह्मा का भी नाम लेते हैं। ब्रह्मा को भी सद्गति दाता नहीं कह सकते। जो देवी-देवता धर्म का निमित्त है। भल देवी-देवता धर्म की स्थापना तो शिवबाबा करते हैं फिर भी नाम तो है ना - ब्रह्मा-विष्णु-शंकर. . . .। त्रिमूर्ति ब्रह्मा कह देते। बाप कहते हैं यह भी गुरू नहीं। गुरू तो एक ही है, उनके द्वारा तुम रूहानी गुरू बनते हो। बाकी वह है धर्म स्थापक। धर्म स्थापक को सद्गति दाता कैसे कह सकते, यह बड़ी डीप बातें हैं समझने की। अन्य धर्म स्थापक तो सिर्फ धर्म स्थापन करते हैं, जिसके पिछाड़ी सब आ जाते हैं, वह कोई सबको वापिस नहीं ले जा सकते। उनको तो पुनर्जन्म में आना ही है, सबके लिए यह समझानी है। एक भी गुरू सद्गति के लिए नहीं है। बाप समझाते हैं गुरू पतित-पावन एक ही है, वही सर्व के सद्गति दाता, लिबरेटर हैं, बताना चाहिए हमारा गुरू एक ही है, जो सद्गति देते हैं, शान्तिधाम, सुखधाम ले जाते हैं। सतयुग आदि में बहुत थोड़े होते हैं। वहाँ किसका राज्य था, चित्र तो दिखायेंगे ना। भारतवासी ही मानेंगे, देवताओं के पुजारी झट मानेंगे कि बरोबर यह तो स्वर्ग के मालिक हैं। स्वर्ग में इनका राज्य था। बाकी सब आत्मायें कहाँ थी? जरूर कहेंगे निराकारी दुनिया में थे। यह भी तुम अभी समझते हो। पहले कुछ भी पता नहीं था। अभी तुम्हारी बुद्धि में चक्र फिरता रहता है। बरोबर 5 हज़ार वर्ष पहले भारत में इनका राज्य था, जब ज्ञान की प्रालब्ध पूरी होती है तो फिर भक्ति मार्ग शुरू होता है फिर चाहिए पुरानी दुनिया से वैराग्य। बस अभी हम नई दुनिया में जायेंगे। पुरानी दुनिया से दिल उठ जाता है। वहाँ पति बच्चे आदि सब ऐसे मिलेंगे। बेहद का बाप तो हमको विश्व का मालिक बनाते हैं। जो विश्व का मालिक बनने वाले बच्चे हैं, उनके ख्यालात बहुत ऊंचे और चलन बड़ी रॉयल होगी। भोजन भी बहुत कम, जास्ती हबच नहीं होनी चाहिए। याद में रहने वाले का भोजन भी बहुत सूक्ष्म होगा। बहुतों की खाने में भी बुद्धि चली जाती है। तुम बच्चों को तो खुशी है विश्व का मालिक बनने की। कहा जाता है खुशी जैसी खुराक नहीं। ऐसी खुशी में सदैव रहो तो खान-पान भी बहुत थोड़ा हो जाए। बहुत खाने से भारी हो जाते हैं फिर झुटका आदि खाते हैं। फिर कहते बाबा नींद आती है। भोजन सदैव एकरस होना चाहिए। ऐसे नहीं कि अच्छा भोजन है तो बहुत खाना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।
धारणा के लिए मुख्य सार:
1) हम दु:ख हर्ता सुख कर्ता बाप के बच्चे हैं, हमें किसी को दु:ख नहीं देना है। डिससर्विस कर अपने आपको श्रापित नहीं करना है।
2) अपने ख्यालात बड़े ऊंचे और रॉयल रखने हैं। रहमदिल बन सर्विस पर तत्पर रहना है। खाने-पीने की हबच (लालच) को छोड़ देना है।
वरदान:
कल्याणकारी वृत्ति द्वारा सेवा करने वाले सर्व आत्माओं की दुआओं के अधिकारी भव!   
कल्याणकारी वृत्ति द्वारा सेवा करना-यही सर्व आत्माओं की दुआयें प्राप्त करने का साधन है। जब लक्ष्य रहता है कि हम विश्व कल्याणकारी हैं, तो अकल्याण का कर्तव्य हो नहीं सकता। जैसा कार्य होता है वैसी अपनी धारणायें होती हैं, अगर कार्य याद रहे तो सदा रहमदिल, सदा महादानी रहेंगे। हर कदम में कल्याणकारी वृत्ति से चलेंगे, मैं पन नहीं आयेगा, निमित्त पन याद रहेगा। ऐसे सेवाधारी को सेवा के रिटर्न में सर्व आत्माओं की दुआओं का अधिकार प्राप्त हो जाता है।
स्लोगन:
साधनों की आकर्षण साधना को खण्डित कर देती है।